सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

तिलहन की खेती

इस भाग में तिलहन की खेती की सामान्य जानकारी प्रस्तुत की गई है।

परिचय

भारत में तिल की खेती पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु,महाराष्ट्र, कर्नाटक, राजस्थान, मध्य प्रदेश एवम उत्तर प्रदेश में की जाती हैI भारत के कुल उत्पादन 20 प्रतिशत उत्पादन अकेले गुजरात से होता हैI उत्तर प्रदेश में तिल की खेती मुख्यतः बुंदेलखंड के राकर भूमि में तथा मिर्जापुर, सोनभद्र, कानपुर, इलाहाबाद, फतेहपुर, आगरा एवम मैनपुरी में शुद्ध एवम मिश्रित रूप से की जाती हैI तिल की उत्पादकता बहुत ही कम है सघन पद्धतियाँ अपनाकर उत्पादन बढाया जा सकता हैI

जलवायु

तिल की खेती के लिए किस प्रकार की जलवायु और भूमि की आवश्यकता पड़ती है?
तिल के लिए शीतोषण जलवायु उपयुक्त होती है मुख्यतः बरसात या खरीफ में इसकी खेती की जाती है यह बहुत ही ज्यादा बरसात या सूखा पड़ने पर फसल अच्छी नहीं होती हैI इसके लिए हल्की भूमि तथा दोमट भूमि अच्छी होती हैI यह फसल पी एच 5.5 से 8.2 तक की भूमि में उगाई जा सकती हैI फिर भी यह फसल बलुई दोमट से काली मिट्टी में भी उगाई जाती  हैI

प्रजातियां

तिल की जो उन्नतशील प्रजातियाँ है उनके बारे में जाने किसान भाईयो को बताईये उन उन्नतशील प्रजातियों के बारे में?

तिल की कई प्रजातियाँ पाई जाती है जैसे की टाईप 4, टाईप12, टाईप13, टाईप78, शेखर, प्रगति, तरुण, कृष्णा, एवम बी.63 प्रजातियाँ हैI

भूमि की तैयारी

फसल की तैयारी के लिए अपने खेतों की तैयारी किस प्रकार करनी चाहिए?
खेत की तैयारी के लिए पहली जुताई मिट्टी पलटने वाले हल से तथा दो-तीन जुताई कल्टीवेटर या देशी हल से करके खेत में पाटा लगाकर भुरभुरा बना लेना चाहिएI इसके पश्चात ही बुवाई करनी चाहिएI 80 से 100 कुंतल सड़ी गोबर की खाद को आख़िरी जुताई में मिला देना चाहिएI

बीज और बुआई

तिल की फसल में बीज की मात्रा प्रति हेक्टेयर कितनी लगती है और बीज का शोधन हमारे किसान भाई किस प्रकार करे?
एक हेक्टेयर क्षेत्र के लिए तीन से चार किलोग्राम बीज पर्याप्त होता हैI बीज जनित रोगों से बचाव के लिए 2.5 ग्राम थीरम या कैप्टान प्रति किलोग्राम बीज की दर से शोधन करना चाहिएI

तिल की बुवाई किस समय और किस विधि द्वारा करनी चाहिए?
तिल की बुवाई का उचित समय जून के अंतिम सप्ताह से जुलाई का दूसरा पखवारा माना जाता हैI तिल की बुवाई हल के पीछे लाइन से लाइन 30 से 45 सेंटीमीटर की दूरी पर बीज को कम गहराई पर करते हैI

पोषण प्रबंधन

फसल में खाद एवम उर्वरको का प्रयोग कब करना चाहिए और कितनी मात्रा में करना चाहिए?
उर्वरको का प्रयोग भूमि परीक्षण के आधार पर करना चाहिएI 80 से 100 कुंतल सड़ी गोबर की खाद खेत तैयारी करते समय आख़िरी जुताई में मिला देना चाहिएI इसके साथ ही साथ 30 किलोग्राम नत्रजन, 15 किलोग्राम फास्फोरस तथा 25 किलोग्राम गंधक प्रति हेक्टेयर प्रयोग करना चाहिएI रकार तथा भूड भूमि में 15 किलोग्राम पोटाश प्रति हेक्टेयर प्रयोग करना चाहिएI नत्रजन की आधी मात्रा तथा फास्फोरस,पोटाश एवम गंधक की पूरी मात्रा बुवाई के समय बेसल ड्रेसिंग में तथा नत्रजन की आधी मात्रा प्रथम निराई-गुडाई के समय खड़ी फसल में देना चाहिएI

सिंचाई प्रबंधन

सिंचाई प्रबंधन तिल की फसल में कब होना चाहिए किस प्रकार होना चाहिए इस बारे में बताईये?  
वर्षा ऋतू की फसल होने के कारण सिंचाई की कम आवश्यकता पड़ती हैI यदि पानी न बरसे तो आवश्यकतानुसार सिंचाई करनी चाहिएI फसल में 50 से 60 प्रतिशत फलत होने पर एक सिंचाई करना आवश्यक हैI यदि पानी न बरसे तो सिंचाई करना आवश्यक होता हैI

निराई-गुडाई

तिल की फसल में निराई-गुडाई कब करनी चाहिए और खरपतवारों के नियंत्रण हेतु क्या उपाय  करने चाहिए?
किसान भाईयो प्रथम निराई-गुडाई बुवाई के 15 से 20 दिन बाद दूसरी 30 से 35 दिन बाद करनी चाहिएI निराई-गुडाई करते समय थिनिंग या विरलीकरण करके पौधों के आपस की दूरी 10 से 12 सेंटीमीटर कर देनी चाहिएI खरपतवार नियंत्रण हेतु एलाक्लोर50 ई.सी. 1.25 लीटर प्रति हेक्टेयर बुवाई के बाद दो-तीन दिन के अन्दर प्रयोग करना चाहिएI

रोगों पर नियंत्रण

रोगों पर नियंत्रण हमें कैसे करना चाहिए इस पर जानकारी दे रहे है?
इसमे तिल की फिलोड़ी अवम फाईटोप्थोरा झुलसा रोग लगते हैI फिलोड़ी की रोकथाम के लिए बुवाई के समय कूंड में 10जी. 15 किलोग्राम या मिथायल-ओ-डिमेटान 25 ई.सी 1 लीटर की दर से प्रयोग करना चाहिए तथा फाईटोप्थोरा झुलसा  की रोकथाम हेतु 3 किलोग्राम कापर आक्सीक्लोराइड या मैन्कोजेब 2.5 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से आवश्यकतानुसार दो-तीन बार छिड़काव करना चाहिएI

कीट प्रबंधन

कौन-कौन से कीट तिल की फसल में लग सकते है और उनका नियंत्रण हमें किस प्रकार करना चाहिए?
तिल में पत्ती लपेटक अवम फली बेधक कीट लगते हैI  इन कीटों की रोकथाम के लिए क्यूनालफास 25 ई.सी. 1.25 लीटर  या मिथाइल पैराथियान 2 प्रतिशत चूर्ण 25 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के दर से छिड़काव करना चाहिएI

कटाई एवं मड़ाई

तिल की फसल की कटाई एवम मड़ाई का सही समय क्या है कब करनी चाहिए?
तिल की पत्तियां जब पीली होकर गिरने लगे तथा पत्तियां हरा रंग लिए हुए पीली हो जावे तब समझना चाहिए की फसल पककर तैयार हो गयी हैI इसके पश्चात कटाई पेड़ सहित नीचे से करनी चाहिएI कटाई के बाद बण्डल बनाकर खेत में ही जगह जगह पर छोटे-छोटे ढेर में खड़े कर देना चाहिएI जब अच्छी तरह से पौधे सूख जावे तब डंडे छड आदि की सहायता से पौधों को पीटकर या हल्का झाड़कर बीज निकाल लेना चाहिएI

पैदावार

तिल की फसल से लगभग प्रति हेक्टेयर कितनी पैदावार हमें प्राप्त हो जाती है?
तकनीकी तरीको से खेती करने पर तिल की पैदावार 7 से 8 कुन्तल प्रति हेक्टेयर प्राप्त होती हैI

तिल का उत्पादन


कैसे करें तिल का उत्पादन, देखें इस विडियो में


स्त्रोत : एग्रोपीडिया

 

3.07954545455

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/12/08 00:19:0.298084 GMT+0530

T622019/12/08 00:19:0.322175 GMT+0530

T632019/12/08 00:19:0.385263 GMT+0530

T642019/12/08 00:19:0.385728 GMT+0530

T12019/12/08 00:19:0.275924 GMT+0530

T22019/12/08 00:19:0.276092 GMT+0530

T32019/12/08 00:19:0.276235 GMT+0530

T42019/12/08 00:19:0.276375 GMT+0530

T52019/12/08 00:19:0.276460 GMT+0530

T62019/12/08 00:19:0.276530 GMT+0530

T72019/12/08 00:19:0.277330 GMT+0530

T82019/12/08 00:19:0.277522 GMT+0530

T92019/12/08 00:19:0.277731 GMT+0530

T102019/12/08 00:19:0.277954 GMT+0530

T112019/12/08 00:19:0.278000 GMT+0530

T122019/12/08 00:19:0.278094 GMT+0530