सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / समाज कल्याण / उद्यमिता से से जुड़े प्रयास / विदेश में नौकरी छोड़ मधुलिका ने की रेशम के पौधे की खेती
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

विदेश में नौकरी छोड़ मधुलिका ने की रेशम के पौधे की खेती

इस पृष्ठ में बिहार के बेटी की कहानी है, जिसने विदेश में नौकरी छोड़ कर रेशम की खेती में अपना व्यवसाय बनाया।

परिचय

यदि इंसान चाह लें तो वह क्या नहीं कर सकता है। वह भी किसी कार्य को करने की इच्छा हो तो उसके सामने कुछ भी नहीं है। चाहे वह कठिनाई में हो या फिर किसी अन्य क्षेत्रों में धनोपार्जन क्यों नहीं कर रहा हो वह अपने इच्छा के अनुसार कार्य कर ही लेता है।

बिहार के कटिहार जिले के फलका के गांधी ग्राम बरेटा की मधुलिका चौधरी ने 3 साल पहले लंदन यूनिविर्सटी में प्रोफेसर की नौकरी छोड़कर गांव के लिए कुछ करने का सपना देखा। सपना पूरा करने के लिए मधुलिका ने गांव वापस में रेशम के पौधे की खेती शुरू की। उनके साथ उनके पति भी हैं, जो दिल्ली के गुड़गांव में रह रहे थे। तीन साल पहले मधुलिका फलका स्थित अपने गांव आई। यहां की हरियाली और खेती ने उन्हें इतना प्रभावित किया कि वह यहीं रम गईं।

पिता नवल किशोर चौधरी का कहना है कि उन्हें अपनी बेटी पर गर्व है। उसने साढ़े पांच एकड़ जमीन पर रेशम के पौधे की खेती की शुरु आत की है। यह जमीन बंजर थी। आज उसमें हरे भरे पौधे लहलहा रहे हैं। मधुलिका ने रेशम के पौधे की खेती को दिन दुनी, रात चोगुनी तरक्की दी।

देश की मिट्टी की खुशबू यहां खींच लाई

मधुलिका ने कहा कि अपने देश की मिट्टी की खुशबू के कारण वो भारत वापस आई। भारत में बुनकरों सहित महिलाओं को आत्म निर्भर और सशक्त बनाना उनका मकसद है। इस काम में उनके माता-पिता और परजिनों के साथ उनके विदेशी साइंटिस्ट पति डॉ. डेविट टोनेंटो का सहयोग मिल रहा है। मधुलिका ने बताया कि वह अपने प्रयास से गांव की बाकी महिलाओं को भी आत्मनिर्भर बनाना चाहती है। अगर सब ठीक रहा तो जल्द ही अपने गांव गांधी ग्राम में रेशम उद्योग लगाएगी। मधुलिका ने मिशन चलो अपने गांव की ओर पर बल देते हुए तथा बापू के सपने को साकार करने के उद्देश्य से भारत में बुनकरों को सशक्त बनाने की ठान ली है। दिल्ली में बड़ी बहन तूलिका चौधरी के सहयोग से लूम प्लांट उद्योग तथा ऑनलाइन शॉपिंग तथा भारत में कई जगह दिल्ली, भोपाल, बंगलौर, कोलकाता सहित कई बड़े शहरों में शोरूम खोलकर रेशम, खादी से बने हैंडलूम तथा रंग बिरंगे कपड़े की बिक्री की शुरूआत की है। मधुलिका आज हजारों बुनकर परिवारों को रोजगार दे रही है।

लेखन : संदीप कुमार, स्वतंत्र पत्रकार

3.08

Mukesh Kumar Jan 15, 2018 09:42 AM

Agar yesa hai to bahut achchi bat hai thanks

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/06/24 22:42:6.609931 GMT+0530

T622019/06/24 22:42:7.416464 GMT+0530

T632019/06/24 22:42:7.417359 GMT+0530

T642019/06/24 22:42:7.417646 GMT+0530

T12019/06/24 22:42:6.562613 GMT+0530

T22019/06/24 22:42:6.562824 GMT+0530

T32019/06/24 22:42:6.562992 GMT+0530

T42019/06/24 22:42:6.563147 GMT+0530

T52019/06/24 22:42:6.563239 GMT+0530

T62019/06/24 22:42:6.563316 GMT+0530

T72019/06/24 22:42:6.564118 GMT+0530

T82019/06/24 22:42:6.564330 GMT+0530

T92019/06/24 22:42:6.564550 GMT+0530

T102019/06/24 22:42:6.564775 GMT+0530

T112019/06/24 22:42:6.564843 GMT+0530

T122019/06/24 22:42:6.564943 GMT+0530