सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / किसानों के लिए राष्ट्रीय योजनाएं / किसानों के लिए प्रसार एवं प्रशिक्षण
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

किसानों के लिए प्रसार एवं प्रशिक्षण

इस भाग में सरकार द्वारा किसानों के लिए प्रसार एवं प्रशिक्षण के लिए चलाये जा रहे कार्यक्रम एवं उनमें भागीदारी करने की जानकारी प्रस्तुत की गई है।

क्या करें ?

  • आत्मा के माध्यम से संचालित विस्तार सुधार योजना के अंतर्गत प्रखंड व निचले स्तर पर 25,000 समर्पित विस्तार कर्मियों की तैनाती की जा रही है। किसान अपने लिए या अपने क्षेत्र के लिए उचित तकनीकी जानकारी सरकार के किसी भी कार्यक्रम/योजना के बारे में अथवा कृषि संबंधी अन्य जानकारी के लिए इन विस्तार कर्मियों या राज्य सरकार के कृषि व संबद्ध विभागों के कर्मियों से संपर्क करें।
  • फार्म स्कूल अथवा प्रदर्शन प्लाट की स्थापना करें अथवा भाग लें।
  • वेब से सटीक सूचना प्राप्त करें और हैंड हैल्ड यन्त्र से अपने खेत को पंजीकृत कराएं।
  • कृषि से संबंधित नवीनतम ज्ञान व सूचना प्राप्त करने के लिए दूरदर्च्चन (18 क्षेत्रीय केन्द्र, एक राष्ट्रीय केन्द्र एवं 180 कम क्षमता के ट्रांसमीटर), एफएम रेडियों स्टेशनों (96) अथवा निजी चैनलों पर प्रसारित कृषि कार्यक्रमों का लाभ उठा सकते हैं।
  • किसान काल सेंटर/विशेषज्ञों के माध्यम से अपने प्रश्नों के उत्तर पाने के लिए नज़दीकी किसान काल सेंटर टोल मुफ्त नं. (1800-180-1551) से साल के 365 दिन प्रातः 6 बजे से रात्रि 10 बजे के बीच संपर्क करें।
  • कृषि में निर्धारित योग्यताधारी छात्र दो माह का निःशुल्क प्रशिक्षण प्राप्त करके 36% संयुक्त अनुदान (अनुसूचित जाति/जनजाति, पूर्वोत्तर व पर्वतीय राज्यों/महिलाओं के लिए 44%) के साथ बैंक ऋण की सहायता से एग्री-क्लिीनिक/एग्री-बिज़नेस केन्द्र की स्थापना कर सकते हैं।
  • प्रगतिशील किसानों के लिए आयोजित भ्रमण यात्रा प्रशिक्षण कार्यक्रमों में भाग लें।
  • मोबाइल पर बिना इंटरनेट के भी वेबसाइट द्वारा अनुदेशात्मक एसएमएस मोड से चयनित सूचना एवं सेवाएं प्राप्त करें।
  • स्थानीय सूचना/जानकारी (कृषि कार्य निर्देश, डीलरों की सूची, फसल संबंधी सलाह आदि) प्राप्त करने के लिए सीधे अथवा इंटरनेट कैफे/कॉमन सर्विस सेंटर के माध्यम से किसान पोर्टल देखें। किसान काल सेंटर अथवा कॉमन सर्विस सेंटर के लिए 51969 या 9212357123 पर एसएमएस (किसान<पंजीकरण<अपना नाम झ>,< राज्य के पहले चार अक्षर>,< जिला के प्रथम चार अक्षर >,<ब्लाक के प्रथम चार अक्षर लिखकर किसान स्वयं को पंजीकृत करा कर एसएमएस पोर्टल का लाभ उठाएं।

क्या पायें ?

क्र.सं

सहायता का प्रकार

सहायता  की मात्रा/अधिकतम सीमा

स्कीम

क- किसानों को प्रशिक्षण के लिए सहायता

1

50-150 कृषकों के समूह को बीज उत्पादन और बीज प्रौद्योगिकी पर प्रशिक्षण

15,000/- रुपये प्रति समूह

बीज ग्राम कार्यक्रम

(एनएमएईटी)

2.

मान्यता प्राप्त संस्थानों से कृषकों को प्रशिक्षण (किसानों को छात्रवृत्ति, ठहरने, खान-पान और आने-जाने का खर्चा दिया जाएगा)

5,200/- रुपये प्रति कृषक प्रति माह

कटाई उपरांत प्रौद्योगिकी प्रबंधन

3.

किसानों के लिए प्रशिक्षण

30 किसानों के बैच को 2 दिवसीय प्रशिक्षण के लिए प्रति प्रशिक्षण रुपये 24,000/- रुपये

(रुपये 400/- रुपयेप्रति किसान प्रति दिन की दर से)

एनएमओओपी

4.

40 किसानों के समूह लिए पौध संरक्षण उपायों पर प्रशिक्षण

i) एनजीओ/निजी संस्थानों के लिए प्रति किसान खेत पाठशाला रुपये 29,200/- रुपये

ii) राज्य सरकार के संस्थानों के लिए रुपये 26,700/- रुपये

पौध संरक्षण स्कीम

5

विभिन्न कृषि मशीनों एवं उपकरणों की मरम्मत, रखरखाव, प्रचालन एवं चयन तथा कटाई पश्चात प्रबंधन

4,000/- रुपये प्रति व्यक्ति

कृषि मशीनीकरण संबंधी उप मिशन (एसएमएएम)

6

सब्जी उत्पादन व संबंधित विषयों पर किसानों के लिए दो दिवसीय प्रशिक्षण

1500/- रुपये प्रति किसान प्रति प्रशिक्षण (परिवहन व्यय अतिरिक्त)

शहरी क्षेत्रों में सब्जियों की खेती (वीआईयूसी)

7

15-20 कृषकों के समूहों/कृषक संगठनों को प्रोत्साहन एवं वित्तीय संस्थाओं तथा संग्राहकों से जोड़ना

तीन वर्षों तक विस्तारित तीन किस्तों में रुपये 4075/- रुपये प्रति किसान

शहरी क्षेत्रों में सब्जियों की खेती (वीआईयूसी)

8

ग्रामीण भण्डारण योजना हेतु किसानों में जागरुकता फैलाने के लिए राष्ट्रीय कृषि विपणन संस्थान जयपुर द्वारा 3 दिवसीय जागरुकता कार्यक्रम

30,000/- रुपये प्रति कार्यक्रम

ग्रामीण भण्डारण योजना

9

किसानों के लिए अंतर्राज्यीय प्रशिक्षण (50 मानव दिवस प्रति प्रखंड)

1250/- रुपये प्रति किसान प्रतिदिन जिसमें परिवहन,खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है

आत्मा कार्यक्रम (एनएमएईटी), एनएचएम / एचएमएनईएच, एमआई डीएचके अंतर्गत उपस्कीम

10.

किसानों के लिए राज्य के अन्दर प्रशिक्षण(100 मानव दिवस प्रति प्रखंड)

1000/- रुपये प्रति किसान प्रतिदिन जिसमें परिवहन, खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है

आत्मा स्कीम

(एनएमएईटी)

11.

किसानों के लिए जिले के अन्दर प्रशिक्षण (1000 मानव दिवस प्रति प्रखंड)

आवासीय प्रशिक्षण में रुपये 400/- रुपये प्रति किसान प्रतिदिन जिसमें परिवहन, खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है; अन्यथा रुपये 250/- रुपये प्रति किसान प्रतिदिन

आत्मा स्कीम (एनएमएईटी), एनएचएम/एच एमएनईएच एमआई डी एच के अंतर्गत उप स्कीम

12.

कृषि प्रदर्शन (125 प्रदर्शन प्रति ब्लॉक)

4000/- रुपये प्रति प्रदर्शन प्लाट (0.4 हेक्टेयर)

आत्मा स्कीम(एनएमएईटी)

13.

किसान पाठशाला (फसल की 6 महत्वपूर्ण अवस्थाओं पर प्रति मौसम 25 किसानों को प्रशिक्षण

29,414/- रुपये प्रति किसान पाठशाला

आत्मा स्कीम (एनएमएईटी)

14.

7 दिन का अर्न्तराज्यीय भ्रमण (5 किसान प्रति ब्लॉक)

800/- रुपयेप्रतिदिन/किसान जिसमें परिवहन, खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है।

आत्मा स्कीम (एनएमएईटी)

15.

5 दिन का राज्य के अन्दर भ्रमण (25 किसान प्रति ब्लॉक)

400/-रुपये प्रतिदिन/किसान जिसमें परिवहन,खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है

आत्मा स्कीम (एनएम एईटी), एनएचएम/एच एमएनईएच एमआई डी एच के अंतर्गत उप स्कीम

16.

3 दिन का जिला स्तर का प्रशिक्षण भ्रमण (100 किसान प्रति ब्लॉक)

300/- रुपये प्रतिदिन/किसान जिसमें परिवहन, खाने-पीने व रहने का खर्च शामिल है

आत्मा स्कीम (एनएमएईटी)

17.

क) किसान समूहों का क्षमता एवं कौशलविकास व अन्य सहयोगी सेवाओं के लिए(प्रति ब्लॉक 20 समूहों के लिए)

ख)आमदनीजनक कार्यों के लिए इन समूहों को एक मुफ्त राशि       (ग)महिलाओं के खाद्य सुरक्षा समूह (प्रति ब्लाक 2 समूह)

5,000/- रुपये प्रति समूह

 

 

10,000/- रुपये प्रति समूह

 

 

10,000/- रुपये प्रति समूह

आत्मा स्कीम (एनएमएईटी)

18.

मिट्‌टी जांच प्रयोगशालाओं द्वारा चुने हुए गांवों में फ्रंट लाइन प्रदर्शन (एफएलडी)

20,000/- रुपये प्रति प्रदर्शन

आईसीएआर और इक्रीसॅट हैदराबाद को 100% सहायता, जो मूंगफली के लिए अधिकतम रुपये 8,500/- रुपये प्रति हेक्टेयर; सोयाबीन, रेपसीड, सरसों, सूरजमुखी केलिए अधिकतम रुपये 6,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर; तिल, कुसुम, तिल्ली, अलसी और एरंड के लिए रुपये 5000/- रुपये प्रति हेक्टेयर और आईसीएआर द्वारा मूंगफली में पोलीथीन मल्च तकनीकी फ्रंटलाइन प्रदर्शन के लिए रुपये 12,500/- रुपयेप्रति हेक्टेयर सहायता होगी। प्रत्येक फसल के अंतर्गतएक किसान को एक हेक्टेयर क्षेत्र का अधिकतम एक प्रदर्शन स्वीकार्य होगा। फ्रंटलाइन प्रदर्शन के प्लाट का आकार एक हेक्टेयर होगा परंतु 0.4 हेक्टेयर से कमनहीं।

राष्ट्रीय मृदा स्वास्थ्य एवं उर्वरकता प्रबंधन परियोजना एनएमओओपी

19.

उत्पादन तकनीकों/अंतरफसल का खेतस्तरीय प्रदर्शन

8000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (आदान के लिए रुपये 7000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 10000/- रुपये)

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एन.एफ.एस.एम.)

20

वैकल्पीय व सड़न तंत्रज्ञान का खेतस्तरीय प्रदर्शन

20,000/- रुपये प्रति प्रदर्शन (आदान के लिए रुपये 17000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 3,000/- रुपये)

- तदैव -

21

उत्पादन तकनीकों/अन्तरफसल का खेत स्तरीय प्रदर्शन

8,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (आदान के लिए 7,000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 1,000/- रुपये)

राष्ट्रीयखाद्य सुरक्षा मिशन व्यावसायिक फसल (जूट)

22

एकीकृत फसल प्रबंधन का फ्रंट लाइन प्रदर्शन

7,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (आदान के लिए 6,000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 1,000/- रुपये)

राष्ट्रीय व्यवसायिक फसल (कपास) खाद्य सुरक्षा मिशन,

23

देसी एवं ईएलस कपास और ईएलस कपास बीज उत्पादन का फ्रंट लाइन प्रदर्शन

8,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (आदान के लिए 7,000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए 1,000/- रुपये)

- तदैव -

24

अंतरफसल (0.4 हे. आकार) का फ्रंट लाइन प्रदर्शन

7,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (6,000/- रुपये आदान के लिए और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 1,000/- रुपये)

- तदैव -

25

सघन पौध रोपण पद्धति का परीक्षण

रुपये 9,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर ( 8,000/- रुपये आदान के लिए और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 1,000/- रुपये)

- तदैव -

26

गन्ने के साथ अंतरफसल तथा सिंगल बड चिप तकनीक का प्रदर्शन

8,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर (आदान के लिए 7,000/- रुपये और आकस्मिक कार्य के लिए रुपये 1,000/- रुपये)

-तदैव -

व्यावसायिक फसल गन्ना

27

आईसीएआर, एसएयू और आईआरआरआई के सहयोग से राज्यों द्वारा क्लस्टर

(सामुदायिक) प्रदर्शन

चावल (एसआरआई, संकर चावल तकनीक/ चावल की सीधी बुआई/पंक्ति रोपण सहित) गेंहूं और दाल के लिए रुपये 7,500/- रुपये प्रति हेक्टेयर, मोटे अनाज के लिए रुपये 5,000/- रुपये प्रति हेक्टेयर और फसल पद्धति आधारित प्रदर्शन के लिए 12,500/- रुपये प्रति हेक्टेयर।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन

28

फसल पद्धति आधारित प्रशिक्षण

3500/- रुपये प्रति सत्र 4 सत्र वाले प्रति प्रशिक्षण के लिए 14,000/- रुपये

 

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन

29

टे्रक्टर एवं अन्य कृषि मशीनों के चयन,प्रचलन और रखरखाव संबंधी प्रशिक्षण।

एक से 6 सप्ताह तक की अवधि के लिए उपयोगकर्ता स्तर तक के पाठ्‌यक्रम के लिए साधारण श्रेणी से आने-जाने के किराये सहित प्रति किसान 1,200/- रुपये वजीफा एवं निःशुल्क आवास की व्यवस्था।

प्रशिक्षण, जांच और प्रदर्शन के जरिए कृषि मशीनों को प्रोत्साहन एवं सृदृढ़ीकरण।

ख. राष्ट्रीय सतत्‌ कृषि मिशन (एनएमएसए) के अंतर्गत किसानों के लिए प्रशिक्षण एवं विस्तार

30

किसानों का प्रशिक्षण जिसमें क्षेत्र प्रदर्शन, एकीकृत कृषि, जलवायु परिवर्तन, अनुकूलता, मिट्‌टी, पानी तथा फसल प्रबंधन की उत्तम कृषि पद्धतियों के आधार पर क्षेत्र दौरों के जरिए किसानों एवं अंच्चधारकों (स्टेकहोल्डरों) का क्षमता निर्माण

20 अथवा अधिक प्रतिभागियों के एक सत्र के लिए रुपये 10,000/- रुपये प्रति प्रशिक्षण।50प्रतिभागियों अथवा अधिक के एक समूह के लिए रुपये 20,000/- रुपये प्रति प्रदर्शन।

एनएमएसए

31

खेत पर जल प्रबंधन/माइक्रो सिंचाई के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम।

कम से कम 2-3 दिन की अवधि के 30 प्रतिभागियों के लिए रुपये 50,000/- रुपये प्रति प्रशिक्षण

एनएमएसए

32

मृदा स्वास्थ्य संबंधी प्रशिक्षण एवं प्रदर्शन

खेत प्रदर्शन सहित 20 या अधिक किसानों के लिए 10,000/- रुपये प्रति प्रशिक्षण सत्र, प्रति फ्रंट लाइन खेत प्रदर्शन के लिए 20,000/- रुपये

एनएमएसए

33

50-150 किसानों के एक समूह के लिए बीज उत्पादन और बीज तकनीक आधारित प्रशिक्षण के लिए सहायता

रुपये 15,000/- रुपये प्रति प्रशिक्षण (एक दिवसीय ३ प्रशिक्षण पाठ्‌यक्रम के लिए)

(i)बीज फसल की बुआई के समय: बीज उत्पादन तकनीक, पृथककरण दूरी, बुआई पद्धति कृषि संबंधी अन्य पद्धतियों पर आधारित प्रशिक्षण (ii)फसल में फूल आने के अवस्था पर (iii)कटाई पश्चात और बीज प्रसंस्करण के समय पर

ग्राम बीज कार्यक्रम के जरिए तिलहनों, दलहनों,चारा और हरी खाद फसलों के प्रमाणिक बीज का उत्पादन।

किससे संपर्क करें

जिला कृषि अधिकारी/जिला बागवानी अधिकारी/

स्त्रोत : किसान पोर्टल,भारत सरकार

3.07228915663

AMIT Kumar Bhatt Sep 15, 2017 05:03 PM

Sir Rajasthan me kon se Yojana hai

तानाजी Jul 27, 2015 12:37 AM

मुर्गी पालन के बारेमे लातूर जिल्हा शिवली गाव में एग्रो वन में जानकारी मिलेगी

लवलेश परिहार कवर्धा ब्लॉक जिला कबीरधाम छग Apr 14, 2015 02:15 PM

जो जानकारी चाहिये ओ कहा दिया है मुझे पशुपालन का अधिक से अधिक जानकारी कहा से मिलेगा

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/10/23 08:54:3.816159 GMT+0530

T622018/10/23 08:54:3.832750 GMT+0530

T632018/10/23 08:54:4.000769 GMT+0530

T642018/10/23 08:54:4.001211 GMT+0530

T12018/10/23 08:54:3.792418 GMT+0530

T22018/10/23 08:54:3.792608 GMT+0530

T32018/10/23 08:54:3.792748 GMT+0530

T42018/10/23 08:54:3.792884 GMT+0530

T52018/10/23 08:54:3.792973 GMT+0530

T62018/10/23 08:54:3.793045 GMT+0530

T72018/10/23 08:54:3.793750 GMT+0530

T82018/10/23 08:54:3.793932 GMT+0530

T92018/10/23 08:54:3.794133 GMT+0530

T102018/10/23 08:54:3.794338 GMT+0530

T112018/10/23 08:54:3.794393 GMT+0530

T122018/10/23 08:54:3.794486 GMT+0530