सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

आरएमके योजनाएं

इस पृष्ठ में राष्ट्रीय महिला कोष की योजनाओं की जानकारी दी गयी है I

ऋण संवर्धन योजना

नए, छोटे लेकिन संभावित सक्षम आईएमओ में बचत और ऋण की गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए, ऐसे आईएमओ जो अन्य योग्यता पात्र मानदंडों को पूरा करते हैं लेकिन बचत और ऋण में तीन वर्ष का अनुभव की आवश्यकता को पूरा नहीं करते है को ऋण सुविधा उपलब्ध कराने के लिए ऋण संवर्धन योजना प्रदान करते हैं।

ऋण संवर्धन योजना के लिए, अनुभव की आवश्यकता कम से कम छह महीने का कम किया जाना चाहिए अर्थात्‌ आईएमओ को बचत और ऋण प्रबंध करने का कम से कम छह महीने का अनुभव होना चाहिए। ऐसे आईएमओ ''ऋण संवर्धन योजना'' के अंतर्गत आवेदन करने के पात्र हैं, वे इस संदर्भ पुस्तिका के पैरा 5.2 में मुख्य  ऋण योजना के अंतर्गत दिए अनुसार सभी अन्य योग्यता मानदंडों को पूरा करते हैं।

ऋण संवर्धन गतिविधि से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण जानकारी

1. इस योजना के तहत आईएमओ के लिए स्वीकृत अधिकतम ऋण राशि 10 लाख रुपए है।

  • इकाई लागत, पुनर्भुगतान की अवधि, सीमांत राशि योगदान, पात्रता मानदंड, आवेदन प्रारूप,स्वीकृति/संवितरण की प्रक्रिया, चेकलिस्ट, आवश्यक दस्तावेज, सूक्ष्मवित्त प्रचालन, निगरानी अध्ययन जैसी अन्य सभी नियम, वे मुख्य  ऋण योजना के अंतर्गत समान रूप से आएंगे।
  • गतिविधियों या प्रयोजनों के लिए जो ऋण संवर्धन योजना के तहत ऋण सुविधाओं से संबंधित हैं, वे मुख्य  ऋण योजना के समान ही हो सकते हैं और महिला के किसी भी समूह या महिला समूह का अपने द्वारा की गई आय सृजन गतिविधियों की प्रकृति पर निर्भर किसी एकल अवसर पर रु. 35,000/- तक का ऋण प्राप्त कर सकता है।
  • ऋण सुविधाएं अपने सूक्ष्मऋण उद्यमों/आय अर्जन गतिविधियों के लिए समूह/महिलाओं के लिए बढ़ाया भी जा सकता है।

गोल्ड ऋण योजना

आरएमके के पुराने और प्रसिद्ध पार्टनर आईएमओ में बचत और ऋण की गतिविधि को बढ़ावा देने के लिए, जो आरएमके से ऋण करते हैं और पुनर्भुगतान में देरी नहीं करते। आरएमके गोल्ड ऋण योजना ऐसे आईएमओ को ऋण सुविधाएं प्रदान की जाती है जिनके पास अच्छा ऋण प्रबंधन और बड़े पैमाने पर महिलाओं की सुविधा प्रदान करने की क्षमता है। के लिए अच्छा क्रेडिट प्रबंधन और ताकत हो रही है जो इस तरह के IMOS को ऋण सुविधा उपलब्ध कराने के लिए है।

गोल्ड ऋण योजना के अन्य पात्रता मानदंड

क. एक सोसायटी/सहकारी सोसायटी/वीओ/धारा 25 कंपनी (लाभ के लिए नहीं) के रूप में कम से कम तीन साल के लिए पंजीकृत।

ख. डीआरडीए, संघ, नगर निगम के रूप में महिला विकास निगम/सहकारिता/उपयुक्त राज्य सरकार की एजेंसियाँ।

ग. आईएमओ का 3 साल या उससे अधिक के लिए बचत और ऋण प्रबंधन में अनुभव होना चाहिए।

घ. ऋण की वसूली एक उच्च स्तर पर होनी चाहिए (अपनी बकाया राशि का कम से कम 90 प्रतिशत)।

ङ. संतोषजनक कोष प्रबंधन और वित्तीय प्रदर्शन

च. सामाजिक आर्थिक सेक्टर के क्षेत्र में अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड

छ. संगठन के पदाधिकारी किसी भी राजनीतिक दल के प्रतिनिधि निर्वाचित नहीं किए जाने चाहिए।

ज. संगठन में लेखाकंन की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए जिसे प्रतिवर्ष परीक्षित और प्रकाशित किया जाना चाहिए और कोई भी गंभीर अनियमितताएं नहीं होनी चाहिए।

झ. आवेदन स्पष्ट रूप से ऋण के लिए पूर्व उपयोग धन के स्रोत को प्रतिबिंबित करना चाहिए।

ञ. किसी बाहरी एजेंसी से ऋण लेने या उधार लेने के लिए आईएमओ शक्ति होने के उपनियम/ मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन में एक उचित और विशिष्ट खंड/प्रावधान होना चाहिए।

ट. गैर सरकारी संगठन 1 करोड़ रुपये और अधिक का ऋण सहायता मांग सकते हैं, आवेदन के समय एमसीआरआईएल,सीआरआईएसआईएल, केयर, समेरा, एसेस आदि जैसी किसी प्रतिष्ठित क्रेडिट रेटिंग एजेंसी द्वारा मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

गोल्ड ऋण योजना के लिए अन्य महत्वपूर्ण जानकारियां

1. यह योजना मध्यम और बड़े गैर सरकारी संगठनों को थोक ऋण उपलब्ध कराने के लिए है।

2. संगठन रु. 5 करोड़ रुपये तक अधिकतम ऋण प्राप्त कर सकते हैं। यह राशि को एक एकल किस्त में संगठन को ऋण के रूप में दी जा सकती है।

3. इकाई लागत, पुनर्भुगतान की अवधि, सीमांत राशि योगदान, पात्रता मानदंड, आवेदन प्रारूप, स्वीकृति/संवितरण की प्रक्रिया, चेकलिस्ट, आवश्यक दस्तावेज, सूक्ष्मवित्त प्रचालन, निगरानी अध्ययन जैसी अन्य सभी नियम, वे मुख्य  ऋण योजना के अंतर्गत समान रूप से आएंगे।

4. पुनर्भुगतान अवधि - एक वर्ष की एक प्रारंभिक अवधि के साथ पांच छमाही किश्ते।

5. गतिविधियों या प्रयोजनों के लिए जो ऋण संवर्धन योजना के तहत ऋण सुविधाओं से संबंधित हैं, वे मुख्य  ऋण योजना के समान ही हो सकते हैं और महिला के किसी भी समूह या महिला समूह का अपने द्वारा की गई आय सृजन गतिविधियों की प्रकृति पर निर्भर किसी एकल अवसर पर रु. 50,000/- तक का ऋण प्राप्त कर सकता है।

6. ऋण सुविधाएं अपने सूक्ष्मऋण उद्यमों/आय अर्जन गतिविधियों के लिए समूह/महिलाओं के लिए बढ़ाया भी जा सकता है।

महिला सहकारी बैंकों/शहरी सहकारी बैंकों के लिए पुनर्वित्त योजना

यह योजना महिला सहकारी बैंकों/शहरी सहकारी बैंकों जो ग्रामीण/शहरी गरीब महिलाओं को वित्तीय सहायता उपलब्ध कराते हैं को 100 प्रतिशत पुनर्वित्त सहायता प्रदान करने के लिए है। इकाई लागत, पुनर्भुगतान अवधि और ब्याज की दर के संदर्भ में सामान्य नियम तथा शर्तें ऐसे पुनर्वित्त में लागू हैं। आवेदन परिशिष्ट-२(दिए गयी सम्बंधित स्रोत में देखें) में निर्धारित अनुसार सभी दस्तावेजों के साथ निर्धारित प्रोफार्मा में आरएमके को भेजा जा सकता है।

पात्रता मानदंड

पुनर्वित्त क्षेत्रों में केवल गरीब महिलाओं के वित्तपोषण के लिए उपलब्ध है जो किसी अन्य वित्त एजेंसी द्वारा सहायता प्राप्त न हो या किसी अन्य सरकारी समर्थित/सब्सिडी योजना के लिए सहायता प्राप्त न कर रही हो।

वरीयता मापदंड

1. बैंक को पुनर्वित्तक के आवेदन करते समय कम से कम 5 साल के लिए पंजीकृत किया जा चुका हो।

2. बैंक को पिछले 3 वर्षों के लिए अपने ऑडिटेड बैलेंस शीट के अनुसार किसी प्रकार का भी नुकसान नहीं होना चाहिए।

3. पिछले 3 साल में बैंक की ऑडिट रिपोर्ट में कोई भी मुख्य  प्रतिकूल टिप्पणी नहीं होनी चाहिए।

4. पिछले 3 साल में बैंकों द्वारा ऋण की वसूली के लिए एक यथोचित उच्च आदेश दिया जाना चाहिए।

5. इकाई लागत, पुनर्भुगतान की अवधि, सीमांत राशि योगदान, पात्रता मानदंड, आवेदन प्रारूप, स्वीकृति/संवितरण की प्रक्रिया, चेकलिस्ट, आवश्यक दस्तावेज, सूक्ष्मवित्त प्रचालन, निगरानी अध्ययन जैसी अन्य सभी नियम, वे मुख्य  ऋण योजना के अंतर्गत समान रूप से आएंगे।

पुनर्वित्त की अधिकतम सीमा

दिए गए समय पर किसी महिला/शहरी सहकारी बैंक के लिए कुल पुनर्वित्त पूर्व वर्ष के तुलन पत्र में दर्शाए अनुसार बैंक के ''ओउन फंड'' 4 बार से अधिक नहीं होना चाहिए।

वर्किंग कैपिटल अवधि ऋण योजना

परिचय

यह योजना प्रौद्योगिकी हस्तांतरण, शिक्षा और कौशल उन्नयन सहित महिला एसएचजी/व्यक्तियों और समूह उद्यमियों के उत्पाद के पिछड़े और अगले विपणन संबंध के लिए आईएमओ को वर्किंग कैपिटल अवधि ऋण उपलब्ध प्रदान करने के लिए है। आवेदक को आरएमके के लिए एक विस्तृत परियोजना प्रस्ताव प्रस्तुत करने होंगे।

पात्रता मानदंड

1. ऋण लेने वाले संगठन को आरएमके/सिडबी/नाबार्ड/वाणिज्यिक बैंकों/अन्य वित्तीय संस्थानों की सूक्ष्म-ऋण योजना के तहत न्यूनतम रुपए 25 लाख या उससे अधिक का ऋण प्राप्त करना चाहिए। (यह स्थिति सरकारी संगठन के लिए लागू नहीं होगी)।

2. अन्य सभी पात्रता परिशिष्ट-1 में दिए गए उस आईएमओ आवेदन प्रारूप के लिए मुख्य  ऋण योजना के समान ही हैं।

वरीयता मापदंड

1. संगठन एसएचजी में कार्यरत महिला सदस्यों या किसी गरीब महिला उद्यमी या भारत के विभिन्न मंत्रालयों, राज्य सरकार और अन्य फंडिंग एजेंसियों द्वारा चलाए जा रहे आश्रयलयों में आश्रय पाने वाली महिलाओं को वरीयता देनी चाहिए।

2. एनजीओ को उनकी गतिविधियों के सुचारू संचालन के लिए महिला समूह सदस्यों/महिला उद्यमियों की 'शुरू से अंत' तक समाधान को सुनिश्चित करना है।

ऋण का उद्देश्य

1. कार्यशील पूंजी अवधि ऋण के तहत निम्नलिखित उद्देश्य के लिए ऋण लेने वाले संगठन द्वारा उपयोग किया जा सकता है -

क. बाजार स्थान से उत्पादन स्थान तक एसएचजी उत्पाद लाने-ले जाने के लिए वाहन।

ख. कार्य स्व सहायता समूह की गतिविधियों को पूरा करने के लिए।

ग. एसएचजी उत्पादों की बिक्री के लिए व्यापार आउटलेट/दुकानें।

घ. द्रुतशीतन संयंत्र, छोटे आकार के कोल्ड स्टोर, स्टोर (गोदाम), स्थानीय हैट की स्थापना के लिए।

2. कार्य कर रहे महिला समूह सदस्यों/महिला उद्यमियों द्वारा आरएमको से प्राप्त फंड निवेश करके विभिन्न सरकारी कार्यक्रमों को पूरा करने के लिए।

3. महिला समूह के उत्पादों की खरीद

4. महिला समूह के सदस्यों के रोजगार से फसल जुताई करने के लिए भूमि खरीद/पट्टे पर लेना।

5. आय अर्जन गतिविधियों को शुरू करने के लिए व्यक्तिगत महिलाओं सूक्ष्म उद्यमी या महिला उद्यमियों के समूह को ऋण प्रदान करने के लिए। संगठन को महिला उद्यमियों के उत्पाद के बाजार के लिए शुरू करने और ऋण का पुनर्भुगतान सुनिश्चित करने के लिए।

6. कमजोर समाज, (समाज में 1/3 महिला सदस्य होने चाहिए) कमजोर महिला एसएचजी के पुनर्वास के लिए।

7. या तो साहूकार या आर्थिक सहायता एजेंसियों से उच्च ब्याज दर में समाज (1/3 महिला सदस्य)/महिला एसएचजी द्वारा प्राप्त किया गया ऋण चुकाने के लिए।

8. महिला एसएचजी/महिला उद्यमी के लिए तकनीकी सेवाएं प्रदान करने के लिए।

9. एसएचजी सदस्यों/लघु महिला उद्यमियों के विभिन्न प्रशिक्षण/क्षमता निर्माण/कौशल उन्नयन/शिक्षा कार्यक्रम चलाने के लिए।

10. एसएचजी/महिला उद्यमी के उत्पादों के निर्यात व्यापार के लिए।

11. एसएचजी/सूक्ष्म उद्यमी के उत्पादों के विपणन के लिए ''प्रदर्शनी और बिक्री'' आयोजित करने के लिए।

ऊपर के क्रमांक 1 से 11 में वर्णित प्रयोजन के लिए महिला एसएचजी/महिला उद्यमी समूह के लिए ऋण बढ़ाने के लिए।

ऋण की अधिकतम राशि

1. उधार लेने वाले संगठन को आरएमके द्वारा प्रदान किए जाने वाले ऋण की अधिकतम राशि प्रति राज्य रुपए 1 करोड़ होगी। हालांकि संगठन 3 राज्यों में अलग-अलग अधिकतम 3 करोड़ रुपए तक ऋण प्राप्त कर सकता हैं

2. ऋण की राशि ऋण के वास्तविक जरूरत, वित्तीय स्वास्थ्य/संगठन के प्रबंधन, संगठन की सूक्ष्म ऋण और विश्वसनीयता में अनुभव/जोखिम पर विचार करने के आधार पर मामले के आधार पर निर्णय लिया जाएगा।

3. दूसरा ऋण पर केवल पहले ऋण की पूरे पुनर्भुगतान के बाद ही विचार किया जाएगा।

4. कार्यशील पूंजी ऋण का निम्न के तहत मूल्यांकन किया जाएगा –

प्रस्तावित ऋण प्रस्ताव की राशि - संगठन के साथ उपलब्ध सीमांत = कार्यशील पूंजी सावधि ऋण

5. कार्यशील पूंजी अवधि ऋण की समीक्षा प्रत्येक वित्तीय वर्ष के अंत में किया जायेगा।

सुरक्षा

1. रुपए 1 करोड़ तक के ऋण के लिए कोई सुरक्षा नहीं ली जाएगी।

2. रुपये 1 करोड़ से ऊपर ऋण के मामले में, संगठन को भूमि और भवन की सावधि जमा/गिरवी के आकार में सुरक्षा के रूप में स्वीकृत राशि का 25 प्रतिशत की व्यवस्था करता है।

3. आरएमके के ऋण के बाहर बनाई गई सभी चल संपत्ति का राष्ट्रीय महिला कोष द्वारा अनुमान लगाया जाएगा।

4. संगठन आरएमके के ऋण से बाहर बनाई गई अचल संपत्ति (अचल संपत्तियों की निष्पक्ष गिरवी जो अचल संपत्ति की नामित डीड का जमा राशि है) को गिरवी रखता है।

5. निगम/महासंघ या ऐसे किसी राज्य सरकार (यदि वह घाटे/हानि में चल रही है) के मामले में संगठन को ऋण लेने के लिए राज्य सरकार गारंटी का प्रबंध करने की आवश्यकता होगी।

6. अचल संपत्ति जिसे आरएमके ऋण प्राप्त करने के लिए बनाया जाता है का प्रयोग महिला समूह की विभिन्न गतिविधियों के लिए जारी रखा, यहां तक कि भविष्य में ऋण लेने वाले संगठन द्वारा राष्ट्रीय महिला कोष को पूरे ऋण का भुगतान करने के बाद भी इस्तेमाल की जाती रहेगी।

7. जहां ऋण के उधार लेने पर एनजीओ/आईएमओ द्वारा महिला समूह के लिए बनाया गया है ऋण के लिए बनाई गई संपत्ति का प्रयोग उसी महिला समूह में बने रहने के लिए जारी रहेगा।

बीमा

उधार लेने वाला संगठन चल संपत्तियों/संपत्ति की पर्याप्त बीमा कवर को सुनिश्चित करता है जिसे आरएमके के ऋण के लिए बनाया जाएगा।

पुनर्भुगतान

6 महीने की एक प्रारंभिक अवधि के साथ 8-10 त्रैमासिक किश्तों में 36 महीने के भीतर हो चुकाए जाने के लिए।

सीमांत राशि

संगठन को आरएमके द्वारा प्राप्त किए गए कुल कार्यशील पूंजी अवधि ऋण का 10 प्रतिशत के सीमांत योगदान करना आवश्यक है।

संवितरण

ऋण की संतोषजनक उपयोग के आधार पर दो किस्त (प्रत्येक 50 प्रतिशत) में वितरित किए जाने के लिए।

निगरानी

अन्य योजनाओं की निगरानी के समान रहेगी।

आवास ऋण योजना

यह योजना महिलाओं के लिए निर्माण/मरम्मत और मकानों के रखरखाव के लिए ऋण उपलब्ध कराने के लिए है जो महिला समूह की सदस्य हैं। यह ऋण आईएमओ के माध्यम से दिया जाता है। संगठन कम लागत के घर के निर्माण के लिए प्रति लाभार्थी को रुपये 1,00,000/- तक का अधिकतम ऋण प्राप्त कर सकता हैं। आवेदन निर्धारित अनुसार सभी दस्तावेजों के साथ निर्धारित प्रारूप में आरएमके के लिए भेजा जाता है। पात्रता और अन्य मापदंड मुख्य  ऋण योजना के रूप में लागू हैं।

फ्रेंचाइजी योजना

यह योजना आईएमओ को थोक वित्त प्रदान करने के लिए है। योजना के तहत उत्तरदायी एजेंसियां फ्रैंचाइजी प्रकार में आरएमके गतिविधियों को शुरू करने के लिए नियुक्त करती हैं। आवेदन परिशिष्ट-9(दिए गयी सम्बंधित स्रोत में देखें) में निर्धारित अनुसार सभी दस्तावेजों के साथ निर्धारित प्रारूप में आरएमके को भेजा जाता है।

पात्रता मानदंड –

क. एक सोसायटी/सहकारी सोसायटी/वीओ/धारा 25 कंपनी (लाभ के लिए नहीं) के रूप में कम से कम तीन साल के लिए पंजीकृत।

ख. डीआरडीए, संघ, नगर निगम के रूप में महिला विकास निगम/सहकारिता/उपयुक्त राज्य सरकार की एजेंसियाँ।

ग. आईएमओ का 3 साल या उससे अधिक के लिए बचत और ऋण प्रबंधन में अनुभव होना चाहिए।

घ. ऋण की वसूली एक उच्च स्तर पर होनी चाहिए (अपनी बकाया राशि का कम से कम 90 प्रतिशत)।

ङ. संतोषजनक कोष प्रबंधन और वित्तीय प्रदर्शन

च. सामाजिक आर्थिक सेक्टर के क्षेत्र में अच्छा ट्रैक रिकॉर्ड

छ. संगठन के पदाधिकारी किसी भी राजनीतिक दल के प्रतिनिधि निर्वाचित नहीं किए जाने चाहिए।

ज. संगठन में लेखाकंन की समुचित व्यवस्था होनी चाहिए जिसे प्रतिवर्ष परीक्षित और प्रकाशित किया जाना चाहिए और कोई भी गंभीर अनियमितताएं नहीं होनी चाहिए।

झ. आवेदन स्पष्ट रूप से ऋण के लिए पूर्व उपयोग धन के स्रोत को प्रतिबिंबित करना चाहिए।

ञ. किसी बाहरी एजेंसी से ऋण लेने या उधार लेने के लिए आईएमओ शक्ति होने के उपनियम/ मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन में एक उचित और विशिष्ट खंड/प्रावधान होना चाहिए।

ट. गैर सरकारी संगठन 1 करोड़ रुपये और अधिक का ऋण सहायता मांग सकते हैं, आवेदन के समय एमसीआरआईएल,सीआरआईएसआईएल, केयर, समेरा, एसेस आदि जैसी किसी प्रतिष्ठित क्रेडिट रेटिंग एजेंसी द्वारा मूल्यांकन किया जाना चाहिए।

1. रुपये 1 करोड़ से अधिक ऋण सीमा की योग्यता के लिए, आईएमओ आरएमके/सिडबी/नाबार्ड /वाणिज्यिकबैंकों/अन्य वित्तीय संस्थानों के अंतर्गत अधिकतम रु. 2 करोड़ तक प्राप्त कर सकता है।

2. रुपये 1 करोड़ से अधिक ऋण सीमा की योग्यता के लिए, एनजीओ आरएमके/सिडबी/नाबार्ड /वाणिज्यिकबैंकों/अन्य वित्तीय संस्थानों के अंतर्गत अधिकतम रु. 2 करोड़ तक प्राप्त कर सकता है।

अधिकतम ऋण सीमा –

5 करोड़ रुपए।

फ्रेंचाइजी योजना के कार्य

फ्रेंचाइजी, आरएमके की ओर से आवेदन स्वीकार करने, निर्दिष्ट नियंत्रकों या अपने स्वयं के अधिकारियों द्वारा प्रारंभिक जांच करना, पूर्व मंजूरी के अध्ययन का संचालन करने और आरएमके के मौजूदा मानदंडों के अनुसार पात्र आवेदकों की योग्यता के लिए ऋण मंजूरी देने के लिए के लिए प्राधिकृत है।

तब फ्रेंचाइजी मौजूदा प्रक्रिया के अनुसार मंजूरी, राशि चुकाना, वितरण प्रमाण पत्र स्वीकार करना, उपयोगिता प्रमाण पत्र आदि,पूर्व मंजूरी अध्ययन का संचालन और बाद में किश्तों का जारी करेंगे। प्रतिबंधों और संवितरण के अलावा, फ्रेंचाइजी उनके/आरएमके द्वारा वितरित की वसूली के लिए जिम्मेदारी का कार्य और बाद के कार्य करेगा।

ब्याज दर

1. फ्रेंचाइजी के लिए आरएमके - शेष राशि को कम करने पर 5 प्रतिशत प्रति वर्ष

2. उप फ्रेंचाइजी/गैर सरकारी संगठन के लिए फ्रेंचाइजी - शेष राशि को कम करने पर 8 प्रतिशत प्रति वर्ष के अधिकतम सीमा के लिए 5 प्रतिशत प्रति वर्ष से ऊपर के विषय पर कोई दर

3. उप फ्रेंचाइजी/एसएचजी से एनजीओ/लाभार्थी - शेष राशि को कम करने पर 18 प्रतिशत प्रति वर्ष के अधिकतम सीमा के लिए 8 प्रतिशत प्रति वर्ष से ऊपर के विषय पर कोई दर अन्य लाभ

अन्य लाभ

फ्रेंचाइजी योजना/आरएमके के कोई अन्य योजनाओं के लिए पात्र संगठन दोनों योजनाओं के तहत सुविधाओं का लाभ उठा सकते हैं। फ्रेंचाइजी स्कीम के तहत ऋण लेने पर अन्य गैर सरकारी संगठनों के लिए गए उधार के लिए प्रयोग करना होगा,

आरएमके की अन्य योजनाओं के तहत ऋण लेने पर विशेष रूप से संगठन द्वारा विकसित स्वयं सहायता समूहों को ऋण देने पर इस्तेमाल किया जाएगा।

नोडल एजेंसी योजना

नोडल एजेंसी योजना प्रतिष्ठित और अनुभवी संगठनों की मदद लेने के उद्देश्य से वर्ष 1996-97 में शुरू की गई थी जिन्हें अपनी आय अर्जन के लिए महिला समूह के लिए ऋण सुविधाओं का विस्तार करने के लिए आरएमके के साथ अंत तक लिंक-अप हेतु नए गैर सरकारी संगठनों की पहचान करने और सहायता के लिए, आरएमके के भागीदारों से उधार लेना आवश्यक नहीं है। आवेदन परिशिष्ट-10 में निर्धारित सभी दस्तावेजों के साथ निर्धारित प्रोफार्मा में आरएमके को भेजा जाना चाहिए।

नोडल एजेंसी योजना की मुख्य  विशेषताएं इस प्रकार हैं -

योजना को लागू करने के लिए आईएमओ नोडल एजेंसी (एनओएम) के रूप में नामित किया जाएगा।

पात्रता

1. आईएमओ को न्यूनतम 5 साल के लिए महिलाओं के सशक्तिकरण गतिविधियों/लघु ऋण गतिविधियों का अनुभव होना चाहिए।

2. आईएमओ के पास पर्याप्त बुनियादी सुविधाएं और प्रशिक्षण क्षमताएं होनी चाहिए।

3. दोषी आईएमओ पर विचार नहीं किया जाएगा।

4. आईएमओ को आवश्यक गतिविधियों को संभालने के लिए संसाधन कर्मियों के साथ अनुभव होना चाहिए।

5. आईएमओ के पास ठोस वित्तीय आधार होना चाहिए।

6. इच्छुक संगठनों को अपने को योजना आयोग के साथ पंजीकृत करना होगा ताकि वे उनकी वेबसाइट में शामिल रहें।

नोडल एजेंसी से निम्न कार्य प्रदर्शन की उम्मीद की जाती है -

1. राज्य में शामिल नहीं/कुछ हद तक शामिल क्षेत्र में आरएमके के विभिन्न ऋण योजनाओं के बाजार के लिए।

2. गैर सरकारी संगठनों जो पहले से एसएचजी/जेएलजी के गठन/पदोन्नति, बचत की संघटन, आंतरिक ऋण देने और वसूली प्रबंधन में अनुभव प्राप्त कर चुका है, से संभावित एनजीओ और प्रयुक्त गुणवत्ता ऋण प्रस्तावों की पहचान के लिए

3. विभिन्न क्षेत्रों में एनजीओ/एसएचजी/जेएलजी के बारे में जागरूकता अर्जन सह क्षमता निर्माण पर कार्यक्रमों के आयोजन में मदद करने के लिए।

4. आरएमके की ओर से प्रचालन के क्षेत्र में बैठकें/सेमिनार/कार्यशालाएं/प्रशिक्षणों का आयोजन करना।

5. आरएमके द्वारा दिए गए ऋणों के मार्गदर्शन/संरक्षण और ऋण प्रस्तावों का पालन और ऋण की वसूली के लिए।

अन्य मानदंड -

1. नोडल एजेंसी अपने कर्मचारियों के बीच एक समर्पित नोडल अधिकारी नियुक्त कर सकता है। आरएमके द्वारा किसी पारिश्रमिक का भुगतान नहीं किया जाएगा।

2. नोडल एजेंसी एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर करता है जो 2 साल के लिए मान्य होगा।

3. एजेंसी उसके ऋणों की वसूली पर अपनी सिफारिशें और 1 प्रतिशत पर आरएमके द्वारा बनाई गई मंजूरी के बाहर वितरित की गयी कुल ऋण का 1 प्रतिशत के बराबर प्रदर्शन पर आधारित प्रोत्साहन प्राप्त करने के हकदार होंगे, यदि ऋण पुनर्भुगजान अनुसूची के अनुसार चुकाए जाते हैं।

आरएमके ने देश में लघु ऋण का असमान उपस्थिति को दूर करने के क्रम में क्षेत्र की गरीब महिलाओं की ऋण जरूरतों को पूरा करने के लिए आरएमके से ऋण की आसान प्राप्त करने के लिए पूर्वोत्तर क्षेत्र के स्वैच्छिक संगठनों के लिए एक रियायती पैकेज तैयार किया है जो बैंकिंग नेटवर्क के बेकार प्रदर्शन, बुनियादी ढांचे और जागरूकता की कमी की कारण पूर्वोत्तर क्षेत्र में ज्यादातर देखा जाता है, रियायतें हैं -

1. अपने पंजीकरण (पहले 3 वर्ष) का एक साल पूरा करने वाले संगठन ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं।

2. 10 प्रतिशत से 5 प्रतिशत से कम ऋण पर सीमांत।

3. 6 महीने से 12 महीने तक के लिए बढ़ाए गए ऋण के पुनर्भुगतान पर रियायती अवधि।

4. ऋण की पुनर्भगतान अवधि सभी योजनाओं के लिए सदा ही पांच साल के लिए बढ़ाया गया।

5. क्षमता निर्माण सहायता के रूप में मंजूर ऋण के 10 प्रतिशत के साथ एनजीओ का समर्थन किया गया है।

6. दस्तावेजों के निष्पादन के लिए दिल्ली आने के लिए एनजीओ के सदस्यों (2 सदस्यों तक) के लिए द्वितीय श्रेणी स्लीपर रेल किराया प्रदान करना और जहां रेल लिंक नहीं हैं, सस्ते वर्ग और फ्री हवाई किराया प्रदान करना।

पूर्वोत्तर क्षेत्र के लिए विशेष पैकेज

आरएमके ने देश में लघु ऋण का असमान उपस्थिति को दूर करने के क्रम में क्षेत्र की गरीब महिलाओं की ऋण जरूरतों को पूरा करने के लिए आरएमके से ऋण की आसान प्राप्त करने के लिए पूर्वोत्तर क्षेत्र के स्वैच्छिक संगठनों के लिए एक रियायती पैकेज तैयार किया है जो बैंकिग नेटवर्क के बेकार प्रदर्शन, बुनियादी ढाँचे और जागरूकता की कमी की कारण पूर्वोत्तर क्षेत्र में ज्यादातर देखा जाता है, रियायतें हैं –

1.  अपने पंजीकरण(पहले 3 वर्ष) का एक साल पूरा करने वाले संगठन ऋण के लिए आवेदन कर सकते हैं I

2.  10 प्रतिशत से 5 प्रतिशत से कम ऋण पर सीमांत I

3.  6 महीने से 12 महीने तक के लिए बढ़ाये गए ऋण के पुनर्भुगतान पर रियायती अवधि I

4.  ऋण की पुनर्भुगतान अवधि सभी योजनाओं के लिए सदा ही पांच साल के लिए बढ़ाया गया I

5.  क्षमता निर्माण सहायता के रूप में मंजूर ऋण के 10 प्रतिशत के साथ एनजीओ का समर्थन किया गया है I

6.  दस्तावेजों के निष्पादन के लिए दिल्ली आने के लिए एनजीओ के सदस्यों(2 सदस्यों तक) के लिए द्वितीय श्रेणी स्लीपर रेल किराया प्रदान करना और जहाँ रेल लिंक नहीं हैं, सस्ते वर्ग और फ्री हवाई किराया प्रदान करना I

 

स्रोत: राष्ट्रीय महिला कोष, महिला व बाल विकास मंत्रालय, भारत सरकार

3.075

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612018/08/19 07:25:0.424702 GMT+0530

T622018/08/19 07:25:0.446395 GMT+0530

T632018/08/19 07:25:0.447131 GMT+0530

T642018/08/19 07:25:0.447415 GMT+0530

T12018/08/19 07:25:0.401443 GMT+0530

T22018/08/19 07:25:0.401641 GMT+0530

T32018/08/19 07:25:0.401782 GMT+0530

T42018/08/19 07:25:0.401918 GMT+0530

T52018/08/19 07:25:0.402005 GMT+0530

T62018/08/19 07:25:0.402086 GMT+0530

T72018/08/19 07:25:0.402808 GMT+0530

T82018/08/19 07:25:0.402998 GMT+0530

T92018/08/19 07:25:0.403212 GMT+0530

T102018/08/19 07:25:0.403424 GMT+0530

T112018/08/19 07:25:0.403470 GMT+0530

T122018/08/19 07:25:0.403560 GMT+0530