सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / फसल उत्पादन / किसानों के लिए सुझाव / विष विज्ञान सम्बन्धी महत्वपूर्ण सुझाव
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

विष विज्ञान सम्बन्धी महत्वपूर्ण सुझाव

इस पृष्ठ में विष विज्ञान संबंधी जानकारी दी गई है।

1. गर्मी में उगाया गया ज्वार या इसके काटने के बाद जड़ों से निकली हुई छोटी-छोटी फुनगी काफी जहरीली होती है। पशुओं को इसे नहीं खिलाना चाहिए।

2. खेसारी, शरीफा, अकवन, धथूरा, कनैल की पत्ती अथवा फल पूर्ण जहरीले होते हैं। कनैल के पौधे के नीचे जमा पानी, जिसमें कनैल की पत्तियों गिरती रहती हैं, काफी जहरीला होता है।

3. पुटुश तथा थेथर के पौधे खाने से अपने जानवरों खासकर बकरी एवं भेड़ों को बचाना चाहिए।

4. बागवानी में लगे हुए पौधे के कतरन तथा दूब एवं अन्य घास, जिसमें अत्यधिक मात्रा में यूरिया या कीटाणुनाशक दवाओं का व्यवहार किया गया हो, खासकर गर्मी के दिनों में, जानवरों को नहीं खिलाना चाहिए।

5. कीटाणुनाशक दवाओं का प्रयोग करते वक्त सावधानी बरतनी चाहिए। बची हुई दवाई अथवा शीशी को जमीन के अंदर गाड़ दें। छिड़काव के कम से कम एक सप्ताह के बाद ही खेतों से निकाली गई घास एवं साग-सब्जी मनुष्य एवं जानवरों के खाने योग्य हो सकती है।

6. जीवाणुनाशक एवं कीटाणुनाशक दवाओं के व्यवहार के बाद पशुओं से उत्पादित दूध, मांस तथा मुर्गियों के मांस एवं अंडे कम से कम 72 घंटे तक मनुष्य के खाने योग्य नहीं रहते हैं।

7. घर में शादी-विवाह या अन्य समारोह के बाद बचे हुए जूठन खासकर भात, दाल, आलू, अन्य सब्जी एवं मिठाई का शिरा पशुओं को भूलकर भी नहीं खिलायें। इससे प्रत्येक वर्ष काफी जानवरों की मृत्यु हो जाती है।

स्त्रोत: कृषि विभाग, झारखंड सरकार

3.20833333333

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/06/17 21:51:1.995464 GMT+0530

T622018/06/17 21:51:2.012541 GMT+0530

T632018/06/17 21:51:2.187113 GMT+0530

T642018/06/17 21:51:2.187601 GMT+0530

T12018/06/17 21:51:1.972397 GMT+0530

T22018/06/17 21:51:1.972573 GMT+0530

T32018/06/17 21:51:1.972706 GMT+0530

T42018/06/17 21:51:1.972833 GMT+0530

T52018/06/17 21:51:1.972917 GMT+0530

T62018/06/17 21:51:1.972985 GMT+0530

T72018/06/17 21:51:1.973691 GMT+0530

T82018/06/17 21:51:1.973867 GMT+0530

T92018/06/17 21:51:1.974063 GMT+0530

T102018/06/17 21:51:1.974259 GMT+0530

T112018/06/17 21:51:1.974300 GMT+0530

T122018/06/17 21:51:1.974387 GMT+0530