सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाज कल्याण / अल्पसंख्यक कल्याण / नया सवेरा - अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित अभ्यर्थियों के लिए नि:शुल्क कोचिंग योजना।
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

नया सवेरा - अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित अभ्यर्थियों के लिए नि:शुल्क कोचिंग योजना।

इस भाग में अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित अभ्यर्थियों/विद्यार्थियों के लिए नि:शुल्क कोचिंग एवं संबंधित योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दिया गया है।

योजना का परिचय

इस योजना का अल्पसंख्यक समुदाय के विद्यार्थियों को सशक्त बनाना और उन्हें प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयार करना है ताकि सरकारी और निजी नौकरियों में उनकी भागीदारी में सुधार आये। यह योजना अधिसूचित अल्पसंख्यक विद्यार्थियों को चयनित कोचिंग संस्थानों में नि: शुल्क कोचिंग के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

उद्देश्य

इस योजना का उद्देश्य निम्नलिखित के लिए विशेष कोचिंग द्वारा अधिसूचित द्वारा अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित विद्यार्थियों को सहायता प्रदान करना है –

  • इंजीनियरिंग, चिकित्सा, विधि, प्रबंधन, सूचना प्रौद्योगिकी इत्यादि जैसे तकनीकी/व्यवासायिक पाठ्यक्रमों में दाखिले के लिए अहर्ता परीक्षाएं और विदेशी विश्वविद्यालयों में दाखिले के लिए भाषा/ अभिरूचि परीक्षाएं और
  • सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों, बैंक, बीमा कम्पनियों के साथ – साथ स्वायत्त निकायों सहित केंद्र एवं राज्य सरकारों के अंतर्गत समूह ‘क’ ‘ख’ और ‘ग’ सेवाओं तथा समतुल्य पदों की भर्ती के लिए प्रतिभागी परीक्षाएं।

कोचिंग हेतु पाठ्यक्रम

वे पाठ्यक्रम जिनके लिए कोचिंग प्रदान की जाएगी निम्नानुसार है –

  1. समूह ‘क’ ‘ख’ अत: ‘ग’ पदों संघ लोक सेवा आयोग *यूपीएससी), राज्य लोक सेवा आयोगों, कर्मचारियों चयन आयोग (एसएससी) तथा रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी), बैकिंग सेवा भर्ती बोर्डों आदि सरीखी विभिन्न भर्ती एंजेंसियों द्वारा संचालित प्रतियोगी परीक्षाएं।
  2. बैंकों, बीमा कंपनियों तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों (पीएसयू) द्वारा संचालित अधिकारी ग्रेड की परीक्षाएं।
  3. अभियन्त्रिकी/ चिकित्सा पाठ्यक्रम, सीएटी, सिएलएटी, एमबीए आदि सरीखें व्यवसायिक पाठ्यक्रमों तथा अन्य ऐसे ही विषयों, जैसे कि मंत्रालय द्वारा समय – समय पर निर्णय लिया गया हो, में दाखिले हेतु प्रवेश परीक्षाएं।

कार्यान्यवन एजेंसियों और पात्रता

इस योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए निम्नलिखित प्रकार के संस्थान पात्र होंगे।

  1. विश्वविद्यालय और स्वायत निकायों सहित प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए व्यवसायिक कोचिंग में लगे सरकारी क्षेत्र के सभी संस्थान।
  2. मानद विश्वविद्यालय सहित कोचिंग कायर्कलापों में लगे निजी क्षेत्र के विश्वविद्यालय/कॉलेज।
  3. सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 के अधीन पंजीकृत और व्यावसायिक कोचिंग में लगे न्यास, कंपनियों, साझेदारी फर्में या सोसायटियां।

कोचिंग संस्थानों को पैनल में शामिल करने हेतु आवेदन करने के लिए पात्रता मापदंड

 

  1. संस्थानों पंजीकृत निकाय होना चाहिए अथवा सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860/ कंपनी अधिनयम, 2014 अथवा राज्य/संघ राज्य क्षेत्र के अन्य किसी संगत/अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत किसी संगठन द्वारा संचालित होना चाहिए।
  2. उन संगठनों/क्रियान्वयनकर्त्ता एजेंसी जो पैनल में शामिल होने के  लिए आवेदन करने की इच्छुक है. के सन्दर्भ में राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों/कोचिंग संस्थानों से आवेदन आमंत्रित करते हुए अधिसूचना की तारीख के अनुसार कम से कम तीन वर्षों के लिए पंजीकरण अपेक्षित होगा।
  3. इस योजना के अंतर्गत आवेदन करने के समय पर न्यूनतम तीन वर्ष की अवधि के लिए संस्थान/केंद्र पूर्णतया कार्यात्मक होना चाहिए और जिस वर्ष में पैनल में शामिल करने के लिए आवेदन किया है उससे तुरंत पहले, के तीन वर्षों में प्रत्येक वर्ष में यहाँ ऊपर पैरा 3 में दर्शाए गये पाठ्यक्रमों में न्यूनतम 100 छात्रों का नामांकन होना चाहिए।
  4. संस्थानों के पास उनके वेतन रोल पर अथवा अंशकालिक आधार पर अपेक्षित संख्या में योग्य संकाय सदस्य होने चाहिए।
  5. संस्थानों के पास कोचिंग कक्षाएं चलाने के लिए परिसर, पुस्तकालय, अपेक्षित उपकरण इत्यादि जैसी आवश्यक अवसंरचना होनी चाहिए।
  6. कोचिंग संस्थानों की आवेदन किए गये कोचिंग पाठ्यक्रमों में 15 प्रतिशत न्यूनतम सफलता दर होनी चाहिए। भर्ती तथा सफलता दर की तुलना में उनके पिछले कार्यनिष्पादन पर चयन के समय विचार किया जायेगा।
  7. क्रियान्वयनकर्ता एजेंसियों नीति आयोग के पोर्टल अर्थात  नीति आयोग का एन.जी.ओ. दर्पण जैसा भी मामला हो, पंजीकृत होनी चाहिए।
  8. संस्थान/संगठन को कभी भी दिवालिया घोषित न किया गया हो।
  9. संस्थानों/संगठन को सरकार के किसी विभाग अथवा निकाय द्वारा कभी भी सूची न डाला गया हो।

प्रक्रिया का विवरण

 

  1. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा इस योजना के ब्योरों का विज्ञापन देगा और कोचिंग संस्थानों/संगठनों से प्रस्ताव आमन्त्रित किये जायेंगे।
  2. जबकि सरकारी क्षेत्र/सार्वजनिक क्षेत्र के संस्थान निर्धारत प्रपत्र में अपने प्रस्ताव सीधे अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय को भेज सकते हैं गैर – सरकारी संगठनों सहित निजी क्षेत्र के संगठन अपने प्रस्ताव निर्धरित प्रपत्र (अनुलग्नक – I) के अनुसार संबंधित राज्य सरकार/संघ राज्य क्षेत्र राज्य क्षेत्र प्रशासन के माध्यम से प्रस्तुत करेंगे।
  3. सभी प्रस्तावों की, चाहे सरकारी संस्थान हों या निजी संस्थान, कार्यक्रम विभाग द्वारा जाँच की जाएगी और विचार हेतु चयन समिति के सामने और योजना के अंतर्गत संस्थानों को पैनल में रखने के लिए प्रस्तुत किया जाएगा। 2017 -18 के लिए चयनित संस्थानों को तीन वर्षों की अवधि अथवा 2019 – 20 तक पैनल में शामिल किया जाएगा।
  4. चयन समिति में निम्नलिखित सदस्य होंगे –
  • अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय का अपर सचिव/संबंधित संयुक्त सचिव – अध्यक्ष
  • संयुक्त सचिव एवं वित्त सलाहकार अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय अथवा उनका प्रतिनिधि-   - सदस्य
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय का प्रतिनिधि        - सदस्य
  • विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का प्रतिनिधि        - सदस्य
  • शैक्षिक संस्थानों के प्रतिनिधि                     -सहयोजित सदस्य
  • निदेशक/उपसचिव, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय        - संयोजक

5. मंत्रालय द्वारा प्रस्ताव को अस्वीकार किए जाने पर मंत्रालय द्वारा इस संबंध में आगे कोई पत्राचार नहीं किया जाएगा।

अभ्यर्थियों/ विद्यार्थियों के लिए पात्रता मानदंड

  1. अभ्यर्थी को वांछित पाठ्यक्रमों/भर्ती परीक्षाओं में दाखिले के लिए निर्धारित अर्हक परीक्षा अंकों की अपेक्षित प्रतिशतता प्राप्त की होनी चाहिए।
  2. अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित केवल वही अभ्यर्थी योजना के अंतर्गत पात्र हो जिनकी सभी स्रोतों से कुल पारिवारिक आय 6.00 लाख रू. प्रतिवर्ष से अधिक नहीं है संगठन/कार्यान्वयनकर्ता एजेंसी को संबंधित छात्र/अभ्यर्थी से राज्यों/ संघ क्षेत्रों में सक्षम अधिकारीयों द्वारा जरी किया गया आय प्रमाण – पत्र प्राप्त करना आवश्यक है।
  3. इस योजना के तहत किसी विद्यार्थी विशेष द्वारा कोचिंग का लाभ केवल एक बार ही (सिविल सेवाएँ परीक्षा की तैयारी के लिए आवसीय कोचिंग कार्यक्रम को छोड़कर) उठाया जा सकता है,चाहे वह किसी प्रतियोगी परीक्षा विशेष के लिए कितने अवसरों के लिए पात्र हो। कोचिंग संस्थान को विद्यार्थी से एक शपथ – पात्र लेना अपेक्षित होगा कि उसने इस योजना के तहत पहले कोई लाभ नहीं लिया है।
  4. सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए आवासीय कोचिंग के सन्दर्भ में, योजना का लाभ किसी छात्र विशेष द्वारा अधिकतम दो बार लिया जा सकता है। तथापि, संगठनों/संस्थानों को पाठ्यक्रम हेतु निर्धारित कोचिंग शुल्क का केवल 50 प्रतिशत दुबारा कोचिंग लेने आने वाले छात्रों के संबंध में दिया जायेगा।
  5. वे छात्र जिन्होंने सिविल सेवा की समेकित तैयारी परीक्षा के लिए आवासीय कोचिंग ली है, मंत्रालय की ‘नई उड़ान’ योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने
  6. इस योजना के तहत शामिल किए गए छात्रों को सभी कक्षाओं में उपस्थित रहना होगा। यदि कोई विद्यार्थी किस वैध कारण के बिना 15 दिन से अधिक तक अनुपस्थित रहता है या कोचिंग को बीच में छोड़ देता है तो उस अभ्यर्थी पर किया गया पूरा खर्च संबंधित संस्थान/विद्यार्थी/अभ्यर्थी से वसूल किया जाएगा।
  7. कोचिंग के लिए स्वीकृत विद्यार्थियों की संख्या में से 30 प्रतिशत स्थान छात्राओं/ बालिका अभ्यर्थियों के लिए निर्धारित किया जाएगा। पात्र महिला अभ्यर्थियों/छात्रों की पर्याप्त संख्या उपलब्ध न होने पर बकाया स्लौट मंत्रालय की पूर्व अनुमति/सूचना के साथ पुरूष छात्रों/अभ्यर्थियों द्वारा भरे जायेंगे।

वित्त – पोषण

  1. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय योजना के नियम व शर्तों के अनुसार चयनित अल्पसंख्यक छात्रों को उपलब्ध कराई गई कोचिंग के संपूर्ण व्यय का वित्तपोषण करेगा।
  2. अनुदान प्रति छात्र लागत आधार पर दिए जाएंगे।
  3. संस्थान/संगठन को सौंपे गये कार्यक्रम के लिए कोचिंग शुल्क की राशि कोचिंग संस्थान/संगठन को प्रत्येक वर्ष 2 किस्तों में जारी की जाएगी।
  4. कोचिंग शुल्क के 50 प्रतिशत तथा वजीफे के 50 प्रतिशत सहित प्रथम क़िस्त संस्थानों को उनके पैनल में शामिल किये जाने तथा योजना के दिशा निर्देशों/ आबंटन पत्र के अनुसार छात्रों की सूची तथा अन्य दस्तावेज़/सूचना प्राप्त होने के तुरंत पश्चात् जारी की जाएगी।
  5. कोचिंग शुल्क के 50 प्रतिशत तथा वजीफे के 50 प्रतिशत सहित सहायता – अनुदान की बकाया दूसरी क़िस्त कोचिंग संस्थानों को उपयोग प्रमाण – पत्र, लेखाओं का लेखा – परीक्षित विवरण, सीएजी के पैनल वाले चार्टेड एकाउंटेंट द्वारा प्रमाणित प्राप्तियों और भुगतानों  के ब्योरे तथा कोचिंग कार्यक्रम का परिणाम प्राप्त होने पर जारी (प्रतिमूर्ति के रूप में) किया जाएगा। कोचिंग कार्यक्रम के परिणाम के समर्थन के छात्रों का रैंक कार्ड/परीक्षाएं उत्तीर्ण करने का प्रमाण प्रस्तुत करेगा।
  6. एक वर्ष की समाप्ति के पश्चात् अगले वर्ष में वे प्रवेश परीक्षाओं की तारीख को मद्देनजर रखते हुए उपयुक्त समय पर कोचिंग कार्यक्रम आरंभ कर सकते हैं। अगले वर्ष की प्रथम क़िस्त पूर्व के वर्षों के कोचिंग कार्यक्रमों के लेखाओं का निपटान करने के पश्चात् ही जारी की जाएगी। प्रथम वर्ष की समाप्ति के उपरांत संस्थान के कार्यनिष्पादन का मूल्यांकन अगेल वर्ष हेतु निधि जारी करने से पूर्व किया जाएगा। यदि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा निर्धारित न्यूनतम सफलता दर में गिरावट हुई हो अथवा न्यूनतम सफलतादार प्राप्त न की गई हो तो अगले वर्ष के लिए प्रथम क़िस्त के रूप में सहायता अनुदान में अनुपातिक रूप से भी कमी की जाएगी तथा संबंधित संगठन/क्रियान्वयनकर्त्ता एजेंसी को आगे कोई आबंटन नहीं किया जाएगा।
  7. संबंधित कोचिंग संस्थानों/संगठनों द्वारा वजीफे की राशि पीएएमएस पोर्टल के माध्यम से मासिक आधार पर अथवा मंत्रालय निर्णय करें, छात्रों के खाते में सीधे जारी की जाएगी।
  8. कोचिंग कार्यक्रम का वास्तविक निरिक्षण राज्य सरकार/जिला प्राधिकारी, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के अधिकारीयों अथवा मंत्रालय द्वारा निर्णय किए गए अन्य किसी निरिक्षणकर्त्ता प्राधिकारी द्वारा किया जा सकता है। वित्त – वर्ष में केवल एक निरिक्षण किया जायेगा। तथापि, यदि अपेक्षित हो, कोचिंग कार्यक्रम की समवर्ती मॉनिटरिंग किसी तीसरे पक्ष के माध्यम से भी की जा सकती है।
  9. कोचिंग संस्थानों द्वारा जैसे ही कोचिंग कार्यक्रम शुरू किया जाता है, उन्हें परियोजना के बारे में कार्यक्रम की शुरूआत और समाप्ति की केंद्र – वार तारीखों की सूचना जिला प्राधिकारियों को देनी चाहिए और उनसे उनका तत्काल निरिक्षण करने का अनुरोध करना चाहिए। जिला प्राधिकारी कोचिंग कार्यक्रम के पूरा होने की तारीख से अंतिम पखवाड़े से पहले परियोजनाओं का निरिक्षण करेंगे।
  10. यदि कोचिंग संस्थानों द्वारा अग्रिम सूचना दिए जाने पर भी जिला प्रशासन द्वारा निरिक्षण नहीं किया जाता है तो मंत्रालय कोचिंग कार्यक्रमों के निरिक्षण के लिए, मंत्रालय के पदाधिकारियों/प्राधिकृत एजेंसी को भेजेगा।
  11. सहायता – अनुदान सामान्य वित्त नियमावली एवं योजना के दिशानिर्देशों में निर्धारित मानकों के अनुसार जारी किया जायेगा। योजना के अंतर्गत संगठन/संस्थान पीएमएमएस के ईएटी मॉड्यूल के माध्यम से व्यय करेंगे।
  12. भारत सरकार के पास केंद्र सरकार/राज्य सरकार/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन अथवा मंत्रालय द्वारा विनिर्दिष्ट किसी अन्य एजेंसी द्वारा निरिक्षण करने के पश्चात् परवर्ती वर्षों में निधियां जारी करने का अधिकारी सुरक्षित है। भारत सरकार परवर्ती वर्षों में निरीक्षण कराने के लिए यह अधिकार अनन्य रूप से सुरक्षित रखती है।

कोचिंग कार्यक्रम के कोचिंग शुल्क तथा वजीफे की राशि की मात्रा तथा न्यूनतम सफलता दर

कोचिंग कार्यक्रम की कार्यक्रम – वार, शुल्क की मात्रा, कोचिंग कार्यक्रम के अवधि, छात्रों को दिए जाने वाले वजीफे की राशि तथा अपेक्षित न्यूनतम सफलता दर निम्नलिखित तालिका में दर्शायी गई है –

क्र.सं.

कोचिंग की किस्म

प्रति अभ्यर्थी कोचिंग शुल्क

प्रति छात्र प्रतिमाह वजीफे की राशि

अवधि

कोचिंग कार्यक्रम की न्यूनतम सफलता दर

1

सिविल सेवा परीक्षा की समेकित तैयारी हेतु आवासीय कोचिंग कार्यक्रम

संस्थान द्वारा यथा निर्धारित, 1.00  लाख रू. की अधिकतम सीमा के अध्यधीन

कोई वजीफा नहीं किया जाएगा। नि:शुल्क आवास एवं भोजन सहित आवासीय कार्यक्रम

9 महीने (न्यूनतम)

कोचिंग संस्थान/संगठन द्वारा विगत तीन वर्षो में प्राप्त सफलता दर का औसत

2

समूह ‘क’ सेवाएँ

संस्थान द्वारा यथानिर्धारित, 50,000/- रू. की अधिकतम सीमा के अध्यधीन

2500/- रू. प्रतिमाह

6 महीने (न्यूनतम)

सिविल सेवा परीक्षा (प्रारंभिक) 10 प्रतिशत अन्य 15 प्रतिशत

3.

तकनीकी/व्यवासायिक  पाठ्यक्रमों के लिए प्रवेश परीक्षा

संस्थान द्वारा यथानिर्धारित, 50,000/ रू. की अधिकतम सीमा के अध्यधीन

वही

6 महीने (न्यूनतम)

20 प्रतिशत

4.

समूह ‘ख’ सेवाएँ

संस्थान द्वारा यथानिर्धारित, 30,000/ रू. की अधिकतम सीमा के अध्यधीन

वही

4 महीने (न्यूनतम)

15 प्रतिशत

5.

सूमह ‘ग’ सेवाएँ

संस्थान द्वारा यथानिर्धारित, 20,000/ रू. की अधिकतम सीमा के अध्यधीन

वही

3 महीने (न्यूनतम)

15 प्रतिशत

 

यदि सफलता दर प्राप्त नहीं की जाती है, तो जारी किये जाने वाले अनुदानों की राशि आनुपातिक रूप से कम कर दी जाएगी तथा संबंधित संगठन/ क्रियान्वयनकर्त्ता एजेंसी को आगे कोई आबंटन नहीं किया जाएगा।

वजीफा

योजना के अंतर्गत कोचिंग लेने वाले सभी छात्रों को 2500/- रू प्रतिमाह की राशि का भुगतान किया जायेगा बशर्ते कि वे अन्य नियमों व शर्तों को पूरा करते हों। पिछले माह के लिए वजीफा छात्रों द्वारा स्न्ग्थानों/कोचिंग संस्थानों को परिणाम प्रस्तुत करने के उपरांत जारी किया जाए।

कोचिंग संस्थानों द्वारा पालन की जाने वाली निबंधन और शर्तें

  1. जैसे ही स्वीकृति जारी की जाती है तो संस्थान के लिए अल्पसंख्यक समुदायों के विद्यार्थियों/अभ्यर्थियों से आवेदन आमंत्रित करने के लिए स्थानीय भाषा को वरीयता देते हुए स्थानीय समाचार पत्र, केवल टीवी चैनलों आदि में विज्ञापन देना अपेक्षित होगा। संस्थान अल्पसंख्यक बालिका विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने के लिए महिला स्टाफ को आमंत्रित करते हुए विशेष प्रयास करेगा। कोचिंग के लिए चुने गये छात्रों के नाम, पता, समुदाय, लिंग और वार्षिक आय जैसे विवरण निर्धारित प्रपत्र में 45 दिनों के भीतर सीधे मंत्रालय को प्रस्तुत कर देने चाहिए।
  2. संस्थान कोचिंग के लिए दाखिल किये गये अभ्यर्थियों के नाम, पता, दूरभाष संख्या, ई. – मेल आईडी (यदि उपलब्ध हो) आदि को पूरे विवरण के साथ प्रबंधन सूचना प्रणाली (एमआईएस) तैयार करेगा और यह सूचना मंत्रालय को प्रस्तुत करेगा। संस्थान दाखिल किए गये प्रत्येक अभ्यर्थी के फोटो, आयु, लिंग, शैक्षिक अहर्ताएं आय प्रमाण – पत्र, बैंक खाता संख्या आदि जैसे पूरे विवरण के साथ रिकार्ड रखेगा। प्रत्येक छात्र/अभ्यर्थी का आधार नंबर भी लिया जाए इस संबंध में इस योजना के सन्दर्भ में आधार (वित्तीय और अन्य सहायिकियों, प्रसुविधाओं और सेवाओं का लक्ष्यित परिदान) अधिनियम 2016 (2016  का 18) की धारा – 7 के अंतर्गत, भारत के राजपत्र में दिनांक 31 जुलाई, 2017 को प्रकाशित दिनांक 14 जून, 2017 की अधिसूचना का आ. 2408 (अ) का अवलोकन किया जाए।  ।
  3. मंत्रालय द्वारा जारी की गई निधियों के लिए संस्थान द्वारा अलग रखा जाएगा और जब कभी निरिक्षण के लिए मंगाया जाएगा तो अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय को यह खाता उपलब्ध कराया जाएगा।
  4. संस्थान, इन निधियों का उपयोग केवल विशिष्ट प्रयोजनों के लिए ही करेंगे। अनुदानग्राही संस्थान एक वचन देगा कि इस शर्त के विपरीत काम करने की दशा में, वह प्राप्त की गई राशि को 10 प्रतिशत दंड ब्याज सहित वापस करेगा और सरकार द्वारा उचित समझी गई किसी अन्य करवाई का भी सामना करेगा।
  5. कोचिंग संस्थान को छात्र से इस आशय का एक शपथ – पत्र भी लेना होगा कि उसने इस योजना या सरकार द्वारा वित्त पोषित किसी अन्य योजना के अंतर्गत कोई लाभ नहीं लिया है।
  6. संस्थान का अध्यक्ष/सचिव/चेयर मैन अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा निर्धारित निबंधनों और शर्तों को स्वीकार करते हुए एक प्रमाण – पत्र प्रस्तुत करेगा और इस योजना के वास्तविक कार्यान्वयन के लिए तथा स्वीकृत किए गये अनुदान का हिसाब – किताब देने के लिए जिम्मेदार सक्षम प्राधिकारी के नाम से एक बांड दो जमानतियों के साथ प्रस्तुत करेगा।
  7. संस्थान, यह सुनिश्चित करने के लिए पूर्णतया जिम्मेदार होगा कि केवल मेधावी छात्रों को ही कोचिंग/प्रशिक्षण के लिए प्रवेश दिया जाता है।
  8. पीएफएमएस पोर्टल के माध्यम से सोसायटियों/गैर – सरकारी संगठनों/संस्थानों आदि के खातों में सीधे – ई पेमेंट के लिए आदाता द्वारा एक प्राधिकार पत्र उपलब्ध कराया जाएगा जिसमें ई – पेमेंट संबंधी पूरे ब्यौरा अर्थात – आदाता का नाम, बैंक  आईएफएससी कोड न. बैंक शाखा के प्रबन्धक द्वारा परिह्स्ताक्षर किये जायें ताकि गलत खाता संख्या का प्रयोग न हो। पूरे वित्त वर्ष के लिए अथवा वर्ष के दौरान खाता सं. बदले जाने तक केवल एक प्राधिकार पत्र ही अपेक्षित होगा। प्राधिकार - पत्र का एक प्रोफार्मा संलग्न है। (अनुलग्नक II)
  9. चयनित संस्थान को अनुमोदित कार्यक्रम को सुचारू रूप से चलाने के लिए स्वयं के संसाधनों का उपयोग करने का इच्छुक होना चाहिए। संस्थान यह सुनिश्चित करने के लिए कर्त्तव्यबद्ध होंगे कि मंत्रालय द्वारा निधियों को जारी करने में यदि कोई विलम्ब हो तो उसके कारण कोचिंग कार्यक्रम में कोई बाधा न आए।
  10. कोचिंग कार्यक्रम के पूरा होने पर संस्थान निर्धारित प्रपत्र में अभ्यर्थियों के विविरण, उपयोग प्रमाण – पत्र और किसी चार्टर्ड एकाउंटेंट, जो भारत के नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक के पैनल पर हो द्वारा प्रमाणित लेखा – परीक्षित खाते निम्नलिखित दस्तावेजों के साथ अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय को प्रस्तुत करेगा।
  • वर्ष के दौरान प्राप्त निधियों के संबंध में संस्थान के प्राप्तियां एवं भुगतान खाते सहित वर्ष की लेखा – परीक्षक की रिपोर्ट, आय और व्यय का खाता/तुलना पत्र।
  • इस आशय का एक प्रमाण – पत्र कि संस्थान ने इसी प्रयोजन के लिए भारत सरकार के किसी अन्य मंत्रालय/विभाग, राज्य क्षेत्र की सरकार और किसी अन्य सरकारी/गैर – सरकारी संगठन से कोई अन्य अनुदान प्राप्त नहीं किया है।
  • संस्थान संबंधित वर्ष के लिए दूसरी क़िस्त जारी किये जाने के लिए आवेदन या अन्य वर्ष के लिए नए आवेदन के साथ चालू या अंतिम, जैसा भी मामला हो निर्धारित प्रपत्र में (जीएफआर) – 19 ए अथवा समय – समय पर वित्त मंत्रालय द्वारा यथासंशोधित)उपयोग प्रमाण - पत्र प्रस्तुत करेगा।
  • संस्थान मंत्रालय की वेबासाइट/पोर्टल पर कोचिंग कक्षाओं की दैनिक प्रगति, संगत विजुअल आदि को अपलोड करेगा।

निगरानी

अनुदान प्राप्तकर्त्ता संस्थानों द्वारा की गई प्रगति की निगरानी निम्नलिखित अनुसार की जाएगी –

  1. संस्थान की मॉनिटरिंग अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय तथा राज्य सरकार/संघ रज्य क्षेत्र प्रशासन द्वारा अथवा अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा निर्णय किये अनुसार की जाएगी।
  2. संस्थान उनके द्वारा कोचिंग दिए गये अभ्यर्थियों की सफलता दर की जानकारी दस्तावेजी साक्ष्य के साथ प्रस्तुत करेंगे।
  3. संस्थान के केंद्र सरकार/राज्य सरकार.संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन के अधिकारियों या प्राधिकृत स्वतंत्र एजेंसियों/अधिकारियों द्वारा निरीक्षण किया जाएगा।
  4. संस्थान अपनी वेबसाइट बनायेंगे और वेबसाइट का पता मंत्रालय को प्रस्तुत करेंगे। संस्थान द्वारा कोचिंग कार्यक्रम के वर्ष - वार और केंद्र फोटोग्राफ सुलभ संदर्भ के लिए अपनी वेबासाइट पर अपलोड किये जाएंगे।
  5. संस्थान हर छात्र का आधार नंबर एकत्र करेगा। यदि किसी छात्र के पास आधार नंबर नहीं है तो संस्थान/संगठन के लिए ऐसे लाभार्थियों हेतु आधार नामांकन सुविधाएँ देना अपेक्षित होगा। इस सन्दर्भ में दिनांक 14 जून, 2017  की अधिसूचना का आ. 2408 (अ), आधार (वित्तीय और अन्य सहयिकियों, प्रसूविधाओं और सेवाओं का लक्ष्यित परिदान) अधिनियम, 2016 (2016 को 18) की धारा – 7 के अंतर्गत, इस योजना के संदर्भ में भारत के राजपत्र में दिनांक 31 जूलाई, 2017 के प्रकाशन का अवलोकन किया जाए।
  6. कोचिंग संगठन को इस योजना के संदर्भ में एक अलग बैंक खाता रखना चाहिए और इस कोचिंग कार्यक्रम से संबंधित सभी व्यय केवल इसी खाते में से किए जाने चाहिए। इस योजना के अंतर्गत सभी व्यय पीएफएमएस – ईएटी मॉडयूल के माध्यम से किये जाएंगे।  5000/- रू. से अधिक का कोई भी भुगतान नकद में नहीं किया जाना चाहिए।

नया संघटक चिकित्सा/अभियान्त्रिकी प्रवेश परीक्षा की अभिकेंद्रित तैयारी लिए आवासीय कोचिंग कार्यक्रम

2013 – 14 के दौरान, योजना का नया घटक 10 राज्यों/ संघ राज्य क्षेत्रों अर्थात, उत्तर प्रदेश, बिहार, असम पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, कर्नाटक तमिलनाडु, आन्ध्र प्रदेश केरल और दिल्ली में प्रति केंद्र 100 अथवा अधिक छात्रों के हिसाब से लगभग 1000 छात्रों के लिए प्रायोगिक आधार पर शुरू किया गया। योजना के दिशा - निर्देशों और निधियों की उपलब्धता के अनुसार बाद के वर्षों में कुछ और राज्यों/संघ राज्य क्षेत्रों को कवर किया जायेगा। अब नि:शुल्क कोचिंग एवं संबद्ध योजना का नया संघटक देश भर में कार्यान्वित किया जाना प्रस्तावित है और सभी राज्यों को पात्र संस्थानों /संगठनों तथा पर्याप्त निधियों की उपलब्धता के अध्यधीन कवर किया जाएगा।

नया संघटक 1 – कक्षा XI तथा XII के विज्ञान के छात्रों हेतु दो वर्षीय अभिकेंद्रित कोचिंग

नया संघटक 1 चिकित्सा/अभियांत्रिकी प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए कक्षा XI और XII  के विज्ञान के छात्रों के लिए दो वर्षीय आवासीय अभिकेंद्रित कोचिंग है। इस संघटक के अंतर्गत चुने विज्ञान के छात्र के लिए वित्तीय सहायता की दर प्रति शैक्षिणिक वर्ष 1,00,000/- रू. (एक लाख रू. केवल) तक है जो संस्थान को देय होगा। 11वीं कक्षा के लिए कोचिंग कार्यक्रम की न्यूनतम 8 माह होगी तथा 12वीं कक्षा के लिए यह अवधि 10 माह के लिए होगी।

नया संघटक 2. – विज्ञान विषयों के सैट 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्रों के लिए एक वर्षीय अभिकेंद्रित कोचिंग

इस संघटक के अंतर्गत उन अल्पसंख्यक छात्रों के लिए चिकित्सा/अभियांत्रिकी प्रवेश परीक्षा की तैयारी के लिए एक वर्षीय आवासीय कोचिंग कार्यक्रम भी संचालित किया जाएगा जिन्होंने विज्ञान विषयों के साथ  न्यूनतम 75 प्रतिशत अंकों के साथ 12वीं उत्तीर्ण की है। तथापि वे छात्र जिन्होंने नि :शुल्क कोचिंग एवं  संबद्ध योजना के किसी संघटक के अंतर्गत के अंतर्गत कोई लाभ प्राप्त किया हैं, इस कार्यक्रम के पात्र नहीं होंगे। इस संघटक के अंतर्गत चुने गये छात्र के लिए एक वर्ष के कोचिंग कार्यक्रम हेतु वित्तीय सहायता 1.00 लाख रू. तक है जो संस्थान को देय होगी। इस कार्यक्रम के अंतर्गत कोचिंग कार्यक्रम की न्यूनतम अवधि 10 महीने होगी।

अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय योजना के ब्यौरों का विज्ञापन देगा इस संघटक हेतु समय – समय पर और स्कूलों/कॉलेजों अथवा राज्यों/ संघ राज्य क्षेत्रों को शामिल करने की जरूरत के आधार पर विज्ञान संकाय वाले 11वीं और 12वीं की नियमित कक्षाएं वाले बालक और बालिकाओं के लिए अलग से छात्रावास की सुविधा वाले स्कूलों/कॉलेजों/संस्थानों से प्रस्ताव आमंत्रित करेगा।

कोचिंग संस्थानों को पैनल में शामिल किए जाने हेतु आवेदन करने के लिए पात्रता मापदंड

इस योजना के अंतर्गत वित्तीय सहायता प्राप्त करने के लिए पात्रता मापदंड निम्नलिखित होगा -

क. संस्थान पंजीकृत निकाय होना चाहिए अथवा सोसायटी पंजीकरण अधिनियम, 1860 कंपनी अधिनियम, 2014 अथवा राज्य/संघ राज्य क्षेत्र के अन्य किसी संगत/अधिनियम के अंतर्गत पंजीकृत किसी संगठन द्वारा संचालित होना चाहिए।

ख. स्कूल/कॉलेज/संस्थान के पास उनके वेतन रोल पर अथवा अंशकालिक अधर पर अपेक्षित संख्या में योग्य संकाय सदस्य होने चाहिए।

ग. स्कूल/कॉलेज/संस्थानों के पास कोचिंग कक्षाएं चलाने के लिए परिसर, पुस्तकालय, अपेक्षित उपकरण इत्यादि जैसी आवश्यक अवसंरचना होनी चाहिए।

घ.  संस्थान में लड़कों तथा लड़कियों के लिए अलग – अलग छात्रावासों की आवासीय सुविधा होनी चाहिए जिनमें सुरक्षा गार्ड तैनात हो।  बालिका छात्रावास में महिला सुरक्षा गार्ड और स्टाफ तैनात होना चाहिए।

ङ. छात्रावासों में समुचित स्वल्पाहार गृह सुविधा, बिजली, पेयजल तथा शौचालय/स्नानागार आदि पर्याप्त संख्या में होना चाहिए।

च. स्कूल/कॉलेज/संस्थानों के पास संगत पाठ्यक्रम के लिए कोचिंग प्रदान करने का काम से कम तीन वर्षों का अनुभव होना चाहिए।

छ. स्कूल/कॉलेज/कोचिंग संस्थानों को व्यवासायिक/तकनीक पाठयक्रमों में प्रवेश हेतु कोचिंग में 15 प्रतिशत न्यूनतम सफलता दर होनी चाहिए।

ज. इस संघटक हेतु पात्र होने के लिए संस्थान/स्कूल/कॉलेज सीबीएसई/आईसीएसई अथवा राज्य बोर्डों से संबंद्ध होने चाहिए तथा इस योजना के अंतर्गत आवेदन करते समय न्यूनतम 3 वर्षों की अवधि के लिए पूर्ण रूप से कार्यरत होने चाहिए।

झ. संस्थान/संगठन नीति आयोग के पोर्टल अर्थात नीति आयोग का एन.जी.ओ. दर्पण पर पंजीकृत होना चाहिए।

ञ. संस्थान/संगठन को कभी भी दिवालिया घोषित न किया गया हो।

ट. संस्थानों/ संगठन को सरकार के किसी विभाग अथवा निकाय द्वारा कभी भी काली सूची में न डाला गया हो।

प्रक्रिया का विवरण

क. अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा इस योजना के ब्यौरों का विज्ञापन देगा और कोचिंग/प्रशिक्षण संस्थानों से प्रस्ताव आमंत्रित किये जाएंगे।

ख.  जबकि सरकारी क्षेत्र के संस्थान निर्धारित प्रपत्र में अपने प्रस्ताव सीधे अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय को भेज सकते हैं गैर – सरकारी संगठनों सहित निजी क्षेत्र के संगठन अपने प्रस्ताव निर्धारित प्रपत्र (अनुलग्नक – I क) के अनुसार संबंधित राज्य सरकार/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन के माध्यम से प्रस्तुत करेंगे।

ग. सभी प्रस्तावों की, चाहे वे सरकारी संस्थान के हों या निजी संस्थान के, कार्यक्रम प्रभाग द्वारा जाँच की जाएगी तथा योजना के अंतर्गत संस्थानों को पैनल में शामिल करने के लिए उन्हें चयन समिति के विचारार्थ रखा जाएगा। यदि अपेक्षित हुआ, संस्थान को चयन समिति के समक्ष प्रस्तुतीकरण करने के लिए भी बुलाया जाएगा। 2017 – 18 के लिए चयनित संस्थानों को तीन (03) वर्षों की अवधि अथवा 2019 – 20 तक पैनल में शामिल किया जाएगा।

  1. संस्थानों/स्कूलों/कॉलेजों का चयन, चयन समिति द्वारा किया जाएगा, जिसमें निम्नलिखित शामिल होंगे -
  • अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के अपर सचिव/संबंधित  संयुक्त सचिव – अध्यक्ष
  • संयुक्त सचिव एवं वित्त सलाहकार, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय अथवा उनका प्रतिनिधि  - सदस्य
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय का प्रतिनिधि  - सदस्य
  • विश्वविद्यालय अनुदान आयोग का प्रतिनिधि - सदस्य
  • शैक्षिक संस्थानों का प्रतिनिधि               -  सहयोजित
  • निदेशक/उप सचिव, अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय  - संयोजक
  1. अंतिम रूप से चुने गये संस्थान/कॉलेज/स्कूल के संदर्भ में राज्य सरकार/संघ राज्य क्षेत्र प्रशासन की सिफारिश केवल एक ही बार प्राप्त की जाएगी। संस्थान का परवर्ती निरिक्षण मंत्रालय द्वारा अपने अधिकारीयों अथव मंत्रालय द्वारा निर्णय लिए गये अनुसार अन्य किसी निरिक्षणकर्त्ता प्राधिकारी द्वारा किया जाएगा।
  2. मंत्रालय मध्यकालिक निरीक्षण भी कर सकता है।
  3. छात्रों का चयन चुनिन्दा संस्थानों/स्कूलों/कॉलेजों द्वारा अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों के छात्रों में से किया जाएगा। छात्रों का चयन संबंधित संस्थानों/स्कूलों/कॉलेजों द्वारा मेरिट आधार पर किया जाएगा। अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों के पात्र छात्रों की मेरिट सूची मेरिट (अंकों का प्रतिशत अथवा सीजीपीए) के आधार पर तैयार की जाएगी। चयन मेरिट सूची में से अंकों के अधिकतम प्रतिशत अथवा सीजीपीए से आरंभ करते हुए किया जाएगा तथा किसी भी स्थिति में आबंटित छात्रों की कुल संख्या की शर्त के अधीन 75 प्रतिशत अंक अथवा समतुल्य ग्रेड से नीचे के छात्रों का चयन नहीं किया जाएगा। अभिकेंद्रित कोचिंग हेतु चुने गये छात्र पाठ्यक्रम के पूरा होने के बाद इंजीनियरिंग डिग्री/मेडिकल डिग्री प्राप्त करने के इच्छुक होने चाहिए।
  4. विज्ञान विषयों के साथ 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वाले विद्यार्थियों के लिए एक वर्ष का कोचिंग कार्यक्रम हेतु कोचिंग कार्यक्रम हेतु कोचिंग कार्यक्रम की न्यूनतम अवधि 10 महीने की होगी। यदि यह अवधि निर्धारित अवधि से कम हो तो अनुदानों में अनुपातिक रूप से कमी की जाएगी। तथापि, संस्थान पाठ्यक्रम/पाठ्यचर्यों को समय पर पूरा करने के लिए आवश्यक उपाय करेगा।

वित्तपोषण

    कक्षा XI तथा XII के विज्ञान के छात्रों हेतु दो वर्षीय अभिकेंद्रित कोचिंग

    क. कोचिंग कार्यक्रम का प्रथम वर्ष (11वीं कक्षा) –

    कोचिंग कार्यक्रम के आबंटन के पश्चात् जैसे ही अपेक्षित वचनबद्ध आदि सहित छात्रों की सूची प्राप्त हो जाती है है संस्थानों को 11 वीं कक्षा की पहली क़िस्त (स्वीकृत राशि का 50 प्रतिशत) जारी कर दी जाएगी।

    ख. कोचिंग कार्यक्रम का दूसरा वर्ष (12 वीं कक्षा)

    12वीं कक्षा की पहली क़िस्त (स्वीकृत राशि का 50 प्रतिशत) 11वीं कक्षा के परिणाम प्राप्त होते ही जारी कर दी जायेगी। कोचिंग कार्यक्रम की 12वीं कक्षा की  दूसरी तथा अंतिम क़िस्त मंत्रालय के अधिकारीयों अथवा नामोद्दिष्ट प्रधिकारू से निरीक्षक रिपोर्ट, कोचिंग कार्यक्रम का परिणाम तथा उपयोग प्रमाण – पत्र एवं अन्य अपेक्षित दस्तावेज़ मिलने के उपरांत जारी की जाएगी।

    विज्ञान विषयों के साथ 12 वीं कक्षा उत्तीर्ण करने वालो छात्रों हेतु एक वर्षीय अभिकेंद्रित कोचिंग

    कोचिंग कार्यक्रम के आबंटन के पश्चात् जैसे ही अपेक्षित वचनबद्ध आदि सहित छात्रों की सूची प्राप्त हो जाती है संस्थानों को पहली क़िस्त (स्वीकृत राशि का 50 प्रतिशत) जारी कर दी जाएगी। दूसरी क़िस्त राज्य सरकार/जिला प्राधिकारी, जैसा भी मामला हो, से निरीक्षण रिपोर्ट, उपयोग प्रमाण – पत्र तथा पाठ्यक्रम के पूरा होने पर कोचिंग कार्यक्रम का परिणाम प्रस्तुत करने पर जारी की जाएगी।

    सफलता की दर

    संस्थान निम्नानुसार कोचिंग कार्यक्रम की सफलता दर सुनिश्चित करेंगे।

    नए संघटक के कोचिंग कार्यक्रम के अंतर्गत न्यूनतम सफलता दर 30 प्रतिशत होगी। चिकित्सा/अभियांत्रिकी प्रवेश परीक्षाएं उत्तीर्ण करने वाले कुल छात्रों में से कम से कम 5 प्रतिशत सरकार कॉलेजों अथवा प्रतिष्ठित निजी कॉलेजों/संस्थानों में सरकारी सीटों में प्रवेश हेतु अहर्ता प्राप्त होंगे।

    यदि सफलता दर उपर्युक्त निर्धारित से कम हो तो 12वीं कक्षा की अंतिम क़िस्त के रूप में जारी किए जाने वाले सहायता – अनुदान की राशि अनुपात से कम की जाएगी तथा संबंधित संगठन/क्रियान्वयनकर्त्ता एजेंसी को आगे कोई आबंटन नहीं किया जाएगा।

    बिना किसी वित्तीय प्रभाव के छोटे – मोटे परिशोधन

    योजना में बिना किसी वित्तीय प्रभाव वाले छोटे – मोटे परिशोधन एसएफसी/इएफसी का सहारा लिए बिना मंत्रालय द्वारा किए जा सकते हैं।

    योजना का मध्यावधि मूल्यांकन एवं समीक्षा

    योजना का मध्यावधि किया जा सकता है तथा अनुशंसाओं को सक्षम प्राधिकारी के अनुमोदन से मध्यावधि सुधारों के रूप में क्रियान्वित किया जाएगा। 14वें वित्त आयोग की अवधि अर्थात 2019- 20 की समाप्ति के पश्चात् योजना के प्रभाव का मूल्यांकन करने के लिए किसी स्वंत्रत एजेंसी द्वारा इसका फिर मूल्यांकन किया जाएगा।

    2017 – 18 के दौरान नि:शुल्क कोचिंग एवं संबंद्ध योजना के अधीन कोचिंग संस्थानों को पैनल में शामिल करने के लिए प्रस्ताव

    1.  कोचिंग संस्थान (यहाँ इसके बाद संगठन) के विवरण

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1

    संगठन का नाम

    (यदि कोचिंग संस्थान का नाम संगठन के

    नाम से भिन्न है तो कृपया स्पष्ट रूप से व्यक्त करें)

    संगठन का नाम

    कोचिंग संस्थान का नाम

    2

    संगठन का पता (यदि पंजीकृत मुख्यालय का पता

    पत्र व्यवहार के पते से भिन्न है तो कृपया दोनों पते अलग – अलग देनेवाला।)

    पंजीकृत पता

    पात्र व्यवहार का पता

    दूरभाष सं

    इमेल आईडी

    कोचिंग संस्थान का पता

    दूरभाषः

    इमेल आईडी

    3

    क्या सोसायटी/ट्रस्ट/कंपनी/अन्य है

     

    4

    यदि नीति आयोग के एनजीओ पोर्टल पर पंजीकृत है

    तो यूआईडी सं.

     

    5

    वैध पंजीकरण संख्या के साथ पंजीकरण की तारीख/नवीनकरण की

    तारीख (यदि लागू हो) कृपया वैध पंजीकरण प्रमाण- पत्र की पठनीय

    प्रति संलग्न करें। यदि यह किसी अन्य भाषा में हैं तो इसका हिंदी अथवा

    अंग्रेजी में अनुवाद किया जाना चाहिए और जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी

    द्वारा सत्यापित की जानी चाहिए।

     

    6

    अध्यक्ष/चेयरमेन/सीईओ का नाम

     

    7

    सचिव का नाम

     

    8

    फोन/मोबाईल

     

    9

    ई – मेल

     

     

    * किसी परिवर्तन के मामले में समय – समय पर सूचित किया जाए।

    2.कोचिंग संस्थान की अपनी शाखाएँ/केंद्र

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1

    राज्य के साथ जिले (लों) के नाम जहाँ संगठन की अपनी

    शाखाएँ/केंद्र (फ्रेंचाइजी नहीं) उपलब्ध हैं

    1.

    2.

     

    2

    प्रत्येक जिले में उपलब्ध अल्पसंख्यक समुदायों के नाम

    (मुस्लिम, ईसाई, सिक्ख, बौद्ध, पारसी, जैन)। जिले - वार उल्लेख करें।

     

     

    3. कोचिंग में लगी संकाय की शाखा अथवा केंद्र – वार सूची (कृपया प्रत्येक केंद्र के लिए अगल – अलग तालिका दें)

    क्र सं.

    संकाय न नाम

    पुरूष/ महिला

    शैक्षिक अहर्ता

    किस विषय के विशेषज्ञ

    अनुभव (वर्षों में)

    नियमित अथवा अंशकालिक

     

     

     

     

     

     

     

    * नियमित का अर्थ है- कोचिंग संस्थान के वेतन रोल पर होना।

    4. कोचिंग संस्थान की विशेषता (पिछले तीन वर्षों में सफतला पर आधारित) –

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1

    प्री – मेडिकल/प्री. इंजिनियरिंग

    हाँ / नहीं

    2

    प्रबंधन

    हाँ / नहीं

    3

    संघ लोक सेवा आयोग/ राज्य लोक सेवा आयोग/कर्मचारी

    चयन आयोग

    हाँ / नहीं

    4

    अन्य (कृपया पाठ्यक्रम के नाम का उल्लेख करें)

     

     

    5. क्या संस्थान को कभी ब्लैक लिस्ट किया है, यदि हाँ, तो ब्यौरा दें –

    i. ब्लैकलिस्ट कर्ता प्राधिकारी का नाम

    ii. ब्लैकलिस्ट करने की तारीख

    iii. ब्लैकलिस्ट करने का कारण

    iv. ब्लैकलिस्ट से नाम हटाने की तारीख

    6. कोचिंग के लिए संगठन के पास उपलब्ध शाखा/केंद्र – वार

    अवसंरचना (प्रत्येक केंद्र के ली अलग – अलग सूचना दें)

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1

    बिल्डिंग का स्थान व पता

     

    2

    बिल्डिंग में सुविधाएँ

    कक्षा कमरों की संख्या

    शौचालय की संख्या

    क्या पुस्तकालय उपलब्ध है, यदि हाँ तो उपलब्ध

    पुस्तकों की संख्या

    3

    क्या बिल्डिंग किराये की  अथवा अपनी है

     

    4

    क्या बिल्डिंग किराये की अवधि (यदि कोई हो) जा

    उल्लेख करें। पट्टा विलेख की प्रति संलग्न करें।

     

    5

    क्या हॉस्टल उपलब्ध है कृपया उल्लेख करें।

    हॉस्टल में कमरों की संख्या

    शौचालयों की संख्या

    बिजली/पानी की सुविधाएँ - हाँ/नहीं

    सोने की व्यवस्था – हाँ /नहीं

    सुरक्षा व्यवस्था – हाँ/नहीं

    बालिकाओं के हॉस्टल के लिए कम से कम दो सुरक्षा कर्मचारी होने चाहिए\

    7. क्या पिछले तीन वर्षों का लेखा – परीक्षित लेखा (लेखा – परीक्षक की रिपोर्ट के साथ) संलग्न है।

    हाँ/नहीं

    8. पिछले वर्षों के कोचिंग के परिणाम (यदि लागू है तो)19

     

    वर्ष

    कोचिंग दिए गये छात्रों की संख्या

    बालिकाओं की संख्या (कोचिंग दिए गए कुल छात्रों में से)

    उस परीक्षा का नाम जिसके लिए कोचिंग दी गई

    परीक्षा में अहर्ता प्राप्त छात्रों की संख्या

    चयन का प्रतिशत

     

     

     

     

    बालक

    बालिका

    कुल

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    9. पिछले वर्षों में कोचिंग के परिणाम (यदि लागू है तो) –

     

    वर्ष

    कोचिंग दिए गये छात्रों की संख्या

    अल्पसंख्यक बालिकाओं की संख्या (कोचिंग दिए गए कुल छात्रों में से)

    उस परीक्षा का नाम जिसके लिए कोचिंग दी गई

    अहर्ता प्राप्त अल्पसंख्यक छात्रों की संख्या

    चयन का प्रतिशत

     

     

     

     

    बालक

    बालिका

    कुल

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    10. पिछले वर्षों में कोचिंग के परिणाम (यदि  कोई अनुभव हो तो)-

    वर्ष

    क्या परियोजना केंद्र अथवा राज्य सरकार की थी (यदि  राज्य सरकार की थी तो राज्य का नाम बताएं)

    जिला जहाँ कोचिंग कार्यक्रम चलाया गया (पते के साथ)

    परियोजना में प्रदत्त छात्रों की कुल संख्या

    अल्पसंख्यक छात्रों की संख्या (कुल प्रदत्त  छात्रों में से)

     

     

     

     

    बालक

    बालिका

     

     

     

     

     

     

     

    11. कोचिंग/प्रशिक्षण संस्थान द्वारा संचालित किए जा रहे/किए जाने वाले कोचिंग कार्यक्रम का तुलनात्मक विवरण –

    संस्थान द्वारा यथा प्रस्तावित अल्पसंख्यक समुदायों के अभ्यर्थियों को कोचिंग

    संस्थान के सामान्य कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत अन्य अभ्यर्थियों की उसी पाठ्यक्रम हेतु कोचिंग

    क्षेत्र में अन्य संस्थानों कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम हेतु

    कोचिंग पाठ्यक्रम/

    प्रशिक्षण कार्यक्रम का नाम

    अवधि

    प्रति अभ्यर्थी वसूल किया गया शुल्क

    अवधि

    प्रति अभ्यर्थी वसूल किया गया शुल्क

    अवधि

    प्रति अभ्यर्थी वसूल किया गया शुल्क

    दिन

    घंटे

    दिन

    घंटे

    दिन

    घंटे

     

    12. संगठन के अध्यक्ष/सचिव/सीईओ द्वारा घोषणा –

    मैं ....................................................का अध्यक्ष/सचिव ............................... सुपुत्र/सुपुत्री/पत्नी ............................................का निवासी (पता).................................................................................करता हूँ कि उपर्युक्त सूचना मेरी जानकारी में सही है। संगठन कोचिंग अवधि के दौरान बालिकाओं विशेषकर उन बालिकाओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी लेता हैं जो आवासीय कोचिंग लेगी।

    अध्यक्ष अथवा सचिव/सीईओ के हस्ताक्षर

    (हस्ताक्षरकर्त्ता प्राधिकारी का पूरा नाम दें)

    कार्यालय की मोहर

    13. संलग्न की जाने वाली सूचियाँ/दस्तावेज़

    i. संलग्न सूची में यथा उल्लिखित सभी दस्तावेज़

    ii. संगठन की प्रबंधक समिति।

    अनुलग्नक - जाँच सूची

    नये संघटक के अंतर्गत प्रस्ताव के साथ प्रस्तुत किये जाने वाले दस्तावेजों की सूची/जानकारी

    1.  संगठन द्वारा विधिवत भरा गया भाग I और II

    2.  भाग III  में निरिक्षण रिपोर्ट

    3.  भाग IV में राज्य सरकार/जिला प्राधिकारी की अनुशंसा

    4.  वैध पंजीकरण प्रमाण – पत्र/नवीकरण प्रमाण – पत्र

    5.  सीबीएसई/आईएससीई/ किसी राज्य शिक्षा बोर्ड के साथ संबंद्ध होने का प्रमाण

    6.  नीति आयोग के एनजीओ पोर्टल पर विशिष्ट आई डी संख्या सहित पंजीकरण ब्यौरा

    7.  संगम ज्ञापन

    8.  निर्धारित प्रपत्र में बांड

    9.  विगत तीन वर्षों की वार्षिक रिपोर्ट

    10. किराया करार/पट्टा दस्तावेज आदि की प्रति

    11. कोचिंग हेतु नियमित संकाय (संगठन की वेतन पर्ची पर) की संख्या एवं अहर्ता, शिक्षण में विशेषज्ञता एवं अनुभव को दर्शाने वाली संकाय सदस्यों की सूची।

    12. संगठनों की वित्तीय अर्थक्षमता: विगत तीन वर्षों में संगठन द्वारा चालित निधियों की मात्रा। विगत तीन वर्षों के लेखा – परीक्षित लेखे।

    13. केंद्र सरकार/राज्य सरकार द्वारा वित्तपोषित तथा संगठनों द्वारा कार्यन्वित नि:शुल्क कोचिंग की परियोजना की संख्या (मंजूरी आदेश की प्रतियां संलग्न की जाए।

    14. विगत तीन वर्षों में कक्षा XII में दाखिल विद्यार्थियों की संख्या और उनके परिणाम।

    15. केंद्र सरकार/राज्य सरकार द्वारा वित्तपोषित परियोजनाओं में संगठन द्वारा कोचिंग दिए गये छात्रों की संख्या (विगत तीन वर्षों के दौरान वित्तपोषित परियोजनाओं में संघठन द्वारा कोचिंग  दिए गये छात्रों की संख्या (विगत तीन वर्षों के दौरान कोचिंग दिए गये छात्रों की संख्या और उनके परिमाण।

    16. राष्ट्रीय स्तर की परीक्षाओं (एआईपी एमटी/एनईईटी,एआईईई/जेईई, यूपीएससी,एसएससी आदि) में अल्पसंख्यकों हेतु, कोचिंग संस्थान की समग्र सफलता दर का प्रतिशत। वर्ष – वार, परीक्षा – वार ब्यौरा उपलब्ध कराए जाएँ।

    17. संस्थान कक्षाओं/पुस्ताकालय/प्रयोगशाला आदि) और छात्रावासों (कमरे, मेस/भोजनालय, शौचालय आदि) के फोटोग्राफ संलग्न किए जाए।

    18. क्या अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा जारी राशि का पिछले वर्षों का कोई उपयोग प्रमाण – पत्र लंबित हैं?

    19. क्या संगठन को केंद्र सरकार/राज्य सरकार द्वारा कभी काली सूची में डाला गया है

    सामान्य संघटक हेतु प्रारूप

    भारत सरकार का अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय

    2017–18 के दौरान नि: शुल्क कोचिंग एवं सम्बद्ध योजना के अधीन कोचिंग संस्थानों को पैनल में शामिल करने के लिए प्रस्ताव

    कोचिंग संस्थान (यहाँ इसके बाद संगठन) का विवरण

     

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1.

    संगठन का नाम

    (यदि कोचिंग संस्थान का नाम संगठन के नाम से भिन्न है तो

    कृपया स्पष्ट रूप से व्यक्त करें)

    संगठन  का नाम –

     

    कोचिंग संस्थान का नाम -

     

    2.

    संगठन का पता (यदि पंजीकृत मुख्यालय का पता पत्र व्यवहार

    के पते से भिन्न है तो कृपया दोनों पते अलग – अलग दें।

    पंजीकृत पता –

    पत्र व्यवहार का पता –

    दूरभाष सं –

    इमेल आई डी.-

    कोचिंग संस्थान का पता –

    दूरभाष –

    ईमेल आईडी -

    3.

    क्या सोसायटी/ट्रस्ट/कंपनी/अन्य है

     

    4.

    यदि नीति आयोग के एनजीओ पोर्टल पर पंजीकृत है

    तो यूआईडी सं.

     

    5.

    वैध पंजीकरण संख्या के साथ पंजीकरण की तारीख/नवीकरण

    की तारीख (यदि लागू हो) कृपया वैध पंजीकरण प्रमाण – पत्र की

    पठनीय प्रति संलग्न करें। यदि यदि किसी अन्य भाषा में है तो

    इसका हिंदी अथवा अंग्रेजी में अनुवाद किया जाना।)

     

    6.

    अध्यक्ष/ चेयरमेन/सीईओ का नाम

     

    7.

    सचिव का नाम

     

    8.

    फोन/मोबाईल*

     

    9.

    ई – मेल*

     

    10.

    शिक्षा बोर्ड का नाम (सीबीडीई/आईएससीई/कोई भी राज्य शिक्षा बोर्ड)

    जिसके साथ विज्ञान स्ट्रीम के लिए कक्षा XII तक संस्थान को मान्यता प्राप्त है।

     

     

    बोर्ड द्वारा मान्यता प्रदान करने की तारीख

     

    * किसी भी परिवर्तन के मामले में समय – समय पर सूचित किया जाए।

    कोचिंग संस्थान की अपनी शाखाएँ/केंद्र

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1.

    राज्य के साथ जिले (लों) के नाम जहाँ संगठन की अपनी

    शाखाएँ/ केंद्र (फ्रेंचाइजी नहीं) उपलब्ध हैं

    1.

    2.

    2.

    प्रत्येक जिले में उपलब्ध अल्पसंख्यक समुदायों के नाम

    (मुस्लिम, ईसाई, सिक्ख, बौद्ध, पारसी, जैन)।

    जिले – वार उल्लेख करें।

     

     

    कोचिंग में लगी संकाय की शाखा अथवा केंद्र – वार सूची (कृपया प्रत्येक केंद्र के लिए अलग – अलग तालिका दें)

    क्र. सं.

    संकाय का नाम

    पुरूष/ महिला

    शैक्षिक अहर्ता

    किस विषय के विशेषज्ञ हैं

    अनुभव (वर्षों में)

    नियमित अथवा अंशकालिक *

     

     

     

     

     

     

     

    *नियमित का अर्थ है – कोचिंग के वेतन रोल पर होना।

    कोचिंग संस्थान की विशेषज्ञता (पिछले तीन वर्षों में सफलता पर आधारित)

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1.

    प्री. – मेडिकल

    हाँ/ नहीं

    2.

    प्री. - इंजीनियरिंग

    हाँ/नहीं

     

    क्या संस्थान को कभी ब्लैकलिस्ट किया है, यदि हाँ, तो ब्यौरा दें

    i. ब्लैकलिस्ट कर्ता प्राधिकारी का नाम

    ii. ब्लैकलिस्ट करने की तारीख

    iii. ब्लैकलिस्ट करने का कारण

    iv. ब्लैकलिस्ट नाम हटाने की तारीख

    कोचिंग के लिए संगठन/संस्थान के पास स्कूल/कॉलेज/कोचिंग चलाने के लिए उपलब्ध शाखा/केंद्र – वार अवसंरचना (प्रत्येक केंद्र के लिए अलग – अलग तालिका दें)

     

    क्र. सं.

    विवरण

    सूचना

    1.

    बिल्डिंग का स्थान व पता

     

    2.

    बिल्डिंग में सुविधाएँ

    कक्षा कमरों की संख्या

    शौचालयों की संख्या

    क्या पुस्तकालय उपलब्ध है, यदि हाँ तो

    उपलब्ध पुस्तकों की संख्या

    अन्य सुविधाएँ

    3.

    क्या बिल्डिंग किराये की  अपनी है

     

    4.

    यदि किराये की है तो पट्टे की अवधि (यदि कोई हो)

    का उल्लेख करें।

    पट्टा विलेख की प्रति संलग्न करें।

     

    5.

    क्या लड़के और लड़कियों के लिए अलग हॉस्टल उपलब्ध है,

    कृपया उल्लेख करें

    बालक छात्रवास

    हॉस्टल में कमरों की संख्या

    शौचालयों की संख्या

    बिजली/पानी की सुविधाएँ – हाँ/नहीं

    किचन/मैस की सुविधाएँ  - हाँ/नहीं

    सोने की व्यवस्था – हाँ/नहीं

    सुरक्षा व्यवस्था – हाँ/नहीं

    बालिका छात्रावास –

     

    हॉस्टल में कमरों की संख्या –

    शौचालयों की संख्या –

    बिजली/पानी की सुविधाएँ – हाँ/नहीं

    किचन/मैस की सुविधाएँ  - हाँ/नहीं

    सोने की व्यवस्था – हाँ/नहीं

    सुरक्षा व्यवस्था – हाँ/नहीं

     

    *बालिकाओं के हॉस्टल के लिए कम दो सुरक्षा कर्मचारी होने चाहिए।

    क्या पिछले तीन वर्षों का लेखा – परीक्षित लेखा (लेखा – परीक्षा की रिपोर्ट के साथ) संलग्न है।

    हैं/नहीं

    विगत तीन वर्षों का कक्षा XII  का परिणाम

    वर्ष

    कक्षा XII में भर्ती किये गये छात्रों की संख्या

    बोर्ड का नाम

    उत्तीर्ण छात्रों  का प्रतिशत

    75 प्रतिशत अंकों से ज्यादा अंकों के साथ उत्तीर्ण हुए छात्रों का प्रतिशत

     

    बालक

    बालिकाएं

     

    बालक

    बालिकाएं

    कूल

     

     

    पिछले वर्षों की कोचिंग के परिणाम (यदि लागू हैं तो)

    वर्ष

    कोचिंग दिए गये छात्रों की संख्या

    बालिकाओं की संख्या (कोचिंग दिए गये कुल छात्रों में से)

    उस परीक्षा का नाम जिसके लिए कोचिंग दी गई

    परीक्षा में अहर्ता प्राप्त छात्रों की संख्या

    चयन का प्रतिशत

     

     

     

     

    बालक

    बालिकाएं

    कुल

     

     

    सरकार द्वारा प्रायोजित कोचिंग कार्यक्रम का पिछला अनुभव (यदि कोई हो तो)-

    वर्ष

    क्या परियोजना केंद्र अथवा राज्य सरकार की थी (यदि राज्य सरकार की थी तो राज्य का नाम बताएं)

    जिला जहाँ कोचिंग कार्यक्रम चलाया गया (पते के साथ)

    परियोजना में प्रदत्त छात्रों की कुल संख्या

    अल्पसंख्यक छात्रों की संख्या (कुल प्रदत्त छात्रों में से)

     

     

     

     

    बालक

    बालिकाएं

     

    कोचिंग/प्रशिक्षण संस्थान द्वारा संचालित किये जा रहे/किये जाने वाले कोचिंग कार्यक्रम का तुलनात्मक विवरण –

    संगठन के अध्यक्ष/सचिव/सीईओ द्वारा घोषणा

    मैं.............................................का अध्यक्ष/सचिव................................................... ................................................सुपुत्र/सूपूत्री/पत्नी.................................................. का निवासी(पता)............................................................................................................. एतद् द्वारा घोषणा करता हूँ कि उपर्युक्त सूचना मेरी जानकारी में सही है। संगठन कोचिंग अवधि के दौरान बालिकाओं विशेषकर उन बालिकाओं की सुरक्षा की जिम्मदारी लेता है जो आवासीय कोचिंग लेंगी।

    अध्यक्ष अथवा सचिव/सीईओ के हस्ताक्षर

    (हस्ताक्षरकर्ता प्राधिकारी का पूरा नाम दें)

    कार्यलय की मोहर

    संलग्न की जाने वाली सूचियाँ/दस्तावेज़

    i. संलग्न सूची में यथा उल्लेखित सभी दस्तावेज़

    निरीक्षण रिपोर्ट

    (उस जिले के जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी अथवा राज्य सरकार/जिलाधीश/कलैक्टर/उपयुक्त द्वारा प्राधिकृत अधिकारी द्वारा किया जाए जिसमें कोचिंग संस्थान/संगठन केंद्र स्थित है।) निरिक्षण रिपोर्ट के प्रत्येक पृष्ठ पर निरीक्षणकर्ता प्राधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किये जाएं)।

    1. संगठन का नाम
    2. पंजीकृत कार्यालय/मुख्यालय/कार्पोरेट कार्यालय का पूरा पता –
    3. दूरभाष संख्या (लैंड लाइन) –
    4. फैक्स संख्या –
    5. ई – मेल पता –
    6. वेबसाइट पता –

    (संस्थान के अग्र भाग की फोटो संलग्न करें)

    2. कोचिंग केंद्र

    1. कोचिंग केंद्र का पूरा पता जहाँ अल्पसंख्यक छात्रों के लिए कोचिंग कक्षाएं चलायी जाएंगी/चलाई गयी हैं चालू मामलों के लिए) –
    2. दूरभाष संख्या (लैंड लाइन) –
    3. फैक्स संख्या –

    3. अन्य सुचना

    1. संगठन के अध्यक्ष/सचिव/प्रमुख का नाम –
    2. दूरभाष संख्या (लैंड लाइन) –
    3. मोबाइल नं. –
    4. ई – मेल आईडी –

    4.  पिछले तीन वर्षों के लिए नए मामलों के लिये प्रस्तावित कोचिंग पाठ्यक्रम/कार्यक्रम की सफलता की दर (यदि कोई हो) –

    वर्ष

    कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम का नाम

    कोचिंग/प्रशिक्षण  प्रदत्त छात्रों की संख्या

    परीक्षा में सफल/छात्रों की संख्या

    सफलता का प्रतिशत

     

     

     

     

     

     

    5.  प्रस्तावित कोचिंग पाठ्यक्रम/प्रशिक्षण कार्यक्रम के लिए संस्थान के संकाय सदस्यों के ब्यौरे –

    वर्ष

    अहर्ता

    अनुभव

    पढ़ाये गये विषय

    कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम का नाम जिसके लिए संकाय सदस्य को तैनात किया गया।

    नियमित अथवा अंशकालिक

     

     

     

     

     

     

     

    6.  कोचिंग संस्थान में उपलब्धता अवसंरचना के ब्यौरे –

    i.  बैठने की क्षमता वाले कक्षा – कमरों की संख्या –

    ii.  कोचिंग संस्थान का कूल सतह क्षेत्र –

    iii. क्या परिसर स्वयं का है अथवा किराए पर है –

    iv. क्या लड़कों और लड़कियों के लिए अलग से छात्रावास की सुविधा है –

    v.  क्या शौचालय/स्नानागार पर्याप्त संख्या में उपलब्ध है –

    vi. क्या छात्रावास  से स्वच्छ पेयजल सहित समुचित स्वल्पाहार गृह सुविधा है –

    1. उपलब्ध शिक्षण सामग्रियों की किस्में –

    क.   कम्प्यूटरों की संख्या (कम्प्यूटर पाठ्यक्रम के लिए)-

    ख.   प्रोजेक्टर –

    ग.    पुस्तकालय तथा कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम से संबंद्ध प्रत्येक विषय पर पुस्तकों की उपलब्धता –

    घ.    प्रस्तावित कोचिंग कार्यक्रम के संगत अन्य उपस्कर –

    1. संस्थान द्वारा कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम के भाग के रूप में छात्रों को उपलब्ध कराई गई सामग्री/हैण्डआउट आदि की सूची –

    7.  कोचिंग/प्रशिक्षण संस्थान द्वारा संचालित किये जा रहे/जाने वाले कोचिंग कार्यक्रम के तुलनात्मक ब्यौरा –

    कोचिंग द्वारा यथा प्रस्तावित अल्पसंख्यक समुदायों के अभ्यर्थियों को कोचिंग हेतू

    संस्थान के सामान्य कोचिंग/प्रशिक्षण कार्यक्रम के अंतर्गत अन्य अभ्यर्थियों की उसी पाठ्यक्रम हेतु कोचिंग

    क्षेत्र में अन्य संस्थान द्वारा संचालित कोचिंग कार्यक्रम हेतु

    कोचिंग पाठ्यक्रम/प्रशिक्षण कार्यक्रम का नाम

    अवधि

    प्रति अभार्थी वसूल किया गया शुल्क

    अवधि

    प्रति अभार्थी वसूल किया गया शुल्क

    अवधि

    प्रति अभार्थी वसूल किया गया शुल्क

    दिन

    घंटे

    दिन

    घंटे

    दिन

    घंटे

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    8.  निरिक्षणकर्ता अधिकारी की अनुशंसा (क) नये प्रस्तावों के लिए –

    (आकलन सामग्री कम – से – कम 100 शब्दों में हो तथा यह सामग्री संस्थान की सफलता/प्लेसमेंट दर, संकाय सदस्य, अवसंरचना, शुल्क और पाठ्यक्रम अवधि तथा अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा स्वीकृत कोचिंग कार्यक्रम के कार्यान्वयन संबंधी संस्थान की विश्वसनीयता को ध्यान में रखकर तैयार की जाए) (रिक्त नहीं छोड़ा जाना चाहिए)

     

    निरीक्षणकर्ता प्राधिकारी के हस्ताक्षर

    दिनांक -                                 नाम .............................................

    स्थान -                                  पदनाम .........................................

    मुहर ...........................................

    दूरभाष –

    टिप्पणी – निरीक्षण रिपोर्ट के प्रत्येक पृष्ठ पर निरीक्षण कर्त्ता प्राधिकारी द्वारा हस्ताक्षर किये जाएँ और अन्य संलग्न सूचना का भी सत्यापन किया जाए।

    अनुलग्नक – II (बैंक खाते में सीधे निधियां भेजने के लिए प्राधिकार – पत्र का प्ररूप)

    मैं/हम ...................................................(संगठन का नाम) अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा इलेक्ट्रॉनिक रूप से मुझे/हमें संवितरित की गई राशि नीचे दिए गये मेरे/हमारे बैंक खाते में प्राप्त करना चाहूँगा/चाहेंगे। बैंक द्वारा अपने पत्र शीर्ष पर मोहर के साथ विधिवत रूप से सत्यापित बैंक खाता संख्या संलग्न हैं।

    बैंक खाते में दिए गये अनुसार नाम

    पता

    जिला

    पिन कोड

    राज्य

    एसटीडी कोड के साथ दूरभाष सं.

    फैक्स सं.

    ई – मेल का पता (यदि कोई हो)

    बैंक का नाम

    बैंक शाखा (पूरा पता और दूरभाष संख्या

    बैंक खाता संख्या

    खाते की किस्म

    बैंक शाखा में उपलब्ध इलेक्ट्रॉनिक अंतरण की विधियाँ (आरटीजीएस/

    एनईएफटी/ ईसीएस/

    सीबीएस)

    आई एफ एस सी कोड

    एम आई सी आर कोड

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

     

    हस्ताक्षर (नाम) .................................................

    संगठन ......................................

     

    भाग – IV

    अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, भारत सरकार, 11वां तल, पं. दीनदयाल अन्तयोदय भवन, सीजीओ परिसर, लोदी रोड, नई दिल्ली – 110003 को भेजी जाने वाले राज्य सरकार (सचिव, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग)/ जिला मजिस्ट्रेट/जिला उपायुक्त/जिला कलेक्टर/जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी (डीएमडब्ल्यूओ) की अनुशंसा।

     

    .................................................................................................योजना के अधीन ........ ........................................................................................ (संगठन का नाम) का आवेदन विधिवत संस्तुति सहित अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, भारत सरकार को अग्रेषित किया जाता है। अनुशंसा करते समय, यह प्रमाणित किया जाता है कि श्री ................................................. पदनाम ........................................................... ने संगठन का दौरा किया था और उनकी निरिक्षण रिपोर्ट के प्रति संलग्न है।

    2.  राज्य सरकार/जिला प्राधिकारी/जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी (डीएमडब्ल्यूओ) की विशिष्ट अनुशंसा –

    (रिक्त नहीं छोड़ा जाना चाहिए)

    तारीख -                                             हस्ताक्षर

    नाम

    पदनाम

    कार्यालय मुहर

    दूरभाष

    (*यदि जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी (डीएम्डब्ल्यूओ) द्वारा अनुशंसा रिपोर्ट प्रत्येक्ष रूप में भेजी गई है, शॉटलिस्ट किये गये कोचिंग संस्थानों के लिए कोचिंग कार्यक्रम का आबंटन अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय को राज्य सरकार (अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के सचिव)/जिला मजिस्ट्रेट /जिला आयुक्त/जिला कलेक्टर की अनुशंसायें प्राप्त होने के उपरांत ही किया जाएगा।

     

    स्रोत: भारत सरकार का अल्पसंख्यक कार्यों का मंत्रालय

    3.0
    
    JASPAL SINGH Sep 20, 2018 08:06 PM

    जानकारी बहुत अच्छी है ओर ज्ञाXवर्Xक है आपको बहुत बहुत धन्यवाद

    Mohit sharma Jun 12, 2018 07:26 PM

    Sir Muje is no.per call kerke iske bare me batao 97XXX65

    अपना सुझाव दें

    (यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

    Enter the word
    नेवीगेशन
    संबंधित भाषाएँ
    Back to top

    T612019/10/14 15:46:55.619973 GMT+0530

    T622019/10/14 15:46:55.638442 GMT+0530

    T632019/10/14 15:46:55.639165 GMT+0530

    T642019/10/14 15:46:55.639438 GMT+0530

    T12019/10/14 15:46:55.588846 GMT+0530

    T22019/10/14 15:46:55.589013 GMT+0530

    T32019/10/14 15:46:55.589164 GMT+0530

    T42019/10/14 15:46:55.589305 GMT+0530

    T52019/10/14 15:46:55.589402 GMT+0530

    T62019/10/14 15:46:55.589478 GMT+0530

    T72019/10/14 15:46:55.590188 GMT+0530

    T82019/10/14 15:46:55.590384 GMT+0530

    T92019/10/14 15:46:55.590594 GMT+0530

    T102019/10/14 15:46:55.590818 GMT+0530

    T112019/10/14 15:46:55.590888 GMT+0530

    T122019/10/14 15:46:55.590987 GMT+0530