सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / स्वास्थ्य / आयुष / प्राकृतिक चिकित्सा
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

प्राकृतिक चिकित्सा

प्राकृतिक चिकित्सा प्रणाली वर्षों से चली आ रही है और अपने विशेष सिद्धांतों, जैसे शारीरिक, मानसिक, नैतिक और आध्यात्मिक प्रणालियों के साथ व्यक्तियों का ईलाज़ करती है। इस पद्धति के अनुसार मनुष्य के स्वास्थ्य में प्रोत्साहन, रोगों से लड़ने की क्षमता और अपना उपचार करने की असीम संभावनाएं होती है|

प्राकृतिक चिकित्सा की परिभाषा

प्राकृतिक चिकित्सा, यह एक ऐसी अनूठी प्रणाली है जिसमें जीवन के शारीरिक, मानसिक, नैतिक और आध्यात्मिक तलों के रचनात्मक सिद्धांतों के साथ व्यक्ति के सद्भाव का निर्माण होता है। इसमें स्वास्थ्य के प्रोत्साहन, रोग निवारक और उपचारात्मक के साथ-साथ फिर से मज़बूती प्रदान करने की भी अपार संभावनाएं हैं।

ब्रिटिश नेचरोपैथिक एसोसिएशन के घोषणापत्र के अनुसार, "प्राकृतिक चिकित्सा उपचार की एक ऐसी प्रणाली है जो शरीर के भीतर महत्वपूर्ण उपचारात्मक शक्ति के अस्तित्व को मान्यता देती है।" अतः यह मानव प्रणाली से रोगों के कारण दूर करने के लिए अर्थात रोग ठीक करने के लिए मानव शरीर से अवांछित और अप्रयुक्त मामलों को बाहर निकालकर विषाक्त पदार्थों को निकालकर मानव प्रणाली की सहायता की वकालत करती है।

प्राकृतिक चिकित्सा की मुख्य विशेषताएं

प्राकृतिक चिकित्सा की मुख्य विशेषताएं हैं

  1. सभी रोगों, उनके कारण और उपचार एक हैं। दर्दनाक और पर्यावरणीय स्थिति को छोड़कर, सभी रोगों का कारण एक है यानी शरीर में रुग्णता कारक पदार्थ का संचय होना। सभी रोगों का उपचार शरीर से रुग्णता कारक पदार्थ का उन्मूलन है।
  2. रोग का प्राथमिक कारण रुग्णता कारक पदार्थ का संचय है। बैक्टीरिया और वायरस शरीर में प्रवेश कर तभी जीवित रहते हैं जब रुग्णता कारक पदार्थ का संचय हो और उनके विकास के लिए एक अनुकूल वातावरण शरीर में स्थापित हुआ हो। अतः रोग का मूल कारण रुग्णता कारक पदार्थ है और बैक्टीरिया द्वितीयक कारण बनते हैं।
  3. गंभीर बीमारियां शरीर द्वारा आत्म चिकित्सा का प्रयास होती हैं। अतः वे हमारी मित्र हैं, शत्रु नहीं। पुराने रोग, गंभीर बीमारियों के गलत उपचार और दमन का परिणाम हैं।
  4. प्रकृति सबसे बड़ा मरहम लगाने वाली है। मानव शरीर में स्वयं ही रोगों से खुद को बचाने की शक्ति है तथा अस्वस्थ होने पर स्वास्थ्य पुनः प्राप्त कर लेती है।
  5. प्राकृतिक चिकित्सा में केवल रोग ही नहीं बल्कि रोगी के पूरे शरीर पर असर होकर वह नवीकृत होता है।
  6. प्राकृतिक चिकित्सा द्वारा पुरानी बीमारियों से पीड़ित मरीजों को भी अपेक्षाकृत कम समय में सफलतापूर्वक उपचारित किया जाता है।
  7. प्रकृति के उपचार में दबे हुए रोगों को सतह पर लाया जाता है और स्थायी रूप से हटा दिया जाता है।
  8. प्राकृतिक चिकित्सा एक ही समय में सभी तरह के पहलुओं जैसे शारीरिक, मानसिक, सामाजिक और आध्यात्मिक, का उपचार करती है।
  9. प्राकृतिक चिकित्सा शरीर का सम्पूर्ण रूप से उपचार करती है।
  10. प्राकृतिक चिकित्सा के अनुसार, "केवल भोजन ही चिकित्सा है”, कोई बाहरी दवाओं का इस्तेमाल नहीं किया जाता है।
  11. स्वयं के आध्यात्मिक विश्वास के अनुसार प्रार्थना करना उपचार का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

खुराक चिकित्सा

इस थेरेपी के अनुसार, भोजन प्राकृतिक रूप में लिया जाना चाहिए। ताज़े मौसमी फल, ताज़ी हरी पत्तेदार सब्जियां और अंकुरित भोजन बहुत ही लाभकारी हैं। ये आहार मोटे तौर पर तीन प्रकार में विभाजित हैं जो इस प्रकार हैं:

  1. एलिमिनेटिव (निष्कासन हेतु) आहार: तरल-नींबू, साइट्रिक रस, नर्म नारियल का पानी, वनस्पति सूप, छाछ, गेहूं की घास का रस आदि।
  2. सुखदायक आहार: फल, सलाद, उबली हुई/ वाष्पीकृत सब्जियां, अंकुर, सब्ज़ी की चटनी आदि
  3. रचनात्मक आहार: पौष्टिक आटा, अप्रसंस्कृत चावल, थोड़ी सी दालें, अंकुर, दही आदि

क्षारीय होने के नाते, ये आहार स्वास्थ्य में सुधार करने में, शरीर की सफ़ाई और बीमारी के लिए प्रतिरक्षा के प्रतिपादन में मदद करते हैं। इस लिहाज़ से भोजन का उचित संयोजन आवश्यक है। स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए हमारा भोजन 20% अम्लीय और 80% क्षारीय होना चाहिए। अच्छा स्वास्थ्य चाहने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए संतुलित भोजन नितान आवश्यक है। प्राकृतिक चिकित्सा में भोजन को दवा के रूप में माना जाता है.

उपवास चिकित्सा

उपवास (फास्ट) मुख्य रूप से स्वेच्छा से कुछ समयावधि के लिए कुछ या सभी भोजन, पेय, या दोनों से परहेज़ करना है। यह शब्द पुरानी अंग्रेजी से व्युत्पन्न ‘फीस्टन’ से निकला है जिसका मतलब है, उपवास करना, देखना और सख्त होना। संस्कृत में 'व्रत’ का अर्थ है 'दृढ़ संकल्प' और 'उपवास’ का अर्थ है 'ईश्वर के पास'। उपवास संपूर्ण हो सकता है, आंशिक और लंबे समय तक का हो सकता अथवा यह कुछ अवधि में रुक-रुक कर हो सकता है। स्वास्थ्य संरक्षण के लिए एक उपवास उपचार का महत्वपूर्ण साधन है। उपवास में, मानसिक तैयारी एक आवश्यक पूर्व शर्त है। लंबे समय का उपवास केवल एक सक्षम प्राकृतिक चिकित्सक के पर्यवेक्षण के अधीन किया जाना चाहिए।

उपवास की अवधि रोगी की उम्र, बीमारी की प्रकृति और पहले से इस्तेमाल की गई दवाओं के प्रकार पर निर्भर करती है। कभी-कभी कुछ समय दो या तीन दिन के उपवास की एक श्रृंखला शुरू करने और धीरे-धीरे एक या दो दिन से प्रत्येक उपवास की अवधि बढ़ाने की सलाह दी जाती है। उपवास कर रहे रोगी को कोई नुकसान नहीं होगा बशर्ते कि वो आराम करना और देखभाल किसी उचित पेशेवर के तहत कर रहा हो।

उपवास पानी, रस, या कच्ची सब्जियों के रस के साथ हो सकता है। सबसे अच्छी, सुरक्षित और सबसे प्रभावी विधि नीबू के रस से उपवास है। उपवास के दौरान शरीर जमा अपशिष्ट की भारी मात्रा को जलाकर निकालता है। हम क्षारीय रस पीकर इस सफाई की प्रक्रिया में मदद कर सकते हैं। रसों में शर्करा ह्रदय को मजबूत करती है, इसलिए रस द्वारा उपवास, उसका सबसे अच्छा तरीका है। सभी रस, पीने से तुरंत पहले ताजा फल से तैयार किए जाने चाहिए। डिब्बाबंद या जमे हुए रस का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए। एक एहतियाती उपाय है, जो उपवास के सभी मामलों में किया जाना चाहिए, एनीमा द्वारा उपवास की शुरुआत में आंत को पूरी तरह खाली करना ताकि मरीज को गैस या घटक शरीर में शेष अपशिष्ट से उत्पन्न अपघटित पदार्थ से परेशानी नहीं हो। उपवास की अवधि के दौरान एनिमा कम से कम हर दूसरे दिन लिया जाना चाहिए। कुल तरल पदार्थ सेवन लगभग छह से आठ गिलास होना चाहिए। उपवास के दौरान शरीर में संचित जहर और विषाक्त अपशिष्ट पदार्थों को नष्ट करने की प्रक्रिया में बहुत ऊर्जा खर्च होती है। इसलिए यह अत्यंत महत्व का है कि उपवास के दौरान रोगी को ज़्यादा से ज़्यादा सम्भव शारीरिक और मानसिक विश्राम प्राप्त हो।

उपवास की सफलता काफी हद तक इस पर निर्भर करती है कि उसे कैसे तोड़ा जाता है ? उपवास तोड़ने के मुख्य नियम हैं: आवश्यकता से अधिक न खाएं, भोजन को धीरे-धीरे चबा कर खाएं और सामान्य आहार के लिए क्रमिक बदलाव के लिए कई दिन लगाएं।

उपवास के शारीरिक लाभ और प्रभाव

इतिहास में अधिकतर संस्कृतियों के चिकित्सकों ने प्राचीन से आधुनिक काल तक विभिन्न स्थितियों के लिए चिकित्सा के रूप में उपवास की सिफारिश की है। हालांकि पहले के अवलोकन का अध्ययन बिना वैज्ञानिक पद्धति या समझ के किया गया था, वे फिर भी उपवास को एक चिकित्सीय साधन के रूप में प्रयुक्त करने के बारे में कहते हैं। पहले के अवलोकन पशु के व्यवहार पर आधारित थे लेकिन आज वे पशु के शरीर क्रिया विज्ञान पर आधारित हैं। इस लेख में हम यह विचार करने की कोशिश करेंगे कि शारीरिक और चयापचय लाभ का वर्णन करने वाले साहित्य की समीक्षा के माध्यम से उपवास लोगों के स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में कैसे अच्छी तरह उपयोगी हो सकता है। उपवास (कैलोरी पर नियंत्रण और रुक-रुक कर उपवास) द्वारा प्राप्त शारीरिक प्रभावों में सबसे प्रमुख निम्नलिखित हैं: इंसुलिन संवेदनशीलता में वृद्धि जिसके परिणामस्वरूप प्लाज्मा ग्लूकोज व इंसुलिन सांद्रता के स्तर में कमी होती है और ग्लूकोज सहनशीलता में सुधार होता है, ऑक्सिडेटिव तनाव के स्तर में कमी जो प्रोटींस, लिपिड्स व डीएनए को घटे हुए ऑक्सिडेटिव नुकसान द्वारा दर्शाई जाती है, गर्मी, ऑक्सीडेटिव और चयापचय तनाव सहित विभिन्न तनावों के प्रतिरोध में वृद्धि और प्रतिरक्षा कार्य में बढ़ौत्री।

सकल और कोशिकीय शरीर क्रिया दोनों कैलोरी के प्रतिबंध (सीआर) या रुक-रुक कर उपवास अभ्यासों (आइआर) से बहुत प्रभावित होती हैं। सकल शरीर क्रिया विज्ञान के लिहाज़ से बेशक शरीर के वसा और द्रव्यमान में महत्वपूर्ण कमी होती है, जो एक स्वस्थ हृदय प्रणाली को सहयोग देती है और रोधगलन की घटनाओं को कम कर देती है। ह्रदय के बचाव के अलावा जिगर में तनाव के प्रति अधिक सहिष्णुता प्रेरित होती जो होमो सैपिअंस की पोषक कोर है। कीटोन बॉडी (जैसे β-हाइड्रॉक्सिब्यूटाइरेट) की तरह के वैकल्पिक ऊर्जा भंडार होमो सैपिअंस को जीवन के अतिरिक्त बर्दाश्त करने में सक्षम बनाते हैं। (इन्स) इंसुलिन और ग्लूकोज के प्रति बढ़ी हुई संवेदनशीलता से अत्यधिक और हानिकारक रक्त ग्लूकोज में कटौती होती है और एक ऊर्जा स्रोत के रूप में इसका उपयोग होता है।

मृदा (मिट्टी) से उपचार

मृदा उपचार बहुत सरल और प्रभावी उपचार साधन है। इसके लिए प्रयोग की जाने वाली मिट्टी साफ होनी चाहिए और जमीन की सतह से 3 से 4 फीट की गहराई से ली जानी चाहिए। मिट्टी में पत्थर के टुकड़े या रासायनिक खाद आदि का कोई संदूषण नहीं होना चाहिए।

मिट्टी प्रकृति के पांच तत्वों में से एक है जिसका शरीर के स्वास्थ्य और बीमारी दोनों पर बहुत प्रभाव होता है। मिट्टी के उपयोग के लाभ:

  1. इसका काला रंग सूर्य की धूप के सभी रंग अवशोषित कर उन्हें शरीर को प्रदान करता है।
  2. मिट्टी एक लंबे तक नमी को बरकरार रखती है, शरीर पर लेप करने पर यह ठंडक प्रदान करती है।
  3. इसके आकार और एकरूपता को पानी मिलाकर आसानी से बदला जा सकता है।
  4. यह सस्ती और आसानी से उपलब्ध होती है।

उपयोग करने से पहले पत्थर, घास कणों और अन्य अशुद्धियों को अलग करने के लिए मिट्टी को सुखाना, चूरा बनाना और छानना चाहिए।

स्थानीय अनुप्रयोग हेतु मिट्टी का पैक

एक पतले, गीले मलमल के कपड़े को मिट्टी में लथपथ कर और रोगी के पेट के आकार के आधार पर एक पतली ईंट के आकार में उसे बनाकर, रखें। मिट्टी के पैक के आवेदन की अवधि 20 से 30 मिनट है। ठंड के मौसम में आवेदन करने पर, मिट्टी के पैक पर एक कंबल डाल दें और शरीर को भी अच्छी तरह से ढक दें।

मिट्टी के पैक के लाभ

  1. पेट पर लगाने पर यह सभी प्रकार के अपच को दूर कर देती है। यह आंतों की गर्मी कम करने और पेरिस्टालसिस को उत्तेजित करने में प्रभावी है।
  2. कंजेस्टिव सिरदर्द में सिर एक मिट्टी के मोटे पैक का आवेदन करने पर दर्द से तुरंत राहत मिलती है। इसलिए जब एक लंबे समय तक ठंडे आवेदन की आवश्यकता हो, इसकी सिफारिश की जाती है।
  3. आंखों पर पैक का आवेदन नेत्रश्लेष्मलाशोथ, नेत्रगोलक के हैमरेज, खुजली, एलर्जी, अपवर्तन के कम होने के दोष जैसे निकट दृष्टि और दूरदृष्टि की तरह त्रुटियों के मामलों में उपयोगी है, और विशेष रूप से मोतियाबिंद में, जिसमें यह नेत्रगोलक के तनाव को कम करने में मदद करता है।

चेहरे के लिए मिट्टी का पैक

गीली मिट्टी चेहरे पर लगाकर 30 मिनट तक सूखने दी जाती है। यह त्वचा के रंग में सुधार लाने और मुंहासों को हटाने तथा त्वचा के छिद्र खोलने में मददगार होती है जो मुंहासों के उन्मूलन में सहायक है। यह आंखों के आसपास के काले घेरे को दूर करने में भी सहायक है। 30 मिनट के बाद चेहरा ठंडे पानी से अच्छी तरह से धोया जाना चाहिए।

मिट्टी से स्नान

मिट्टी मरीज़ को बैठने या लेटने की स्थिति में लगाई जा सकती है। यह परिसंचरण बढ़ाकर व त्वचा के ऊतकों को सक्रिय कर त्वचा की स्थिति में सुधार करने में मदद करती है। स्नान के दौरान ठंड पकड़ने से बचने के लिए सावधानी बरती जानी चाहिए। बाद में, रोगी को ठंडे पानी की धार से अच्छी तरह धोया जाना चाहिए। यदि मरीज ठंड महसूस करता है तो गर्म पानी का इस्तेमाल किया जाना चाहिए। उसके बाद रोगी को तुरंत सुखाकर एक गर्म बिस्तर पर स्थानांतरित कर दिया जाता है। मिट्टी से स्नान की अवधि 45 से 60 मिनट हो सकती है।

मिट्टी से स्नान के लाभ

  1. मिट्टी के प्रभाव नवीनता प्रदान करने, स्फूर्ति और सक्रियता देने वाले होते हैं।
  2. घावों और त्वचा रोगों के लिए, मिट्टी का आवेदन ही सही प्रकार की पट्टी है।
  3. मिट्टी से उपचार का प्रयोग शरीर को ठंडक देने के लिए किया जाता है।
  4. यह शरीर के विषाक्त पदार्थों को तरलीकृत कर अवशोषित करती है और अंततः उन्हें शरीर से निकाल देती है।
  5. कब्ज, तनाव के कारण सिर दर्द, उच्च रक्तचाप, त्वचा आदि जैसे विभिन्न रोगों में मिट्टी का सफलतापूर्वक प्रयोग किया जाता है।
  6. गांधीजी कब्ज से छुटकारा पाने के लिए मिट्टी के पैक का इस्तेमाल करते थे।

जलोपचार

जलोपचार प्राकृतिक चिकित्सा की एक शाखा है। यह पानी के विभिन्न रूपों का उपयोग कर विकारों का उपचार है। पानी के अनुप्रयोग के ये रूप बहुत पुराने समय से अभ्यास में हैं। जलतापीय चिकित्सा अतिरिक्त रूप से तापमान के प्रभाव का उपयोग, गर्म और ठंडे स्नान, सौना, आवरण आदि में और उसके सभी रूपों ठोस, तरल, भाप, बर्फ और भाप, आंतरिक और बाह्य रूप से, में उपयोग करती है। जल नि:सन्देह रोग के लिए सभी उपचारात्मक एजेंटों में सबसे प्राचीन है। अब इस महान चिकित्सा माध्यम को व्यवस्थित कर एक विज्ञान के रूप में बनाया गया है। हाइड्रिएटिक अनुप्रयोग आम तौर पर विभिन्न तापमानों पर दिया जाता है, अनुप्रयोग के तापमान नीचे तालिका में दिए गए हैं:

क्र.सं.

तापमान

oफेरनहाइट

oसेल्सियस

1.

बहुत ठंडा (बर्फ का अनुप्रयोग)

30-55

-1-13

2.

ठंडा

55-65

13-18

3.

ठंडा

65-80

18-27

4.

गुनगुना

80-92

27-33

5.

गर्म(तटस्थ)

92-98
(92-95)

33-37
(33-35)

6.

गर्म

98-104

37-40

7.

बहुत गर्म

104 से अधिक

40 से अधिक

जल का प्रभाव और उपयोग

  1. साफ ठंडे पानी से ठीक तरीके से स्नान करना जलोपचार का एक उत्कृष्ट रूप है। इस तरह के स्नान त्वचा के सभी रोम खोलकर शरीर को हल्का व ताज़ा बना देते हैं। ठंडे स्नान में शरीर की सभी प्रणालियों और मांसपेशियों को सक्रियता मिलती है और स्नान के बाद रक्त परिसंचरण में सुधार होता है। नदियों, तालाबों, या झरने में विशेष अवसरों पर स्नान करने की पुरानी परंपरा एक तरह से जलोपचार का प्राकृतिक रूप ही है।
  2. यह इच्छित तापीय और यांत्रिक प्रभाव उत्पन्न करने के लिए सबसे अधिक लचीला माध्यम है और एक सीमित क्षेत्र या पूरे शरीर की सतह पर लागू किया जा सकता है।
  3. यह गर्मी को अवशोषित करने में सक्षम है और बड़ी तत्परता के साथ गर्मी बाहर भी फेंक देता है। इसलिए, यह शरीर से अतिरिक्त गर्मी बाहर करने या उसमें गर्मी प्रविष्ट करने के लिए प्रयुक्त किया जा सकता है। हालांकि ठंडा पानी के इस्तेमाक का मुख्य उद्देश्य शारीरिक गर्मी को निकाल या कम करना नहीं है, बल्कि खो दी गई गर्मी की तुलना में अधिक गर्मी उत्पन्न करने की महत्वपूर्ण शक्ति बढ़ाने का है।
  4. . एक सार्वभौमिक विलायक होने के नाते, इसका उपयोग आंतरिक, एनीमा या कोलोनिक सिंचाई या पानी पीने के रूप में, यूरिक एसिड, यूरिया, नमक, अत्यधिक चीनी, और कई अन्य रक्त और खाद्य रसायन जो कि अपशिष्ट उत्पाद हैं, के उन्मूलन में अत्यधिक सहायता करता है।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इन तरीकों के सफल उपयोग के लिए महत्वपूर्ण शक्ति का एक निश्चित ज़रूरी होता है। जहां शक्ति बहुत कम है, ये निरर्थक हैं। गंभीर स्थितियों की तरह महत्वपूर्ण शक्ति अधिक होती है और इसलिए महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया में एक निश्चितता होती है। पुराने मामलों में, जहां महत्वपूर्ण शक्ति कम हो, ये स्नान कम उपयोगी होते हैं, लेकिन ऐसे मामलों में पैक उपयोगी होते हैं क्योंकि वे अपने अनुप्रयोग में तुलनात्मक रूप से हल्के होते हैं।

उपचार में जल का कई रूपों में प्रयोग किया जाता है. उपचार के विभिन्न प्रकार हैं:

  1. . गीली पट्टी और पुल्टिस
    • ठंडी सेक: पेट की ठंडी सिकाई
    • तापीय सिकाई: सीने का पैक, पेट का पैक, गीला करधनी पैक, गले का पैक, घुटने का पैक, और पूरी गीली चादर का पैक
    • गर्म और ठंडी सिकाई: सिर, फेफड़े, गुर्दे, गैस्ट्रो यकृत, श्रोणि और पेट की गर्म और ठंडी सिकाई
  2. स्नान
    • हिप स्नान - ठंडा, तटस्थ, गर्म, Stiz स्नान और वैकल्पिक हिप स्नान
    • मेरुदंड का स्नान और मेरुदंड में स्प्रे: ठंडा, तटस्थ, गर्म
    • पैर और भुजा स्नान: पैर का ठंडा, गर्म स्नान, भुजा स्नान, संयुक्त रूप से गर्म पैर और भुजा, कंट्रास्ट भुजा स्नान और कंट्रास्ट पैर स्नान।
    • साँस द्वारा भाप लेना और भाप स्नान
    • सौना बाथ
    • स्पंज स्नान
  3. जेटस्प्रे मालिश
    • ठंडी, तटस्थ, गर्म, वैकल्पिक, चक्रीय जेट स्प्रे मालिश
    • अभिसिंचन स्नान: ठंडा अभिसिंचन, तटस्थ अभिसिंचन, गर्म अभिसिंचन, गर्म एवं ठंडे अभिसिंचन
    • ठंडा स्नान
    • ट्रॉमा जेटस्प्रे
  4. डूब स्नान: ठंडा डूब स्नान, घर्षण के साथ ठंडा डूब, तटस्थ डूब स्नान, गर्म डूब, तटस्थ अर्ध स्नान, एप्सोम नमक के साथ ग्रेजुएटेड डूब स्नान, अस्थमा स्नान, भँवर स्नान, पानी के अन्दर मालिश
  5. एनीमा: ग्रेजुएटेड एनीमा, योनि की धुलाई, ठंडी धुलाई, तटस्थ धुलाई, गर्म धुलाई
  6. हाइड्रो उपचार के तौर तरीकों में से एक कोलोन (बड़ी आंत) की थेरेपी है।

कोलोन (मलाशय) का जलोपचार

यह कोलोन या बड़ी आंत की सफाई या फ्लशिंग की प्रक्रिया है। यह उपचार एक एनीमा के समान है, लेकिन अधिक व्यापक है। यह रुके हुए मल को कोलोन से निकालने या उसकी गन्दगी दूर करने के लिए सौम्य दबाव (दर्द के बिना) के तहत साफ फ़िल्टर्ड पानी का उपयोग करती है। सत्रों की संख्या व्यक्ति पर निर्भर करेगी। बड़ी आंत की पूरी तरह से सफाई के लिए अधिकांश लोगों को 3-6 उपचारों की एक श्रृंखला की आवश्यकता होती है।

जलोपचार के लाभ और शारीरिक प्रभाव

जलोपचार के स्वास्थ्यवर्धक और चिकित्सकीय गुण उसके यांत्रिक और/या तापीय प्रभावों पर आधारित हैं। यह गर्म और ठंडे उत्तेजन के प्रति, गर्मी के दीर्घ आवेदन, पानी से उत्पन्न दबाव और उसके द्वारा प्रदत्त अनुभूति के प्रति शरीर की प्रतिक्रिया का लाभ लेती है। नसें, त्वचा पर महसूस किए आवेग को शरीर में गहराई पर ले जाती हैं, जहाँ वे प्रतिरक्षा प्रणाली के उत्तेजक, तनाव हार्मोन के उत्पादन को प्रभावित करने, परिसंचरण और पाचन को उत्तेजित करने, रक्त के प्रवाह को प्रोत्साहित करने और दर्द के प्रति संवेदनशीलता कम करने में सहायक होती हैं। आम तौर पर गर्मी आंतरिक अंगों की गतिविधि को धीमा शरीर को शांत करती है। इसके विपरीत ठंड, उत्तेजित करती है, और आंतरिक गतिविधियों में वृद्धि करती है।

इसका यांत्रिक क्रिया स्नान के दौरान होती है जब एक कुण्ड, एक पूल, या एक भँवर में डूबे हुए शरीर के वजन में 50% से 90% कमी हो जाती है और एक तरह की भारहीनता का अनुभव होता है। शरीर को गुरुत्वाकर्षण के निरंतर खिंचाव से राहत मिलती है। पानी का भी हाइड्रोस्टेटिक प्रभाव है। यह मालिश की तरह अनुभव देता है चूंकि पानी धीरे-धीरे आपके शरीर को गूंथता है। गति में, पानी त्वचा के स्पर्श ग्राह्य हिस्से को उत्तेजित करता है, और रक्त परिसंचरण को बढ़ाने तथा खिंची हुई मांसपेशियों को ढीला करता है।

मालिश थेरेपी

मालिश निष्क्रिय व्यायाम का एक उत्कृष्ट रूप है। यह शब्द ग्रीक शब्द 'मस्सिअर’ जिसका अर्थ है गूंथना, फ्रेंच ‘गूंथने का घर्षण’ या अरबी मस्स जिसका अर्थ “स्पर्श करना, महसूस करना या संभाल" है या लेटिन मस्सा से जिसका अर्थ "भार, आटा” से व्युत्पन्न है। मालिश भौतिक (शारीरिक), कार्यात्मक (शारीरिक), और कुछ मामलों में मनोवैज्ञानिक उद्देश्यों और लक्ष्यों के साथ कोमल ऊतक के हेरफेर का अभ्यास है। यदि सही ढंग से एक नंगे शरीर पर की जाए, तो यह अत्यधिक उत्तेजक और स्फूर्तिदायक हो सकती है।

मालिश भी प्राकृतिक चिकित्सा का और काफी अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए एक आवश्यक साधन है। मालिश में शरीर पर दबाव के साथ संरचित, असंरचित, स्थिर, या गतिमान-तनाव, गति, या कंपन, के साथ हाथों से या यांत्रिक जरिए से छेड़छाड़ शामिल है। लक्षित ऊतकों में मांसपेशियां, टेंडंस, लिगामेंट, त्वचा, जोड़, या अन्य संयोजी ऊतकों से साथ-साथ लसीका वाहिकाएं शामिल हो सकते हैं। मालिश हाथ, उंगलियों, कोहनी, घुटनों, बांह की कलाई और पैर के साथ की जा सकती है। लगभग अस्सी से अधिक विभिन्न मान्यता प्राप्त मालिश के साधन हैं। यह रक्त परिसंचरण में सुधार और शारीरिक अंगों को मजबूत बनाने का काम करती है। सर्दियों के मौसम में, पूरे शरीर की मालिश के बाद सूर्य स्नान अच्छी तरह से स्वास्थ्य और शक्ति के संरक्षण के अभ्यास के रूप में जाना जाता है। यह सभी के लिए फायदेमंद है। यह मालिश और सूरज की किरणों की चिकित्सा के संयुक्त लाभ प्रदान करता है। बीमारी की स्थिति में, आवश्यक उपचारात्मक प्रभाव मालिश की विशिष्ट तकनीक के माध्यम से प्राप्त किया जा सकता है। मालिश उनके लिए एक विकल्प है जो व्यायाम नहीं कर सकते हैं। व्यायाम के प्रभाव मालिश से प्राप्त किए जा सकते हैं। सरसों तेल, तिल का तेल, नारियल तेल, जैतून का तेल, खुशबूदार तेल आदि जैसे विभिन्न तेलों का स्नेहक के रूप में उपयोग किया जाता है, जो उपचारात्मक प्रभाव देते हैं।

मालिश के सात बुनियादी तरीके हैं और ये हैं: स्पर्श, मालिश करते समय थपथपाना (पथपाकर), घर्षण (रगड़ना), पेट्रिसाज (सानना), टैपोटमेंट (ठोकना) कंपन (हिलाना या कंपकंपाना) और जोड़ों को हिलाना। हरकत रोग की स्थिति और मालिश किए गए भागों के अनुसार भिन्न होती है।

ज्यादातर बीमारियों में उपयोगी मालिश का दूसरा रूप कम्पनयुक्त मालिश, पाउडर मालिश, जल मालिश, सूखी मालिश है। नीम के पत्तों का पाउडर, गुलाब की पंखुड़ियों का भी मालिश के लिए स्नेहक के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।

मालिश के शारीरिक प्रभाव

रिफ्लेक्स प्रभाव (तंत्रिका तंत्र द्वारा मध्यस्थता की गई प्रतिक्रियाएं)

  1. धमनियों का वेसोडाइलेशन (व्यास में वृद्धि)
  2. क्रमाकुंचन की उत्तेजना (पाचन में मदद करती है)
  3. मांसपेशियों की टोन में वृद्धि या कमी
  4. उदर गुहा में अंगों की गतिविधि बढ़ जाती है
  5. ढीलेपन की प्रतिक्रिया आरम्भ होती है
  6. मांसपेशियों पर सुखदायक या उत्तेजक प्रभाव
  7. ह्रदय को उत्तेजित करती है, शक्ति और संकुचन की दर को बढ़ावा देती है
  8. प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता बढ़ाती है

यांत्रिक प्रभाव (हाथ द्वारा सीधे लागू दबाव से उत्पन्न की प्रतिक्रियाएं)

  1. शिरापरक वापसी में वृद्धि
  2. लसीका प्रवाह, लसीका जल निकासी में वृद्धि
  3. संचार दक्षता
  4. श्लेष्म ढीला होना (श्वसन प्रणाली)
  5. तंतुमयता/संलग्नता टूटना
  6. छोटी मांसपेशियों के लिए खिंचाव/ मांसपेशियों के रेशे ढीले होना
  7. मांसपेशियों के तापमान में वृद्धि
  8. स्थानीय स्तर पर चयापचय दर में वृद्धि और गैसीय विनिमय
  9. निशान के ऊतक खींचता है
  10. मांसपेशियों के टोन में कमी/मांसपेशियों के टोन में वृद्धि
  11. गति की सीमा में वृद्धि
  12. जोड़ों की उचित यांत्रिकी/बायोमैकेनिक्स की बहाली
  13. मांसपेशियों के असंतुलन का उन्मूलन
  14. कमजोर मांसपेशियों को मजबूत बनाना

मालिश के लाभ

शरीर के सभी भागों पर की जाने वाली सामान्य मालिश कई मायनों में बेहद फायदेमंद है। यह तंत्रिका तंत्र को टोन करती है, श्वसन को प्रभावित करती है और फेफड़े, त्वचा, गुर्दे और आंत के रूप में विभिन्न निकास अंगों के माध्यम से जहर और शरीर से अपशिष्ट पदार्थ के उन्मूलन को तेज़ करती है। यह रक्त परिसंचरण और चयापचय की प्रक्रिया को भी बढ़ा देती है। मालिश चेहरे की झुर्रियों को हटाती है, खोखले गाल और गर्दन को भरने में मदद करती है और अकड़ी हुई, दर्द करती तथा सुन्न मांसपेशियों को आराम देती है।

सहकर्मियों द्वारा समीक्षा किए गए चिकित्सा अनुसंधान से दर्द से राहत, चिंता और अवसाद के लक्षण कम होना, रक्तचाप, हृदय की दर, और चिंता में अस्थायी रूप से कमी होने जैसे लाभ शामिल होने के बारे में पता चला है। मालिश क्या कर सकती है, इसके पीछे के सिद्धांतों में शामिल है नोसिसेप्शन अवरुद्ध करना (गेट नियंत्रण सिद्धांत), पैरासिम्पैथेटिक तंत्रिका तंत्र को सक्रिय करना जिससे एंडोर्फिन और सेरोटोनिन की रिहाई प्रोत्साहित हो, तंतुमयता या निशान ऊतक को रोकना, लसीका का प्रवाह बढ़ना, और नींद में सुधार शामिल हैं, लेकिन अभी इस तरह के प्रभाव अच्छी तरह से डिजाइन किए गए नैदानिक अध्ययन द्वारा पुष्ट किए जाने बाकी हैं।

एक्युप्रेशर

एक्यूप्रेशर उपचार की एक प्राचीन चिकित्सा कला है जिसमें शरीर की प्राकृतिक आत्म उपचारात्मक क्षमताओं को प्रोत्साहित करने के लिए उंगलियों या किसी भी गैर-नोकदार वस्तु से त्वचा की सतह पर लयदार तरीके से विशेष बिन्दुओं, जिन्हें ‘एक्यु बिन्दु’ (ऊर्जा संग्राहक बिन्दु) कहा जाता है, पर दबाव दिया जाता है। जब इन बिन्दुओं को दबाया जाता है, वे मांसपेशियों का खिंचाव कम करते हैं और ठीक होने में सहायता के लिए रक्त संचार व शरीर शक्ति को बढ़ावा देते हैं।

एक्यूपंक्चर और एक्यूप्रेशर में एकसमान बिन्दुओं का उपयोग होता है’ जबकि एक्यूप्रेशर में हाथ या किसी भी गैर-नोकदार वस्तु के कोमल, लेकिन मज़बूत दबाव का उपयोग होता है, एक्यूपंक्चर में सुई का उपयोग होता है। एक्यूप्रेशर का कम से कम 5000 साल से एक चिकित्सा कला के रूप इस्तेमाल किया गया है। इस पूरी स्वास्थ्य प्रणाली को 3000 स्थितियों के उपचार में उपयोग के लिए प्रलेखित किया गया है। अब एक्यु बिन्दु सामान्यतः ट्रांस्क्युटेनस विद्युत तंत्रिका उत्तेजना (अर्थात टीईएनएस) और विशिष्ट तरंग दैर्ध्य में एलईडी डायोड से लेजर प्रकाश के उपयोग द्वारा उपचारित किए जाते हैं जिसके तेज़ और स्थायी प्रभाव दिखाई दिए हैं।

एक्यूप्रेशर दर्शन और एक्यु बिन्दु उत्तेजना एक्यूपंक्चर की तरह ही समान सिद्धांतों पर आधारित है। दबाव, बिजली द्वारा उत्तेजना या सुई के बजाय प्रकाश लेजर का उपयोग करके यह शिरोबिंदु कही जाने वाली, सम्पूर्ण शरीर में दौड़ने वाली ऊर्जा की रेखा के विशिष्ट रिफ्लेक्स बिन्दुओं को उत्तेजित करने का काम करती है। कुल 14 मुख्य शिरोबिंदु रेखाएं होती हैं जिनमें से प्रत्येक, व्यक्ति के शरीर के विशेष अंग से सम्बद्ध होती है। जब महत्वपूर्ण ऊर्जा शिरोबिंदु से एक संतुलित और समान तरीके से प्रवाहित होने में सक्षम होती है, तो परिणाम स्वरूप स्वास्थ्य बेहतर होता है। जब आप दर्द या बीमारी का अनुभव करते हैं तो यह एक संकेत होता है कि आपके शरीर के भीतर ऊर्जा के प्रवाह में अवरोध या रिसाव है।

उपयुक्त बिंदु को खोजने के लिए, धीरे से क्षेत्र की तब तक जांच करें जब तक वह बिंदु न मिल जाए जो ‘फनी बोन’ का आभास न दे या जो संवेदनशील, नर्म या दर्द करने वाला न हो। उसके बाद उस बिन्दु को इतने ज़ोर से दबाएं कि उसमें दर्द हो। उत्तेजना घूर्णन दबाव द्वारा दी जाती है जिसमें पाँच सेकंड तक स्थिर दबाव और पाँच सेकंड तक दबाव हटाया जाता है। आमतौर पर प्रत्येक उपचार सत्र के लिए एक मिनट पर्याप्त है।

एक्यूप्रेशर सिर दर्द, आंखों के तनाव, साइनस की समस्या, गर्दन के दर्द, पीठ के दर्द, गठिया, मांसपेशियों में दर्द, अल्सर के दर्द, मासिक धर्म ऐंठन, पीठ के निचले हिस्से में दर्द, कब्ज और अपच, चिंता, अनिद्रा आदि में राहत देने में मदद करने में प्रभावी हो सकता है।

शरीर के संतुलन और अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने में एक्युप्रेशर के उपयोग के बड़े लाभ हैं। एक्यूप्रेशर का राह्त देने वाला स्पर्श तनाव कम कर देता है, परिसंचरण बढ़ाता है, और शरीर को गहरे आराम के लिए सक्षम बनाता है। तनाव से राहत प्रदान कर, एक्यूप्रेशर रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करता है और अच्छे स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

एक्यूपंक्चर

एक्यूपंक्चर शरीर के विशिष्ट बिन्दु पर बारीक सुइयां चुभोकर एवं हिलाकर दर्द से राहत देने की प्रक्रिया या उपचारात्मक उद्देश्यों की एक प्रक्रिया है। शब्द एक्यूपंक्चर लैटिन एकस, "सुई", और पंगेरे "चुभोना" से बना है।

परंपरागत चीनी चिकित्सा सिद्धांत के अनुसार, एक्यूपंक्चर बिंदु शिरोबिंदुओं पर स्थित हैं जिसके सहारे क्यूई, महत्वपूर्ण ऊर्जा, बहती है। एक्यूपंक्चर बिन्दुओं या शिरोबिंदुओं के अस्तित्व के लिए कोई ज्ञात संरचनात्मक या ऐतिहासिक आधार नहीं है।

चीन में, एक्यूपंक्चर का उपयोग सबसे पहले प्रमाण पाषाण युग से प्राप्त होता है, जहां इसके लिए बियान शी या तेज पत्थर का इस्तेमाल किया जाता था। चीन में एक्यूपंक्चर का मूल अनिश्चित हैं। सबसे पहला चीनी चिकित्सा लेख जो एक्यूपंक्चर का वर्णन करता है, पीले सम्राट का आंतरिक चिकित्सा का क्लासिक (एक्यूपंक्चर इतिहास) हुआंग्डी नैजिंग है, जो 305-204 ई.पू. के आसपास संकलित किया गया था। कुछ हाइरोग्लाइफिक्स 1000 ई.पू. में पाए गए हैं जो एक्युपंक्चर के प्रारंभिक उपयोग का संकेत हो सकते हैं एक पौराणिक कथा के अनुसार एक्यूपंक्चर की शुरुआत चीन में तब हुई जब कुछ सैनिकों को जो युद्ध में तीर से घायल हो गए थे, शरीर के अन्य भागों में दर्द से राहत का अनुभव हुआ, और फलस्वरूप लोगों ने उपचार के लिए तीर के साथ (और बाद में सुइयों से) प्रयोग शुरू कर दिया। एक्युपंक्चर का प्रसार चीन से कोरिया, जापान और वियतनाम और पूर्वी एशिया में अन्य स्थानों पर हुआ। 16 वीं सदी में पुर्तगाली मिशनरी पश्चिम के बीच को एक्यूपंक्चर की रिपोर्ट लाने वालों में सबसे पहले थे।

एक्यूपंक्चर के परंपरागत सिद्धांत

पारंपरिक चीनी दवा में, शरीर के भीतर यिन और यांग के संतुलन की शर्त को "स्वास्थ्य" माना जाता है। कुछ ने यिन और यांग की सहानुभूतिपूर्ण और परा-सहानुभूतिपूर्ण तंत्रिका प्रणाली से तुलना की है। एक्यूपंक्चर में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है क्यूई का मुक्त प्रवाह, अनुवाद करने के लिए कठिन अवधारणा जो चीनी दर्शन में व्याप्त है और आमतौर पर "महत्वपूर्ण ऊर्जा" के रूप में अनुवादित है। क्यूई सारहीन है और इसलिए यांग; उसका यिन, सामग्री समकक्ष रक्त है (यह शारीरिक रक्त से अलग है, और बहुत मोटे तौर पर यह उसके समकक्ष है) एक्यूपंक्चर उपचार क्यूई और रक्त के प्रवाह को नियंत्रित करता है, जहां उसकी कमी हो वहां टोनिफाय करता है; जहां अतिरिक्त हो वहां से निकास करता है और जहां ठहराव है वहां मुक्त प्रवाह को बढ़ावा देता है। एक्यूपंक्चर की चिकित्सा साहित्य की एक स्वयंसिद्ध कहावत है "कोई दर्द नहीं, कोई रुकावट नहीं, कोई रुकावट नहीं, कोई दर्द नहीं”

पारम्परिक चीनी दर्शन मानव शरीर को सम्पूर्ण रूप में देखता है जिसमें कई “कार्य प्रणालियां” हैं जिन्हें सामान्य तौर पर शारीरिक अंगों पर नाम दिया जाता है लेकिन जो उनसे सीधे सम्बन्धित नहीं हैं। इन पद्धतियों के लिए चीनी शब्द झांग फू है, जहां झांग "आंत" या ठोस अंग और फू "आंत" या खोखले अंगों के रूप में अनुवादित किया गया है। रोग को यिन, यांग क्यूई और रक्त के संतुलन की हानि के रूप में समझा जाता है (जो होमिओस्टेसिस के कुछ सादृश्य है)। रोग के उपचार का प्रयास परंपरागत रूप से अंग्रेजी में “एक्यूपंक्चर बिंदुओं", या चीनी में ‘ग्ज़ू” कहे जाने वाले छोटी मात्रा के शरीर के संवेदनशील हिस्से पर सुइयों, दबाव, गर्मी आदि की गतिविधि के माध्यम से एक या अधिक कार्य प्रणालियों की गतिविधि को संशोधित कर किया जाता है। इसे TCM में "बेसुरेपन के पैटर्न" के इलाज के रूप में संदर्भित किया जाता है।

मुख्य एक्यूपंक्चर बिंदुओं में से अधिकांश “बारह मुख्य शिरोबिंदुओं" और दो "आठ अतिरिक्त शिरोबिंदुओं (डु माई और रेन माई) - कुल “चौदह चैनलों” पर पाए जाते हैं, जो शास्त्रीय और पारंपरिक चीनी चिकित्सा ग्रंथों में उस मार्ग के रूप में वर्णित हैं जिनसे क्यूई और “रक्त” का प्रवाह होता है। अन्य नर्म बिन्दु (“आशि बिन्दु” के रूप में जाने जाते हैं) पर भी सुई लगाई जा सकती है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि वहां ठहराव इकट्ठा होता है।

रोगों, लक्षणों या स्थितियों की श्रृंखला जिनके लिए एक्यूपंक्चर को एक प्रभावी उपचार के रूप में प्रदर्शित किया गया है।

  • एलर्जिक र्हिनाइटिस
  • अवसाद
  • सिरदर्द
  • सुबह की बीमारी सहित मतली और उल्टी
  • अधिजठर, चेहरे, गर्दन, टेनिस कोहनी, पीठ के निचले हिस्से, घुटने में दंत चिकित्सा के दौरान और आपरेशन के बाद में दर्द
  • प्राथमिक डिस्मेनोरिया
  • रुमेटी गठिया
  • कटिस्नायुशूल
  • ग्रीवा और काठ का स्पॉंसिलोसिस
  • दमा
  • अनिद्रा

रंग चिकित्सा

सूरज की किरणों के सात रंगों में विभिन्न उपचारात्मक प्रभाव हैं। ये रंग हैं, बैंगनी, इंडिगो, नीला, हरा, पीला, नारंगी और लाल। स्वस्थ रहने और विभिन्न रोगों के उपचार में ये रंग प्रभावी ढंग से काम करते हैं। निर्दिष्ट समय के लिए रंगीन बोतलों और रंगीन ग्लासों में, धूप में रखे पानी और तेल को रंग थेरेपी द्वारा विभिन्न विकारों के इलाज के लिए उपकरणों के रूप में उपयोग किया जाता है। रंग थेरेपी के सरल तरीके स्वस्थ होने की प्रक्रिया में बहुत प्रभावी ढंग से मदद करते हैं।

वायु उपचार

ताजा हवा अच्छे स्वास्थ्य के लिए सबसे जरूरी है। वायु स्नान के माध्यम से वायु चिकित्सा का लाभ प्राप्त किया जा सकता है। प्रत्येक व्यक्ति को दैनिक 20 मिनट या यदि संभव हो तो उससे अधिक समय के लिए वायु स्नान करना चाहिए। यह अधिक फायदेमंद है जब सुबह ठंडी रगड़ और व्यायाम के साथ संयुक्त रूप से किया जाए। इस प्रक्रिया में, व्यक्ति को रोज़ाना कपड़े उतारकर या हल्के कपड़े पहनकर एकांतयुक्त साफ स्थान पर चलना चाहिए, जहां पर्याप्त ताजा हवा उपलब्ध हो। एक अन्य वैकल्पिक विधि है छतविहीन लेकिन दीवारों की तरह शटर से घिरे कमरे में ताकि वायु प्रवाह उन्मुक्त रूप से हो लेकिन अन्दरूनी दृश्य किसी को दिखाई न दे।

तंत्र

ठंडी हवा या पानी के द्रुतशीतन प्रभाव के खिलाफ प्रतिक्रिया करने के लिए, वे तंत्रिका केन्द्र, जो परिसंचरण नियंत्रण करते हैं, बड़ी मात्रा में सतह पर रक्त भेजते हैं और त्वचा को गर्म, लाल, धमनीय रक्त द्वारा फ्लश करते हैं। रक्त धारा का प्रवाह बहुत बढ़ जाता है और शरीर की सतह से रुग्ण स्र्ग्ण पदार्थ के उन्मूलन में भी तदनुसार वृद्धि होती है।

क्रियाविधि

वायु स्नान शरीर की सतह पर समाप्त हो रही लाखों तंत्रिकाओं पर सुखदायक और टॉनिक प्रभाव डालता है। यह घबराहट, नसों की दुर्बलता, गठिया, त्वचा, मानसिक और विभिन्न अन्य पुरानी बीमारियों के मामलों में अच्छा परिणाम देता है।

चुंबक चिकित्सा

चुंबक चिकित्सा एक नैदानिक प्रणाली है जिसमें रोगियों के शरीर पर चुम्बक के अनुप्रयोग के माध्यम से रोगों का इलाज किया जाता है। यह सबसे सरल, सबसे सस्ती और पूरी तरह दर्दरहित प्रणाली है जिसमें उपचार के बाद लगभग कोई भी दुष्प्रभाव नहीं होते हैं। केवल इस्तेमाल किया जाने वाला उपकरण केवल चुंबक होता है।

चुंबकीय उपचार विभिन्न शक्तियों में उपलब्ध चिकित्सीय मैग्नेट द्वारा शरीर के अंगों पर सीधे या शरीर के लिए सामान्य उपचार के रूप में लागू किया जाता है। इसके अलावा विभिन्न भागों जैसे पेट, घुटने, कलाई, आदि के लिए चुंबकीय बेल्ट उपलब्ध हैं। चुंबकीय हार, चश्मे और कंगन का भी इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

लाभ: ऊर्जा संतुलन में मदद करता है; लागू क्षेत्र के लिए परिसंचरण में सुधार करता है; शरीर में गर्माहट में वृद्धि करता है।

प्राकृतिक चिकित्सा में शिक्षा

योग्य जनशक्ति की भारी कमी के कारण योग और प्राकृतिक चिकित्सा के विकास को आयुर्वेद, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी के समान स्तर पर विकास और बढ़ावा नहीं मिल सका । हालांकि, हाल के वर्षों में, कई गैर सरकारी संगठन और स्वयंसेवी संगठन योग और प्राकृतिक चिकित्सा गृहों के साथ-साथ डिग्री कालेजों की स्थापना के लिए भी आगे आए हैं।

वर्तमान में, भारत में ऐसे 12 कॉलेज हैं:

  1. राजीव गांधी स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, बेंगलोर से संबद्ध कर्नाटक में तीन
  2. तमिलनाडु एमजीआर चिकित्सा विश्वविद्यालय, चेन्नई में चार
  3. आंध्र प्रदेश, स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय, विजयवाड़ा में दो
  4. आयुष विश्वविद्यालय, रायपुर, छत्तीसगढ़ में एक
  5. बरकतुलाह विश्वविद्यालय, भोपाल और आयुर्वेद विश्वविद्यालय, जामनगर, गुजरात प्रत्येक में एक

प्राकृतिक चिकित्सा और योग पर उपलब्ध कोर्स: साढ़े 5 साल (साढ़े 4 वर्ष पाठ्यक्रम + 1 साल इंटर्नशिप) डिग्री पाठ्यक्रम जो बैचलर ऑफ नेचुरोपैथी एंड यौगिक साइंसेज (BNYS)" प्रदान करता है

इस चिकित्सा शिक्षा पाठ्यक्रम के दृष्टिकोण में केवल योग और प्राकृतिक चिकित्सा के दर्शन शामिल हैं, बल्कि यह नैदानिक उपकरण और एक सफल प्रेक्टिस की स्थापना के लिए आवश्यक तौर तरीकों पर जोर भी देता है। ये कॉलेज सैद्धांतिक, व्यावहारिक, नैदानिक सुविधाओं से लैस हैं जो छात्रों को बहु-आयामी तरीके से प्रशिक्षित करने में मदद करते हैं। इस पाठ्यक्रम में, छात्रों को विभिन्न समग्र उपचार रूपरेखा का अध्ययन करने की पेशकश की जाती है जो पूरी तरह से औषधि रहित और सभी पहलुओं में प्राकृतिक हैं।

यह काफी दिलचस्प है कि देश के कई आधुनिक चिकित्सा संस्थानों ने योग और इसके विभिन्न पहलुओं की प्रभावकारिता को साबित करने के लिए एक गंभीर प्रयास किया। मानव व्यक्तित्व के संतुलित और चौतरफा विकास के लिए एक उपकरण के रूप में योग को स्वीकार कर, कुछ विश्वविद्यालयों ने योग विभाग की स्थापना की है, जहां शिक्षकों के लिए एक वर्ष की अवधि के प्रशिक्षण कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। ऐसे 18 विश्वविद्यालय हैं जो योग में प्रमाणपत्र, डिप्लोमा और डिग्री पाठ्यक्रम प्रदान कर रहे हैं। यूजीसी भी योग को बढ़ावा देने के लिए कुछ विश्वविद्यालयों में योग पाठ्यक्रम शुरू करने हेतु विश्वविद्यालयों को वित्तपोषण कर रहा है। कुछ विश्वविद्यालय सर्टिफिकेट से लेकर पीएचडी स्तर के स्तर तक योग पर शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। आने वाले वर्षों में कई विश्वविद्यालयों में योग विभाग शुरू होने की संभावना है। कई विदेशी विश्वविद्यालयों में योग संकाय स्थापित किया गया है और शोध कार्य प्रगति पर है। कुछ राज्य अपने शिक्षण पाठ्य्क्रमों में योग को सम्मिलित करना प्रस्तावित कर रहे हैं। केन्द्रीय विद्यालय, दिल्ली सरकार व नई दिल्ली नगर निगम के विभिन्न स्कूलों में लगभग एक हज़ार योग शिक्षक नियुक्त किए गए हैं। भारत के अलावा कई ऐसे देश हैं जिनमें मानसिक रोगों के उपचार के लिए नियमित रूप से योगाभ्यास किया जा रहा है।

यह जानना काफी उत्साहवर्धक है कि कई पश्चिमी देशों में प्राकृतिक उपचार की शिक्षा पर काफी बल दिया जा रहा है और उसे आवश्यक मान्यता दी जा रही है। यूएसए, जर्मनी, ब्रिटेन के कई भागों में नैशनल कॉलेज ऑफ़ नेचरोपैथिक मेडिसिन, ओरेगॉन व ब्रिटिश कॉलेज ऑफ़ नेचरोपैथी एंड ऑस्टिओपैथी, लन्दन जैसे कई कॉलेज हैं।

भारत में प्राकृतिक चिकित्सा के विशेषज्ञता केन्द्र

शासन द्वारा पंजीकृत प्राकृतिक चिकित्सा व योग के चिकित्सक

क्र.स.

भारतीय चिकित्सा के राज्य बोर्डों के नाम

प्राकृतिक चिकित्सा तज्ञ की संख्या

1.

भारतीय चिकित्सा बोर्ड, सिकंदराबाद, ए.पी.शासन

800

2.

कर्नाटक आयुर्वेद, यूनानी एवं प्राकृतिक चिकित्सा प्रेक्टिशनर बोर्ड, बैंगलोर, कर्नाटक शासन

340

3.

तमिलनाडु भारतीय चिकित्सा बोर्ड, चेन्नई, तमिलनाडु शासन

670

4.

एम.पी. आयुर्वेद, यूनानी, प्राकृतिक चिकित्सा बोर्ड, भोपाल, एम.पी. शासन

18

5.

छत्तीसगढ़ आयुर्वेद, यूनानी एवं प्राकृतिक चिकित्सा बोर्ड, रायपुर, छत्तीसगढ़ शासन

75

अस्पताल, बिस्तरों की संख्या एवं डिस्पेंसरियां:

  • आंतरिक अस्पताल – कुल लगभग 10000 बिस्तरों के साथ लगभग 250 (प्राकृतिक चिकित्सा एवं योग)
  • क्लिनिक (बाह्य रोगी) पूरे भारत में लगभग 300 (योग एवं प्राकृतिक चिकित्सा)
  • योग अस्पताल – ०६
  • प्राकृतिक चिकित्सा उपकरणों की निर्माण इकाइयां – लगभग 40

स्रोत:आयुष विभाग, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार

3.06451612903

Mohammad Iqbal Aug 08, 2018 08:59 PM

Dnys &Nd Ke benefits

sagar Aug 01, 2017 06:16 PM

sir Maine dnys aur D. Pharmacy in ayurved kiya hai 12th arts se hu kya main bnys kr sakta hu kya yeh degree veld hogi

Pramod kumar Apr 28, 2017 05:56 PM

U p mei prakartik chikittsa board bane aaaur ragestation kiye jaye

Sitaram Feb 02, 2017 08:50 AM

Pl inform about prakrtik chiktsalays near to Jaipur.

jamshed ali Dec 08, 2016 11:04 AM

रोगों से बचाव के उद्देश्य एवं मुलभुत सिद्धांत?

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612018/09/19 17:09:50.685628 GMT+0530

T622018/09/19 17:09:50.698996 GMT+0530

T632018/09/19 17:09:50.699705 GMT+0530

T642018/09/19 17:09:50.699973 GMT+0530

T12018/09/19 17:09:50.662651 GMT+0530

T22018/09/19 17:09:50.662853 GMT+0530

T32018/09/19 17:09:50.662999 GMT+0530

T42018/09/19 17:09:50.663152 GMT+0530

T52018/09/19 17:09:50.663244 GMT+0530

T62018/09/19 17:09:50.663317 GMT+0530

T72018/09/19 17:09:50.663998 GMT+0530

T82018/09/19 17:09:50.664194 GMT+0530

T92018/09/19 17:09:50.664423 GMT+0530

T102018/09/19 17:09:50.664633 GMT+0530

T112018/09/19 17:09:50.664680 GMT+0530

T122018/09/19 17:09:50.664771 GMT+0530