सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / स्वास्थ्य / जीवन के सत्य / एड्स - कारण और बचाव
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

एड्स - कारण और बचाव

इस पृष्ठ में एड्स बीमारी के कारण और उसके बचाव के उपाय बताये गए है।

एच.आई.वी./ एड्स क्‍या है?

एड्स- एच.आई.वी. नामक विषाणु से होता है। संक्रमण के लगभग 12 सप्‍ताह के बाद ही रक्‍त की जॉंच से ज्ञात होता है कि यह विषाणु शरीर में प्रवेश कर चुका है, ऐसे व्‍यक्ति को एच.आई.वी. पोजिटिव कहते हैं। एच.आई.वी. पोजिटिव व्‍यक्ति कई वर्षो (6 से 10 वर्ष) तक सामान्‍य प्रतीत होता है और सामान्‍य जीवन व्‍यतीत कर सकता है, लेकिन दूसरो को बीमारी फैलाने में सक्षम होता है।

यह विषाणु मुख्‍यतः शरीर को बाहरी रोगों से सुरक्षा प्रदान करने वाले रक्‍त में मौजूद टी कोशिकाओं (सेल्‍स) व मस्ति‍ष्‍क की कोशिकाओं को प्रभावित करता है और धीरे-धीरे उन्‍हे नष्‍ट करता रहता है कुछ वर्षो बाद (6 से 10 वर्ष) यह स्थिति हो जाती है कि शरीर आम रोगों के कीटाणुओं से अपना बचाव नहीं कर पाता और तरह-तरह का संक्रमण (इन्‍फेक्‍शन) से ग्रसित होने लगता है इस अवस्‍था को एड्स कहते हैं।

एड्स का खतरा किसके लिए

  • एक से अधिक लोगों से यौन संबंध रखने वाला व्‍यक्ति।
  • वेश्‍यावृति करने वालों से यौन सम्‍पर्क रखने वाला व्‍यक्ति।
  • नशीली दवाईयां इन्‍जेकशन के द्वारा लेने वाला व्‍यक्ति।
  • यौन रोगों से पीडित व्‍यक्ति।
  • पिता/माता के एच.आई.वी. संक्रमण के पश्‍चात पैदा होने वाले बच्‍चें।
  • बिना जांच किया हुआ रक्‍त ग्रहण करने वाला व्‍यक्ति।

एड्स रोग कैसे फैलता है

  • एच.आई.वी. संक्रमित व्‍यक्ति के साथ यौन सम्‍पर्क से।
  • एच.आई.वी. संक्रमित सिरिंज व सूई का दूसरो के द्वारा प्रयोग करने सें।
  • एच.आई.वी. संक्रमित मां से शिशु को जन्‍म से पूर्व, प्रसव के समय, या प्रसव के शीघ्र बाद।
  • एच.आई.वी. संक्रमित अंग प्रत्‍यारोपण से।
  • एक बार एच.आई.वी.विषाणु से संक्रमित होने का अर्थ है- जीवनभर का संक्रमण एवं दर्दनाक मृत्‍यु

एड्स से बचाव

  • जीवन-साथी के अलावा किसी अन्‍य से यौन संबंध नही रखे।
  • यौन सम्‍पर्क के समय निरोध(कण्‍डोम) का प्रयोग करें।
  • मादक औषधियों के आदी व्‍यक्ति के द्वारा उपयोग में ली गई सिरिंज व सूई का प्रयोग न करें।
  • रक्‍त की आवश्‍यकता होने पर अनजान व्‍यक्ति का रक्‍त न लें, और सुरक्षित रक्‍त के लिए एच.आई.वी. जांच किया रक्‍त ही ग्रहण करें।
  • डिस्‍पोजेबल सिरिन्‍ज एवं सूई तथा अन्‍य चिकित्‍सीय उपकरणों का 20 मिनट पानी में उबालकर जीवाणुरहित करके ही उपयोग में लेवें, तथा दूसरे व्‍यक्ति का प्रयोग में लिया हुआ ब्‍लेड/पत्‍ती काम में ना लेंवें।
  • एड्स-लाइलाज है- बचाव ही उपचार है

एच.आई.वी. संक्रमण पश्‍चात लक्षण

एच.आई.वी. पोजिटिव व्‍यक्ति में 7 से 10 साल बाद विभिन्‍न बीमारिंयों के लक्षण पैदा हो जाते हैं जिनमें ये लक्षण प्रमुख रूप से दिखाई पडते हैः

  • गले या बगल में सूजन भरी गिल्टियों का हो जाना।
  • लगातार कई-कई हफ्ते अतिसार घटते जाना।
  • लगातार कई-कई  हफ्ते बुखार रहना।
  • हफ्ते खांसी रहना।
  • अकारण वजन घटते जाना।
  • मूंह में घाव हो जाना।
  • त्‍वचा पर दर्द भरे और खुजली वाले ददोरे/चकते हो जाना।
  • उपरोक्‍त सभी लक्षण अन्‍य सामान्‍य रोगों, जिनका इलाज हो सकता है, के भी हो सकते हैं
  • किसी व्‍यक्ति को देखने से एच.आई.वी. संक्रमण का पता  नहीं लग सकता- जब तक कि रक्‍त की जांच ना की जावे

एड्स निम्‍न तरीकों से नहीं फैलता है

एच.आई.वी. संक्रमित व्‍यक्ति के साथ सामान्‍य संबंधो से,  जैसे हाथ मिलाने,  एक साथ भोजन करने,  एक ही घडे का पानी पीने,  एक ही बिस्‍तर और कपडो के प्रयोग, एक ही कमरे अथवा घर में रहने, एक ही शौचालय, स्‍नानघर प्रयोग में लेने से,  बच्‍चों के साथ खेलने से यह रोग नहीं फैलता है मच्‍छरों /खटमलों के काटने से यह रोग नहीं फैलता है।

  • एच.आई.वी. संक्रमित व्‍यक्ति को प्‍यार दें- दुत्‍कारे नहीं
  • प्रमुख सन्‍देश
  • एड्स का कोई उपचार बचाव का टीका नहीं हैं।
  • सु‍रक्षित यौन संबंध के लिए निरोध का उपयोग करें।
  • हमेशा जीवाणुरहित अथवा डिस्‍पोजेबल सिरिंज व सूई ही उपयोग में लेवें।
  • एच.वाई.वी. संक्रमित महिला गर्भधारण न करें।

स्त्रोत: स्वास्थ्य विभाग, झारखण्ड सरकार

 

3.14689265537

अपूर्वा दीपक गुप्ता Jan 27, 2020 04:23 PM

एड्स से बचाव- एड्स पीडित महिलाएं गर्भधारण न करें, क्‍योंकि उनसे पैदा होने वाले‍ शिशु को यह रोग लग सकता है। भारत के राष्ट्रीय पोर्टल के एच आय व्ही एड्स विरोधी अभियान की जानकारी देने वाले पेज के तहत यह साफ़ लिखा हैं की " मां से बच्चे में एचआईवी के संक्रमण को रोका जा सकता है।" (एचआईवी/एड्स से संबंधित महत्वXूर्ण तथ्य इस पॉइंट में) विकासXिडिXा पर कृपया सही जानकारी दे यह अनुरोध हैं.

Aarti Jan 17, 2020 08:53 PM

बहुत अच्छी जानकारी है।

Deepmala Jan 07, 2020 07:36 PM

एड्स लाइलाज है "बचाव ही उपचार है"

Vikash Dec 30, 2019 02:15 PM

Good Information

Vikash saini Dec 20, 2019 03:28 PM

Good information Vikash Saini

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612020/01/30 00:21:38.875274 GMT+0530

T622020/01/30 00:21:38.892971 GMT+0530

T632020/01/30 00:21:38.893695 GMT+0530

T642020/01/30 00:21:38.893973 GMT+0530

T12020/01/30 00:21:38.852115 GMT+0530

T22020/01/30 00:21:38.852314 GMT+0530

T32020/01/30 00:21:38.852466 GMT+0530

T42020/01/30 00:21:38.852605 GMT+0530

T52020/01/30 00:21:38.852697 GMT+0530

T62020/01/30 00:21:38.852769 GMT+0530

T72020/01/30 00:21:38.853469 GMT+0530

T82020/01/30 00:21:38.853657 GMT+0530

T92020/01/30 00:21:38.853862 GMT+0530

T102020/01/30 00:21:38.854075 GMT+0530

T112020/01/30 00:21:38.854121 GMT+0530

T122020/01/30 00:21:38.854224 GMT+0530