सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / शिक्षा / बाल अधिकार / बाल अधिकार और संरक्षण
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

बाल अधिकार और संरक्षण

यह भाग शिक्षक, खेत मजदूरों और उन लोगों के लिए है जो बाल अधिकार और बाल संरक्षण के क्षेत्र में सक्रिय हैं।

बाल संरक्षण आयोग के दायित्व

बाल संरक्षण आयोग के निम्नलिखित दायित्व हैं

  • किसी विधि के अधीन बच्चों के अधिकारों के संरक्षण के लिए सुझाये गये उपायों की निगरानी व जांच करना जो उनके प्रभावी कार्यान्वयन के लिए वर्तमान केंद्र सरकार को सुझाव देते हैं।
  • उन सभी कारकों की जांच करना जो आतंकवाद, सांप्रदायिक हिंसा, दंगों, प्राकृतिक आपदा, घरेलू हिंसा, एचआईवी /एड्स, तस्करी, दुर्व्यवहार, यातना और शोषण, वेश्यावृत्ति और अश्लील साहित्य से प्रभावित बच्चों के खुशी के अधिकार व अवसर को कम करती है और उसके लिए उपचारात्मक उपायों का सुझाव देना।
  • ऐसे संकटग्रस्त, वंचित और हाशिये पर खड़े बच्चे जो बिना परिवार के रहते हों और कैदियों के बच्चों से संबंधित मामलों पर विचार करना और उसके लिए उपचारात्मक उपायों का सुझाव देना।
  • समाज के विभिन्न वर्गों के बीच बाल अधिकार साक्षरता का प्रसार करना और बच्चों के लिए उपलब्ध सुरक्षोपाय के बारे में जागरूकता फैलाना।
  • केन्द्र सरकार या किसी राज्य सरकार या किसी अन्य प्राधिकारी सहित किसी भी संस्थान द्वारा चलाए जा रहे सामाजिक संस्थान जहां बच्चों को हिरासत में या उपचार के उद्देश्य से या सुधार व संरक्षण के लिए रखा गया हो, वैसे बाल सुधार गृह या किसी अन्य स्थान पर जहाँ बच्चों का निवास हो या उससे जुड़ी संस्था का निरीक्षण करना।

बाल अधिकारों के उल्लंघन की जाँच

बच्चों के अधिकारों के उल्लंघन की जाँच कर ऐसे मामलों में कार्यवाही प्रारम्भ करना और निम्न मामलों में स्वतः संज्ञान लेना, जहाँ :

  • बाल अधिकारों का उल्लंघन व उपेक्षा होती हो।
  • बच्चों के विकास और संरक्षण के लिए बनाये गये कानून का क्रियान्वयन नहीं किया गया हो।
  • बच्चों के कल्याण और उसे राहत प्रदान करने के लिए दिये गये नीति निर्णयों,दिशा-निर्देशों या निर्देश का अनुपालन नहीं किया जाता हो।
  • जहाँ ऐसे मामले पूर्ण प्राधिकार के साथ उठाये गये हों।Child Rights
  • बाल अधिकार को प्रभावी बनाने के लिए अंतरराष्ट्रीय संधियों और अन्य अंतर्राष्ट्रीय उपकरणों के आवधिक समीक्षा और मौजूदा नीतियों, कार्यक्रमों और अन्य गतिविधियों का अध्ययन कर बच्चों के हित में उसे प्रभावी रूप से क्रियान्वित करने के लिए सिफारिश करना।
  • बाल अधिकार पर बने अभिसमयों के अनुपालन का मूल्यांकन करने के लिए बाल अधिकार से जुड़े मौजूदा कानून, नीति एवं प्रचलन या व्यवहार का विश्लेषण व मूल्यांकन करना और नीति के किसी भी पहलू पर जाँच कर प्रतिवेदन देना जो बच्चों को प्रभावित कर रहा हो और उसके समाधान के लिए नये नियम बनाने का सुक्षाव देना।
  • सरकारी विभागों और संस्थाओं में कार्य के दौरान व स्थल पर बच्चों के विचारों का सम्मान को बढ़ावा देना और उसे गंभीरता से लेना।
  • बाल अधिकारों के बारे में सूचना उत्पन्न करना और उसका प्रचार-प्रसार करना।
  • बच्चों से जुड़े आँकड़े का विश्लेषण व संकलन करना।
  • बच्चों के स्कूली पाठ्यक्रम, शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम और बच्चों की देखभाल करने वाले प्रशिक्षण कर्मियों के प्रशिक्षण पुस्तिका में बाल अधिकार को बढ़ावा देना और उसे शामिल करना:
  1. बाल अधिकारों की समझ
  2. संरक्षण का अधिकार
  3. बाल संरक्षण और कानून

स्त्रोत : पोर्टल विषय सामग्री टीम

3.15

Advocate rani dewangan Feb 28, 2018 09:48 AM

Dr.tukaram jiapne sahi kana ki tribal area m bachho ki halt thik nhi hota h or es bat ki khaber govt ko pta hote huwe bhi ve yojnaye bna or chord deti h sahi logo ke pass m ye suvidhaye bhi pahuch pati ydi aap tribal area ke bachho ki help mRNA change h to direct aap bal vikas wall ko letter likh sakte h unhe unke condition ke bare m pita sakte h or sath hi govt.ko bhi letter bhej sakte h.

Advocate rani dewangan Feb 27, 2018 10:15 PM

Dr.tukaram jiapne sahi kana ki tribal area m bachho ki halt thik nhi hota h or es bat ki khaber govt ko pta hote huwe bhi ve yojnaye bna or chord deti h sahi logo ke pass m ye suvidhaye bhi pahuch pati ydi aap tribal area ke bachho ki help mRNA change h to direct aap bal vikas wall ko letter likh sakte h unhe unke condition ke bare m pita sakte h or sath hi govt.ko bhi letter bhej sakte h.

Advocate rani dewangan Feb 26, 2018 11:56 PM

Mukesh Ji ydi aap garib h to govt. Ne garib bachho ke liye muft ka school khola h jiske tahat garib bacho ko pdaya jata h or an to scholarship bhi diya jata h jisse Bache apne aage ki padai ke liye paisa ke sakte h

Advocate rani dewangan Feb 26, 2018 11:48 PM

Dr.tukaram dadarav shinde Ji government me protection of child act ke tahat bachho ke swasth ka pura dhyan rakhte huwe food Pr kuch niyam banaye gye h bachho ke swasth ke liye free m Khana or vitamins ki goliya or iron ki piles bhi diye jate h ye San govt. Ki tart se allow kiya jata h . Jo family tribal ke under m aate h unke liye muft treatment ka bhi govt. Ne muft doctor Deva kendra khole h

Advocate rani dewangan Feb 26, 2018 02:28 PM

Cr.PC 125ke tahat bachho ko apne pita se bharan poshan pane ka pura aadhikar prapt h.bharan poshan ki jinti nessesary vstu h unhe pane ka pura aadhikar prapt h ydi koi pita bharan poshan dene se enkar krta h to use court ke through prapt kiya ja sakta h .bachho ko apne pita ke property m bhi baraber ka hissa lens ka aadhikar prapt kiya gya h be es chaiz ke liye bhi court m case krke kanuni ladai lada ja saktah.eske alava or bhi kai rights baccho ke mammle m constitution m bataye gye h .

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612018/06/19 10:10:0.321638 GMT+0530

T622018/06/19 10:10:0.334810 GMT+0530

T632018/06/19 10:10:0.335501 GMT+0530

T642018/06/19 10:10:0.335766 GMT+0530

T12018/06/19 10:10:0.300035 GMT+0530

T22018/06/19 10:10:0.300240 GMT+0530

T32018/06/19 10:10:0.300409 GMT+0530

T42018/06/19 10:10:0.300549 GMT+0530

T52018/06/19 10:10:0.300640 GMT+0530

T62018/06/19 10:10:0.300713 GMT+0530

T72018/06/19 10:10:0.301417 GMT+0530

T82018/06/19 10:10:0.301604 GMT+0530

T92018/06/19 10:10:0.301813 GMT+0530

T102018/06/19 10:10:0.302029 GMT+0530

T112018/06/19 10:10:0.302076 GMT+0530

T122018/06/19 10:10:0.302179 GMT+0530