सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

झारखण्ड में किसान कॉल सेंटर

इस पृष्ठ पर झारखण्ड राज्य में किसान कॉल सेंटर की जानकारी दी गयी है|

भूमिका


कृषि में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की क्षमता के दोहन करने के लिए, कृषि मंत्रालय, परियोजना के 2004 के मुख्य उद्देश्य अपने स्वयं के बोली में एक टेलीफोन कॉल पर किसानों के प्रश्नों का जवाब है 21 जनवरी को योजना "किसान कॉल सेंटर (केसीसी)" का शुभारंभ किया । ये कॉल सेंटर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों सभी को कवर 14 अलग-अलग स्थानों में काम कर रहे हैं। एक देशव्यापी आम ग्यारह अंकों टोल फ्री नंबर 1800-180-1551 किसान कॉल सेंटर के लिए आवंटित किया गया है। इस संख्या में मोबाइल फोन और निजी सेवा प्रदाताओं सहित सभी दूरसंचार नेटवर्क के लैंडलाइन फोन के माध्यम से सुलभ है। किसानों के प्रश्नों के उत्तर 22 स्थानीय भाषाओं में दिए गए हैं।

कॉल सेंटर सेवाओं प्रत्येक केसीसी स्थान पर सप्ताह के सातों दिन पर 6:00-22:00 उपलब्ध हैं। फार्म टेली सलाहकार (एफटीए) के रूप में जाना जाता है किसान कॉल सेंटर एजेंट, ऊपर स्नातकों या (यानी पीजी या डॉक्टरेट) कृषि में या संबद्ध (बागवानी, पशुपालन, मत्स्य पालन, मुर्गी पालन, मधुमक्खी पालन, रेशम उत्पादन, एक्वाकल्चर, कृषि इंजीनियरिंग कर रहे हैं, कृषि विपणन , जैव प्रौद्योगिकी, गृह विज्ञान आदि और संबंधित स्थानीय भाषा में उत्कृष्ट संचार कौशल के अधिकारी। फार्म टेली सलाहकार (एफटीए) से जवाब नहीं किया जा सकता है, जो प्रश्नों एक कॉल कॉन्फ्रेंसिंग मोड में उच्च स्तर के विशेषज्ञों को स्थानांतरित कर रहे हैं। इन विशेषज्ञों राज्य कृषि विभाग, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के विषय के विशेषज्ञ हैं।

एक किसान ज्ञान प्रबंधन प्रणाली (KKMS) किसानों के प्रश्नों के लिए, सही सुसंगत और जल्दी जवाब की सुविधा और उनके कॉल के सभी विवरण पर कब्जा करने के लिए विकसित किया गया है। किसान ज्ञान प्रबंधन प्रणाली (KKMS) ने अपनी स्वतंत्र वेब साइट है http://dackkms.gov.in/ देश भर में विभिन्न केसीसी स्थानों पर काम कर रहे किसान कॉल सेंटर (केसीसी) एजेंटों उनकी विशिष्ट आईडी और पास-वर्ड उन्हें प्रदान के माध्यम से इस वेब साइट के लिए उपयोग किया है।

किसान कॉल सेंटर की बुनियादी सुविधा (केसीसी)

कृषि में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी की क्षमता के दोहन के लिए, कृषि मंत्रालय किसानों में एक टेलीफोन कॉल ही बोली पर किसानों के प्रश्नों का जवाब देने में 21 जनवरी के उद्देश्य से 2004 को योजना "किसान कॉल सेंटर (केसीसी)" शुरू करने से एक नई पहल की। ये कॉल सेंटर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों सभी को कवर 14 अलग-अलग स्थानों में काम कर रहे हैं। इस योजना के टोल फ्री टेलीफोन लाइनों के माध्यम से कृषक समुदाय को कृषि से संबंधित जानकारी प्रदान करता है। एक देशव्यापी आम ग्यारह अंकों की संख्या 1800-180-1551 किसान कॉल सेंटर के लिए आवंटित किया गया है। नंबर निजी सेवा प्रदाताओं सहित सभी दूरसंचार नेटवर्क के सभी मोबाइल फोन और लैंडलाइन फोन के माध्यम से सुलभ है। किसानों के प्रश्नों के उत्तर 22 स्थानीय भाषाओं में दिए गए हैं। कॉल प्रत्येक केसीसी स्थान पर सप्ताह के सातों दिन पर 6:00-10:00 भाग रहे हैं। फार्म टेली सलाहकार (एफटीए) के रूप में जाना जाता है किसान कॉल सेंटर एजेंट। कृषि द्वारा की पेशकश की ऊपर स्नातकों या (यानी पीजी या डॉक्टरेट) कृषि में या संबद्ध (बागवानी, पशुपालन, मत्स्य पालन, मुर्गी पालन, मधुमक्खी पालन, रेशम उत्पादन, एक्वाकल्चर, कृषि अभियांत्रिकी, कृषि विपणन, जैव प्रौद्योगिकी, गृह विज्ञान आदि कौन हैं / बागवानी / पशु चिकित्सा विश्वविद्यालयों) विषयों और तुरन्त किसानों के प्रश्नों के लिए संबंधित स्थानीय भाषा जवाब में उत्कृष्ट संचार कौशल। फार्म टेली सलाहकार (एफटीए) से जवाब नहीं किया जा सकता है, जो प्रश्नों एक कॉल कॉन्फ्रेंसिंग मोड में उच्च स्तर के विशेषज्ञों (कॉल कॉन्फ्रेंसिंग विशेषज्ञों) को स्थानांतरित कर रहे हैं। इन विशेषज्ञों राज्य विकास विभाग, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के विषय के विशेषज्ञ हैं।

किसान कॉल सेंटर की विशेषताएं

पुनर्गठित केसीसी कारण अब प्रौद्योगिकीय नवाचारों और कला हार्डवेयर / सॉफ्टवेयर उपकरणों की राज्य निम्न करने के लिए बहुत विश्वसनीय और कुशल सेवाएं प्रदान कर रहे हैं:

वॉयस / मीडिया द्वारा (IPPBX आधारित विकेन्द्रीकृत प्रणाली)। समर्पित एमपीएलएस समर्पित बैंडविड्थ के साथ लाइन नेटवर्क से काम पर रखा। केसीसी द्वारा प्रदान की सेवा की गुणवत्ता की निगरानी अधिकारी द्वारा फार्म टेली सलाहकार और किसान के बीच बातचीत की की सुविधा है| 100% कॉल रिकॉर्डिंग और छह महीने के लिए दर्ज की गई कॉल की अवधारण कॉल एक शिकायत के मामले में सुनी जा सकती है कि इतनी। फोन पर उन्हें दिए गए परामर्श के सार को उपलब्ध कराने के लिए फोन करने वाले किसानों को एसएमएस। वापस फोन करने वाले को बुलाने के लिए प्रावधान के साथ, केसीसी का या व्यस्त कॉल लाइनों के दौरान निष्क्रिय समय के दौरान किसान के प्रश्नों की रिकॉर्डिंग के लिए आवाज मेल प्रणाली। कॉलर आईडी की सुविधा के साथ हर पर्सनल कंप्यूटर में शीतल फोन।बैक अप फिक्स्ड वायरलेस टेलीफोन (FWTs) के माध्यम से पंचायती राज विफलता के मामले में। उत्तर प्रदेश राज्य कृषि विभाग या कृषि विश्वविद्यालयों द्वारा जारी गाइड पुस्तकों और पुस्तिकाओं के नवीनतम संस्करण उपलब्ध कराने के माध्यम से CCAs का ज्ञान स्केलिंग। राज्य कृषि और संबंधित विभागों के संभागीय / जोनल स्तर के अधिकारियों के साथ केसीसी एजेंटों की बातचीत के लिए और साथ ही केसीसी के काम करने के लिए लाइन निगरानी पर प्रत्येक किसान क्रेडिट कार्ड की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की सुविधा। कृषि परामर्श और अपनी प्राथमिकता के अनुसार विभिन्न जिंसों की मंडी की कीमतों पर एसएमएस संदेश प्राप्त करने के लिए किसानों के पंजीयन के लिए प्रावधान।

राज्यों की भागीदारी

राज्यों में सक्रिय रूप से केसीसी द्वारा प्रदान की गई सेवाओं में सुधार करने के लिए निम्नलिखित तरीके से जुड़े रहे हैं:

लगातार केसीसी एजेंटों द्वारा प्रदान की विस्तार सेवाओं की गुणवत्ता की निगरानी और KKMS के तहत संशोधित वृद्धि मैट्रिक्स जगह में डाल दिया जाता है और उच्च स्तर के अधिकारियों के निचले स्तर पर दिए गए जवाब का ट्रैक रखने सुनिश्चित करने के लिए केसीसी में शामिल।स्थानीय स्तर पर प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया में प्रचार आरंभ।राज्य आयकर विभाग के साथ समन्वय योजना केसीसी के लिए एक नोडल अधिकारी की सीएससी और नियुक्ति के माध्यम से बाहर लुढ़का पाने के लिए।स्काइपे का उपयोग करके ऑनलाइन निगरानीभारत सरकार और राज्य सरकारों द्वारा की गई नई योजना / कार्यक्रम / आकस्मिक योजना के बारे में अवगत कराया केसीसी एजेंटों रखते हुए।राज्य सरकार और स्थानीय कृषि विश्वविद्यालयों से बाहर लाया गाइड पुस्तकों और पुस्तिकाओं के नवीनतम संस्करण के साथ केसीसी एजेंटों प्रदान करना।राज्य कृषि और संबंधित विभागों के संभागीय / जोनल स्तर के अधिकारियों के साथ केसीसी एजेंटों की बातचीत के लिए राज्य सूचना केंद्र विश्वविद्यालय परिसर में या माध्यम से पूर्व की घोषणा की तारीखों पर मासिक वीडियो सम्मेलन का आयोजन।एक वर्ष में दो बार एक पखवाड़े के लिए एटीएमए के तहत केसीसी और सहायक प्रौद्योगिकी प्रबंधकों के खेत टेली सलाहकारों के बीच काम के आदान-प्रदान को सुनिश्चित करनाकेसीसी आदि की फसल रोगों के क्षेत्र में विशिष्ट प्रसार, कीट प्रकोप सहित कॉल की प्रकृति के बारे में राज्य कृषि विभाग के लिए साप्ताहिक प्रतिक्रिया और संबद्ध विभागों देना सुनिश्चित करना है किऊपर की तरफ ब्लॉक स्तर से राज्य सरकारों, कृषि विज्ञान केन्द्र, और राज्य कृषि विश्वविद्यालयों के विभिन्न अधिकारियों को लॉगिन आईडी को बनाना।

झारखण्ड राज्य में किसान कॉल सेंटर

तकनीकी सूचना के प्रसार के आभाव के कारण भारत के किसान उन्नत कृषि तकनीकी ज्ञान के अभिवर्द्धन से वंचित है। जो कृषि उत्पादन में कमी की  मुख्य  वजह है। इन कमियों को दूर करने के लिए कृषि विश्वविद्यालय, कृषि विज्ञान केन्द्र एवं गैर सरकारी संगठन विभिन्न प्रसार माध्यमों द्वारा अपने स्तर से प्रयासरत हैं, परंतु इन कमियों को अबतक दूर नहीं किया जा सका है, जिसका मुख्य  कारण सूचना प्रसार माध्यमों का सरंचनात्मक आभाव भी है।

उपरोक्त कमियों को दूर करने हेतु जनवरी 2004 में कृषि एवं सहकारिता विभाग, कृषि मंत्रालय, भारत सरकार ने देश के सभी राज्यों में किसान कॉल सेन्टर स्थापित करने का निर्णय लिया। इन कॉल सेंटर का मुख्य  उद्देश्य किसानों के समस्याओं का उचित निदान क्षेत्रीय भाषाओं में अतिशीघ्र उपलब्ध कराना है।

झारखण्ड राज्य के कुल क्षेत्रफल 79.50 हेक्टेयर भूमि में, परती भूमि, चारागाह एवं गैर कृषि कार्यों के अन्तर्गत पड़ने वाले भूमि का क्षेत्रफल लगभग 39 हेक्टेयर है। हमारा झारखण्ड राज्य अपनी आवश्यकता का लगभग पचास फीसदी ही उत्पादन कर पाता है| इस कार्य को पूरा करने के लिए हमें ग्रामीण कृषकों की सहभागिता से देशज एवं आधुनिक तकनीकों के बीच समन्वय स्थापित करते हुए झारखण्ड के प्रत्येक किसानों तक नवीनतम कृषि प्रौद्योगिकी पहुँचाने,कृषि के सर्वांगीण विकास तथा कृषि प्रसार को नया रूप देने की आवश्यकता है| इस उद्देश्य को पूरा करने के हेतु समेति में किसान कॉल केंद्र की स्थापना की गयी है| झारखण्ड के किसान, कृषि भवन रांची स्थित किसान कॉल सेंटर के दूरभाष संख्या 0651-2230541पर एवं बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के एटिक सेंटर में अवस्थित किसान कॉल सेंटर दूरभाष संखया - 0561-2450698 से झारखण्ड के स्थानीय परिवेश के अनुकुल, स्थानीय स्तर पर अपनी समस्याओं की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। किसान भाई टॉल फ्री नम्बर - 1551 डायल कर भी अपनी कृषि संबंधी समस्याओं एवं जिज्ञासाओं का निःशुल्क जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

किसान कॉल सेन्टर क्या है?

किसान काल सेन्टर दूरसंचार, कम्प्यूटर एवं अन्य आधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित किसानों की समस्याओं, राज्य अथवा केन्द्र सरकार द्वारा खेती को बढ़ावा देने वाली विभिन्न योजनाओं इत्यादि किसी भी प्रकार के समस्या/परामर्श/जानकारी का समाधान उनकी क्षेत्रीय भाषा में विशेषज्ञों द्वारा उपलब्ध कराने हेतु सरकार द्वारा स्थापित केन्द्र है।

किसान कॉल केन्द्र संचालन हेतु योग्यता

प्रथम एवं द्वितीय स्तर के पदाधिकारों के लिए :-

जब किसानों का कॉल प्रथम एवं द्वितीय स्तर द्वारा किया जाता है, तो सर्वप्रथम वे किसानों का अभिवादन क्षेत्रीय भाषा में करते हैं एवं उन्हें उनके प्रश्नों को सही ढंग से पुछने में मद्‌द करते हैं।

उपरोक्त कार्य हेतु निम्नांकित योग्यता होना चाहिए :-

क्षेत्रीय भाषा में पारंगता

 

  • आसान शब्दों का प्रयोग
  • छोटा एवं उपयुक्त वाक्यों का प्रयोग
  • किसानों द्वारा पुछे गए प्रश्नों को उनकी क्षेत्रीय स्थिति के अनुसार धैर्य पुर्वक सुनना
  • किसानों द्वारा पुछे गए तथ्यों का सही ढ़ंग से विश्लेषण करना
  • किसानों के ज्ञान के अनुरूप उनके प्रश्नों का उत्तर देना।

वाक्यपटुता

 

  • किसानों के सोच को सम्मान देना
  • सम्मान पुर्वक, एकाग्र होकर सुनना
  • रूचि के साथ, आदरपुर्वक किसानों को समझना
  • वार्तालाप के क्रम में नहीं रोकना
  • वार्तालाप के क्रम में अपनेपन का एहसास कराना
  • यदि संभव हो तो क्षेत्रीय अनुभव का उपयोग करना
  • अनउपयुक्त एवं जटिल शब्दों एवं वाक्यों का प्रयोग करने से बचना
  • मधुर वाणी में बात करना
  • नम्रता पुर्वक बोलना
  • अभिवादन के साथ वार्तालाप करना

सूचना प्रौद्योगिकी योग्यता

 

  • 'की-बोर्ड' एवं 'माऊस' के बारे में प्रारम्भिक ज्ञान
  • 'इन्टरनेट' के बारे में प्रारम्भिक ज्ञान
  • 'ई-मेल' भेजने एवं प्राप्त करने का ज्ञान

बुनियादी संरचना

किसान कॉल केन्द्र का संरचना निम्नांकित तीन जगहों पर होता है :-

एक व्यवसायिक रूप से संचालित कॉल केन्द्र (स्तर I)

प्रत्येक प्रतिष्ठान में एक उत्तरदायी केन्द्र जिसमें विषय विशेषज्ञ उपलब्ध होते हैं (स्तर II)

एक नोडल केन्द्र (जिससे सभी क्षेत्रीय किसान कॉल केन्द्र जुड़े होते है( स्तर III)

प्रथम स्तर पर बुनियादी संरचना

प्रथम स्तर पर तकनिकी बुनियादी संरचना अति महत्त्वपुर्ण है। भारत संचार निगम लिमिटेड द्वारा एक टेलीफोन लाइन दिया जाता है जो छह अलग-अलग विभागों एकत्रीत करने हेतु दो कृषि से जुड़ा होता है। स्नातक होते है। करने एवं सूचना किसान कॉल केन्द्र एवं छह विभाग, सूचना प्रौद्योगिकी उपस्कर द्वारा एक कॉल प्राप्त दुसरे से जुड़े होते हैं। इस केन्द्र में इन्टरनेट, विद्युत आपुर्ति एवं वातानुकुल सुविधाएँ उपलब्ध होती है।

द्वितीय स्तर पर बुनियादी सुविधाएँ

द्वितीय स्तर को तकनिकी प्रतिक्रिया केन्द्र के रूप में व्यवहार किया जाता है एवं यह किसान कॉल केन्द्र के आस-पास उपलब्ध कराया जाता है। बुनियादी संरचना के तहत एक सूचना प्रौद्योगिकी उपस्कर, इन्टरनेट से जुड़ाव,एक प्रिंटर एवं एक बैट्री सहित बिजली व्यवस्था उपलबध कराया जाता है।

तृतीय स्तर पर बुनियादी सुविधाएँ

इस स्तर पर तथ्यों का विश्लेषण एवं विवरण (दैनिक, सप्ताहिक, मासिक, फसलों के अनुसार एवं क्षेत्रों के अनुसार) का डाटा बेस तैयार किया जाता है। इस स्तर पर सभी क्षेत्रीय सूचना केन्द्रों के प्रबंधन हेतु एक प्रबंधक होते हैं। इस स्तर को कम्प्यूटर सहित अन्य आधुनिक उपकरणों से लैस किया जाता है।

दस्तावेज एवं  विवरणी प्रक्रिया

किसान सूचना केन्द्रों के दस्तावेजों एवं विवरणी के लिए नोडल संस्था उत्तरदायी होते है। नोडल संस्था के पदाधिकारी विभिन्न प्रकार के विवरण एवं दस्तावेज सभी किसान सूचना केन्द्रों से प्राप्त करते हैं एवं किसानों के प्रश्नोत्तर को एकीकरण कर औपचारिक ब्योरा तैयार करते हैं। जिन्हें कृषि एवं सहकारिता विभाग, भारत सरकार को ई-मेल या फैक्स द्वारा पन्द्रह दिनों के अन्दर भेजा जाता है।

किसान कॉल केन्द्रों का निरीक्षण,परीक्षण एवं सर्वेक्षण

किसान कॉल केन्द्रो को सुचारू रूप से चलाने हेतु विभिन्न क्रिया-कलापों का समय-समय पर नोडल संस्थान द्वारा निरीक्षण एवं समीक्षा किया जाता है। विभिन्न स्तर पर क्रिया-कलापों, किसान प्रश्नोत्तर, विषय विशेषज्ञों का उपलब्धता, जो कॉल तृतीय स्तर के पास गया हो उनका प्रतिक्रिया 72 घंटें के अंदर उपलब्ध कराना, इत्यादि के लिए नोडल संस्था उत्तरदायी होते हैं।

नोडल सेल प्रथम छह महिनों तक, पंद्रह दिनों के अन्तराल पर द्वितीय स्तर के तकनिकी प्रतिक्रिया पदाधिकारीयों के साथ बैठक करता है, जिसका मुख्य  उद्देश्य    किसान कॉल केन्द्र में उत्पन्न विभिन्न समस्याओं का निष्पादन करना होता है।

किसान कॉल केन्द्र

किसान फोन के माध्यम से किसान कॉल केन्द्र को प्रश्न करता है

प्रथम स्तर - कृषि स्नातक

किसानों का क्षेत्रीय भाषा में अभिवादन करते हुए उनका पता एवं प्रश्नों का ब्योरा लेने के क्रम में उन्हें कम्प्यूटर    में     रिकार्ड  किया  जाता है।

किसान का  नाम :

पता

फोन नं.:

प्रश्न

प्रौद्योगिकी संबंधित प्रश्न

  • कृषि
  • फसल सुरक्षा
  • बागवानी
  • पशुपालन
  • बाजार, इत्यादि

प्रशासन संबंधित प्रश्न

  • सरकारी योजनाएँ
  • ऋण
  • बीज उपलब्धता
  • उर्वरक
  • कीटनाशक
  • फसल बीमा इत्यादि

समान्यतः किसानों द्वारा दो प्रकार के प्रश्न पूछे जाते हैं

अधिकांश प्रश्नों का जबाब, प्रथम स्तर द्वारा तुरंत किसानों को दे दिया जाता है।

द्वितीय स्तर :- विषय विशेषज्ञ

जिन प्रश्नों का जबाब प्रथम स्तर स्वयं नहीं दे पात उन्हें वे द्वितीय स्तर को भेज देते हैं।

किसानों को उनके प्रश्नों का सही जबाब देने के बाद अभिवादन  के  साथ  कॉल समाप्त कर दिया जाता है

यदि प्रश्नों का जबाब द्वितीय स्तर द्वारा दे दिया जाता है।

तृतीय स्तर :- प्रबंधन समुह (नोडल सेल)

राज्य अथवा राज्य के बाहर के विशेषज्ञों द्वारा प्रश्नों का जबाब हासिल कर प्रथम स्तर को सचित कर देता है।

मुफ्त  फोन   सेवा

डायल1551

समयः प्रातः 6:00 बजे से10:00 बजे रात तक।

फोन-(0651)2230541 सेवा

समयः प्रातः 10:00 बजे से 5:00 बजे शाम तक।

पता: राज्य स्तरीय कृषि प्रसार, प्रबंधन-सह-प्रशिक्षण संस्थान समेति, झारखंड कृषि   भवन  प्रागंण,   कांके   रोड़,        राँची-834008

स्रोत: झारखण्ड राज्य व भारत सरकार का कृषि विभाग।

2.92929292929

आशीष कुमार तिवारी Jul 14, 2019 05:05 PM

कृषि सिचाई हेतु बोरिंग solar pump ki avashyakta hai

प्रदीप मॉडल Jun 23, 2019 09:25 PM

क़ृषि सिचाई के लिए सोलर पंप की बहुत जरुरत है सर जी ग्राम पंचायत जरका २ ब्लॉक सोXराXथारी देवघर झारखण्ड मोबाइल नो. ७४XX७XXXXX ईमेल id - प्रXीपXण्डल८XX@जीXेल.कॉX

Buddheshwar Kaibarta Feb 06, 2019 11:09 AM

Sir mujhe ak 2hp ka solar pump set cahiye

रविंद्र सिहं Jan 04, 2019 01:24 PM

कृषि हेतु सोलार पंप की जरुरत हैं।

दशरथ पासवान Dec 16, 2018 06:53 PM

कृषि सिंचाई हेतु मुझे डीप बोरिंग की बहुत जरूरत है में aromatic and medicine plant की खेती कर रहा हूं प्लेस हेल्फ मेरा contact number 82XXX58

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/08/24 03:25:50.806136 GMT+0530

T622019/08/24 03:25:50.823917 GMT+0530

T632019/08/24 03:25:51.015214 GMT+0530

T642019/08/24 03:25:51.015712 GMT+0530

T12019/08/24 03:25:50.783914 GMT+0530

T22019/08/24 03:25:50.784128 GMT+0530

T32019/08/24 03:25:50.784272 GMT+0530

T42019/08/24 03:25:50.784413 GMT+0530

T52019/08/24 03:25:50.784503 GMT+0530

T62019/08/24 03:25:50.784575 GMT+0530

T72019/08/24 03:25:50.785323 GMT+0530

T82019/08/24 03:25:50.785512 GMT+0530

T92019/08/24 03:25:50.785720 GMT+0530

T102019/08/24 03:25:50.785933 GMT+0530

T112019/08/24 03:25:50.785978 GMT+0530

T122019/08/24 03:25:50.786083 GMT+0530