অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

भारत का कृषि जलवायविक वर्गीकरण

नई अनुवांशिक तनावों को विकसित करने तथा अत्यधिक प्रभावी कृषि पद्धतियां विकसित करने के लिए बहुत सारी कृषि जलवायवी जानकारी आवश्यक है । यह न केवल वर्षा और वायुमण्डलीय जानकारी आवश्यक है । यह न केवल वर्षा और वायुमण्डलीय तापमान, आर्द्रता को बल्कि विकिरण, वाष्पन तथा मृदा आर्द्रता को भी संबंधित करती है ।

कृषि जलवायु क्षेत्र क्या है

एक "कृषि जलवायु क्षेत्र ' प्रमुख जलवायु के संदर्भ में एक भूमि की इकाई है जो एक निश्चित सीमा के अंदर फसलों की किस्मों एवं जोतने वालों के लिए उपयुक्त होती है।इसका उद्देश्य प्राकृतिक संसाधनों और पर्यावरण की स्थिति को प्रभावित किए बिना भोजन,फाइबर, चारा और लकड़ी से मिलने वाले ईंधन का उपलब्धता को बनाए रखना एवं इन क्षेत्रीय संसाधनों का वैज्ञानिक प्रबंधन करना है। एक कृषि-पारिस्थितिकी क्षेत्र जलवायु मुख्यत: मिट्टी के प्रकार, फसल की उपज  वर्षा, तापमान और पानी की उपलब्धता वनस्पति के प्रकार को प्रभावित करने वाले कारकों के संदर्भ में समझा जाता है।(एफएओ, 1983) है। कृषि जलवायवी योजना का लक्ष्य, प्राकृतिक और मानव निर्मित उपलब्ध दोनों ही संसाधनों का अधिक वैज्ञानिक रुप से उपयोग करना है ।

भारत के कृषि जलवायु क्षेत्रों की योजना

329 लाख हेक्टेयर भौगोलिक क्षेत्र के साथ देश कृषि जलवायु स्थितियों की एक बड़ी जटिल संख्या को प्रस्तुत करता है।

देश में कृषि जलवायवी जानकारी प्रस्तुतिकरण के लिए अब पर्याप्त आंकड़ें उपलब्ध है।

मिट्टी, जलवायु, भौगोलिक और प्राकृतिक वनस्पति के संबंध में वैज्ञानिक आधार पर वृहद स्तरीय योजना निर्माण के लिए प्रमुख कृषि पारिस्थितिक क्षेत्रों को चित्रित करने के लिए अनेक प्रयास किये गये हैं। वे इस प्रकार हैं।

  • योजना आयोग द्वारा निर्धारित कृषि जलवायु क्षेत्र
  • राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान परियोजना के तहत कृषि जलवायु क्षेत्र (NARP)
  • मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग योजना राष्ट्रीय ब्यूरो द्वारा निर्धारित कृषि पारिस्थितिक क्षेत्र(NBSS और Lup)

राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान परियोजना (एन.ए.आर.पी.)

राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान परियोजना (एन.ए.आर.पी.) अंतर्गत भारत के कृषि जलवायविक क्षेत्रों का चित्रण

वर्तमान में, स्थल विशिष्ठ अनुसंधान विकसित करने तथा कृषि उत्पादन बढ़ाने के लिए नीतियों के विकास के उद्देश्य से कृषि जलवायविक क्षेत्रों की पहचान को उचित प्रेरणा मिली है । अधिक सही कृषि गतिविधियों की योजनाओं के उद्देश्य से प्रत्येक क्षेत्र (योजना आयोग द्वारा प्रस्तावित 15 संसाधन विकास क्षेत्र) को एन.ए.आर.पी. योजना अंतर्गत मृदा, जलवायु (तापमान), वर्षा और अन्य कृषि मौसम विज्ञान अभिलक्षणों के आधार पर उप-क्षेत्रों में बांटा गया है ।

प्रत्येक राज्य के बृहत अनुसंधान समीक्षा पर आधारित एन.ए.आर.पी. अंतर्गत भारत में कुल 127 कृषि जलवायविक क्षेत्र पहचाने गए हैं। क्षेत्रीय परिसीमाएं चित्रित करते समय प्रत्येक राज्य के भू आकृतिक मण्डलों, उसकी वर्षा पद्धति, मृदा प्रकार, सिंचाई जल की उपलब्धता, वर्तमान शस्य-पद्धति तथा प्रशासनिक एककों को इस प्रकार विचारार्थ लिया गया है कि क्षेत्र में प्राचलों पर थोड़ी सी ही भिन्नता हो ।
एन.ए.आर.पी. के क्षेत्रीय परिसीमा का चित्रण अधिकतया जिलों तथा कुछ मामलों में तालुका/तहसिलों या उपमण्डलों के रुप में भी पर्याप्त विचारार्थ लिया गया है ।

देश के विभिन्न कृषि जलवायु क्षेत्रो ं नाम के लिए क्लिक करें।

योजना आयोग द्वारा दिये गये कृषि जलवायु क्षेत्र


सातवीं योजना के नियोजन लक्ष्यों की मध्यावधि समीक्षा का एक परिणाम के रूप में योजना आयोग ने प्राकृतिक भूगोल, मिट्टी, भूवैज्ञानिक संरचना, सिंचाई का विकास और कृषि के लिए खनिज संसाधनों की योजना, जलवायु पैटर्न, भविष्य की रणनीति के विकास के लिए एवं फसल के आधारपर देश को पंद्रह व्यापक कृषि जलवायु क्षेत्रों में विभाजित है। चौदह क्षेत्रों मुख्य भूमि से संबंधित थे और शेष एक बंगाल की खाड़ी और अरब सागर के द्वीप में थे।

इसका मुख्य उद्देश्य तकनीकी कृषि जलवायु बातों पर आधारित नीति का विकास कर राज्य और राष्ट्रीय योजनाओं के साथ कृषि जलवायु क्षेत्रों को एकीकृत करने के लिए किया गया था। कृषि जलवायु क्षेत्रीय योजना में आगे कृषि-पारिस्थितिकी मापदंडों के आधार इन क्षेत्रों का क्षेत्रीय विभाजन संभव हो  पाया।

मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग योजना राष्ट्रीय ब्यूरो द्वारा निर्धारित कृषि पारिस्थितिक क्षेत्रों (NBSS और Lup)

मृदा सर्वेक्षण एवं भूमि उपयोग योजना राष्ट्रीय ब्यूरो द्वारा निर्धारित कृषि पारिस्थितिक क्षेत्र (NBSS और Lup)  प्रभावी वर्षा,मिट्टी समूह,जिले की सीमाओं को समायोजित कर क्षेत्रों की एक न्यूनतम संख्या के साथ चित्रित कर 20 कृषि जलवायु क्षेत्रों के साथ सामने आया। बाद में  सभी 20 कृषि जलवायु जोन्स 60 उपक्षेत्रों में बांटे गये।

  1. पश्चिमी हिमालय
  2. पश्चिमी मैदान, कच्छ, और काठियावाड़ प्रायद्वीप का हिस्सा
  3. दक्कन पठार
  4. उत्तरी मैदान और केंद्रीय उच्चभूमि सहित अरावली
  5. केंद्रीय मालवा उच्चभूमि, गुजरात के मैदान और काठियावाड़ प्रायद्वीप
  6. दक्कन पठार, गर्म अर्द्ध शुष्क ईकोक्षेत्र
  7. डेक्कन (तेलंगाना) पठार और पूर्वी घाट
  8. पूर्वी घाट, तमिलनाडु के पठार और डेक्कन (कर्नाटक)
  9. उत्तरी सादा, गर्म उप आर्द्र (सूखा) ईकोक्षेत्र
  10. केंद्रीय उच्चभूमि (मालवा,बुंदेलखंड और पूर्वी सतपुड़ा)
  11. पूर्वी पठार (छत्तीसगढ़), गर्म उप आर्द्र ईकोक्षेत्र
  12. पूर्वी (छोटानागपुर) पठार और पूर्वी घाट
  13. पूर्वी सादा
  14. पश्चिमी हिमालय
  15. बंगाल और असम के मैदान
  16. पूर्वी हिमालय
  17. उत्तर-पूर्वी हिल्स (पूर्वांचल)
  18. पूर्वी तटीय सादा
  19. पश्चिमी घाट और तटीय मैदान
  20. अंडमान निकोबार और लक्षद्वीप के द्वीप

स्त्रोत: कृषि मौसम विज्ञान विभाग,भारत सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate