सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

झारखण्ड में पालक की खेती

इस भाग में किस प्रकार झारखण्ड में पालक की सफल खेती करें, जानकारी दी गयी है।

गृह वाटिका में पालक लगाएं

पालक का वैज्ञानिक नाम “ स्पिनेसिया ओलरेसी” है। पालक की उत्पति या जन्म स्थान ‘इरान’ मानागया है।  आज पालक की सब्जी भारत के हर परिवार में लोकप्रिय सब्जी के रूप में है।  यह भारत के सभी बागों में उपजाई जाने वाली सब्जी है।  यह मुख्य रूप मैदानी इलाकों में उगाई जाती है।  पालक घर के आस-पास के जमीन में गृह वाटिका के रूप में तैयार भूमि पर भी उगाया जा सकता है। पालक  की खेती गृह वाटिका में लगभग सालों भर की जाती है।  पालक की खेती आप गृह वाटिका के अलावा व्यापारिक रूप से करके एक अच्छी आय अर्जित कर सकते हैं।

पालक में ओउशाधिये गुण भी पायी जाती है।  यह पाचन संबंधी रोग एवं कब्ज के लिए रामबाण है।  इसकी पत्तियों में काफी मात्रा में पोषक तत्व पाई जाती है।  इसकी सौ ग्राम पत्तियों में प्रोटीन – १.७ ग्राम, विटामिन ए-२५७८ आई. सी. कैल्शियम -६० मिलीग्राम, कार्बोहाइड्रेट-३.५ ग्राम, वसा -१ ग्राम, फास्फोरस-११ मिलीग्राम, आयोडीन -०.००९ मिली ग्राम, लोहा -५ मिलीग्राम, फालिक अम्ल -१२७ मिलीग्राम,  हिस्तिदईन्न -२.८ ग्राम, ल्युसैन- ८.० ग्राम, लायासिन -७.६ ग्राम, सिस्तैएन्न -२.१ ग्राम, वेलिनईन्न-५.० ग्राम, आइसोल्य्शन -५.४ ग्राम एवं आवश्यक अमीनों अम्ल/अजिनैएन्न -६.४ ग्राम पाया जाता है।

Spinachपालक बोअई का सही समय सितम्बर से दिसम्बर माह माना जाता है।  पालक की भारत में कई प्रजातियां पाई जाती है- पूसा हरित, पूसा ज्योति आलग्रिन, जोवनेर ग्रीन, अर्ली स्मूथ लीफ, वर्जीनिया आदि।  खासकर बिहार में पूसा हरित एवं पूसा ज्योति कई अच्छी उपज देखी गयी है।  यवैसे पालक कई अच्छी पैदावार के लिए बलुई – दोमट मिट्टी सर्वाधिक उपयुक्त माना जाता है इसकी खेती के लिए सबसे पहले खेत को अच्छी तरह से तैयार कर ले जिससे खेत कई मिट्टी पलट जाय एवं अंतिम जुताई के समय एल्द्रण कीटनाशक २५ किलोग्राम प्रति हेक्टेयर  कई दर से मिट्टी में अच्छी तरह मिला दें।

खाद प्रति हेक्टेयर

कम्पोस्ट – १५० क्विंटल यूरिया -१.५०-२.०० क्विंटल, सिंगल सुपर फास्फेट -२.००-२.५० क्विंटल एवं म्यूरेट ऑफ़ पोटाश -१.०० क्विंटल.  कम्पोस्ट (सड़ा गोबर) सिंगल सुपर फास्फेट और म्यूरेट ऑफ़ पोटाश कई पूरी मात्रा एवं यूरिया कई एक चौथाई मात्रा बुवाई के बीस दिन के बाद, दूसरा – पहली कटाई के बाद तथा तीसरा – दूसरी कटाई के बाद।

क्योंकि पालक को नाइट्रोजन कई आवश्यकता होती है, इसलिए कटाई के बाद नाइट्रोजन का व्यवहार जरुर करें।

बीज दर

२५-३० किलोग्राम प्रति हेक्टेयर के दर से उपयोग करें एवं पालक को छोटी-छोटी क्यारी बनाकर छिटका विधि द्वारा ही बोना चाहिए। बोआई के १५ दिनों के बाद से एक सप्ताह के अन्तर पर सिंचाई करें।

पालक, मेथी और चौलाई की खेती


कैसे करें पालक, मेथी और चौलाई की खेती ओर कब है बाज़ार में बेचने का सही समय

स्त्रोत: हलचल, ज़ेवियर समाज सेवा संस्थान

3.11627906977

मानस पटेल Mar 23, 2019 11:02 PM

पालक का उत्पादन प्रति हेक्टेयर कितना है?

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/10/22 13:54:41.695782 GMT+0530

T622019/10/22 13:54:41.725665 GMT+0530

T632019/10/22 13:54:41.866075 GMT+0530

T642019/10/22 13:54:41.866518 GMT+0530

T12019/10/22 13:54:41.652349 GMT+0530

T22019/10/22 13:54:41.652516 GMT+0530

T32019/10/22 13:54:41.652656 GMT+0530

T42019/10/22 13:54:41.652789 GMT+0530

T52019/10/22 13:54:41.652874 GMT+0530

T62019/10/22 13:54:41.652945 GMT+0530

T72019/10/22 13:54:41.653723 GMT+0530

T82019/10/22 13:54:41.653909 GMT+0530

T92019/10/22 13:54:41.654129 GMT+0530

T102019/10/22 13:54:41.654343 GMT+0530

T112019/10/22 13:54:41.654389 GMT+0530

T122019/10/22 13:54:41.654478 GMT+0530