सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

शारीरिक संयोजन में परिवर्तन

शिशुओं के आयु वृद्धि के साथ शरीर की मांसपेशियों एवं हड्डियों के विकास बारे में उल्लेख किया गया है|

परिचय

आयु वृद्धि के साथ शरीर की मांसपेशी तथा मेदा (चर्बी) की बनावट में भी परिवर्तन होते हैं । गर्भकाल के अंतिम सप्ताह से जन्मोपरांत के 9 महीनों तक मांसपेशियों का विकास तीव्र गति से होता है। इससे शिशु के शारीरिक तापमान को बनाए रखने में सहायता मिलती है। दूसरे वर्ष से, शिशु पतला/छरहरा होने लगता है।

शारीरिक संयोजन में परिवर्तन

यह संरूप बाल्यावस्था के मध्य तक चलता रहता है। 8 वर्ष की आयु तक लड़कों की तुलना में लड़कियों की भुजाओं, टांगों एवं धड़ का भाग अधिक भारी हो जाता है । यही क्रम किशोरावस्था तक जारी रहता है । इसके विपरीत किशोरावस्था में लड़कों की भुजाओं और टांगों की चर्बी में कमी आ जाती है ( टैनर एवं ह्वाइट हाउस,1975) । मेंदा (चर्बी) की अपेक्षा, मांसपेशियों के विकास के संरूप में भिन्नता पायी जाती है । ये शैशवावस्था एवं बाल्यावस्था में धीमी गति तथा किशोरावस्था में तीव्रगति से विकसित होती है । यद्यपि वय: संधि में लड़के- लड़कियों की मांसपेशियों में वृद्धि तीव्र होती है तथापि लड़कों के कंकाल एवं ह्रदय की मांसपेशियों में तीव्रतम वृद्धि पायी जाती है । फेफड़ों की क्षमता में भी तीव्र वृद्धि होती है । इसलिए लड़कों में लड़कियों की अपेक्षा, लाल रक्त कोशिकाओं की संख्या तथा फेफड़ों से मांसपेशियों तक आक्सीजन संवहन की क्षमता अधिक पायी जाती है ।

कंकाल में वृद्धि

वृद्धि के स्तर पर वैयक्तिक भिन्नता पायी जाती है । इसलिए शरीरिक परिपक्वता के मापन के लिए प्रमाणीकृत मापकों का निर्माण किया गया है, जिनसे शारीरिक वृद्धि में वैयक्तिक भिन्नता का अध्ययन संभव हो सका है । कंकाल की आयु के आधार पर शरीरिक परिपक्वता का अध्ययन किया जा सकना संभव है । भ्रूण की हड्डी अत्यंत लचीली होती है, इसे कार्टिलेज कहा जाता है । छठे सप्ताह से कार्टिलेज कठोर होकर हड्डी के रूप में परिवर्तित होने लगता है । किशोरावस्था तक यह परिवर्तन क्रमश: जारी रहता है तब तक हड्डियाँ अपना अधिक आकार पप्राप्त नहीं कर लेती है । जन्म से पूर्व से बाल्यावस्था तक एपीफाइसीस ( हड्डियों का वृद्धि केंद्र) हड्डियों को कठोर बनाने की क्रिया जारी रखता है । लम्बी हड्डियों में एपीफाइसीस केंद्र दो स्थानों पर प्रकट होता है । विकास के साथ ये केंद्र स्वत: मिट जाते हैं ।

हड्डियों के एक्सरे द्वारा भी कंकाल की आयु की जानकारी प्राप्त की जा सकती है । दांतों के विकास के आधार पर भी कंकाल के विकास की गति का अनुमान लगाया जा सकता है जिन बच्चों में दांत जल्दी आते हैं उनमें शारीरिक परिपक्वता शीघ्र आती ( माट एवं अन्य, 1990) । लड़कों की तुलना में लड़कियों के विकास की गति तीव्र होती है ।

खोपड़ी वृद्धि

जन्म से 2 वर्ष की आयु तक खोपड़ी में वृद्धि तीव्र गति से होती है, क्योंकी इस अवधि में मस्तिष्क का विकास त्वरित गति से होता है । जन्म के  समय खोपड़ी की हड्डियों में 6 रिक्त भाग होते हैं जिन्हें हल्का धब्बा कहा जाता है । यह भाग माँ की गर्भ नली से शिशु को बाहर आने में सहायक होता है । कालान्तर में यह हिस्सा समाप्त होने लगता है तथा एक दुसरे से सम्बद्ध होकर सटर्स ल निर्माण करते हैं जो हड्डियों की वृद्धि के साथ – साथ खोपड़ी के विस्तार में सहायक होते हैं । वय: संधि के बाद जब वृद्धि पूरी हो जाती है, तो ये समाप्त हो जाते हैं ।

शारीरिक विकास में विविधता

शारीरिक वृद्धि में असह्कालिक प्रक्रिया निहित होती है । अथार्त शरीर के विभिन्न अंगों की परिपक्वता अवधि भिन्न- भिन्न एवं प्रत्येक अंगे निजी समयबद्ध रूप रेखा के अनुरूप विकसित होते हैं ।  शरीर के वाह्य तथा आन्तरिक अंगों का विकास एक संरूप का अनुसरण करते हैं । विकास की गति शैशवावस्था में तीव्र, बाल्यावस्था में धीमी तथा किशोरावस्था में पुन: तीव्र होती है । परंतु इसमें अपवाद भी पाया जाता है । यह क्रम बाल्यावस्था तक चलता है, परन्तु किशोरावस्था  में विकास की गति तीव्रतम हो जाती है । इसके विपरीत लिम्फ का विकास शैशवावस्था एवं बाल्यावस्था में तीव्र गति से होता हुआ किशोरावस्था की पूर्व ही अभीष्ट स्तर को प्राप्त कर लेता है, पुन: अवनति पायी जाती है । संक्रामक रोगों के प्रतिरोध एवं पोषण तत्वों के अवशोषण में लिम्फ की भूमिका महत्त्वपूर्ण होती है, अत: इसका उपयुक्त विकास, बच्चे के स्वस्थ जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण होता है ( सिल्ड्स, 1972)।

स्रोत: जेवियर समाज सेवा संस्थान, राँची

3.00757575758

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612019/10/21 00:04:18.212763 GMT+0530

T622019/10/21 00:04:18.235793 GMT+0530

T632019/10/21 00:04:18.236512 GMT+0530

T642019/10/21 00:04:18.236782 GMT+0530

T12019/10/21 00:04:18.189100 GMT+0530

T22019/10/21 00:04:18.189274 GMT+0530

T32019/10/21 00:04:18.189417 GMT+0530

T42019/10/21 00:04:18.189553 GMT+0530

T52019/10/21 00:04:18.189641 GMT+0530

T62019/10/21 00:04:18.189711 GMT+0530

T72019/10/21 00:04:18.190434 GMT+0530

T82019/10/21 00:04:18.190621 GMT+0530

T92019/10/21 00:04:18.190828 GMT+0530

T102019/10/21 00:04:18.191062 GMT+0530

T112019/10/21 00:04:18.191117 GMT+0530

T122019/10/21 00:04:18.191214 GMT+0530