सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाचार / भारतीय नौसेना का सभी महिला क्रू - नाविका सागर परिक्रमा के लिए निकला
शेयर

भारतीय नौसेना का सभी महिला क्रू - नाविका सागर परिक्रमा के लिए निकला

इस समुद्री यात्रा में पर्यावरण हितैषी गैर परपंरागत ऊर्जा स्रोतों के इस्‍तेमाल को बढ़ावा दिया जाएगा। इस अभियान का उद्देश्‍य नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को अपनाना भी है।

माननीय रक्षा मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने 10 सितम्‍बर को गोवा से भारतीय नौ सेना के पोत वाहक जहाज तरिणी (आईएनएसवी तरणी) को झंडी दिखाकर रवाना किया। गोवा के आईएनएस मंडोवी नौका पूल से रवाना किए गए इस पोत की विशेषता यह है कि इसमें सभी महिला क्रू शामिल है। पहली बार भारतीय नौसेना के पोत वाहक जहाज आईएनएसवी तरिणी पूरे संसार की जल यात्रा के लिए चालक दल की सभी महिला सदस्‍यों के नेतृत्‍व में निकला है। समुद्री यात्रा की समाप्‍ति पर इस जहाज के अप्रैल, 2018 में वापस गोवा लौटने की आशा है। यह अभियान पांच चरणों में पूरा होगा। यह आस्‍ट्रेलिया के फ्रीमेनटेली, न्‍यूजीलैंड लाइटलेटन, पोर्टसिडनी के फॉक्‍ लेंड्स और दक्षिण अफ्रीका के केपटाउन आदि चार बंदरगाहों पर रूकेगा।

इस अवसर पर आयोजित समारोह में माननीय रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘यह दिन हमारे देश के इतिहास का ऐतिहासिक दिवस है। यह विश्‍व के नौपरिवहन इतिहास में दर्ज होगा आज विश्‍व के समक्ष हमारी महिलाएं उस कार्य का संचालन कर रही है जिसके बारे में विश्‍व की अधिकतर नौसेना सोच भी नहीं पाती है‘। सभी महिला क्रू का यह अभियान पहले के प्रयासों विस्‍तारित रूप है। यह महिला सशक्‍तिकरण-‘‘नारी शक्‍ति’’ दिशा में किए जा रहे सरकार के प्रयासों का प्रतिबिंब है।

आईएनएसवी तरिणी 55 फुट का जलयान है इसे स्‍वदेशी तकनीक से बनाया गया है। इसे इसी वर्ष के आरंभ में भारतीय नौ सेना में शामिल किया गया है। विश्‍व के फॉरम पर यह ‘मेक-इन-इंडिया’ पहल को प्रदर्शित करता है। आईएनएसवी तरिणी के दल में कप्‍तान लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी एवं क्रू सदस्‍यों में लेफ्टिनेंट कमांडर प्रतिभा जामवाल, पी. स्‍वाति, लेफ्टिनेंट एस. विजयादेवी, लेफ्टिनेंट बी. ऐश्‍वर्या एवं लेफ्टिनेंट पायल गुप्‍ता शामिल हैं।

समुद्र यात्रा के दौरान चालक दल गहरे समुद्र में प्रदूषण की जांच करेगा और इस संबंध में रिपोर्ट देगा समुद्री सेलिंग को बढ़ावा देने के लिए विभिन्‍न बंदरगाह पड़ावों पर स्‍थानीय पी.आई.ओ. के साथ व्‍यापक विचार-विमर्श भी करेगा।

इस दौरान यह साहसिक दल भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमबी) को मौसम के पूर्वानुमान की सही जानकारी प्रदान करने के लिए मौसम विज्ञान/समुद्री/लहरों के बारे में नियमित रूप से आंकड़े इकट्टा करेगा और उन्‍हें लगातार नवीन जानकारी भी उपलब्‍ध कराएगा। इससे अनुसंधान और विकास संगठनों को विश्‍लेषण में भी मदद मिलेगी।

इस अभियान का विषय ‘नाविका सागर परिक्रमा’ रखा गया है यह महिलाओं का उनकी अंतनिर्हित शक्‍ति के जरिए सशक्‍तिकरण किए जाने की राष्‍ट्रीय नीति के अनुरूप है। इसका उद्देश्‍य भारत में महिलाओं के प्रति सामाजिक दृष्‍टिकोण और सोच में बदलाव लाना है। समुद्री यात्रा में पर्यावरण हितैषी गैर परपंरागत ऊर्जा स्रोतों के इस्‍तेमाल को बढ़ावा दिया जाएगा। इस अभियान का उद्देश्‍य नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों को अपनाना भी है।

स्त्रोत: पत्र सूचना कार्यालय

 


Back to top

T612019/06/18 04:09:21.700062 GMT+0530

T622019/06/18 04:09:21.700672 GMT+0530

T632019/06/18 04:09:21.708415 GMT+0530

T642019/06/18 04:09:21.708748 GMT+0530

T12019/06/18 04:09:21.679090 GMT+0530

T22019/06/18 04:09:21.679296 GMT+0530

T32019/06/18 04:09:21.679439 GMT+0530

T42019/06/18 04:09:21.679575 GMT+0530

T52019/06/18 04:09:21.679663 GMT+0530

T62019/06/18 04:09:21.679736 GMT+0530

T72019/06/18 04:09:21.680354 GMT+0530

T82019/06/18 04:09:21.680531 GMT+0530

T92019/06/18 04:09:21.680733 GMT+0530

T102019/06/18 04:09:21.680933 GMT+0530

T112019/06/18 04:09:21.680978 GMT+0530

T122019/06/18 04:09:21.681071 GMT+0530