सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / शिक्षा / शिक्षा की ओर प्रवृत करने की पहल / दूधवाला ने खोला स्कूल, बच्चो को कर रहे हैं शिक्षित
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

दूधवाला ने खोला स्कूल, बच्चो को कर रहे हैं शिक्षित

इस पृष्ठ में किस प्रकार एक अनपढ़ दूधवाले ने बच्चों के लिए स्कूल स्थापित कर उन्हें शिक्षा की रौशनी दिखाई, इसकी कहानी बताई गयी है।

परिचय

बिहार के अररिया जिले के रमजानी मियां कभी स्कूल नहीं जा सके। इस बात का उन्हें अफसोस था। अफसोस से परेशान होने के बजाय उन्होंने भावी पीढ़ी को शिक्षित करने का बीड़ा उठाया। दिक्कत यह थी कि गांव में स्कूल ही नहीं था। पांच वर्ष पूर्व उन्होंने लोगों से बांस मांगकर स्कूल बना डाला। अब तमघट्टी कूड़ा टोला के बच्चे बेकार घूमने के बजाय स्कूल जाने लगे हैं। रमजानी अपने गांव को निरक्षरता के कलंक से मुक्त करना चाहते हैं।

अभिभावकों को करते हैं प्रेरित

खुद के निरक्षर रहने की टीस ने रमजानी मियां को भावी पीढ़ी को साक्षर बनाने की प्रेरणा दी। कहते हैं किसी बच्चे को गंदे पानी में मछली मारते, बेगार करते या बेकार घूमते देख काफी दुख होता है। वे बच्चे के माता-पिता से मिलकर उसे स्कूल भेजने के लिए प्रेरित करते हैं। रमजानी अपने अनुभव साझा करते हुए कहते हैं कि मुङो अपने दूध का हिसाब भी दूसरों से कराना पड़ता है।

विद्यालय खोलने की ठानी

साइकिल से दूध बेचने वाले रमजानी मियां ने पांच वर्ष पूर्व गांव में स्कूल खोलने की ठानी। लोगों से बांस मांगा और दिन-रात मेहनत कर झोपड़ीनुमा स्कूल बनाया। तत्कालीन जनप्रतिनिधियों ने भी उनकी मदद की और सरकार से विद्यालय को मंजूरी दिला दी। विद्यालय का नाम प्राथमिक विद्यालय कूड़ा टोला, तमघट्टी रखा गया। आज इसमें दो शिक्षक 200 बच्चों को पढ़ा रहे हैं।

उपेक्षित है रमजानी का विद्यालय

प्राथमिक विद्यालय कूड़ा टोल, तमघट्टी सरकारी उपेक्षा का दंश ङोल रहा है। सरकारीकरण होने के चार वर्ष बाद भी ना तो विद्यालय का भवन बना और ना ही यहां के बच्चों को मध्याह्न् भोजन मिलता है। विद्यालय को जमीन भी उपलब्ध है। रमजानी कहते हैं कि सरकार संसाधन उपलब्ध कराए तो और बेहतर करेंगे।

बांस की टूटी-फूटी झोपड़ी में हो रहा पठन-पाठन

ग्रामीणों ने बताया कि कई बार विभाग से भवन बनवाने एवं एमडीएम शुरू करने की मांग की गई लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला। बांस की टूटी-फूटी झोपड़ी में पठन-पाठन होता है। बारिश के दिनों में सीधे कक्षा में ही पानी गिरता है। इस कारण पढ़ाई प्रभावित होती है। इस संबंध में अररिया के डीईओ डॉ. फैयाजुर्हमान ने कहा कि मामले की जानकारी लेकर गांव के इस विद्यालय की समस्याओं को दूर किया जाएगा।

लेखन : संदीप कुमार, स्वतंत्र पत्रकार

2.83561643836

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/10/21 13:21:55.318065 GMT+0530

T622019/10/21 13:21:55.378896 GMT+0530

T632019/10/21 13:21:55.388775 GMT+0530

T642019/10/21 13:21:55.389086 GMT+0530

T12019/10/21 13:21:55.260612 GMT+0530

T22019/10/21 13:21:55.260767 GMT+0530

T32019/10/21 13:21:55.260939 GMT+0530

T42019/10/21 13:21:55.261105 GMT+0530

T52019/10/21 13:21:55.261209 GMT+0530

T62019/10/21 13:21:55.261294 GMT+0530

T72019/10/21 13:21:55.262067 GMT+0530

T82019/10/21 13:21:55.262259 GMT+0530

T92019/10/21 13:21:55.262488 GMT+0530

T102019/10/21 13:21:55.262703 GMT+0530

T112019/10/21 13:21:55.262750 GMT+0530

T122019/10/21 13:21:55.262857 GMT+0530