सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / राज्यों में पशुपालन / हरियाणा में पशुपालन की सफल कहानियां / पशुपालन प्रशिक्षण से ग्रामीण महिलाएँ हुई लाभान्वित
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुपालन प्रशिक्षण से ग्रामीण महिलाएँ हुई लाभान्वित

इस पृष्ठ में पशुपालन प्रशिक्षण से ग्रामीण महिलाएँ कैसे लाभान्वित हुई है, इसकी जानकारी दी गयी है।

परिचय

हिमाचल के जिला सोलन के परवाणु क्षेत्र से मार्च 2004 में दो विभिन्न समूहों में 56 प्रतिभागियों को वैज्ञानिक पद्धति से पशुपालन विषय पर प्रशिक्षित किया गया। प्रशिक्षण उपरांत किये गए सर्वेक्षण में पाया गया कि गायों से दुग्ध उत्पादकता 2.66 से 4.01 प्रति लीटर प्रति गाय तथा भैसों में दूध में वृद्धि 2.52 लीटर से 4.16 लीटर प्रतिधीन हुई हिया। पशुओं को स्टाल फीडिंग में 11% की वृद्धि हुई। कुछ प्रशिक्षणार्थियों ने सिखाई गई पद्धति से पशु आहार बनाकर पशुओं को खिलाने के लिए अपनाया है।

महिलाओं के समूह ने किया कमाल

महिलाओं के एक समूह ने खनिज लवण मिश्रण बनाकर न केवल पशुओं को खिलाने अपितु इसे अन्य लोगों को बेचकर धन लाभ भी कमाया है। सहायक परियोजना निदेशक, सामेकित जलागम परियोजना के अनुसार कुछ ग्रामीण महिलाओं ने दूध से पनीर बनाने की विधि से अपनाया है तथा इसे बेचकर वह धन अर्जित कर रही है।

सर्वेक्षण अनुसार पाया कि प्रशिक्षणार्थियों के पशुपालन सम्बन्धित विभिन्न क्षेत्रों में ज्ञान एवं कौशलता में बढ़ाया हुआ जिसके उनके घर की पशुशाला से उन्हें प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष लाभ हुआ है। पशुपालन में प्राप्त प्रशिक्षण से मिला लाभ इन प्रशिक्षणार्थियों ने अन्य गांववासियों के साथ भी साँझा किया जिसके चलते वैज्ञानिक विधियों से पशुपालन कर उन्हें भी लाभ पंहुचा है।

 

स्त्रोत:  कृषि विभाग, झारखण्ड सरकार

3.27777777778

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/10/15 21:34:39.422611 GMT+0530

T622018/10/15 21:34:39.445561 GMT+0530

T632018/10/15 21:34:39.734913 GMT+0530

T642018/10/15 21:34:39.735442 GMT+0530

T12018/10/15 21:34:39.382181 GMT+0530

T22018/10/15 21:34:39.382368 GMT+0530

T32018/10/15 21:34:39.382538 GMT+0530

T42018/10/15 21:34:39.382689 GMT+0530

T52018/10/15 21:34:39.382784 GMT+0530

T62018/10/15 21:34:39.382873 GMT+0530

T72018/10/15 21:34:39.383753 GMT+0530

T82018/10/15 21:34:39.383977 GMT+0530

T92018/10/15 21:34:39.384216 GMT+0530

T102018/10/15 21:34:39.384500 GMT+0530

T112018/10/15 21:34:39.384550 GMT+0530

T122018/10/15 21:34:39.384649 GMT+0530