सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / शिक्षा / बाल जगत / साइंस एक्सप्रेस
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

साइंस एक्सप्रेस

इस लेख में साइंस एक्सप्रेस नामक अनोखे 16 डिब्बों वाले वातानुकूलित ट्रेन के बारे में जानकारी दी गयी है|

परिचय

“साइंस एक्सप्रेस” भारतीय रेलवे की एक अभिनव पहल है जिसे साइंस औरप्रौद्योगिकी (डीएसटी) विभाग के लिए कस्टम निर्मित किया गया है| यह एक 16 कोच एसी ट्रेन है, जिसपर यह मोबाइल साइंस प्रदर्शनी है चलती है। यह ट्रेन लोगों के बीच जानकारी पहुँचाने का काम करती है और यह साइंस और प्रौद्योगिकी, पर्यावरण मंत्रालय, वन और रेलवे के जलवायु परिवर्तन (MoEFCC) और मंत्रालय विभाग का एक अनूठा सहयोगात्मक पहल है जिसका पूरे देश में भ्रमण कराया जा रहा है, जिसका समय सुबह 10 बजे से शाम 5 तक है|

यह अनूठा मोबाइल एक्सपो डीएसटी द्वारा अक्टूबर 2007 में शुरू किया गया था और तब से इसने भारत में 1,22, 000 किलोमीटर की यात्रा सात चरणों में की है, प्रत्येक 6-7 महीने की अवधि यह यात्रा पूरे भारत में पूरी की गयी है| “साइंस एक्सप्रेस” के पिछले तीन चरणों / यात्राओं को जैव विविधता स्पेशल के रूप में डीएसटी और MoEFCC की एक संयुक्त पहल के रूप में प्रस्तुत किया गया था और असंख्य "भारत की जैव विविधता 'का प्रदर्शन किया गया था। करीब 1.33 करोड़ छात्रों और शिक्षकों ने “साइंस एक्सप्रेस” का दौरा किया है। यह इस प्रकार से भारत में सबसे सबसे लंबे समय तक चल रही मोबाइल साइंस प्रदर्शनी बन गयी है।

“साइंस एक्सप्रेस” के जरिए जलवायु परिवर्तन संबंधी साइंस की जानकारी दी जाएगी तथा उसके प्रभावों और उनसे निपटने के उपायों को दर्शाया जाएगा। इस प्रदर्शनी में जलवायु परिवर्तन के बारे में संदेश दिया गया है। इस रेलगाड़ी से जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों के विषय में चर्चा और संवाद का अवसर मिलेगा। इसके साथ ही जलवायु परिवर्तन का सामना करने के लिए संभावित रणनीतियों के बारे में चर्चा की जाएगी, ताकि भारत विकास पथ पर अग्रसर हो सके। जलवायु परिवर्तन से लड़ने में सिविल सोसायटी की भूमिका को भी रेखांकित किया जाएगा।

साइंस एक्सप्रेस- पर्यावरण के लिए परिवर्तन

“साइंस एक्सप्रेस” ने भारत में सात सफल यात्राएं की है, और इस वर्ष इसके विषय को ने स्वरुप दिया गया है| अब इस एक्सप्रेस का विषय "जलवायु परिवर्तन" है और इसे " साइंस एक्सप्रेस क्लाइमेट एक्शन स्पेशल (एसईसीएएस) के नाम से जाना जा रहा है। दुनिया भर के देश दिसंबर 2015 में पेरिस में एक साथ एक नई जलवायु परिवर्तन संधि के लिए हड़ताल करने को इक्कठा होंगे, वहीँ भारत में यह साइंस एक्सप्रेस क्लाइमेट एक्शन स्पेशल (एसईसीएएस) के नाम से समाज के विभिन्न वर्गों, विशेष रूप से युवाओं, छात्रों के बीच लोगों को जागरूक करने के लिए चलाया जायेगा| जलवायु परिवर्तन शमन और अनुकूलन के माध्यम से लोगों के बीच जानकारी पहुंचाई जाएगी।

यह प्रदर्शनी जलवायु परिवर्तन के बारे में एक मजबूत संदेश देगी और भारत के जलवायु परिवर्तन में नागरिक समाज की भूमिका को प्रमुखता मिलेगी|

इस एक्सप्रेस के विभिन्न डिब्बों में उपस्थित 40 शिक्षक देश भर में जागरूकता फैलायेंगे।

साइंस एक्सप्रेस के प्रत्येक कोच की विशेषता

कोच 1: पर्यावरण परिवर्तन को समझें – जलवायु की बेहतर समझ के लिए, ग्रीन हाउस गैस के प्रभाव और मानव गतिविधियों की वजह से जलवायु में वर्तमान परिवर्तन को समझना| लोगों के बीच में यह महत्वपूर्ण सन्देश देना की उनके अंतर्निहित कारणों से जलवायु में परिवर्तन हो रहा है |

  • कोच 2:  जलवायु परिवर्तन का प्रभाव – किस प्रकार से तापमान में वृद्धि हो रही है, मानसून में बदलाव हो रहा है, समुद्र का स्तर बढ़ रहा है और ये सब महत्वपूर्ण क्षेत्रों जैसे पानी, कृषि, वन और जैव विविधता, और मानव स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे है, और इन्हें कम करने के तरीकों को सुनिश्चित करना होगा|
  • कोच 3 एवं 4 : अनुकूलन -  अनुकूलन की संकल्पना और जीवन के उदहारण, अनुकूलन रणनीतियों और क्षेत्र से कहानियों के उदाहरण हैं। शहरी और ग्रामीण संदर्भो में भारत के अनुकूलन कार्यों में अनुकूलन विकल्प लिए जा रहे है।
  • कोच 5 एवं 6: उदाहरण के साथ शमन – इस कोच की संकल्पना और परिभाषा में संतुलन बहाल करने और अक्षय ऊर्जा (आरई) प्रौद्योगिकियों के माध्यम से उत्सर्जन को कम करने पर जोर दिया गया है। भारत में कम कार्बन रणनीतियों को बढाने और महत्वाकांक्षी लक्ष्य को प्राप्त करने की भूमिका पर जोर दिया गया है |
  • कोच 7: यूएनएफसीसीसी, आईपीसीसी के जलवायु परिवर्तन परिचय पर अंतर्राष्ट्रीय वार्ता और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सहमति व्यक्त की कार्रवाई और लक्ष्य को प्रमुखता से प्रस्तुत किया गया है।
  • कोच 8: हाथ की रेखा – हम स्कूल में, रोड पर, घर पर, ऑफिस में किस प्रकार से अपने रहन-सहन के तरीकों से पर्यावरण के लिए अच्छा कर सकते है| इस कोच में एक महत्वपूर्ण संदेश प्रस्तुत किया गया है, ‘अपने जीवन शैली में अनोखा बदलाव लायें और अपने हस्तचिन्ह बढायें और अपने पदचिह्न 'घटाएँ।
  • कोच 9 और 10: भारत के जैव प्रौद्योगिकी विभाग (डीबीटी), सरकार द्वारा लगाई गयी प्रदर्शनी जो प्रमुखता से जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में बाघ संरक्षण और केमिकल इकोलॉजी और भारत के अनुसंधान और विकास प्रयासों पर जोर देते है| और साथ ही जैव संसाधनों और प्रकृति संरक्षण के लिए जैव प्रौद्योगिकी जैसे विषयों पर भी विशेष ध्यान रखते है।
  • कोच 11: नेशनल इनोवेशन फाउंडेशन (एनआईएफ) द्वारा लगाये गए इस प्रदर्शनी में आम लोगों को सरलता से और संवर्धित वास्तविकता की तकनीक का उपयोग करता है जो एक अभिनव परियोजना का प्रदर्शन है | इस प्रदर्शनी में नवाचार, विज्ञान शिक्षा, डीएसटी छात्रवृत्ति एवं योजनाओं, करियर जैसे विषयों पर भी जानकारी उपलब्ध करायी गयी है|
  • कोच 12:  बच्चों के लिए निर्मित इस जोन में क्लास 4 और उससे नीचे के बच्चों के लिए  विज्ञान, गणित और पर्यावरण के बारे में अनोखी गतिविधियों, खेल और पहेली में भाग लेने के लिए उपलब्ध कराया गया है|
  • कोच 13: इस कोच जॉय ऑफ़ साइंस लैब में क्लास 5-10 के बच्चों को पर्यावरण, विज्ञान और गणित में अवधारणाओं को समझने, सम्बंधित प्रयोगों और गतिविधियों को प्रदर्शित किया गया है| प्रशिक्षण की भी सुविधा यहां के शिक्षकों के उन्मुखीकरण के लिए निर्धारित की गयी है।
  • यह पहली बार है की, सौर पैनलों डीएसटी और सेंट्रल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड (सीईएल) का एक सहयोगात्मक प्रयास है जो कोचों 11-13 की छत के ऊपर, पर स्थापित किया गया है।

ट्रेन के बाकी कोच में लगी अन्य प्रदर्शनियों में वन्य जीवन और प्रकृति केसंरक्षण, जैव प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारत के विकास, विज्ञान और प्रौद्योगिकी, डीएसटी छात्रवृत्ति और विज्ञान के क्षेत्र में योजनाओं और करियर में नवाचारों और विभिन्न अनुसंधान संस्थानों द्वारा प्रस्तुत किया गया है|

प्रत्येक पड़ाव पर, अपने संदेश और गतिविधियों को मजबूत करने के लिए विभिन्न आयु समूहों के आगंतुकों के लिए योजना बनाई गयी है। आउटरीच कार्यक्रम भी रेलवे प्लेटफॉर्म पर स्थानीय स्कूलों / संस्थानों के बीच आयोजित किया जायेगा।

कैसे करें संपर्क

स्कूली छात्र 20-20 के दल में जॉय ऑफ साइंस लैब में भागीदारी कर सकते हैं, जिसके लिए vascsc.jos@gmail.com पर पंजीकरण कराना होगा। इसके अलावा मोबाइल नंबर 09428405408 पर संपर्क किया जा सकता है। इस अवसर पर सरकार द्वारा आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों में आगुन्तकों का स्वागत है।

यह प्रदर्शनी सबके लिए खुली है, लेकिन इसका मुख्य लक्ष्य छात्र और आध्यपक हैं। अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट www.sciencexpress.in देखी जा सकती है। प्रदर्शनी को देखने और जानकारी प्राप्त करने के लिए sciencexpress@gmail.com पर ई-मेल भेजा जा सकता है, या गाड़ी में सवार दल से मोबाइल नंबर 09428405407 पर संपर्क किया जा सकता है।

क्या करें और क्या न करें

विज्ञान एक्सप्रेस जलवायु लड़ाई स्पेशल में आने के लिए

प्रदर्शनी सभी के लिए खुला है।

प्रदर्शनी में आने के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है।

विज्ञान एक्सप्रेस पर ये चीजें ले जाने की अनुमति नहीं है: मोबाइल फोन, कैमरा, बैग, माचिस, सिगरेट, बीड़ी, तम्बाकू, पानी की बोतलें, कोई भी तरल पदार्थ, और किसी भी तेज धार वस्तु|

स्थान: संबंधित शहर के रेलवे स्टेशन

 

स्त्रोत : पत्र सूचना कार्यालय, साइंस एक्सप्रेस

3.0

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612017/12/18 10:32:44.143620 GMT+0530

T622017/12/18 10:32:44.953067 GMT+0530

T632017/12/18 10:32:44.955959 GMT+0530

T642017/12/18 10:32:44.956250 GMT+0530

T12017/12/18 10:32:44.119826 GMT+0530

T22017/12/18 10:32:44.119971 GMT+0530

T32017/12/18 10:32:44.120104 GMT+0530

T42017/12/18 10:32:44.120233 GMT+0530

T52017/12/18 10:32:44.120325 GMT+0530

T62017/12/18 10:32:44.120394 GMT+0530

T72017/12/18 10:32:44.121031 GMT+0530

T82017/12/18 10:32:44.121205 GMT+0530

T92017/12/18 10:32:44.121410 GMT+0530

T102017/12/18 10:32:44.121610 GMT+0530

T112017/12/18 10:32:44.121654 GMT+0530

T122017/12/18 10:32:44.121742 GMT+0530