सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

पशुपालन प्रशिक्षण से हुई अतिरिक्त आय

इस पृष्ठ में पशुपालन प्रशिक्षण से अतिरिक्त आय कैसे प्राप्त कर सकते है, इसकी जानकारी दी गयी है।

परिचय

श्रीमती सुलतनी गाँव कैलाश, जिला करनाल ने वर्ष 2001 में कृषि विज्ञानं केंद्र, रा. डे. अनु.सं. करनाल से वैज्ञानिक तरीके से पशुपालन में प्रशिक्षण प्राप्त किया। इस प्रशिक्षण में इन्होनें पशुओं की नस्ल उनकी बीमारियों से सुरक्षा, पौष्टिक आहार व् स्वच्छ दूध उत्पादन इत्यादि के बारे में जानकारी प्राप्त हुई।

सरकारी सहायता से शुरू किया रोजगार

इन्होने दुधारू गाय के लिए राष्ट्रीय महिला कोष, गवर्नमेंट ऑफ़ इंडिया से 10,000 रु. का ऋण लिया और गाय खरीदी। दूध बेचकर स्वरोजगार शुरू किया। प्रतिमाह 500 रु. क़िस्त के हिसाब से ऋण चुकता किया और गाय अपनी हो गयी। एक बछड़ी गाय के साथ थी। अगले व्याप्त में भी बछड़ी पैदा हुई। इस समय इनके पास एक से तीन गाय हो गई है। इनके परिवार को भरपूर दूध मिलता है। प्रतिमाह दूध बेचकर करीब 2000 रु. शुद्ध लाभ अर्जित कर रही है।

स्त्रोत:  कृषि विभाग, झारखण्ड सरकार

3.41176470588

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/10/15 20:43:40.582685 GMT+0530

T622018/10/15 20:43:40.603572 GMT+0530

T632018/10/15 20:43:40.763136 GMT+0530

T642018/10/15 20:43:40.763597 GMT+0530

T12018/10/15 20:43:40.556168 GMT+0530

T22018/10/15 20:43:40.556358 GMT+0530

T32018/10/15 20:43:40.556505 GMT+0530

T42018/10/15 20:43:40.556648 GMT+0530

T52018/10/15 20:43:40.556739 GMT+0530

T62018/10/15 20:43:40.556811 GMT+0530

T72018/10/15 20:43:40.557598 GMT+0530

T82018/10/15 20:43:40.557800 GMT+0530

T92018/10/15 20:43:40.558029 GMT+0530

T102018/10/15 20:43:40.558260 GMT+0530

T112018/10/15 20:43:40.558305 GMT+0530

T122018/10/15 20:43:40.558399 GMT+0530