सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / स्वास्थ्य / अंगदान / जीवित दाता संबंधित प्रत्यारोपण
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

जीवित दाता संबंधित प्रत्यारोपण

इस लेख में जीवित दाता संबंधित प्रत्यारोपण के बारे में बताया गया है|

जीवित दाता अंगदान क्‍या है ?

जीवित दाता अर्थ है अपने जीवन के दौरान एक व्यक्ति (एक गुर्दे शरीर के कार्यों को बनाए रखने के लिए सक्षम है) एक गुर्दा दान कर सकते हैं, अग्न्याशय के एक हिस्से (अग्न्याशय के आधे से अग्नाशय के कार्यों को बनाए रखने के लिए पर्याप्त है) और यकृत का एक हिस्सा (यकृत के हिस्‍से एक समय अवधि के बाद दोबारा बन जाएंगे)।

जब तक मैं जिंदा हूं तो क्‍या मैं अंग दान कर सकता हूं?

हां, जीवन के दौरान केवल कुछ अंगों का दान किया जा सकता है। एक जीवित व्‍यक्ति द्वारा दान दिया जाने वाला सबसे सामान्‍य अंग गुर्दा है, क्‍योंकि एक स्‍वस्‍थ व्‍यक्ति केवल एक कार्यशील गुर्दे के साथ पूरी तरह सामान्‍य जीवन बिता सकता है। जीवित दाताओं से प्रत्‍यारोपित किए गए गुर्दों की तुलना में मृत दाता से प्रत्‍यारोपित किए गए गुर्दे की उत्तर जीविता के बेहतर अवसर होते हैं। भारत में वर्तमान में प्रत्‍यारोपित किए जाने वाले सभी गुर्दों में लगभग 90 प्रतिशत जीवित दाता से होते हैं।गुर्दे के अलावा, यकृत के हिस्‍से को भी प्रत्‍यारोपित किया जा सकता है और फेफडे़ के एक छोटे हिस्‍से को भी दान देना संभव है, और बहुत कम संख्‍या में छोटी आंत का हिस्सा भी दान किया जा सकता है। जीवित दाता प्रत्‍यारोपण के सभी मामलों में दाता के जोखिम पर बहुत सावधानी पूर्वक विचार करना चाहिए। एक जीवित दाता द्वारा प्रत्‍यारोपण से पहले कुछ कठोर नियम पूरे करने होते हैं और आकलन तथा चर्चा की एक गहरी प्रक्रिया से गुजरना होता है।

जीवित अंग दान के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

जीवित निकट संबंधित दाता: आम तौर पर केवल तत्काल रक्त संबंधों को दाताओं के रूप में स्वीकार किया जाता है अर्थात् माता-पिता, भाई बहन, बच्चे, दादा दादी और नाती (टीएचओए अधिनियम 2014)। पत्‍नी को भी निकट रिश्तेदार की श्रेणी में आने वाले एक दाता के रूप में स्वीकार किया जाता है और एक दाता होने की अनुमति दी जाती है।

जीवित गैर निकट संबंधित दाता: प्राप्तकर्ता या रोगी के निकट रिश्तेदार के अलावा हैं। वे केवल प्राप्तकर्ता के प्रति स्नेह और लगाव के कारण या किसी अन्य विशेष कारण के लिए दान कर सकते हैं।

स्वैप दाता : उन मामलों में, जीवित निकट रिश्तेदार दाता प्राप्तकर्ता के साथ मेल नहीं कर पाते हैं, इस तरह के दो जोड़ों के बीच दाताओं की स्वैपिंग के लिए प्रावधान मौजूद हैं जहां पहली जोड़ी के दाता दूसरी जोड़ी के दूसरे प्राप्तकर्ता और पहले प्राप्तकर्ता दूसरे दाता के साथ मेल खाते हैं। इसकी अनुमति केवल दाताओं के रूप में निकट रिश्तेदारों के लिए है।

क्‍या जीवित दाता के लिए कोई आयु सीमा है ?

हां, जीवित अंग दान के लिए उम्र की कुछ सीमा है। जीवित दान 18 वर्ष की आयु के बाद किया जाना चाहिए।

स्वैप दान क्या है??

संभावित रिश्‍तेदार दाता होते हैं, जो अन्‍यथा इसके इच्‍छुक होते हैं, किंतु रक्‍त समूह में मिलान नहीं होने के कारण या अन्‍य किसी चिकित्‍सा कारण से उस विशेष ग्राही को परिवार के व्‍यक्ति का अंग दान करना उचित नहीं होता है। पुन: एक अन्‍य समान पारिवारिक स्थिति में भी ऐसा हो सकता है। तथापि, इन दो परिवारों में, एक परिवार के दाता अन्‍य परिवार के ग्राही के लिए चिकित्‍सा की दृष्टि से उपयुक्‍त हो सकते हैं और इसके विपरीत स्थिति हो सकती है। तब ये दोनों परिवार आपस में मिलते हैं और अलग अलग परिवारों के इन दो ग्राहियों के लिए अंग प्रत्‍यारोपण संभव हो जाता है। इसे 'स्वैप दान' प्रत्यारोपण कहा जाता है। स्वैप प्रत्‍यारोपण कानूनी तौर पर THO (संशोधित) अधिनियम 2012 में अनुमत है।

मेरे अंग दान करने के बाद क्‍या मैं चिकित्सकीय रूप से अयोग्य हो जाऊंगा?

नहीं, यह जीवित दान कार्यक्रम का बुनियादी सिद्धांत है कि व्‍यक्ति दान करने के बाद अपने शेष जीवन में पूरी तरह स्‍वस्‍थ बना रहता है। इस प्रकार, दाता किसी भी उद्देश्य के लिए चिकित्सकीय दृष्टि से अयोग्य नहीं होता है। तथापि, ऐसी स्थिति में, जीवित अंग दाता के साथ कुछ अलग तरीके से व्यवहार किया जाता है। जैसे कि सशस्त्र सेना बलों में एक अंग दाता को सामान्‍य नहीं माना जाता और दाता के सामने नौकरी में पदोन्‍नति आदि से संबंधित मामलों में कुछ मुद्दे उठते हैं।

क्या यह संभव है कि एक दोस्त या अन्य निकट रिश्तेदार से अंग प्राप्त कर सकते है?

कोई जीवित व्‍यक्ति अपने नजदीकी रिश्‍तेदार के अलावा प्रेम वश और जुड़ाव के कारण किसी ग्राही व्‍यक्ति को अंग का दान कर सकता है या किसी अन्‍य विशेष कारण से भी ऐसा किया जा सकता है। ऐसे मामलों में, इसे अस्पताल की प्राधिकार समिति द्वारा अनुमोदित किया जाना चाहिए, जहां प्रत्यारोपण किया जा रहा है। प्राधिकार समिति का अनुमोदन रिश्‍तेदार को शामिल करने के मामलों के अलावा अन्‍य सभी मामलों में अनिवार्य है। उक्‍त प्राधिकार समिति यदि अस्‍पताल में मौजूद नहीं है तो इसे जिले के संबंधित जिला या राज्य स्तर प्राधिकरण समिति द्वारा (या राज्य, यदि जिला स्तर पर कोई समिति नहीं है), जहां प्रत्यारोपण अस्पताल स्थित है, अनुमोदित किया जाता है।

 

स्त्रोत: राष्ट्रीय मानव अंग और ऊतक प्रत्यारोपण संगठन

2.9625

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
Back to top

T612019/10/14 03:53:14.587253 GMT+0530

T622019/10/14 03:53:14.601078 GMT+0530

T632019/10/14 03:53:14.601736 GMT+0530

T642019/10/14 03:53:14.602007 GMT+0530

T12019/10/14 03:53:14.563177 GMT+0530

T22019/10/14 03:53:14.563367 GMT+0530

T32019/10/14 03:53:14.563506 GMT+0530

T42019/10/14 03:53:14.563640 GMT+0530

T52019/10/14 03:53:14.563724 GMT+0530

T62019/10/14 03:53:14.563801 GMT+0530

T72019/10/14 03:53:14.564468 GMT+0530

T82019/10/14 03:53:14.564649 GMT+0530

T92019/10/14 03:53:14.564857 GMT+0530

T102019/10/14 03:53:14.565059 GMT+0530

T112019/10/14 03:53:14.565105 GMT+0530

T122019/10/14 03:53:14.565197 GMT+0530