অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

कीटनाशकों का सुरक्षित उपयोग

खरीद के दौरान

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • कीटनाशक और जैव कीटनाशक सिर्फ पंजीकृत कीटनाशक डीलर से ही खरीदें जिसके पास वैध लाइसेंस हो।
  • एक विशिष्‍ट क्षेत्र में एक बार के छिड़काव के लिए जितनी आवश्‍यकता हो, उतना ही कीटनाशक खरीदें।
  • कीटनाशकों के कंटेनर या पैकेट पर मान्‍यता प्राप्‍त लेबल देखें।
  • लेबल पर बैच संख्‍या, पंजीकरण संख्‍या, मैन्‍युफैक्‍चर और एक्‍सपाइरी तिथि देखें।
  • कंटेनर में अच्‍छी तरह से पैक किए हुए कीटनाशक ही खरीदें।
  • फुटपाथ के डीलरों या ऐसे डीलर जिनके पास लाइसेंस नहीं हो, उनसे कीटनाशक न खरीदें।
  • एक साथ अधिक मात्रा में कीटनाशक न खरीदें।
  • कंटेनर पर पंजीकृत लेबल न होने पर कीटनाशक न खरीदें।
  • कभी भी कीटनाशक की एक्‍सपाइरी तिथि खत्‍म होने के बाद उसे न खरीदें।
  • कीटनाशकों के ऐसे कंटेनर जो लीक हों या खुले हों या फिर जिन पर सील न हो, उन्‍हें न खरीदें।

संग्रहण के दौरान

क्‍या करें क्‍या न करें
  • कीटनाशकों का संग्रहण घर से दूर करना चाहिए।
  • कीटनाशकों को उन्‍हीं के कंटेनर में रहने दें।
  • कीटनाशकों/खरपतवारनाशक को अलग-अलग संग्रहित किया जाना चाहिए।
  • जिस क्षेत्र में कीटनाशकों को संग्रहित किया गया हो, उस स्‍थान पर चेतावनी के संकेत दिए जाने चाहिए।
  • कीटनाशकों का संग्रहण ऐसे स्‍थान पर किया जाना चाहिए जो बच्‍चों और पशुओं की पहुंच से दूर हो।
  • संग्रहण के स्‍थान का सीधी धूप और बारिश से बचाव किया जाना चाहिए।
  • कभी भी कीटनाशकों का संग्रहण घर के आंगन में न करें।
  • कीटनाशकों को उनके कंटेनरों से निकाल कर कभी भी दूसरे कंटेनरों में न रखें।
  • कीटनाशकों और खरपवारनाशक खरपतवारनाशक का संग्रहण एक साथ नहीं किया जाना चाहिए।
  • बच्‍चों को संग्रहण के स्‍थान में प्रवेश करने की इजाजत न दें।
  • कीटनाशकों को धूप और बारिश में नहीं निकाला जाना चाहिए।

प्रबंधन के दौरान

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • परिवहन के दौरान कीटनाशकों को अलग-अलग रखें।
  • इस्‍तेमाल वाले स्‍थान पर अधिक मात्रा में कीटनाशक पहुंचाने के लिए अत्‍यधिक सावधानी बरतनी चाहिए।
  • कभी भी कीटनाशकों को खाद्य पदार्थों/चारे/या अन्‍य खाद्य वस्‍तुओं के साथ न ले जाएं।
  • कभी भी अधिक मात्रा में कीटनाशक को अपने सिर, कंधे या पीठ पर न ले जाएं।

छिड़काव के लिए घोल तैयार करते समय

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • हमेशा साफ पानी का ही इस्‍तेमाल करें।
  • दस्‍ताने, मास्‍क, टोपी, एप्रॉन, पूरी पैंट आदि सुरक्षात्‍मक कपड़ों का इस्‍तेमाल अपने शरीर को कवर करने के लिए करें।
  • छिड़काव के घोल से बचने के लिए हमेशा अपनी नाक, आंख, कान और हाथों का बचाव करें।
  • इस्‍तेमाल करने से पहले कीटनाशक के कंटेनर पर लिखे निर्देशों को सावधानीपूर्वक पढ़ लें।
  • आवश्‍यकता के हिसाब से छिड़काव करने की सामग्री को तैयार करें।
  • दानेदार कीटनाशक का उसी रूप में इस्‍तेमाल किया जाना चाहिए।
  • स्‍प्रे टैंक को भरते समय छिड़काव के लिए बनाए गए कीटनाशक के घोल को गिरने से बचाएं।
  • हमेशा कीटनाशकों का इस्‍तेमाल बताई गई मात्रा में ही करें।
  • ऐसी कोई भी गतिविधियां नहीं करनी चाहिए, जो आपके स्‍वास्‍थ्‍य को प्रभावित कर सकती हों।
  • कीचड़ वाले या गंदे पानी का इस्‍तेमाल कभी न करें।
  • सुरक्षात्‍मक कपड़ों के बिना कभी भी छिड़काव का घोल तैयार न करें।
  • कीटनाशक/उसके घोल को शरीर के किसी भी भाग पर नहीं गिरने देना चाहिए।
  • इस्‍तेमाल के लिए कंटेनर के लेबल पर निर्देशों को पढ़ने की कभी भी अनदेखी न करें।
  • कीटनाशक के घोल को तैयार करने के बाद कभी भी 24 घंटे पश्‍चात इस्‍तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।
  • दानों का इस्‍तेमाल पानी के साथ नहीं करना चाहिए।
  • छिड़काव के टैंक को सूंघें नहीं।
  • कीटनाशकों की अत्‍यधिक मात्रा इस्‍तेमाल नहीं करनी चाहिए। यह पौधे के स्‍वास्‍थ्‍य और पर्यावरण को प्रभावित कर सकता है।
  • कीटनाशकों के छिड़काव के दौरान कुछ भी खाना, पीना, धूम्रपान या कुछ भी चबाना नहीं चाहिए।

उपकरणों का चयन

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • सही प्रकार के उपकरणों का चयन करें।
  • सही आकार की नलिकाओं का चयन करें।
  • खरपतवारनाशक और कीटनाशक के छिड़काव के लिए अलग-अलग स्‍प्रे उपकरण का इस्‍तेमाल करें।
  • लीक कर रहे या खराब उपकरण का इस्‍तेमाल न करें।
  • खराब/बताई गई के अलावा अन्‍य किसी नलिका का इस्‍तेमाल न करें। बंद नालिका को अपने मुंह से साफ न करें, बल्कि दांत साफ करने वाले ब्रश का इस्‍तेमाल करें।
  • खराब और जिन्‍हें प्रयोग न करने के सलाह न दी गई हो उन नॉजलों का प्रयोग नहीं करना चाहिए। नॉजल में मुंह से हवा नहीं डालें और न ही हवा से फूंक न मारें। उसकी सफाई के लिए स्‍प्रेअर वाले टूथब्रश का प्रयोग करें।
  • खरपतवारनाशक या कीटनाशक दोनों के लिए कभी भी एक ही स्‍प्रे उपकरण का इस्‍तेमाल न करें।

छिड़काव करते समय

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • केवल बताई गई मात्रा और पानी का ही इस्‍तेमाल करें।
  • ठंडे और सही मौसम वाले दिन ही छिड़काव किया जाना चाहिए।
  • सामान्‍यत: छिड़काव धूप वाले दिन में किया जाना चाहिए।
  • हरेक छिड़काव के लिए बताए गए स्‍प्रे उपकरण का इस्‍तेमाल ही करें।
  • छिड़काव हवा की दिशा में करना चाहिए।
  • छिड़काव के बाद स्‍प्रे उपकरण और बाल्टियों को डिटर्जेंट/साबुन का इस्‍तेमाल कर साफ पानी से धोया जाना चाहिए।
  • छिड़काव के तुरंत बाद उस स्‍थान पर पशुओं/मजदूरों को प्रवेश नहीं करने देना चाहिए।
  • बताई गई मात्रा से अधिक कीटनाशक का उपयोग न करें।
  • छिड़काव तेज धूप वाले दिन या तेज हवा में नहीं करना चाहिए।
  • बारिश से तुरंत पहले और बारिश के तुरंत बाद छिड़काव नहीं किया जाना चाहिए।
  • बैटरी से संचालित यूएलवी स्‍प्रे उपकरण के साथ छिड़काव नहीं करना चाहिए।
  • इमल्सिफ़ाएबल कॉन्‍संट्रेट फार्म्‍यूलेशंस को बैटरी से चलने वाले यूएलवी स्‍प्रेअर से नहीं छिड़का जाना चाहिए।
  • हवा की विपरीत दिशा में छिड़काव नहीं करना चाहिए।
  • कीटनाशक को मिलाने के लिए इस्‍तेमाल में लाई बाल्टियों और कंटेनरों को धोने के बाद भी घरेलू इस्‍तेमाल में नहीं लाया जाना चाहिए।
  • सुरक्षात्‍मक कपड़ों के बिना घोल के छिड़काव के तुरंत बाद खेत में प्रवेश नहीं करना चाहिए।

छिड़काव के बाद

क्‍या करेंक्‍या न करें
  • बची हुई स्‍प्रे सामग्री को बंजर भूमि जैसे स्‍थान पर फेंक देना चाहिए।
  • इस्‍तेमाल में लाए गए कंटेनरों या खाली कंटेनरों को नष्‍ट कर देना चाहिए और उन्‍हें जल संसाधनों से दूर मिट्टी में गाड़ देना चाहिए।
  • कुछ भी खाने या धू्म्रपान करने से पहले हाथों और चेहरे को साबुन से अच्‍छी तरह से धो लेना चाहिए।
  • जहर के लक्षण दिखने पर सर्वप्रथम प्राथमिक उपचार करें और मरीज को डॉक्‍टर को दिखाएं। डॉक्‍टर को खाली कंटेनर भी दिखाएं।
  • बची हुई स्‍प्रे सामग्री को नाली या पास के तालाब या पानी में नहीं बहाना चाहिए।
  • कीटनाशकों के खाली कंटेनर को अन्‍य सामग्री के संग्रहण के लिए इस्‍तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।
  • कपड़े धोने या नहा लेने से पहले कभी भी खाना/धूम्रपान नहीं करना चाहिए।
  • डॉक्‍टर को ज़हर के लक्षण न बताने का खतरा नहीं उठाना चाहिए क्योंकि यह मरीज के जीवन के लिए खतरनाक हो सकता है।

स्रोत: ppqs.gov.इन



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate