सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत

इस पृष्ठ में पशुओं के रासायनिक उपचार संबंधी जानकारी दी गई है।

  1. बीमार पशुओं का उपचार यथाशीघ्र प्रारम्भ करवाना चाहिए। इससे पशुओं के स्वस्थ होने की सम्भावना काफी अधिक बढ़ जाती है।
  2. उपचार निश्चित अवधि तक कराना चाहिए। बीच में औषधि बंद करना काफी घातक हो सकता है। जीवाणु-नाशक दवाईयां कम से कम तीन से पाँच दिन तक चलानी चाहिए।
  3. खुराक से अधिक मात्रा में दी गई औषधि तो हानिकारक होती है।
  4. उपचार के कम से कम 48 घंटे बाद तक दूध मनुष्य के लिए हानिकारक है।
  5. गाभिन पशुओं में औषधि का व्यवहार कम से कम तथा अत्यधिक सावधानीपूर्वक करना चाहिए।
  6. छोटे बछड़ों में औषधि पिलाने वक्त बहुत सावधानी की आवश्यकता है, जानवरों को दवा पिलाने से बचाना चाहिए। इसे लड्डू के रूप में या चटनी के रूप में खिलाना चाहिए।

स्त्रोत: कृषि विभाग, झारखंड सरकार

3.0

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/04/27 10:19:19.669608 GMT+0530

T622018/04/27 10:19:19.717552 GMT+0530

T632018/04/27 10:19:19.889518 GMT+0530

T642018/04/27 10:19:19.890036 GMT+0530

T12018/04/27 10:19:19.643521 GMT+0530

T22018/04/27 10:19:19.643705 GMT+0530

T32018/04/27 10:19:19.643855 GMT+0530

T42018/04/27 10:19:19.644017 GMT+0530

T52018/04/27 10:19:19.644111 GMT+0530

T62018/04/27 10:19:19.644187 GMT+0530

T72018/04/27 10:19:19.644984 GMT+0530

T82018/04/27 10:19:19.645207 GMT+0530

T92018/04/27 10:19:19.645442 GMT+0530

T102018/04/27 10:19:19.645658 GMT+0530

T112018/04/27 10:19:19.645705 GMT+0530

T122018/04/27 10:19:19.645816 GMT+0530