सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

ऊर्जा की आवश्यकता

इस भाग में ऊर्जा की आवश्यकता के विषय में बताया गया है।

शरीर क्रिया और ऊर्जा की आवश्यकता - किलो कैलोरी प्रति घंटा

क्रियाकलाप का प्रकार

७० किलो के पुरुष में

५० किलो के पुरुष में

५० किलो की महिला में

सोना

६५

५०

४०

बैठना

१००

७५

६०

आराम से खड़े रहना

१०५

८०

६५

लिखना

१४०

१२०

१००

धीरे धीरे चलना

२००

१५०

१२०

भागना / दौड़ना

५७०

४५०

३६०

कुल्हा़ड़ी से लकड़ी काटना

४८०

४००

३२०

ज़ोरदार कसरत करना

६००

४५०

३६०

सीढ़ियाँ / पहाड चढ़ना

१०००

८००

६५०

५० ग्राम गेहू की एक रोटी से लगभग १८० कॅलरी ऊर्जा मिलती है। एक किलोग्राम आटे में ऐसी २० रोटिया बनेंगी।

 

हल्की फुल्की कसरत से खून की आपूर्ति बेहतर होती है और शरीर ऑक्सीजन युक्त कसरत के लिए तैयार हो जाता है। कसरत के दौरान ऑक्सीजन के इस्तेमाल हो जाने के कारण पेशियों में ऑक्सीजन की कमी हो जाती है। इस कमी को पूरा होने में करीब एक घण्टा लगता है। परन्तु अगर एक व्यक्ति न बहुत अधिक कसरत कर ली हो जैसे कि कई किलो मीटर चलना - तो ग्लाईकोजन की आपूर्ति होने में ५-६ दिन भी लग जाते हैं।

चलना, कूदना, तैरना, साइकिल चलाना, दौड़ना और तेज़ खेल जैसे फुटबॉल अच्छी ऑक्सीजन युक्त कसरतें हैं। परन्तु यह कसरतें कम से कम २० मिट रोज़ करना ज़रूरी है।

अनएरोबिक कसरत

अचानक तेज़ी से किए गए क्रियाकलाप - जैसे बस पकड़ने के लिए भागने में, या क्रिकेट के खेल में फील्डर के बाल पकड़ने के लिए भागने में - शरीर की पेशियॉं शरीर में इकठ्ठी ऊर्जा का इस्तेमाल कर लेती हैं। यह प्रक्रिया हवा के ऑक्सीजन के इस्तेमाल के बिना होती है। इसलिए इसे बिना हवा की कसरत (अनेरोबिक) कहते हैं। अगर यह क्रियाकलाप १५ सैकेण्ड से ज़्यादा चलता है तो इससे लैक्टिक ऐसिड पेशियों से खून में बहने लगता है। इससे गर्मी भी पैदा होती है। इससे थकान और बैचेनी होती है। कभी-कभी इससे दर्द और ऐंठन भी हो जाती है। शरीर को इस घटना से उभरने में करीब आधा घण्टा लग जाता है। वजन उठाना, जिम्नास्टिक, छोटी दौड आदि अनेरोबिक किस्मकी कसरत है।

ऑक्सीजन युक्त/वातपेक्षी/ऑक्सीजनी कसरत (ऍराबिक कसरत)

इन व्यायामों में सांस ज़्यादा चलती है। उसको हवाई व्यायाम (ऐरोबिक) कहते हैं- जैसे दौड़, पहाड़ चढ़ना, हॉकी आदि खेल। १० से ५० सेकेण्ड की सक्रियता के बाद, पेशियों में ताज़ा खून आ जाता है। इसके बाद ऊर्जा ग्लूकोस और ऑक्सीजन के संयोग से पैदा होती है। इसमें ऊर्जा की आपूर्ति और उत्सर्जित पदार्थों का बाहर निकलना दोनों ठीक से नियंत्रित होते हैं। इसलिए इस प्रक्रिया में कोई बेचैनी नहीं होती।

सांस वाले व्यायाम सबसे महत्त्वपूर्ण है। कोई भी श्रम २-३ मिनिटों से ज्यादा करने पर सांस और नाड़ी तेज चलती है। दौड़ना, पहाड़ चढ़ना, तैरना, सायकलिंग, तेज चलना, दंडबैठक और अनेक किस्म के खेल इस वर्ग में है। एरोबिक्स से हृदय और फेफड़ों की क्षमता और श्रमनिरंतरता बढ़ती है।

स्त्रोत: भारत स्वास्थ्य

3.04705882353

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612020/02/26 03:12:2.997063 GMT+0530

T622020/02/26 03:12:3.016277 GMT+0530

T632020/02/26 03:12:3.017008 GMT+0530

T642020/02/26 03:12:3.017283 GMT+0530

T12020/02/26 03:12:2.972494 GMT+0530

T22020/02/26 03:12:2.972666 GMT+0530

T32020/02/26 03:12:2.972806 GMT+0530

T42020/02/26 03:12:2.972942 GMT+0530

T52020/02/26 03:12:2.973029 GMT+0530

T62020/02/26 03:12:2.973102 GMT+0530

T72020/02/26 03:12:2.973825 GMT+0530

T82020/02/26 03:12:2.974011 GMT+0530

T92020/02/26 03:12:2.974221 GMT+0530

T102020/02/26 03:12:2.974443 GMT+0530

T112020/02/26 03:12:2.974489 GMT+0530

T122020/02/26 03:12:2.974581 GMT+0530