सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

जैव-ऊर्जा

इस भाग में समुदाय स्तर पर ऊर्जा की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए बायोमास और जैव ऊर्जा के उपयोग के अनुभवों को प्रस्तुत किया गया है।

स्वच्छ, हरित एवं प्रकाशित

दक्षिण भारत के कर्नाटक राज्य में दूरस्थ गांव कब्बिगेरे में भरपूर हरियाली है। इस दूरदराज के गांव में जो बात नहीं दिखाई पड़ती, वह यह कि यहां की ग्राम पंचायत भारत में बिजली ग्रिड को बिजली बेचने वाली पहली पंचायत है।

कब्बिगेरे ग्राम पंचायत स्वयं द्वारा परिचालित बायोमास शक्ति संयंत्रों द्वारा उत्पन्न बिजली रु।2।85 प्रति किलोवॉटआवर (यूएसडॉलर0।06) की दर से बंगलौर विद्युत आपूर्ति कंपनी को बेचती है। यह अग्रणी पहल वैश्विक पर्यावरण सुविधा, भारत और कनाडा पर्यावरण सुविधा और कर्नाटक सरकार के ग्रामीण विकास और पंचायती राज विभाग की साझेदारी में लागू यूएनडीपी के नेतृत्व वाली परियोजना - ग्रामीण भारत के लिए बायोमास ऊर्जा का परिणाम है।

यहां 200, 250 एवं 500 किलोवाट क्षमता वाले तीन छोटे विद्युत संयंत्र हैं, जो स्थानीय बायोमास से बिजली का उत्पादन करते हैं। यहां 2007 के बाद से, लगभग 400000 kWh बिजली उत्पन्न की गई है। यह 6000 ग्रामीण परिवारों की वार्षिक खपत के बराबर है और इसने क्षेत्र में बिजली की विश्वसनीय आपूर्ति सुनिश्चित की है।

विद्युत उत्पादन में वृद्धि के लाभ के अलावा, यह अधिक पर्यावरण-अनुकूल है। बायोमास द्वारा उत्पन्न बिजली स्थानीय तौर पर उगाए गए यूकेलिप्टस और अन्य वृक्षों के माध्यम से उत्पन्न होती है तथा इसकी बढ़ी हुई ज़रूरत की वज़ह से क्षेत्र की हरियाली में वृद्धि हुई है।

"कभी कभी यह विश्वास करना मुश्किल हो जाता है कि हमारे चारों ओर कितना कुछ बदल गया है - हमारे चारों तरफ बहुत अधिक हरियाली है, बिजली की आपूर्ति अधिक नियमित है और हमारे पास खाना पकाने के लिए स्वच्छ ईंधन है।" कब्बिगेरे की ग्राम समिति के अध्यक्ष सिद्दागंगम्मा कहते हैं।

25 वर्षीय रंगम्मा के लिए परिवर्तन का मतलब है कि वह अपने पति के साथ अधिक समय बिता सकती है। "मेरे पति खुश हैं क्योंकि अब उन्हें रोज़ लकड़ी लाने के लिए नहीं जाना पड़ता है। अब उनके पास अतिरिक्त पैसा और समय है” रंगम्मा हँसते हुए कहती हैं, और आगे कहती हैं: "मुझे अब परिवार के लिए खाना पकाने में आनन्द आता है क्योंकि धुएं से मेरा दम नहीं घुटता है।"

निगरानी रिपोर्ट के अनुसार पर्यावरणीय लाभ के अतिरिक्त, परियोजना से आर्थिक बचत भी महत्वपूर्ण रही है। परियोजना के भाग के रूप में स्थापित, इक्यावन समूह बायोगैस या गोबर गैस संयंत्रों ने बगैर परिचालन व्यय में वृद्धि के 175 घरों में स्वच्छतर ईंधन द्वारा खाना पकाने में मदद की है।

बिजली के उत्पादन से यह भी सुनिश्चित हुआ है कि गांव में बनाए गए 130 बोरवेल, जिनमें से प्रत्येक का पांच परिवारों द्वारा साझा उपयोग किया जाता है, गांव की सिंचाई जरूरतों को पूरा करने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं। एक परियोजना अधिकारी कहते हैं, इससे कब्बिगेरे में औसत घरेलू आय में 20 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, और आगे कहते हैं: "बिजली संयंत्रों में उन लोगों को रोज़गार देकर, जिन्हें बेंगलुरु की भारतीय विज्ञान संस्थान द्वारा नियमित रूप से प्रशिक्षित किया जाता है, कुशल श्रम और रोजगार के अवसर उत्पन्न करने में मदद की है।"

इसके अलावा, बायोगैस संयंत्र ईंधन के लिए जैविक कचरा 81 स्वयं सहायता समूहों द्वारा स्थापित नर्सरियों द्वारा प्राप्त करते हैं जिससे सीमांत समुदायों की महिलाओं को आय सृजन के अवसर प्राप्त होते हैं।

Source: Akshay Urja, Vol 4, Issue 6

2.63414634146

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top