অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

बागवानी

क्या करें?

  • बागवानी फसलें अपनायें अरु कम क्षेत्र से ज्यादा उत्पदन पायें
  • स्वास्थ्य फसल के लिए उच्च गुणवत्ता के पौध लगायें |
  • शीत भंडारण अपनाकर फल सब्जियां, लम्बे समय तक ताजा रखें|
  • सही कटाई विधि, सफाई, ग्रेडिंग, प्रसंस्करण व पैकेजिंग अपनाकर अधिकतम लाभ उठायें|
  • पॉली हाउस शेडनेट, लो-टनल द्वारा बिना मौसम की सब्जियां भी पैदा करें|

क्या करें?

क्रम सं.

सहायता का प्रकार

सब्सिडी

अधिकतम सब्सिडी /प्रति इकाई

स्कीम/घटक

बागवानी के अंतर्गत सहायता

1

सब्जी बीज उत्पादन (अधिकतम 5 हेक्टेयर प्रति लाभार्थी)

35% समन्वय क्षेत्र में, 50% उत्तर पूर्वोत्तर क्षेत्र अंडमान निकोबार, लक्ष द्वीप टापू में

रु० 35,000 समान्य बीज के लिए रु० 1,50,000 संकर बीज के लिए

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

2

हाईटेक पौधशाला (2-4 हेक्टेयर/इकाई

खर्च का 40%

रु० 25 लाख प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

3

छोटी पौधशाला (1 हेक्टेयर/इकाई)

खर्च का 50%

रु० 15 लाख प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

4

नये बागों की स्थापना (अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभुक)

अ.    फल ड्रीप के साथ

40% समन्वय क्षेत्र में, 50% पूर्वोत्तर क्षेत्र में अंडमान निकोबार, लक्षद्वीप टापू, (3 किस्तों में 60:20:20) पौधों के 75% दूसरे वर्ष तथा 90% तीसरे वर्ष में बचने पर

0.40 प्रति हेक्टेयर

0.20 लाख प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

 

ब. फल (बिना ड्रिप के साथ)

वही

 

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

5

मसालों की फसल अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभार्थी

 

 

 

 

अ.    बीज और प्रकन्द वालें मसाले

40% समान्य क्षेत्र में 50% पूर्वोत्तर क्षेत्र, टी०एस०पी० क्षेत्र में

अधिकतम रु० 12,000 प्रति हेक्टेयर

अधिकतम रु० 15,000 प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

 

ब. बहुवार्षिक मसाले(काली मिर्च, सिनानम लोंग)

वहीं

अधिकतम रु० 20,000 प्रति हेक्टेयर

अधिकतम रु० 25,000 प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

6

फूलों के बगीचे (लूज केन्द्रीय एवं कट फलावर (अधिकतम 2 हेक्टेयर/प्रति लाभार्थी

40% समान्य (छोटे और सीमांत किसानों के लिए) 25% अन्य किसानों के लिए 50% पूर्वोत्तर क्षेत्रों के लिए

अधिकतम रु० 16,000 प्रति हेक्टेयर से 60,000 प्रति हेक्टेयर तक

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

7

सम्बन्धित पौधों की खेती (अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभार्थी)

40% समान्य क्षेत्र में,

50% पूर्वोत्तर क्षेत्रों के लिए

 

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

8

रोपण फसल (जैसे-काजू, कोको पुनः रोपण भी शामिल)

40% समान्य क्षेत्र में,

50% पूर्वोत्तर क्षेत्रों के लिए (60:20:20 के तीन किस्तों में) (दूसरे वर्ष में 75% तथा तीसरे वर्ष में 90% पौधों के बचने पर

रु० 40,000 प्रति हेक्टेयर समन्वय के साथ

रु० 20,000 प्रति हेक्टेयर समन्वय के बिना

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

9

पुराने बागों का नवीनीकरण

कुल खर्च का 50%

अधिकतम रु० 20,000 प्रति हेक्टेयर

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

10

मधुमक्खी कालोनी के माध्यम से (अधिकतम 50 कालोनी प्रति लाभार्थी)

 

मधुमक्खी कालोनी

खर्च का 50%

रु० 800 प्रति कालोनी

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

11

संरक्षित खेती

 

ग्रीन हाउस फैन व पैड सिस्टम 4,000 वर्ग मी० प्रति लाभार्थी तक सिमित

50% (पहाड़ी क्षेत्रों में 15% अधिक)

रु० 422 से 530 प्रति वर्ग मीटर

 

 

प्रक्रितक वायु संचार व्यवस्था (अधिकतम 4,000 रु० प्रति लाभार्थी)

50% (पहाड़ी क्षेत्रों में 15% अधिक)

1.रु० 422 से 530 प्रति वर्ग मीटर टूयूब संरचना

2. रु 225 से 530 प्रति वर्ग मीटर बांस संरचना

 

 

b.शेड नेट हाउस (1000 प्रति वर्ग मीटर लाभार्थी तक सिमित)

50% (पहाड़ी क्षेत्रों में 15% अधिक)

रु० 422 से 530 प्रति वर्ग मीटर अधिकतम

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

 

बांस व लकड़ी से बनी संरचना (अधिकतम 200 रु० प्रति लाभार्थी 5 इकाई तक सिमित)

वही

रु० 180 वर्ग मी० बांस के लिए तथा 245 वर्ग मी० लकड़ी के लिए

 

 

c.प्लास्टिक मल्व

50% (पहाड़ी क्षेत्रों में 15% अधिक)

अधिकतम रु० 16,000 प्रति इकाई

 

 

d.प्लास्टिक सुरंग  अधिकतम रु०

1000/वर्गमीटर प्रति लाभार्थी

50% (पहाड़ी क्षेत्रों में 15% अधिक)

रु० 300 प्रति वर्ग मी०

 

12

कटाई उपरांत समन्वित प्रबंधन

 

 

 

 

पैक हाउस खेत स्तर पर संग्रहण एंव भंडारण इकाई

50% अधिकतम

2 लाख प्रति इकाई (आकार 9x6  वर्ग मीटर)

 

 

समन्वित पैक हाउस ग्रेडिंग तथा सुविधा के साथ

35% समान्य क्षेत्र में

50% पहाड़ी क्षेत्र में

प्रति इकाई रु० 17.50 लाख, (आकर 9x18 वर्ग मी०)

 

 

प्रिकुलिंग इकाई

35% % समान्य क्षेत्र में

50% पहाड़ी क्षेत्र में

रु० 8.75 लाख प्रति इकाई 5 मै० टन क्षमता के लिए

 

 

चलती फिरती प्रिकुलिंग इकाई

वही

वही

राष्ट्रीय बागवानी मिशन

 

शीत गृह इकाई( निर्माण विस्तार एवं आधुनिकीकरण)

 

फल पकने का कमरा

(अधिकतम 300 मी० )

वही

क.रु० 2800 प्रति मी० टन प्रकार I के लिए

ख. रु० 3500 प्रति मी० टन प्रकार II के लिए

ग. रु० 3500 प्रति मी० टन प्रकार II के साथ

नियंत्रित वायुमंडल तकनीक

रु० 0.35 प्रति मी० टन

 

B.

राष्ट्रीय बांस मिशन (एन० बी०एम०)

13

रोपण सामग्री का उत्पादन

 

हाई टेक पौधशाला (2 हेक्टेयर)

40%

रु० 16 लाख/ई०

एन० बी०एम०

 

छोटी पौधशाला (05हेक्टेयर)

वही

रु० 16 लाख/ई०

 

 

बांस का क्षेत्रवर्द्धन

i. वन क्षेत्र(द्वारा, पंचायती राज, स्वयं सहायता समूह, महिला समूह

i. खर्च का 10% तीन किस्तों में (50:25:25) तीन वर्षों में

ii.गैर वन क्षेत्र में 35% तीन किस्तों में, 3 वर्षों में (अधिकतम 4हेक्टेयर)

रु० 10, 500 ड्रिप सिंचाई के साथ

अधिकतम रु० 42,००० प्रति हेक्टेयर
35% तीन किस्तों में, 3 वर्षों में अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभुक

 

रु० 10, 500 ड्रिप सिंचाई के साथ

 

 

वर्तमान वन क्षेत्र की उन्नति

40% अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभुक

 

अधिकतम रु० 8००० प्रति हेक्टेयर

 

 

समन्वित कटाई उपरात प्रबंधन

 

कटाई उपरात भण्डारण

खर्च का 40%

अधिकतम रु० 10, 000 प्रति हेक्टेयर

एन० बी०एम०

c.

राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड

 

 

 

14

वाणिज्य बागवानी का विकास

 

i.खुला खेत की स्थिति

खर्च का 40% (सामान्य क्षेत्र में)

50% पूर्वोत्तर क्षेत्र पहाड़ी क्षेत्र

रु०. 30 लाख प्रति इकाई,

37.5 लाख रु० (खजूर, सेफरान, जैतून के लिए हेक्टेयर क्षेत्र के लिए)

एन० बी०एम०

 

ii. संरक्षित ढका हुआ

खर्च का 50%

अधिकतम 56 लाख प्रति योजना

 

 

iii.समन्वित कटाई उपरात प्रबंधन

(पकाने का कमरा, वाहन, फुटकर वहिर्गमन कुलिंग इकाई)

खर्च का 35% (सामान्य क्षेत्र में)

50% पूर्वोत्तर पहाड़ी क्षेत्र

रु० 50.75 लाख प्रति योजना

एन० बी०एम०

 

शीत भंडारण इकाई

खर्च का 35% सामान्य क्षेत्र में)

50% पूर्वोत्तर  पहाड़ी क्षेत्र में (5000 मी० टन) से अधिक

रु० 2660 प्रति मी०टन० प्रकार 1

रु० 3225 प्रति मी०टन० प्रकार 2

रु० 3500 प्रति मी०टन० प्रकार 3

नियंत्रित वायुमंडलीय तकनीक के साथ

 

d

नारियल विकास बोर्ड

 

 

 

15

गुणवत्ता पुनः रोपण सामग्री का उत्पादन एवं वितरण

 

 

नारियल विकास बोर्ड सी०डी०बी०

 

संकर (बौना पौधा का वितरण सरकारी तथा गैरसरकारी क्षेत्र में)

खर्च का 25% अधिकतम 25,000 पौध प्रति एकड़

रु० 19.0 प्रति पौध

सी०डी०बी०

 

न्यूकलियस नारियल बगीचा

खर्च का 25% अधिकतम 4 हेक्टेयर)

रु० 15 लाख  प्रति हेक्टेयर

सी०डी०बी०

 

छोटा नारियल पौधशाला

खर्च का 100% (पब्लिक/निजी क्षेत्र में)

रु० 2.0 लाख  प्रति इकाई

0.4 हेक्टेयर प्रति इकाई

सी०डी०बी०

नारियल के क्षेत्र में वृद्धि

 

सामान्य क्षेत्र में

खर्च का 25% अधिकतम 4 हेक्टेयर प्रति लाभुक (दो बार में)

रु० 7500  प्रति हेक्टेयर

सी०डी०बी०

 

पहाड़ी व पिछड़ी क्षेत्र में

वही

रु० 1500  प्रति हेक्टेयर

सी०डी०बी०

 

नारियल तकनीकी मिशन

 

 

 

 

किट व रोग ग्रसित बागों का प्रबंधन तकनीकी का विकास एंव संग्रहण

50% विकास एवं प्रत्यक्षण के लिए

50% संग्रहण के लिए

रु० 25 लाख विकस के लिए

 

रु० 1250 लाख   प्रत्यक्षण के लिए

रु० 6.25 लाख संग्रहण के लिए

 

 

संसाधन का विकास, संस्करण तकनीकी का विकास तथा संग्रहण

75% विकास  के लिए

50% प्रत्यक्षण के लिए

 

50% संग्रहण के लिए

 

रु० 25 लाख विकस के लिए

 

रु० 1250 लाख   प्रत्यक्षण के लिए

रु० 6.25 लाख संग्रहण के लिए

सी०डी०बी०

 

नारियल के पुराने बागों का जीर्णोद्धार

 

पुराने पेड़ों को काटना एवं हटाना

रु० 1000 प्रति पेड़ , अधिकतम 32 पेड़ प्रति हेक्टेयर

अधिकतम रु० 32,000  प्रति हेक्टेयर

सी०डी०बी०

 

पुनः रोपण के किए सहायता

खर्च का 50% अधिकतम रु० 40,000 प्रति हेक्टेयर

रु० 40 प्रति पौध

सी०डी०बी०

 

नारियल के बागों की उन्नति समन्वित  प्रबंधन द्वारा

खर्च का 25% दो बराबर किस्तों में

अधिकतम रु० 17,500   प्रति हेक्टेयर

सी०डी०बी०

 

नारियल पौधों का बीमा योजना

 

 

क़िस्त का 75%

(50% सी०डी०बी० द्वारा 25% राज्य सरकार द्वारा)

रु० 3.52 प्रति पेड़ 4 से 15 वर्ष के पेड़ों के लिए तथा रु० 4.70 प्रति पेड़ 16 से 60 वर्ष पेड़ों के लिए

 

 

किससे सम्पर्क करें?

जिला कृषि पदाधिकारी, जिला उद्यान पदाधिकारी, परियोजना पदाधिकारी आत्मा|

 

स्रोत: - कृषि एवं गन्ना विकास विभाग, झारखण्ड सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate