सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई)

इस पृष्ठ में जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई) की जानकारी दी गयी है I

भूमिका

जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) माताओं और नवजात शिशुओं की मृत्यु दर को कम करने के लिए भारत सरकार के राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) द्वारा चलाया जा रहा एक सुरक्षित मातृत्व हस्तक्षेप है। राष्‍ट्रीय ग्रामीण स्‍वास्‍थ्‍य मिशन के अंतर्गत प्रजनन एवं शिशु स्‍वास्‍थ्‍य कार्यक्रम के तहत माता एवं शिशु की मृत्‍यु दर को घटाना प्रमुख लक्ष्‍य रहा है। इस मिशन के अंतर्गत स्‍वास्‍थ्‍य और परिवार कल्‍याण मंत्रालय ने कई नए कदम उठाये हैं जिनमें जननी सुरक्षा योजना भी शामिल है। इसकी वजह से संस्‍थागत प्रजनन में काफी वृद्धि हुई है और इसके तहत हर साल एक करोड़ से अधिक महिलाएं लाभ उठा रही हैं। जननी सुरक्षा योजना की शुरूआत संस्‍थागत प्रजनन को बढ़ावा देने के लिए की गई थी जिससे शिशु जन्‍म प्रशिक्षित दाई/नर्स/डाक्‍टरों द्वारा कराया जा सके तथा माता एवं नवजात शिशुओं को गर्भ से संबंधित जटिलताओं एवं मृत्‍यु से बचाया जा सके।

योजना का उद्देश्य

मातृ एवं शिशु मृत्यु दर को कम करना

योजना की रणनीति

यह योजना, 12 वीं अप्रैल 2005 में गरीब गर्भवती महिलाओं के बीच संस्थागत प्रसव को बढ़ावा देने के लिए शुरू की है, जो कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों पर विशेष ध्यान देने के साथ सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में लागू किया जा रहा है। जेएसवाई एक 100% केन्द्र प्रायोजित योजना है और प्रसव और प्रसव उपरांत देखभाल के हेतु नकद सहायता करता है। इस योजना की सफलता के गरीब परिवारों के बीच संस्थागत प्रसव में वृद्धि दर के द्वारा निर्धारित किया जाता है।

जेएसवाई योजना का उद्देश्य गरीब गर्भवती महिलाओं को पंजीकृत स्वास्थ्य संस्थाओं में जन्म देने के लिए के लिए प्रोत्साहित करना है । जब वे जन्म देने के लिए किसी अस्पताल में पंजीकरण कराते हैं, तो गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए भुगतान करने के लिए और एक प्रोत्साहन प्रदान करने के लिए नकद सहायता दी जाती है।

योजना की विशेषताएँ व नकद सहायता

इस योजना में जिन राज्यों संस्थागत प्रसव की दर कम है (एलपीएस) (उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, असम, राजस्थान, उड़ीसा और जम्मू के राज्यों प्रदर्शन के रूप में कश्मीर), शेष राज्यों में संस्थागत प्रसव की दर उच्च है (एचपीएस) इसी आधार पर नकद सुविधाएँ या लाभ दी जाती है जो इस प्रकार हैं-

ग्रामीण क्षेत्रों में

श्रेणी

गर्भवती माता को मिलने वाली राशि

आशा को मिलने वाली राशि

कुल मिलने वाली राशि

एलपीएस

1400

600

2000

एचपीएस

700

600

1300

शहरी क्षेत्रों में

श्रेणी

गर्भवती माता को मिलने वाली राशि

आशा को मिलने वाली राशि

कुल मिलने वाली राशि

 

एलपीएस

 

1000

 

400

 

1400

आशा की भूमिका

इन कम प्रदर्शन करने वाले राज्यों में, आशा - मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता - जेएसवाई के तहत लाभों का उपयोग करने के लिए गरीब गर्भवती महिलाओं की मदद के लिए जिम्मेदार हैं।

आशा की भूमिका निम्न हैं-

  1. अपने क्षेत्र में उन गर्भवती महिलाओं की पहचान करना जो इस योजना से लाभ के लिए पात्र हैं।
  2. गर्भवती महिलाओं को संस्थागत प्रसव के लाभों के बारे में बताना।
  3. गर्भवती महिलाओं की पंजीकरण में मदद करना और कम से कम 3 प्रसव पूर्व जांच प्राप्त करना, जिसमें टिटनेस के इंजेक्शन और आयरन फोलिक एसिड गोलियां शामिल हैं।
  4. जेएसवाई कार्ड और बैंक खाता सहित आवश्यक प्रमाण पत्र प्राप्त करने में गर्भवती महिलाओं की सहायता करना।
  5. गर्भवती महिलाओं के लिए अलग-अलग सूक्ष्म जन्म योजना तैयार करना, जिसमें उन निकटवर्ती स्वास्थ्य संस्थाओं की पहचान करना शामिल है जहां उनको प्रसव के लिए भेजा जा सकता है।
  6. गर्भवती महिलाओं को पूर्व निर्धारित स्वास्थ्य केंद्र पर एस्कॉर्ट करना जहां उनके शिशु होने हैं तथा उनको छुट्टी मिलने तक उनके साथ रहना।
  7. टीबी के खिलाफ बीसीजी टीकाकरण सहित, नवजात शिशुओं के लिए टीकाकरण की व्यवस्था करना।
  8. प्रसवोत्तर यात्रा के लिए जन्म के 7 दिनों के भीतर महिलाओं से मिलना।
  9. स्तनपान सहायता प्रदान करना।
  10. परिवार नियोजन को बढ़ावा देना।

 

स्रोत: नेशनल हेल्थ मिशन

मार्गदर्शिका जननी सुरक्षा योजना

3.03816793893

RamGopal Jan 29, 2019 02:12 PM

Mere bete ka janan 11/10/2018 KO Government mahila hospital me hua hai J.S.Y. Bala paisa abhi nahi Mila Hai paisa milega ya nahi

sanjay Sep 13, 2018 10:31 PM

गर्भवती महिला की प्रसव के बाद मौत हो जाने पर जननी सुरझा योजना का लाभ उससे जन्मे बच्चे या परिवार को लाभ मिल सकता हैं

Sandip awasthi Sep 12, 2018 10:43 PM

Mari patni k Pearson s bati hui sarkari asptal m hua h pr koi bhi rasi abhi nhi mili ह

Rajkali Sep 06, 2018 11:08 AM

Sir delivery ka paisa kab tak aayga

Rajkali Sep 06, 2018 11:08 AM

Sir delivery ka paisa kab tak aayga

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612020/04/02 00:46:41.389919 GMT+0530

T622020/04/02 00:46:41.417792 GMT+0530

T632020/04/02 00:46:41.418784 GMT+0530

T642020/04/02 00:46:41.419121 GMT+0530

T12020/04/02 00:46:41.364938 GMT+0530

T22020/04/02 00:46:41.365116 GMT+0530

T32020/04/02 00:46:41.365255 GMT+0530

T42020/04/02 00:46:41.365390 GMT+0530

T52020/04/02 00:46:41.365476 GMT+0530

T62020/04/02 00:46:41.365547 GMT+0530

T72020/04/02 00:46:41.366261 GMT+0530

T82020/04/02 00:46:41.366446 GMT+0530

T92020/04/02 00:46:41.366649 GMT+0530

T102020/04/02 00:46:41.366857 GMT+0530

T112020/04/02 00:46:41.366926 GMT+0530

T122020/04/02 00:46:41.367018 GMT+0530