सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / महत्वपूर्ण जानकारी / पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत

इस पृष्ठ में पशुओं के रासायनिक उपचार संबंधी जानकारी दी गई है।

  1. बीमार पशुओं का उपचार यथाशीघ्र प्रारम्भ करवाना चाहिए। इससे पशुओं के स्वस्थ होने की सम्भावना काफी अधिक बढ़ जाती है।
  2. उपचार निश्चित अवधि तक कराना चाहिए। बीच में औषधि बंद करना काफी घातक हो सकता है। जीवाणु-नाशक दवाईयां कम से कम तीन से पाँच दिन तक चलानी चाहिए।
  3. खुराक से अधिक मात्रा में दी गई औषधि तो हानिकारक होती है।
  4. उपचार के कम से कम 48 घंटे बाद तक दूध मनुष्य के लिए हानिकारक है।
  5. गाभिन पशुओं में औषधि का व्यवहार कम से कम तथा अत्यधिक सावधानीपूर्वक करना चाहिए।
  6. छोटे बछड़ों में औषधि पिलाने वक्त बहुत सावधानी की आवश्यकता है, जानवरों को दवा पिलाने से बचाना चाहिए। इसे लड्डू के रूप में या चटनी के रूप में खिलाना चाहिए।

स्त्रोत: कृषि विभाग, झारखंड सरकार

3.01388888889

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/07/16 09:30:17.556090 GMT+0530

T622019/07/16 09:30:17.583457 GMT+0530

T632019/07/16 09:30:17.804503 GMT+0530

T642019/07/16 09:30:17.805256 GMT+0530

T12019/07/16 09:30:17.532236 GMT+0530

T22019/07/16 09:30:17.532405 GMT+0530

T32019/07/16 09:30:17.532545 GMT+0530

T42019/07/16 09:30:17.532679 GMT+0530

T52019/07/16 09:30:17.532763 GMT+0530

T62019/07/16 09:30:17.532841 GMT+0530

T72019/07/16 09:30:17.533567 GMT+0530

T82019/07/16 09:30:17.533752 GMT+0530

T92019/07/16 09:30:17.533966 GMT+0530

T102019/07/16 09:30:17.534174 GMT+0530

T112019/07/16 09:30:17.534218 GMT+0530

T122019/07/16 09:30:17.534308 GMT+0530