सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / स्वास्थ्य / स्वास्थ्य योजनाएं / राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजनाएँ / प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना

इस भाग में सभी को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए शुरु की गई प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना(पीएमएसएसवाई) की जानकारी दी गई है।

उद्देश्य

प्रधानमंत्री स्वास्थ्य सुरक्षा योजना (PMSSY) सामान्य रूप में देश के विभिन्न भागों में सस्ती/विश्‍वसनीय स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं की की उपलब्‍धता की विसंगतियों को दूर करना है और विशेष रूप से राज्यों में गुणवत्ता चिकित्सा शिक्षा को हासिल करने की  सुविधाओं का विस्तार करना है। इस योजना को मार्च 2006 में मंजूरी दी गई थी।

कार्यान्वयन

प्रथम चरण
PMSSY में पहले चरण में दो घटक हैं - अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्‍थान (एम्‍स), जैसे छह संस्‍थान, बिहार (पटना), मध्‍य प्रदेश (भोपाल), उड़ीसा (भुवनेश्‍वर), राजस्‍थान (जोधपुर), छत्‍तीसगढ़ (रायपुर) और उत्तरांचल (ऋषिकेश), प्रत्‍येक में एक-एक स्थापित करना(इनमें से अधिकांशत: शुरु हो चुके हैं।) व विद्यमान 13 मेडिकल संस्‍थानों का उन्नयन है।

इन राज्यों का चयन मानव विकास सूचकांक,साक्षरता दर बिस्तर अनुपात,गरीबी रेखा से नीचे रहने वाली जनसंख्या और प्रति व्यक्ति आय विभिन्न स्वास्थ्य सूचकांक जैसे जनसंख्या के आधार पर बिस्तरों की उपलब्धता,गंभीर संचारी रोगों के प्रसार की दर, शिशु मृत्यु दर आदि विभिन्न सामाजिक-आर्थिक संकेतकों के आधार पर किया गया।प्रत्येक संस्था में एक 960 बिस्तरों वाला अस्पताल होगा (500 बेड मेडिकल कॉलेज के अस्पताल के लिए,स्पेशलिटी/सुपर स्पेशलिटी के लिए 300 बेड, आईसीयू/दुर्घटना आघात के लिए 100 बेड, आयुष एवं शारीरिक चिकित्सा और पुनर्वास दोनों के लिए 30 बेड) जिसका उद्देश्य स्वास्थ्य देखभाल 42 स्पेशलिटी/सुपर स्पेशलिटी विषयों से जुड़ी सुविधाओं की उपलब्धता आसानी से हो सके।

इसके अलावा, 10 राज्यों में फैले 13 मौजूदा चिकित्सा संस्थाओं में प्रत्येक संस्थान के हिसाब से 120 करोड़ रुपये( इसमें 100 करोड़ रुपये केन्द्र सरकार से और २० करोड़ रुपये राज्य सरकारों द्वारा व्यय किया जाएगा) के परिव्यय कर उन्हें उन्नत किया जाएगा। ये संस्थाएं हैं-

  • सरकारी मेडिकल कॉलेज, जम्मू, जम्मू और कश्मीर
  • सरकारी मेडिकल कॉलेज, श्रीनगर, जम्मू और कश्मीर
  • कोलकाता मेडिकल कॉलेज, कोलकाता, पश्चिम बंगाल
  • संजय गांधी पोस्ट ग्रेजुएट चिकित्सा विज्ञान संस्थान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश
  • चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बीएचयू, वाराणसी, उत्तर प्रदेश
  • चिकित्सा विज्ञान के निजाम इंस्टीट्यूट, हैदराबाद, तेलंगाना
  • श्री वेंकटेश्वर चिकित्सा विज्ञान संस्थान, तिरुपति
  • सरकारी मेडिकल कॉलेज, सेलम, तमिलनाडु
  • बी.जे. मेडिकल कॉलेज, अहमदाबाद, गुजरात
  • बंगलौर मेडिकल कॉलेज, बेंगलुरू, कर्नाटक
  • सरकारी मेडिकल कॉलेज, तिरुवनंतपुरम, केरल
  • मेडिकल साइंसेज के राजेंद्र इंस्टीट्यूट (आर), रांची
  • अनुदान प्राप्त मेडिकल कॉलेज एवं सर जे.जे. समूह के अस्पताल, मुंबई, महाराष्ट्र।

द्वितीय चरण
PMSSY के दूसरे चरण में सरकार ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान-जैसे दो और संस्थानों, जिनमें से एक पश्चिम बंगाल और उत्तर प्रदेश राज्य के संस्थान का और छह मेडिकल कॉलेज संस्थानों के उन्नयन को मंजूरी दी गई हैं जो इस प्रकार हैं-
सरकारी मेडिकल कॉलेज, अमृतसर, पंजाब
सरकारी मेडिकल कॉलेज, टांडा, हिमाचल प्रदेश
सरकारी मेडिकल कॉलेज, मदुरै, तमिलनाडु
सरकारी मेडिकल कॉलेज, नागपुर, महाराष्ट्र
जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज,अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय,अलीगढ़
पं.बी.डी. स्नातकोत्तर चिकित्सा विज्ञान संस्थान,रोहतक

एम्स जैसे संस्थान के लिए निर्धारित लागत 823 करोड़ रुपये है। इन संस्थानों के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रत्येक के लिए किया जाने वाला खर्च 125 करोड़ रुपये है।

तीसरा चरण

PMSSY के तीसरे चरण में मौजूदा निम्नलिखित चिकित्सा कॉलेज संस्थानों के उन्नयन करने के काम का प्रस्ताव है

सरकारी मेडिकल कालेज, झांसी, उत्तर प्रदेश
सरकारी मेडिकल कॉलेज, रीवा, मध्य प्रदेश
सरकारी मेडिकल कालेज, गोरखपुर, उत्तर प्रदेश
सरकारी मेडिकल कॉलेज, दरभंगा बिहार
सरकारी मेडिकल कॉलेज, कोझीकोड, केरल
विजयनगर चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बेल्लारी, कर्नाटक
सरकारी मेडिकल कॉलेज, मुजफ्फरपुर, बिहार

प्रत्येक मेडिकल कॉलेज की उन्नयन परियोजना के लिए संस्था के अनुसार 150 करोड़ रुपये लागत  लगने का अनुमान लगाया गया है। जिनमें से 125 करोड़ रुपये केन्द्रीय सरकार का योगदान और  शेष 25 करोड़ रुपये संबंधित राज्य सरकारों द्वारा खर्च किये जाएंगे।

स्त्रोत : पीएमएसएसवाई

3.03738317757

शोऐव बेग Jan 24, 2019 09:52 PM

सर अक्सर शासकीय सेवक अपनी सेवाXिवृत्ति के बाद अपनी ग्रेज्ऐटी की राशि बच्चों की शादी या मकान बनाने में ख़र्च कर देते हैं ।ऐसे में अगर वह गम्भीर बीमारी में उलझ जाए तो ऊसकी पेंशन कम पड़ने लगती है। कृपया कर पेंशनर की बीमारी के ईलाज की व्यवस्था करने का कष्ट करें ।धन्यवाद

Anonymous Jan 24, 2019 09:43 PM

मेरे पिता पेंशनर हैं क्या पेंशनर के लिए स्वास्थ्य योजना का लाभ मिल सकता है?

shriram c gupt Aug 01, 2018 04:36 PM

ईमानदारी के साथ अमल मे लाने कि जरुरत है चाहिए

डा अमित कुमार त्रिवेदी Jul 26, 2018 12:40 PM

सरकार को योग एवं नैचुरोXैथी के डॉक्टर तथा सुप्रीम कोर्ट द्वारा मान्य सी एम एस डिप्लोमा धारी डॉक्टरों का सरकारी रजिस्ट्रेशX करना चाहिये तथा ग्रामीण प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र में नियुक्ति देनी चाहिये जिससे ग्रामीण जनता का भला होगा एवं सरकार का वोट बैंक बढ़ेगा।।Xक्की बात

Bhinyaram Mar 08, 2018 11:46 AM

I am a very poor man. There are no any help from Government to me.the gram Panchayat do not give me any help ,I have no property. Please help me to this scheme.

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/07/18 04:21:46.759785 GMT+0530

T622019/07/18 04:21:46.782955 GMT+0530

T632019/07/18 04:21:46.783749 GMT+0530

T642019/07/18 04:21:46.784041 GMT+0530

T12019/07/18 04:21:46.736100 GMT+0530

T22019/07/18 04:21:46.736310 GMT+0530

T32019/07/18 04:21:46.736464 GMT+0530

T42019/07/18 04:21:46.736611 GMT+0530

T52019/07/18 04:21:46.736702 GMT+0530

T62019/07/18 04:21:46.736775 GMT+0530

T72019/07/18 04:21:46.737551 GMT+0530

T82019/07/18 04:21:46.737750 GMT+0530

T92019/07/18 04:21:46.737964 GMT+0530

T102019/07/18 04:21:46.738181 GMT+0530

T112019/07/18 04:21:46.738226 GMT+0530

T122019/07/18 04:21:46.738320 GMT+0530