सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / फसलोपरांत तकनीकियां / फसल संग्रहण / आम, केले और पपीते का एक समान पकना
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

आम, केले और पपीते का एक समान पकना

किस प्रकार आम, केले और पपीता को एक सामान पकाया जा सकता है, बिना किसी केमिकल के इस्तेमाल के, उसकी जानकारी यहाँ दी गयी है|

पकाने की विधि

आम, केले और पपीते प्राय: परिपक्व होने पर पकने से पहले पेड़ से तोड़े जाते हैं और इसके बाद पकने के लिए छोड़ दिए जाते हैं। प्राकृतिक अवस्था में उनके पकने की गति धीमी होती है और इस कारण उनके वजन में भारी कमी होती है, और निर्जलीकरण होने के साथ-साथ उनका पकना भी असमान रूप से होता है। केले की कुछ व्यावसायिक किस्में जैसे कि ताइवान रेड लेडी अन्दर से असमान रूप से पकती है। डंठल और पुष्पण सिरे मध्य भाग की तुलना में कठोर बने रहते हैं।

पकने की क्रिया में तेजी लाने के लिए आमतौर पर फलों पर इथरेल का छिड़काव अथवा फलों को इथरेल में डुबा कर रखने की अनुशंसा की जाती है किंतु यह एक बोझिल प्रक्रिया है और व्यावसायिक रूप से उपलब्ध इथरेल में रासायनिक अशुद्धियाँ मिले रहने पर इससे समस्याएँ उत्पन्न हो सकती हैं। इससे बचने के लिए इथलीन गैस का प्रयोग आधुनिक पक्वन प्रकोष्ठों में किया जाता है जिसमें भारी निवेश की आवश्यकता होती है और किसानों तथा छोटे व्यापारियों के लिए यह आर्थिक रूप से लाभदायक नहीं होता। विकल्प के तौर पर, एक सरल आर्थिक विधि को फलों को पकाने हेतु मानकीकृत किया गया है जिसमें फलों को प्लास्टिक टैंट में इथिलीन गैस के सम्पर्क में रख जाता है

  1. कमरे के तापमान पर पपीते के फल को 3 दिन भंडारित रखने के बादपपीता 3
  2. इथिलीन गैस (100 पीपीएम) के सम्पर्क में रखे गये पपीते के फल को कमरे के तापमान पर 3 दिनपपीता २ भंडारित करने के बाद

बरती जाने वाली सावधानियां

इसमें, इथिलीन गैस मुक्त होने के लिए इथरेल में अल्प मात्रा में क्षार मिलाया आता है और फलों को इस उत्पन्न गैस में वायुरुद्ध पोर्टेबल प्लास्टिक टैंट में बंद कर रखा जाता है। फलों को वायुरुद्ध टैंटों के अन्दर ज्ञात आयतन वाले वायुनिकास युक्त प्लास्टिक के क्रेटों में रखा जाता है। इथरेल की वांछित/आकलित मात्रा को एक बर्तन में टैंट के अन्दर रखा जाता है जिसमें एक निश्चित मात्रा में क्षार (सोडियम हाइड्रॉक्साइड) मिलाया जाता है ताकि इथिलीन गैस मुक्त हो सके और उसके बाद टैंट को तुरंत वायुरुद्ध तरीके से बंद कर दिया जाता है। एक छोटी-सा बैट्री चालित पंखा, टैंट के अन्दर मुक्त इथिलीन गैस के एक समान संचरण हेतु, रखा जा सकता है। 18-24 घंटे तक इसमें रखने के बाद फलों को बाहर निकाल कर पकने की प्रक्रिया को पूर्ण करने हेतु कमरे के तापमान पर रखा जाता है।

आम के फलों को 24 घंटे तक 100 पीपीएम इथिलीन के सम्पर्क में रखने के बाद ये गुणवत्ता पर बिना किसी हानिकारक प्रभाव के 5 दिनों में पककर तैयार हो जाते हैं अन्यथा इन्हें पकने में 10 दिन लगता था। इसी प्रकार केले के गुच्छे/हत्थे 100 पीपीएम इथिलीन गैस के सम्पर्क में 18 घंटे तक रखने के बाद कमरे के तापमान पर रह कर 4 दिनों में पक जाते हैं। पपीते के फल को इथिलीन गैस के साथ रख कर और फिर 4 दिन कमरे के तापमान में रखने पर ये सतह के समान रंग और कठोरता के साथ पकते हैं।

अधिक जानकारी के लिए सम्पर्क करें
भारतीय बागवानी शोध संस्थान
हेसरघट्टा, बेंगलुरू (कर्नाटक) 560 089
ई-मेल: director@iihr.ernet.in

3.08888888889

देवेन्द्र कुमार Mar 09, 2018 06:13 PM

घर मै पपीता कैसे पका सकते है ?

Mithlesh kumar Dec 19, 2017 05:50 AM

Me jharkhand se bol raha hu . Me ek nishan hu. Mere pas jamin he me chahta hu kheti Ka business karu . lekin mujhe eske bare me kuch malum nahi he . Mujhe bata sakte he kya सर Please mera mob no: 95XXX: he

संतरा Nirale Dec 18, 2017 04:36 PM

खाद्य पदारत - गेहू धान मक्का बाजरा आदि अनाज के दोनों को आटे के रूप में रोटी बनाकर भोजन के रूप में उपयोग किया जाता है [२] शकरा - गन्ने के रस से शकर (चिनी) तथा गुड़ बनाया जाता हे [३] बस - इसके तने सा दलीया सीडिया झोपड़िया तथा माकन की छत बनायीं जाती हे

केदार सिंह सैनी, रूठियाई जिला - गुना (म. प्र.) What's aap-7898915683 Aug 16, 2017 04:24 PM

आप के द्वारा दी गई जानकारी बहुत ही ज्ञान वर्धक है, गुलदाऊदी के फूलों से कीट नाशक कैसे बनाते हैं?

Moin Aug 11, 2017 08:26 PM

Sir mujhe athlin counter lgwana h so pls help me. Agr aap ke pas koi h jo is typ ka work krta h usko aap humare no send kr dijiye agr aap ke pas kisi ke no h to aap hume send kr dena mera no h 78XXX87

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/06/25 09:15:25.576406 GMT+0530

T622018/06/25 09:15:25.589550 GMT+0530

T632018/06/25 09:15:25.683951 GMT+0530

T642018/06/25 09:15:25.684408 GMT+0530

T12018/06/25 09:15:25.554852 GMT+0530

T22018/06/25 09:15:25.555069 GMT+0530

T32018/06/25 09:15:25.555236 GMT+0530

T42018/06/25 09:15:25.555396 GMT+0530

T52018/06/25 09:15:25.555485 GMT+0530

T62018/06/25 09:15:25.555557 GMT+0530

T72018/06/25 09:15:25.556309 GMT+0530

T82018/06/25 09:15:25.556493 GMT+0530

T92018/06/25 09:15:25.556698 GMT+0530

T102018/06/25 09:15:25.556908 GMT+0530

T112018/06/25 09:15:25.556954 GMT+0530

T122018/06/25 09:15:25.557045 GMT+0530