सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / कृषि आधारित व्यवसाय / रेशम उद्योग / शहतूती रेशम के लिए आवश्यक मार्गदर्शिका
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

शहतूती रेशम के लिए आवश्यक मार्गदर्शिका

इस पृष्ठ पर शहतूती रेशम के लिए आवश्यक मार्गदर्शिका दी गयी है|

भूमिका

रेशम उद्योग का कार्य एक तकनीकी का कार्य होता है। उद्योग के अन्तर्गत आने वाले विभिन्न क्रिया कलापों जैसे- नर्सरी स्थापना, शहतूत वृक्षारोपण, रेशम कीटपालन/कोया उत्पादन व धागाकरण की तकनीकी, जानकारी कृषकों को उद्योग प्रारम्भ करने के पूर्व होनी चाहिए। साथ ही रेशम विभाग के प्रसार कर्मियों को भी इस सम्बन्ध में सुस्पष्ट ज्ञान आवश्यक होता है। अत: विभिन्न क्रिया-कलापों के सम्बन्ध में अग्रेत्तर तकनीकी बातों का उल्लेख किया जा रहा है|

शहतूत पौधालय हेतु दिशा निर्देश

  • शहतूत बीज द्वारा
  • शहतूत कटिंग द्वारा
  • लेयरिंग द्वारा
  • ग्राफ़्टिंग द्वारा

उपरोक्त विधियों में से कटिंग द्वारा सरलता तथा न्यूनतम व्यय के आधार पर शहतूत पौध तैयार किये जा सकते हैं। इस विधि से पौध तैयार करने से उसके पैतृक गुणों को संरक्षित किया जा सकता है।

यह एक सर्वमान्य सत्य है कि सफल वृक्षारोपण का आधार स्वस्थ पौध है। छ: माह के समय में कटिंग द्वारा रोपित शहतूत पौध उचित देख-रेख से 3-4 फीट उँची हो जाती है। इस उँचाई की पौध वृक्षारोपण हेतु उपयुक्त होती है। शहतूत पौधालय की उचित देख-रेख एवं रख्‍-रखाव द्वारा रोपित कटिंग के विरूद्ध औसतन 75 प्रतिशत से 80 प्रतिशत पौध प्राप्त होती है। पौधालय की सरलता हेतु निम्न दिशा-र्निदेशों का उल्लेख किया जा रहा है जिसका अनुपालन किया जाना चाहिए।

शहतूत पौधालय हेत भूमि का चयन

  • पौधालय स्थापना हेतु बलुई दोमट अथवा दोमट मिट्टी सिंचाई सुविधा यक्त लगभग 7.00 पी.एच. तक की भूमि का चयन किया जाय।
  • भूमि समतल होना चाहिए।
  • भूमि तक पानी आने एवं अधिक मात्रा में होने पर पानी की निकासी का समुचित प्रबन्ध होना चाहिए।
  • चयनित भूमि बाढ़गस्त क्षेत्रों में न हो। भूमि में वर्षा का पानी एकत्रित नहीं होना चाहिए।

पौधालय हेतु भूमि की तैयारी

  • पौधालय भूखण्ड की जुताई के पहले आवश्यकतानुसार सिंचाई कर गुड़ाई के लिए उपयुक्त बनाना चाहिए।
  • जुताई/ गुड़ाई के समय लगभग 5-8 टन प्रति एकड़ गोबर की सड़ी खाद/ कम्पोस्ट अच्छी तरह मिला दिया जाना चाहिए।
  • यदि भूखण्ड में दीमक के प्रकोप की सम्भावना हो तो गोबर की खाद के साथ-साथ लगभग 100 कि०ग्रा० बी0एच0सी0 पाउडर 20 प्रतिशत एल्‍ड्रीन 5 प्रतिशत दीमक की रोकथाम के लिए मिट्टी में मिलाया जाना चाहिए।
  • भूमि की गहरी जूताई/ गुड़ाई लगभग 30 से 45 सेमी. गहरी, दो बार मिट्टी पलटने वाले हल से अथवा कुदाली से की जानी चाहिए।
  • गुड़ाई की हुई भूमि से खर-पतवार कंकड़-पत्थर निकालकर समतल कर लिया जाय।
  • समतल की हुई भूमि को आवश्यकतानुसार सिंचाई की सुविधा के लिये छोटी-छोटी क्यारियों में तैयार किया जाना चाहिए।

शहतूत प्रजाति का चयन

शहतूत की उन्नत प्रजातियों जैसे के-2, एस-146 टी.आर. -10, एस-54, प्रजातियों का चयन शहतूत पौधालय की स्थापना हेतु किया जाना चाहिए।

शहतूत कटिंग की तैयारी

  • उन्नत प्रजाति की शहतूत छट्टियों (6 माह से एक वर्ष तक पुरानी) कटिंग हेतु प्राप्त करनी चाहिए।
  • टहनियों/छट्टियों को साये में पेड़ के नीचे रखना चाहिए जिससे सूखने न पाये।
  • टहनियों से पेंसिल अथवा तर्जनी की मोटाई का 22 सेमी, की कटिंग तैयार किया जाना चाहिए जिसमें कम से कम तीन चार बड़ हों।
  • कटिंग के सिरे लगभग 45 डिग्री कोण तेज धार के औजार से काटे जायें, जिससे सिरे पर छाल निकलने न पाये।
  • यदि कटिंग तुरन्त लगाने की स्थिति में न हो तो कटिंग की गड्डियों को उलटाकर गहरी क्यारी अथवा गडढे में लाइनों में लगाकर उस पर मिट्टी की हल्की परत डालकर फव्वारे द्वारा प्रतिदिन हल्का-हल्का पानी डालें ताकि नमी बने रहे व सूखने न पाये।
  • आवश्यकतानुसार इस उल्टी कटिंग के बण्‍डलों को निकालकर सीधा खेत में रोपित करें।

कटिंग का रोपण एवं रखरखाव

  • भूमि की तैयारी के उपरान्त क्यारियों अथवा रेज्ड वेड को तैयार कर लिया जाये।
  • क्यारी अथवा रेज्ड वेड में छ:-छ: इंच की दूरी पर लम्बाई में लाईन बना लें। तैयार की गई कटिंग को लगभग 2/3 भाग 3.00 इंच की दूरी पर लाईनों मे गहरा गाड़ देवें।
  • कटिंग रोपड़ के बाद कटिंग के चारों ओर की मिट्टी को दबा दिया जाये ताकि खाली जगह में हवा जाने से सूखने की सम्भावना न हो।
  • कटिंग रोपण के बाद गोबर की भुरभुरी खाद की एक पतली पर्त क्यारी में फैलाकर तुरन्त सिंचाई अवश्य की जाय।
  • प्रथम माह में कटिंग रोपित क्यारी में मिट्टी की ऊपरी पर्त सूखने पर पानी दिया जाय जिससे नमी बनी रहे।
  • कटिंग रोपण के समय क्यारी में 8-10 लाईनों के रोपण के पश्चात एक फिट स्थान छोड़कर कटिंग रोपण किया जाए जिससे निराई करने में आसानी हो।
  • एक एकड़ पौधालय पर लगभग 100 कि०ग्रा० यूरिया उचित विकास हेतु उपयुक्त है। इसका प्रयोग 4 से 6 बार लगभग 15-20 दिवस के अन्तराल पर पत्तियों को बचाते हुए किया जाना चाहिए। तत्पाश्चात् तुरन्त सिंचाई की जानी चाहिए।
  • रासायनिक उर्वरक का प्रथम प्रयोग पौध में 6-8 पत्तियों की अवस्था आने पर किया जाए।
  • पौधालय का समय-समय पर निरीक्षण कर यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि कीटों द्वारा पौधों को कोई हानि तो नहीं पहुंचाई जा रही है। दीमक के प्रकोप में एल्ड्रीन का छिड़काव उपयोगी होगा।
  • कटिंग से तैयार पौधों को 6 माह के उपरान्त ट्रान्सप्लान्ट करना चाहिए।
  • तैयार पौधों को नर्सरी से निकालते समय इस बात पर ध्यान दिया जाय कि पौधों की जड़ों को कोई नुकसान न पहुंचे।
  • उपरोक्तानुसार कटिंग रोपण से प्रति एकड़ लगभग 2.00 से 2.25 लाख कटिंग का रोपण नर्सरी से किया जा सकता है।

शहतूत वृक्षारोपण हेतु दिशा निर्देश

भूमिका

शहतूत एक बहुवर्षीय वृक्ष है। शहतूत वृक्षरोपण एक बार करने पर आगामी 15 वर्षो तक इससे उच्च गुणवत्ता की शहतूत पत्तियाँ प्रचुर मात्रा में उपलबध होती है। अत: प्रथम शहतूत वृक्षारोपण करते समय तकनीकी मापदण्डों को ध्यान में रखना चाहिए, क्योंकि कोया उत्पादन लागत में लगभग 50 प्रतिशत धनराशि शहतूत पत्तियों के उत्पादन में ही व्यय होती है।  अत: यह आवश्यक है कि प्रति इकाई क्षेत्र में अधिकतम शहतूत पत्तियों का उत्पादन हो जिससे रेशम उद्योग से अधिकाधिक लाभ प्राप्त किया जा सके।

भूमि का चयन

जो भूमि उसरीली न हो तथा जहां पानी का ठहराव न हो, एवं सिंचाई व्यवस्था हो, वहां शहतूत पौध लगाया जा सकता है, परन्तु बलुई-दोमट भूमि शहतूत वृक्षारोपण के लिए सर्वथा उपयुक्त होती है

भूमि की तैयारी

प्रदेश में शहतूत वृक्षारोपण सामान्यत: जुलाई/ अगस्त एवं दिसम्बर/ जनवरी (सिंचाई सुविधा आवश्यक) में किया जाता है। मानसून की वर्षा से पूर्व भूमि की तैयारी प्रारम्भ की जाती है। जमीन की 30-35 से.मी. गहरी जूताई के साथ ही 8 मे.टन प्रति एकड़ की दर से गोबर की सड़ी खाद भूमि में मिलाई जाती है।

शहतूत पौधालय

शहतूत की पौध तैयार करने की अनेक विधियां है, परन्तु कम लागत एवं अच्छी गुणवत्ता की पौध शहतूत की कटिंग से तैयार की जाती है। इस प्रचलित विधि में शहतूत की टहनियों (जो छ: से नौ माह पुरानी हो) से कटिंग तैयार की जाती है। टहनियों को 6 इंच से 8 इंच लम्बी काट दी जाती है, जिसमें 4-5 कलियां हो। उक्त कटिंग का रोपण नर्सरी हेतु तैयार खेत में किया जाता है। कटिंग को जमीन में तिरछा गाड़ते है एवं उसके चारों ओर मिट्टी को दबाकर सिंचाई कर दी जाती है। कटिंग में उपलब्ध भोज्य पदार्थ के उपयोग से कुछ ही दिनों में कटिंग से पत्तियां निकल आती है एवं लगभग 6 माह में 3-4 फुट लम्बी शहतूत पौध तैयार हो जाती है, जो शहतूत वृक्षारोपण हेतु उपयुक्त होती है। सामान्यत:  नर्सरी से कटिंग का रोपण जुलाई/ अगस्त अथवा दिसम्बर/ जनवरी में किया जाता है। जुलाई/ अगस्त में रोपित कटिंग से दिसम्बर/ जनवरी में पौध रोपण हेतु एवं दिसम्बर/ जनवरी में रोपित कटिंग से जुलाई/ अगस्त में पौध वृक्षारोपण हेतु प्राप्त होती है। प्रदेश में पौध आपूर्ति के दो स्रोत है। राजकीय शहतूत उद्यान एवं व्यक्गित क्षेत्र की किसान नर्सरी में उपरोक्त विधि से तैयार पौधों की आपूर्ति की जाती है।

पौध रोपण एवं पौध दूरी

सामान्यत: झाड़ीनुमा वृक्षारोपण में 3' x 3' अथवा 6'..3' x 2' की दूरी पर वृक्षारोपण किया जाता है। इस प्रकार एक एकड़ में लगभग 5000 पौध की आवश्यकता होती है। प्रथम वर्ष शहतूत वृक्षारोपण की स्थापना से एक वर्ष शहतूत पौध के विकास में लगता है। तीसरे वर्ष में उक्त वृक्षारोपण से समयान्तर्गत एवं समुचित मात्रा में खाद/ उर्वरक के प्रयोग एवं कर्षण कार्यों से एक एकड़ क्षेत्र से लगभग 8 से 10 हजार कि०ग्रा० प्रतिवर्ष शहतूत पत्ती का उत्पादन हो सकेगा। उक्त पत्ती पर वर्ष में 800-900 डी०एफ०एल्स० का कीटपालन किया जा सकता है, जिससे लगभग 300 कि०ग्रा० कोया उत्पादन होगा। यहाँ यह भी उल्लेखनीय है कि सामान्यत: प्रति 100 डी०एफ०एल्स० रेशम कीटपालन हेतु 800-900 कि०ग्रा० शहतूत पत्ती की आवश्यकता होती है। प्रति कि0ग्रा0 रेशम के उत्पादन पर लगभग 20 से 25 कि0ग्रा0 पत्ती का उपयोग होता है।

खाली जगह भराई (गैप-फिलिंग)

शहतूत पौध के वृक्षारोपण के लगभग एक माह के पश्चात् वृक्षारोपण का सूक्ष्म अध्ययन आवश्यक है। जो पौध सूख गये हों, उनके स्थान पर नयी शहतूत पौध का रोपण किया जाता है। इसे गैपफिलिंग कहते हे। गैपफिलिंग का कार्य वृक्षारोपण के पश्चात् एक या डेढ़ माह के अन्दर पूर्ण किया जाना चाहिए, अन्यथा बड़े पौधों के बीच छोटी पौध लगाने पर उसका विकास सही से नही होता है। प्रति पेड़ पौध घटने से पत्ती का उत्पादन एवं तदनुसार कोया उत्पादन घटता है। फलस्वरूप आय भी प्रभावित होती है।

उर्वरक का प्रयोग

वृक्षारोपण के 2-3 माह उपरापन्त वृक्षारोपण में 50 किग्रा० नाइट्रोजन का उपयोग प्रति एकड़ दर से किया जाना चाहिए। उदाहरणार्थ जुलाई/ अगस्त में स्थापित वृक्षारोपण सितम्बर/ अक्टूबर में एवं दिसम्बर/ जनवरी में स्थापित वृक्षारोपण में मार्च/ अप्रैल में उर्वरक का प्रयोग किया जाना चाहिए।

शहतूत वृक्षारोपण के दो माह के उपरान्त एक हल्की गुड़ाई की जानी चाहिए। उसके उपरान्त पुन: निराई की जानी चाहिए। इसके पश्चात प्रत्येक प्रूनिंग के पश्चात गुड़ाई एवम निराई की जानी चाहिए।

सिंचाई

मानसून काल में कराये गये वृक्षारोपण में प्राकृतिक वर्षा के कारण शरद काल में कराये गये वृक्षारोपण से कृषि लागत कम आती है। फिर भी वर्षाकाल मे यदि 15-20 दिवस वर्षा न हो, तो वृक्षारोपण में कृषि सिंचाई की जानी आवश्यक है। सिंचाई की व्यवस्था माह मई के बीच अवश्य की जानी चाहिए। इस समय में 15-20 दिवस के अन्दर पर भूमि की किस्म के अनुरूप सिंचाई आवश्यक है।

कटाई/छंटाई (प्रूनिंग)

सामान्यत: शहतूत वृक्षारोपण में एक वर्ष में दो बार प्रूनिंग की जाती है। जून/जुलाई में बाटम प्रूनिंग (जमीन के सतह से 6 इंच की ऊंचाई पर), एक दिसम्बर के मध्य प्रूनिंग (जमीन के सतह से 3 फीट की ऊँचाई पर ) की जाती है। तात्पर्य यह है कि शहतूत पौधों की कटाई-छंटाई वर्ष में दो बार इस भाँति की जाती है कि जिससे कीटपालन के समय पौष्टिक एवं प्रचुर मात्रा में शहतूत पत्तियाँ कीटपालन हेतु उपलब्ध हो सकें। शहतूत की झाड़ियों का माह दिसम्बर में 3 फीट की उँचाई से काट (प्रून) दिया जाता है एवं मुख्य शाखाओं से निकली पतली शाखाओं को भी काटा-छाँटा जाता है। तत्पश्चात भूमि की गुड़ाई-निराई करते हूए रासायनिक खादों का प्रयोग किया जाता है कि रासायनिक खाद के प्रयोग में एवं कीटपालन हेतु पत्ती तोड़ने के सयम के बीच 20 से 25 दिन का अन्तराल हो। इसी भाँति वर्षाकाल के प्रारम्भ में शहतूत झाड़ियों को भूमि की सतह से 6 इंच से 9 इंच  की ऊंचाई पर काट लिया जाता है एवं गुड़ाई/ खाद का प्रयोग इस प्रकार किया जाता है एवं प्रूनिंग करते समय इस बात की सावधानी रखी जाती है कि शहतूत टहनियों को क्षति न पहुंचे एवं इसकी छाल भी न उखड़े। वृक्षनुमा शहतूत पेड़ों में वर्ष में एक बार प्रूनिंग माह दिसम्बर में की जानी चाहिए।

स्रोत: रेशम विकास विभाग,उत्तर प्रदेश

3.10112359551

akshay Dec 28, 2017 08:24 AM

loan ka infarmatione cahiy.

सुधीर maurya Jul 03, 2017 02:07 PM

क्या शहतूत फल और रेशम वाले में अंतर होता है

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
Back to top

T612019/11/17 03:38:39.360248 GMT+0530

T622019/11/17 03:38:39.374263 GMT+0530

T632019/11/17 03:38:39.484380 GMT+0530

T642019/11/17 03:38:39.484897 GMT+0530

T12019/11/17 03:38:39.338106 GMT+0530

T22019/11/17 03:38:39.338310 GMT+0530

T32019/11/17 03:38:39.338467 GMT+0530

T42019/11/17 03:38:39.338612 GMT+0530

T52019/11/17 03:38:39.338704 GMT+0530

T62019/11/17 03:38:39.338778 GMT+0530

T72019/11/17 03:38:39.339562 GMT+0530

T82019/11/17 03:38:39.339754 GMT+0530

T92019/11/17 03:38:39.339973 GMT+0530

T102019/11/17 03:38:39.340197 GMT+0530

T112019/11/17 03:38:39.340245 GMT+0530

T122019/11/17 03:38:39.340340 GMT+0530