सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

कुल्थी की उन्नत खेती

इस पृष्ठ में बिहार राज्य की कृषि प्रणाली में कुल्थी की उन्नत खेती की जानकारी दी गयी है

परिचय

कुल्थी का दलहनी फसल के उर्प में बहुतायत किसान खेती करते हैं। कुल्थी की खेती का रकबा बिहार में बहुत कम है। हलांकि इसमें संभावनाएं काफी अधिक है, क्योंकि कुल्थी में औषधीय गुण भी विद्यमान है। कुल्थी की खेती कुछ किसान पशुओं के लिए चारा के रूप में भी करते हैं। इसकी खेती करने से भूमि की उर्वरा शक्ति भी बढ़ जाती है।

  • खेत की तैयारी – दो-तीन बार खेत की अच्छी तरह जुताई करके पाटा चला दें। अंतिम जुताई के समय गोबर की सड़ी खाद 5 टन प्रति हेक्टेयर की दर से खेत में अच्छी तरह मिला दें।
  • बुआई का समय: जुलाई से अगस्त तक बुआई का उचित समय होता है।
  • उन्नत प्रभेद: डी.बी. 7, कोयम्बटूर, बी.आर. 5, बी.आर. 10. एस.67/31 (औसत उपज 25-30 किवंटल/हे,)
  • परिपक्वता अवधि: 90-95 दिन, (बी.आर, 10-95 से 100 दिन)

बीजोपचार

अ) बुआई के 24 घंटे पूर्व २-2.5 ग्राम फफूंदनाशी दवा) जैसे डाईफाल्टान अथवा थीरम अथवा कैप्टान) से प्रति किलो ग्राम बीज का उपयोग करें।

ब) बुआई की ठीक पहले फफूंदनाशक दवा से उपचारित बीज से उपचारित बीज को उचित राइजोबियम कल्चर एवं पी.एस.बी. से उपचारित कर बुआई करनी चाहिए।

स) राईजोबियम कल्चर से बीज उपचार फफूंदनाशी दवा से उपचारित करने के बाद करना चाहिये।

बुआई की दुरी – पंक्ति से पंक्ति की दुरी 30 सें,मी, तथा पौधे से पौधे की दुरी 10 सेंमी,

उर्वरक प्रबन्धन : कुल्थी में उर्वरक की कोई खास आवश्यकता नहीं होती है। फिर भी उत्तम पैदवार के लिए 20 किग्रा, नेत्रजन एवं 60 किग्रा, फास्फोरस प्रति हेक्टेयर देना चाहिए। उर्वरक को आवश्यकतानुसार एक बार अथवा दो बार सिंचाई के उपरांत देना चाहिए।

सिंचाई: कुल्थी में सिचाई की कोई खास आवश्यकता नहीं होती है। हालांकि फली बनते समय एक सिंचाई करने से कुल्थी के दाने अधिक पुष्ट होते हैं।

निकाई-गुडाई एवं खरपतवार प्रबन्धन: एक निकाई-गुडाई बुआई के 26-30 दिनों बाद करें। निकाई-गुडाई से अनावश्यक खरपतवार खेत से  बाहर निकल जाते हैं,और साथ ही मिट्टी मुलायम हो जाती है। इसका सीधा असर उत्पादन पर पड़ता है।

कटनी, दौनी एवं भंडारण:कुल्थी की फलियाँ एक बार पक कर तैयार हो जाती है। पकने पर फलियों का रंग भूरा हो जाता है और पौधे पीले पड़ने लगते हैं। पके हुए पौधों को काटकर धूप में सुखाकर दौनी करके दाना अलग कर लें। कुल्थी  के दानों को धूप में अच्छी तरह सुखाकर ही भंडारित करें।

स्त्रोत: कृषि विभाग, बिहार सरकार

2.97260273973

राजकुमार रावत Mar 06, 2019 08:03 PM

नमस्कार सर मे देवास म प्र से हुँ क्या में यहां कुल्थी की खेती कर सकता हुँ ?ओर इसकी किमत क्या रहेगी |

Ranjeet kumar Jul 21, 2017 05:04 PM

Sir, I bihar begusarai jila ka rahne bala hu. I "stevia" or alovera ka kheti karna chahta hu. Please sujjest me

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/12/08 00:45:42.458254 GMT+0530

T622019/12/08 00:45:42.480003 GMT+0530

T632019/12/08 00:45:42.638566 GMT+0530

T642019/12/08 00:45:42.639084 GMT+0530

T12019/12/08 00:45:42.432480 GMT+0530

T22019/12/08 00:45:42.432683 GMT+0530

T32019/12/08 00:45:42.432826 GMT+0530

T42019/12/08 00:45:42.432968 GMT+0530

T52019/12/08 00:45:42.433067 GMT+0530

T62019/12/08 00:45:42.433141 GMT+0530

T72019/12/08 00:45:42.433881 GMT+0530

T82019/12/08 00:45:42.434075 GMT+0530

T92019/12/08 00:45:42.434285 GMT+0530

T102019/12/08 00:45:42.434497 GMT+0530

T112019/12/08 00:45:42.434543 GMT+0530

T122019/12/08 00:45:42.434636 GMT+0530