सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

समुद्र स्‍तर में वृद्धि का प्रभाव

इस पृष्ठ में समुद्र स्‍तर में वृद्धि का प्रभाव को बताया गया है I

भूमिका

शताब्दियों से, तटरेखा अनेक प्रकार की गतिविधियों का केंद्र रही है जिसमें उद्योग, कृषि, मनोरंजन और मछली पालन शामिल है।sea level तटरेखा राष्‍ट्रीय विरासत है और इसे भावी पीढि़यों के लिए  स्‍थायी बनाए रखने के लिए तटीय संसाधनों का उचित प्रबंधन और रक्षा अनिवार्य है। समुद्र स्‍तर में अल्‍प और दीर्घ अवधि के बदलाव महासागर के तटों को कई तरीकों से प्रभावित करते हैं। लंबी अवधि में समुद्र तल का स्‍तर सीधी तटरेखा और साथ ही द्वीपों, बैरियर रिफ, नदी के मुहानों की प्रवेश प्रक्रिया, इनलेट, खाड़ी, तटीय लैगून आदि पर उल्‍लेखनीय प्रभाव डाल सकता है जो बाद में इन तटीय परिवेशों की पर्यावरण प्रक्रियाओं पर निरंतर प्रभाव डालते हैं।

वैश्विक पैमाने पर औसत समुद्र तल पिछली शताब्‍दी से लगातार बढ़ रहा है, यह महासागरों के ताप विस्‍तार और हिम नदों के पिघलने के कारण लगभग 1.8 मि‍. मी. / वर्ष की दर पर बढ़ रहा है। आईपीसीसी (2007) ने 21वीं शताब्‍दी के अंत तक समुद्र के औसत तल में 0.18 से 0.59 मीटर तक की वृद्धि का अनुमान लगाया है, जिसमें बर्फ की परत बहने के कारण अतिरिक्‍त 0.1 से 0.2 मीटर बढ़ने की संभावना है। इसके परिणामस्‍वरूप तटीय बैरियर के भूमि की ओर ट्रांसग्रेशन सहित, तट पर भू आकारिकी में बदलाव की प्रक्रियाएं होंगी।

कार्यक्रम का उद्देश्‍य

तटीय भू – आकृति विज्ञान और ज्‍यामिति पर समुद्र तल उठने के प्रभावों का अध्‍ययन। लक्षद्वीप के चयनित द्वीप समूह में कटाव / अभिवृद्धि के कारण विशेष रूप से स्‍थानीय स्‍तर तटरेखा बदलावों से कुछ संभव संरचनात्‍मक / गैर संरचनात्‍मक सुरक्षात्‍मक / अनुकूली विकल्‍पों के अन्‍वेषण के लिए‍ अध्‍ययन किया जाएगा।

प्रतिभागी संस्‍थान

एकीकृत तटीय एवं समुद्री क्षेत्र प्रबंधन - परियोजना निदेशालय, चेन्‍नई

भारतीय राष्‍ट्रीय महासागर सूचना सेवा केंद्र, हैदराबाद

भारतीय उष्‍णकटिबंधी मौसम विज्ञान संस्‍थान, पुणे

शैक्षणिक और अनुसंधान एवं विकास संस्‍थान

कार्यान्‍वयन योजना

 

  • एक व्‍यापक अध्‍ययन के माध्‍यम से समुद्र तल बदलावों के कारण कारकों का आकलन।
  • समुद्री पानी के घनत्‍व (स्‍टेरिक), लवणता (हैलोस्‍टेरिक), तापमान (थर्मोस्‍टेरिक) के संबंध में हिंद महासागर बेसिन की मात्रा में बदलाव सहित संबद्ध और हिमनद / बर्फ पिघलने के कारण मात्रा में बदलाव।
  • भूमि (टेक्‍टोनिक) और डेल्‍टा घटाव के ऊर्ध्‍वाधर विस्‍थापन के कारण हिंद महासागर की ज्‍यामिति के आकार में बदलाव से संबद्ध।
  • ज्‍वार के दोलनों पर आधारित तटीय परिवेशों का वर्गीकरण और सापेक्ष तरंग / ज्‍वार ऊर्जा, ट्रांसग्रेशन और प्रोग्रेडेशन सहित अस्‍थायी रूपरेखा में फ्लूवियल डिस्‍चार्ज।
  • समुद्र तल में बदलावों तथा तटीय रेखा के प्रवास पर इसके प्रभाव का अध्‍ययन। कार्बन डेटिंग और बोर होल नमूनों के आधार पर आयु निर्धारण तथा तलछट जमाव के रुझानेां की पहचान – तलछट आपूर्ति और भूगर्भीय विरासत (पूर्ववर्ती भूविज्ञान) जैसे चतुर्धातुक समुद्र के स्तर से इतिहास का संक्षिप्‍त सिंहावलोकन।
  • तट की रूपरेखा के मापनों से समुद्र स्‍तर में वृद्धि द्वारा क्षरण की घटना में तट के आयतन में होने वाले बदलावों का अध्‍ययन करना तथा तटों की हानि की सीमा का अनुमान लगाना – तलछट परिवहन और संबद्ध मॉडलों से खोए हुए तलछटों के भविष्‍य का आकलन करना।
  • प्रस्‍तावित कार्यक्रम रिमोट सेंसिंग में कार्यरत वैज्ञानिकों के साथ भौतिक, रासायनिक, जैविक और भूगर्भीय वैज्ञानिकों से विशेषज्ञता की उपयोगिता पर आधारित एक समेकित मार्ग है और इसे आईसीएमएएम – पीडी द्वारा कार्यान्वित किया जाएगा।

 

वितरण योग्‍य

क्षेत्र – विशेष के तटीय क्षेत्र परिसंचरण मॉडल और प्रभाव आकलन उपकरणों का विकास

हिंद महासागर के ऊपर प्रकट समुद्र तल बढ़ने के लिए योगदान कारकों की मात्रा / आकलन और भारतीय समुद्र तट से संबद्ध प्रभावों का आकलन

बजट आवश्‍यकता

7 करोड़ रु.

बजट आवश्‍यकता(रू. करोड में)

योजना का नाम

 

2012-13

2013-14

2014-15

2015-16

2016-17

कुल

 

समुद्र तल के उठने का प्रभाव

 

1.00

2.00

2.00

1.00

1.00

7.00

स्रोत: पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, भारत सरकार

 

3.07142857143

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/10/17 00:59:58.337771 GMT+0530

T622019/10/17 00:59:58.359904 GMT+0530

T632019/10/17 00:59:58.360709 GMT+0530

T642019/10/17 00:59:58.360998 GMT+0530

T12019/10/17 00:59:58.314989 GMT+0530

T22019/10/17 00:59:58.315148 GMT+0530

T32019/10/17 00:59:58.315285 GMT+0530

T42019/10/17 00:59:58.315419 GMT+0530

T52019/10/17 00:59:58.315505 GMT+0530

T62019/10/17 00:59:58.315577 GMT+0530

T72019/10/17 00:59:58.316299 GMT+0530

T82019/10/17 00:59:58.316478 GMT+0530

T92019/10/17 00:59:58.316686 GMT+0530

T102019/10/17 00:59:58.316907 GMT+0530

T112019/10/17 00:59:58.316952 GMT+0530

T122019/10/17 00:59:58.317043 GMT+0530