सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

महिला सशक्तीकरण

इस आलेख में महिलाओं की आध्यात्मिक, राजनीतिक, सामाजिक या आर्थिक शक्ति में वृद्धि करना।

महिला सशक्तीकरण

महिला सशक्तीकरण का अर्थ है महिलाओं की आध्यात्मिक, राजनीतिक, सामाजिक या आर्थिक शक्ति में वृद्धि करना। इसमें अक्सर सशक्तीकृत महिलाओं द्वारा अपनी क्षमता के दायरे में विश्वास का निर्माण शामिल होता है। सशक्तीकरण सम्भवतः निम्नलिखित या इसी प्रकार की क्षमताओं को मिलाकर है:

  • स्वयं द्वारा निर्णय लेने की शक्ति होना,
  • उचित निर्णय लेने के लिए जानकारी तथा संसाधनों की उपलब्धता हो,
  • कई विकल्प उपलब्ध होना जिनसे आप चुनाव कर सकें (केवल हां/नहीं, यह/वह ही नहीं)
  • सामूहिक निर्णय के मामलों में अपनी बात बलपूर्वक रखने की समर्थता,
  • बदलाव लाने की क्षमता पर सकारात्मक विचारों का होना,
  • स्वयं की व्यक्तिगत या सामूहिक शक्ति बेहतर करने के लिए कौशल सीखने की क्षमता
  • अन्यों की विचारधारा को लोकतांत्रिक तरीके से बदलने की क्षमता
  • विकास प्रक्रिया तथा चिरंतन व स्वयं की पहल द्वारा बदलावों के लिए भागीदारी

स्वयं की सकारात्मक छवि में वृद्धि एवं धब्बों से उबरना

भारत में महिलाओं की स्थिति

अब भारत में महिलाएं शिक्षा, राजनीति, मीडिया, कला एवं संस्कृति, सेवा क्षेत्रों, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी आदि के क्षेत्र में भागीदारी करती हैं।

भारत का संविधान सभी भारतीय महिलाओं की समानता की गारंटी देता है (धारा 14), राज्य द्वारा किसी के साथ लैंगिक आधार पर कोई भेदभाव नहीं करता (धारा 15(1)), सबों को अवसरों की समानता प्राप्त है (धारा 16), समान कार्य के लिए समान वेतन का प्रावधान है (धारा 39() इसके साथ ही, राज्य द्वारा महिलाओं एवं बच्चों के पक्ष में विशेष प्रावधानों की (धारा 15(3)) अनुमति देता है, महिलाओं के सम्मान के प्रति अपमानजनक प्रथाओं के त्याग (धारा 51()()), तथा राज्य द्वारा कार्य की न्यायपूर्ण एवं मानवीय स्थितियों तथा प्रसूति राहत को सुनिश्चित करने के प्रावधानों की भी अनुमति देता है (धारा 42)

भारत में महिला आन्दोलन ने 1970 के दशक के अंत में ज़ोर पकड़ा। मथुरा बलात्कार मामला राष्ट्रीय स्तर के सबसे पहले मामलों में से था जिसने महिला समूहों को एकजुट किया। मथुरा में एक पुलिस स्टेशन में एक लड़की के साथ बलात्कार करने के आरोपी पुलिसकर्मियों को बरी करने का 1979-80 में बड़े स्तर पर व्यापक विरोध हुआ। ये विरोध व्यापक रूप से राष्ट्रीय मीडिया में दिखाए गए तथा इन्होंने सरकार को गवाही कानून, अपराध प्रक्रिया कोड एवं भारतीय पेनल कोड को संशोधित करने के अलावा निगरानी में बलात्कार की श्रेणी बनाने पर, विवश कर दिया। महिला आन्दोलनकारी, कन्या वध, लिंगभेद, महिलाओं की सम्पत्ति एवं महिला साक्षरता जैसे मुद्दों पर एक हो गईं।

चूंकि भारत में शराबखोरी को अक्सर महिलाओं पर अत्याचार से जोड़कर देखा जाता है, कई महिला समूहों ने आन्ध्र प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, उड़ीसा, मध्य प्रदेश एवं अन्य राज्यों में शराब-विरोधी अभियान चालू किए। कई भारतीय मुसलमान महिलाओं ने शरीअत कानून के अंतर्गत महिलाओं के अधिकारों पर धार्मिक नेताओं की विवेचना पर सवाल खड़े किए हैं एवं तिहरे तलाक की प्रथा की आलोचना की है। 1990 के दशक में, विदेशी दानदाता एजेंसियों द्वारा अनुदान के फलस्वरूप महिलाओं पर केन्द्रित नए गैर सरकारी संस्थाएँ बनाना सम्भव हुआ। स्वयं-सहायता समूहों एवं गैर सरकारी संस्थाओं जैसे कि सेल्फ एम्प्लॉइड विमेंस असोसिएशन (SEWA) ने भारत में महिलाओं के अधिकारों पर महती भूमिका निभाई है। स्थानीय आन्दोलनों की नेताओं से रूप में कई महिलाएं उभरी हैं। उदाहरण के लिए, नर्मदा बचाओ आन्दोलन की मेधा पाटकर।

भारत सरकार ने 2001 को महिला सशक्तीकरण वर्ष (स्वशक्ति) घोषित किया। सन् 2001 में महिलाओं के सशक्तीकरण की नीति पारित की गई।

नवीनतम समाचार

उद्यमिता एवं कौशल विकास पर अनुसूचित जाता/जनजाति वर्ग की महिलाओं का प्रशिक्षण
शशि सिंह,
भारत की महिला उद्यमियों का कंसोर्सिअम (CWEI), उद्यमिता एवं कौशल विकास हेतु अनुसूचित जाति/जनजाति महिलाओं के लिए एक महीने के प्रशिक्षण कार्यक्रमों की श्रृंखला आयोजित करता है। प्रशिक्षण सतत् ज़ारी रहता है तथा इसकी कोई अंतिम तिथि नहीं होती। कोई शुल्क नहीं लिया जाता। पंजीकरण पहले आओ, पहले पाओ के आधर पर किया जाता है, एवं प्रत्येक कार्यक्रम में अधिकतम 25 प्रशिक्षणार्थी सम्मिलित किए जाते हैं।

विस्तृत जानकारी के लिए- सुश्री शशि सिंह, अध्यक्ष, CWEI से atshashwat_mail@yahoo.co.in पर संपर्क करें।

3.075

शिवम् त्रिपाठी Mar 14, 2017 02:43 AM

ग्रामीण क्षेत्रों में विद्धुत व्यवस्था जल निकासी और स्वस्थ व्यवस्था रोजगार की व्यवस्था पर सरकार को ध्यान देना चाहिये। 87XXX44 सरकारी योजनाओं की सभी को जानकारी रहे सरकार की योजना सीधे नागरिक तक पहोंचे इस विषय पर भी विचार करें।

अमर ज्योति Sep 18, 2016 11:00 AM

समाज सेवा जुडी उन संस्थाओ को सूचित करना चाहता हु की मई बिहार के जमुई जिला का वासी हु. मई अभी हाई स्कूल में शिक्षक पद पर कार्यरत हु. मैं समाज के हित में कई तरह के कार्यो को अंजाम देना चाहता हु. मुझे इस दिशा में मार्गXर्शX की आवश्यकता है.

सुनील पटेल वाराणसी जिला अध्यक्ष एंटी करपशन कमिटी Mar 22, 2016 05:49 PM

वाराणसी जिले के सभी गाव में योजनाओं की जागरूकता अभियान में सबंधित अधिकारियो की लापरवाही के कारन गरीब लोगो के बीच सरकार दवारा चलाये जा रहे योजनाओं का लाभ गरीब जनता के बीच न पहुंच कर अपात्रो के बीच ही रह जाती है अतः आप से अनुरोध है की सबंधित अधिकारियो पर उचित कार्यवाही करते हुय पात्र लोगो के बीच योजना का लाभ पहुचने का कस्ट करे

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/06/19 16:02:31.336200 GMT+0530

T622019/06/19 16:02:31.357947 GMT+0530

T632019/06/19 16:02:31.358640 GMT+0530

T642019/06/19 16:02:31.358950 GMT+0530

T12019/06/19 16:02:31.175728 GMT+0530

T22019/06/19 16:02:31.175885 GMT+0530

T32019/06/19 16:02:31.176030 GMT+0530

T42019/06/19 16:02:31.176167 GMT+0530

T52019/06/19 16:02:31.176250 GMT+0530

T62019/06/19 16:02:31.176331 GMT+0530

T72019/06/19 16:02:31.176972 GMT+0530

T82019/06/19 16:02:31.177152 GMT+0530

T92019/06/19 16:02:31.177358 GMT+0530

T102019/06/19 16:02:31.177555 GMT+0530

T112019/06/19 16:02:31.177610 GMT+0530

T122019/06/19 16:02:31.178313 GMT+0530