सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाचार / झारखण्ड के गरीब घरों के बच्चों को मुफ्त शैक्षणिक भ्रमण पर भेजा राज्य सरकार ने
शेयर

झारखण्ड के गरीब घरों के बच्चों को मुफ्त शैक्षणिक भ्रमण पर भेजा राज्य सरकार ने

यह ट्रेन नयी दिल्ली, आगरा आदि का भ्रमण करायेगी। ट्रेन में बच्चों के भोजन-पानी के साथ सुरक्षा की भी व्यवस्था की गयी है।

बच्चों के संपूर्ण बौद्धिक विकास के लिए पढ़ाई व खेलकूद के साथ घूमना-फिरना भी जरूरी है। दुनिया बहुत तेजी से बदल रही है। तकनीक बदल रही है। ज्ञान-विज्ञान में भी नये विकास हो रहे हैं। शैक्षणिक भ्रमण पर जानेवाले बच्चे  दूसरे राज्यों की संस्कृति समझने के अलावा ज्ञान अर्जित कर सकेंगे। भ्रमण से बच्चे परिवर्तन को जल्दी स्वीकार कर सकेंगे। आगे बढ़ सकेंगे।

यह बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही। वह सोमवार को हटिया रेलवे स्टेशन पर आयोजित मुख्यमंत्री शैक्षणिक भ्रमण योजना के तहत स्कूली बच्चों के लिए विशेष ट्रेन को रवाना करने के अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने बच्चों के संपूर्ण बौद्धिक विकास के लिए शैक्षणिक भ्रमण का कार्यक्रम बनाया है। इसके लिए आइआरसीटीसी के साथ समझौता किया गया है। सरकार की मंशा है कि गरीब बच्चे भी देश के दूसरे राज्यों का भ्रमण कर वहां की कला-संस्कृति से परिचित हो सकें। वहां की आबोहवा को समझ सकें। निजी स्कूलों में फीस लेकर शैक्षणिक भ्रमण कराया जाता है, लेकिन सरकार अपने खर्च पर सरकारी स्कूलों में पढ़नेवाले गरीब परिवार के बच्चों को शैक्षणिक भ्रमण करा रही है। आज 950 बच्चे व बच्चों के साथ 50 शिक्षक भ्रमण पर जा रहे हैं। 3800 बच्चों को शैक्षणिक भ्रमण पर भेजा जायेगा। योजना पर एक करोड़ रुपये खर्च होंगे।

साथ जानेवाले शिक्षक बच्चों के अभिभावक की भूमिका निभाएंगे और बच्चों को गाइड करने का काम करेंगे। स्कूली शिक्षा व साक्षरता विभाग की सचिव आराधना पटनायक ने बच्चों के चयन के विषय में जानकारी देते हुए योजना पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि जिन बच्चों को पढ़ने में रुचि है, उन्हें शैक्षणिक भ्रमण पर जाने के लिए चयन किया गया है। यह ट्रेन नयी दिल्ली, आगरा आदि का भ्रमण करायेगी। ट्रेन में बच्चों के भोजन-पानी  के साथ सुरक्षा की भी व्यवस्था की गयी है।

ट्रेन में नाश्ता, भोजन व मेडिकल सुविधा

हटिया-दिल्ली-आगरा स्पेशल ट्रेन में सफर कर रहे 950 विद्यार्थी व 50 शिक्षकों के लिए नाश्ता, भोजन व मेडिकल की सुविधा है। सीनियर डीसीएम नीरज कुमार ने बताया कि ट्रेन में कुल 18 बोगी लगे हुए हैं। इनमें 15 स्लीपर, एक पेंट्री कार व दो एसएलआर बोगी है। हटिया स्टेशन पहुंचते ही बच्चों को नाश्ते का पैकेट व पानी दिया गया। ट्रेन में बच्चों की देखभाल के लिए हर डिब्बे में तीन लोग मौजूद रहेंगे। ट्रेन में अगर कोई बच्चा बीमार पड़ता है, तो उसके लिए चिकित्सा व्यवस्था भी की गयी है। ट्रेन का ठहराव किसी भी स्टेशन पर नहीं किया गया है। वहीं दिल्ली पहुंचने पर बच्चों को बस के द्वारा होटल ले जाया जायेगा। बच्चे दिल्ली व आगरा में कई जगहों पर भ्रमण करने के बाद 22 सितंबर को वापस रांची लौट जायेंगे। ट्रेन को फूल व बैलून से सजाया गया था।

स्त्रोत: प्रभात खबर

 


Back to top

T612019/10/23 10:36:0.199920 GMT+0530

T622019/10/23 10:36:0.200593 GMT+0530

T632019/10/23 10:36:0.210606 GMT+0530

T642019/10/23 10:36:0.211011 GMT+0530

T12019/10/23 10:36:0.159899 GMT+0530

T22019/10/23 10:36:0.160073 GMT+0530

T32019/10/23 10:36:0.160239 GMT+0530

T42019/10/23 10:36:0.160386 GMT+0530

T52019/10/23 10:36:0.160493 GMT+0530

T62019/10/23 10:36:0.160576 GMT+0530

T72019/10/23 10:36:0.161224 GMT+0530

T82019/10/23 10:36:0.161412 GMT+0530

T92019/10/23 10:36:0.161629 GMT+0530

T102019/10/23 10:36:0.161836 GMT+0530

T112019/10/23 10:36:0.161883 GMT+0530

T122019/10/23 10:36:0.161992 GMT+0530