सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / महत्वपूर्ण जानकारी / पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुओं के रासायनिक उपचार के प्रमुख सिद्धांत

इस पृष्ठ में पशुओं के रासायनिक उपचार संबंधी जानकारी दी गई है।

  1. बीमार पशुओं का उपचार यथाशीघ्र प्रारम्भ करवाना चाहिए। इससे पशुओं के स्वस्थ होने की सम्भावना काफी अधिक बढ़ जाती है।
  2. उपचार निश्चित अवधि तक कराना चाहिए। बीच में औषधि बंद करना काफी घातक हो सकता है। जीवाणु-नाशक दवाईयां कम से कम तीन से पाँच दिन तक चलानी चाहिए।
  3. खुराक से अधिक मात्रा में दी गई औषधि तो हानिकारक होती है।
  4. उपचार के कम से कम 48 घंटे बाद तक दूध मनुष्य के लिए हानिकारक है।
  5. गाभिन पशुओं में औषधि का व्यवहार कम से कम तथा अत्यधिक सावधानीपूर्वक करना चाहिए।
  6. छोटे बछड़ों में औषधि पिलाने वक्त बहुत सावधानी की आवश्यकता है, जानवरों को दवा पिलाने से बचाना चाहिए। इसे लड्डू के रूप में या चटनी के रूप में खिलाना चाहिए।

स्त्रोत: कृषि विभाग, झारखंड सरकार

2.98717948718

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/10/18 18:45:0.585228 GMT+0530

T622019/10/18 18:45:0.669062 GMT+0530

T632019/10/18 18:45:0.905980 GMT+0530

T642019/10/18 18:45:0.906505 GMT+0530

T12019/10/18 18:45:0.456711 GMT+0530

T22019/10/18 18:45:0.456877 GMT+0530

T32019/10/18 18:45:0.457028 GMT+0530

T42019/10/18 18:45:0.457177 GMT+0530

T52019/10/18 18:45:0.457266 GMT+0530

T62019/10/18 18:45:0.457343 GMT+0530

T72019/10/18 18:45:0.458111 GMT+0530

T82019/10/18 18:45:0.458300 GMT+0530

T92019/10/18 18:45:0.458523 GMT+0530

T102019/10/18 18:45:0.458741 GMT+0530

T112019/10/18 18:45:0.458796 GMT+0530

T122019/10/18 18:45:0.458918 GMT+0530