सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

बटेर पालन

यह भाग बटेर पालन पर आधारित है जिसे पहले घरों में मांस के लिए किया जाता था, या जिनका शिकार किया जाता था. परन्तु, इन सालों में इनकी मांग बढ़ी है इसलिए इनका पालन एक अच्छे व्यवसाय के रुप में देखा जा रहा है।

बटेर पालन

यह भाग बटेर पालन पर आधारित है जिसे पहले घरों में मांस के लिए किया जाता था, या जिनका शिकार किया जाता था. परन्तु, इन सालों में इनकी मांग बढ़ी और इसलिए इन्हें एक आचे व्यवसाय में देखा जा रहा है।

जापानी बटेर

जापानी बटेर को आमतौर पर बटेर कहा जाता है। पंख के आधार पर इसे विभिन्न किस्मों में बाँटा जा सकता है, जैसे फराओं, इंगलिश सफेद, टिक्सडो, ब्रिटश रेज और माचुरियन गोल्डन। जापानी बटेर हमारे देश में लाया जाना किसानों के लिए-मुर्गी पालन के क्षेत्र में एक नये विकल्प के साथ-साथ उपभोक्ताओं को स्वादिष्ट और पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने में काफी महत्तवपूर्ण सिद्ध हुआ है। यह सर्वप्रथम केन्द्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान, इज्जतदार,बरेली में लाया गया था।

यहाँ इस पर काफी शोध कार्य किए जा रहे हैं। आहार के रुप में प्रयोग किए जाने के अतिरिक्त बटेर में अन्य विशेष गुण भी हैं, जो इसे व्यवसायिक तौर पर लाभदायक अण्ड़े तथा मांस के उत्पादन में सहायक बनाते हैं।

जापानी बटेर की विशेषताएं

  1. बटेर प्रतिवर्ष तीन से चार पीढ़ियों को जन्म दे सकने की क्षमता रखती है।
  2. मादा बटेर 45 दिन की आयु से ही अण्डे देना आरम्भ कर देती है। और साठवें दिन तक पूर्ण उत्पादन की स्थिति में आ जाती है।
  3. अनुकूल वातावरण मिलने पर बटेर लम्बी अवधि तक अण्डे देते रहती हैं और मादा बटेर वर्ष में औसतन 280 तक अण्डे दे सकती है।
  4. एक मुर्गी के लिए निर्धारित स्थान में 8 से 10 बटेर रखे जा सकते है। छोटे आकार के होने के कारण इनका पालन आसानी से किया जा सकता है। साथ ही बटेर पालन में दाने की खपत भी कम होती है।
  5. शारीरिक वजन की तेजी से बढ़ोतरी के कारण ये पाँच सप्ताह में ही खाने योग्य हो जाते है ।
  6. बटेर के अण्डे और मांस में मात्रा में अमीनो अम्ल, विटामिन, वसा और धातु आदि पदार्थ उपलब्ध रहते हैं।
  7. मुर्गियों की उपेक्षा बटेरों में संक्रामक रोग कम होते हैं। रोगों की रोकथाम के लिए मुर्गी-पालन की तरह इनमें किसी प्रकार का टीका लगाने की आवश्यकता नहीं है।

बटेर पालन


वैज्ञानिक विधि से बटेर पालन पर जानकारी

स्रोत: बिरसा कृषि विश्वविद्यालय,काँके, राँची- 834006

3.0890052356

Sanjay gaikwad Apr 19, 2018 10:18 PM

Muze information chahiye.mai nashik ka rahne wala hoo... Call-99XXX36

Pramod Gaikwad Apr 03, 2018 10:48 AM

Hi sir, मुझे भी बटर पालन की जाणकार चाहीये +91 78XXX73

Goodwin Mar 20, 2018 02:49 PM

सर मैं बटेर पालन करता हूं मध्य प्रदेश उज्जैन में प्लीज सुझाव दीजिए

virendra kumar Mar 06, 2018 09:50 AM

बटेर पालना चाहता हूँ कृपया विधि बताये 94XXX71

Shatrudhan Kumar Feb 27, 2018 07:36 PM

हमको भी जानकारी लेना है mob 98XXX02

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
Back to top

T612018/05/24 17:25:53.152901 GMT+0530

T622018/05/24 17:25:53.170622 GMT+0530

T632018/05/24 17:25:53.245196 GMT+0530

T642018/05/24 17:25:53.245626 GMT+0530

T12018/05/24 17:25:53.126804 GMT+0530

T22018/05/24 17:25:53.126972 GMT+0530

T32018/05/24 17:25:53.127110 GMT+0530

T42018/05/24 17:25:53.127244 GMT+0530

T52018/05/24 17:25:53.127328 GMT+0530

T62018/05/24 17:25:53.127396 GMT+0530

T72018/05/24 17:25:53.128140 GMT+0530

T82018/05/24 17:25:53.128327 GMT+0530

T92018/05/24 17:25:53.128552 GMT+0530

T102018/05/24 17:25:53.128765 GMT+0530

T112018/05/24 17:25:53.128808 GMT+0530

T122018/05/24 17:25:53.128895 GMT+0530