অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

सब्जियों में क्षेत्रवार मान्यकृत समेकित नाशीजीव प्रबंधन प्रौद्योगिकियां

सब्जियों में क्षेत्रवार मान्यकृत समेकित नाशीजीव प्रबंधन प्रौद्योगिकियां

भिन्डी

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

गाजियाबाद

 

  • प्रचलित येल्लो मोजाईक वायरस प्रतिरोधक संकर प्रजाति सन -40 और मखमली का प्रयोग करें
  • ज्वार या बाजरा को सीमान्त फसल के रूप में लगायें
  • पीले चिपचिपे पोलिथीन ट्रेप को अरंडी तेल व डेल्टा ट्रेप के साथ चिपका कर सफ़ेद मक्खी के लिए स्थापित करें
  • एरिअस विट्टेल्ला की निगरानी के लिए पक्षी बसेरों का निर्माण 10 प्रति एकड़ करें व फेरोमोन ट्रेप का 5 प्रति हेक्टेयर की दर से स्थापित करें
  • पतंगों, सफ़ेद मक्खी व माईट के लिए एन एस के ई 5% की दर से छिड़काव करें
  • ट्राईकोग्रमा किलोनिस को पांच बार साप्ताहिक अन्तराल पर फसल बोने के 42 दिन बाद छोड़ें
  • इमिदाक्लोप्रिड, सय्पर्मेथ्रिन, क्लोरपायरीफोस और फेनवेल्रेट  कीटनाशकों के 3-4 छिड़काव  करें

 

बैंगन

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

गाजियाबाद

 

  • भूमि की सतह से उठी पौधशाला बनाना
  • भूमि तापिकरण करे
  • 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज दर से ट्राईकोडर्मा विरिडी से बीज शोधित करें
  • खेत में चिडियों के बैठने के लिए प्रति 10 एकड़ में अड्डे लगाने चाहिए ताकि वे कीटों का शिकार कर सकें
  • होपर के लिए डेल्टा एव चिपचिपे पदार्थ वाले ट्रेप तथा सफ़ेद मक्खी वाले फेरोमोन ट्रेप 4 प्रति है की दर से ल्युसीनोडेस आर्बेनेलिस के लिए स्थापित करें
  • लीफ होपर, चेपा व माईट से बचाव के लिए एन एस के ई 4% के तीनो छिड़काव प्रति है की दर से खेत में करें
  • पौधों की पक्तियों के साथ साथ नीम खली 250 किलोग्राम प्रति है की दर से खेत में मिलाएं
  • प्ररोह ओर फली बेधक के लिए 1 लाख प्रति है की दर से टी ब्रेसेलेनसिस अंड परजरवी को छोड़े
  • अंडों के समूह, लारवा व हड्डा भ्रंग के प्रिपक्वों को इकठ्ठा कर  नष्ट करें
  • रोग से प्रभावित पत्तियों को तोड़ का नष्ट कर दिया जाये
  • फसल पकने के दौरान एक छिड़काव एमीडक्लोपरिड, सायपरमेंथरीन का करें
  • पीली शिरा मोजेक प्रतिरोधी संकर किस्मो सन ४- ओर मखमली को रोपें
  • जवार / मक्का को सीमान्त फसल के रूप में बोयें
  • पीले पदार्थ के ट्रेपस कसे केस्टर तेल के साथ आलेप करें व डेल्टा पाश को सफ़ेद मक्खी से बचाव के लिए स्थापित करें
  • एन एस के इ  5% के तीन छिड़काव होपर, सफ़ेद मक्खी व घुन से बचाव के लिए करें
  • रोपाइ के 42 दिन पशचात साप्ताहिक अन्तराल में परिजिवीयो ट्राईकोडर्मा  किलोनिस को 5 बार छोड़ें
  • यदि कोई पौधे पिली शिरा मोजेक से ग्रसित है तो बेधक ग्रसित को समय समय पर निकालते  रहें
  • एमिडक्लोपरिड, सायपरमेथरीन, क्लोरपइरिफस, ओर फेनवेलेरेट कीटनाशियो के 3-4 छिड़काव करें

 

फूलगोभी

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

अगेती  फूलगोभी

पलरी खुर्द (सोनीपत ), अनंतपुर (जयपुर)

 

नर्सरी

  • मृदा तापिकरण / भूमि की सतह से उठी पौधशाला / ट्राईकोडरमा हर्जिअनम  से 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज दर से बीज उपचारित करें /  2.5 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से गोबर खाद व 50 ग्राम प्रति मीटर स्क्वेयर नीम केक से मृदा संशोधन करें

रोपाई से पहले

  • भूमि की सतह से उठी पौधशाला बनाना / ट्राईकोडरमा हर्जिअनम 4 ग्राम प्रति लीटर में पौधों को डुबोयें/ डी.बी.एम और स्पोडोप्टेरा लिट्युरा के समाधान के लिए फेरोमोन ट्रेप स्थापित करें

रोपाई के बाद

  • कीडों के अंडों, बड़े लार्वें  को हाथ से उठायें/  नवजात लार्वें के ढेर से ग्रसित पत्तियों  को हाथ से तोड़ें
  • आवश्यकता अनुसार 5% एन. एस.के.ई, एन.पी.वी का प्रयोग आक्रमण होने की शुरुआत करें और बाद में कीटों से बचाव के लिए नोवालुरों/स्पिनोसाद/मेन्कोजेब जैसे कीटनाशकों का प्रयोग करें

पछेती रबी फूलगोभी व बंदगोभी

पलरी खुर्द (सोनीपत), अनंतपुर (जयपुर)

 

नर्सरी

  • मृदा तापिकरण / भूमि की सतह से उठी पौधशाला / ट्राईकोडरमा हर्जिअनम से 4 ग्राम प्रति किलोग्राम बीज दर से बीज उपचारित करें / 2.5 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर की दर से  गोबर खाद व 50 ग्राम प्रति मीटर स्क्वेयर नीम केक से मृदा संशोधन करें

रोपाई से पहले

  • भूमि की सतह से उठी पौधशाला बनाना / ट्राईकोडरमा हर्जिअनम 5 ग्राम प्रति लीटर में पौधों को डुबोयें/ डी.बी.एम और स्पोडोप्टेरा लिट्युरा के समाधान के लिए फेरोमोन ट्रेप स्थापित करें
  • फूलगोभी की 25 पंक्तियों के बाद सरसों की दो पंक्तियों की बुवाई करें

 

रोपाई के बाद

  • पीले चिपचिपे ट्रेप पंख वाले चेपों को पकड़ने के लिए स्थापित करें
  • आवश्यकता अनुसार एन.एस.के.ई  5%, एथोफेंप्रोक्स/दिब्लूबेन्दमिदे, मेन्कोजेब का प्रयोग करें

 

बंदगोभी

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

गाँव जदीपानी

बुवाई से पहले (अप्रैल - मई )

  • बुवाई से 3 हफ्ते पहले 10-15 सेंटीमीटर ऊँचाई की भूमि से उठी बेड्स गोबर की खाद का प्रयोग करके बनायेस व उन्हें पारदर्शी प्लास्टिक से ढक दें

बुवाई (जून)

  • इमिड़ाक्लोप्रिड 3 ग्राम प्रति 100 ग्राम व कार्बनड़ेजिम 1 ग्राम प्रति 100 ग्राम बीज दर से बीज उपचारित करें

नर्सरी अवस्था (जून -जुलाई)

  • कार्बनड़ेजिम का  2.5 ग्राम प्रति लीटर की दर से 1 छिड़काव करें

 

प्रत्यारोपण

  • जैव नियंत्रकों  (ट्राईकोडरमा हर्जिअनम और स्यूडोमोनास फ्लोरीसेन्स) के घोल में सीडलिंग डुबो कर उपचारित करें
  • प्रमुख  लेपिदोप्तेरस कीटों की निगरानी फेरोमोन पाश से करें

अगेती वृद्धि की अवस्था (जुलाई -अगस्त)

  • भूमि से उठी पौधशाला में बुवाई करें और पानी के जमा होने से रोकने का प्रबंध करें
  • नीम से बने कीटनाशकों /एस.एल. एन.पी.वी. का प्रयोग कीटनाशकों के प्रभाव को करने के लिए करें
  • स्पोडोप्टेरा लिट्युरा के लार्वों और अण्डों को हाथ से उठायें

 

पछेती वृद्धि की अवस्था (सितम्बर -अक्टूबर)

  • मेन्कोजेब का 2 ग्राम प्रति लीटर की दर से प्रयोग करें

 

शिमला मिर्च

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

करनाल

नर्सरी की स्थापना

  • पौधशाला से उठी नर्सरी बनायें
  • तीन हफ्ते के लगभग पारदर्शी प्लास्टिक से मृदा का तापिकरण करें
  • ट्राईकोडरमा हर्जिअनम मिली हुयी गोबर खाद को नर्सरी की मृदा में मिलाएं
  • कोलर रोट से बचाव के लिए साफ़ फफुन्दिनाशक का प्रयोग करें (बाविस्टिन + मेन्कोजेब)

मुख्य क्षेत्र

  • रोपाई से पहले पौध को स्यूडोमोनास में 5 मिलीलीटर प्रति लीटर की दर से डुबो कर रखें
  • चेपा से बचाव के लिए नीम से बने उत्पादों का छिड़काव करें
  • थ्रिप्स से बचाव के लिए स्पिनोस्द 45 एस सी का छिड़काव करें
  • फल बेधक के लिए फेरोमोन ट्रेप 2 प्रति एकड़ दर से स्थापित करें
  • समय समय पर फल बेधक से बचाव के लिए ट्राईकोग्रामा परजीवी अण्डों को रिलीज करतें रहें
  • फल बेधक से बचाव के लिए एच.ऐ.एन.पी.वी का छिड़काव 250 लीटर प्रति हेक्टेयर की दर से प्रारंभिक अवस्था से ही करें
  • बेधक या गलन से क्षतिग्रस्त या मोसेक वायरस से प्रभावित पौधों को समय समय पर हटाते रहें
  • आवश्यकता अनुसार एफिड के लिए इमिडाक्लोप्रिड, थ्रिप्स के लिए एसिफेट, फल बेधक के लिए इंडोक्साकार्ब  और 0.02% मेन्कोजेब/बाविस्टिन + कप्टान का छिड़काव कालर व स्टेम रोट के लिए करें

चोप्डियाल

 

 

बुवाई से पहले (अप्रैल - मई)

  • बुवाई से 3 हफ्ते पहले 10-15 सेंटीमीटर ऊँचाई की भूमि से उठी बेड्स गोबर की खाद का प्रयोग करके बनायेस व उन्हें पारदर्शी प्लास्टिक से ढक दें

बुवाई (जून)

  • कार्बनड़ेजिम 1 ग्राम प्रति 1 किलोग्राम बीज दर से बीज उपचारित करें

 

नर्सरी अवस्था (जून -जुलाई)

  • स्यूडोमोनास फार्म्युलेशन का 10 ग्राम प्रति लीटर पानी की दर से 1 छिड़काव करें

 

प्रत्यारोपण (जुलाई)

  • जैव नियंत्रकों (ट्राईकोडरमा हर्जिअनम और स्यूडोमोनास फ्लोरीसेन्स) के घोल में सीडलिंग डुबो कर उपचारित करें
  • प्रमुख लेपिदोप्तेरस कीटों की निगरानी फेरोमोन पाश से करें

 

अगेती वृद्धि अवस्था (जुलाई -अगस्त)

  • भूमि से उठी पौधशाला में बुवाई करें और पानी के जमा होने से रोकने का प्रबंध करें
  • नीम से बने कीटनाशकों /एस.एल. एन.पी.वी. का प्रयोग कीटनाशकों के प्रभाव को करने के लिए करें
  • स्पोडोप्टेरा लिट्युरा के लार्वों और अण्डों को हाथ से उठायें

 

पछेती वृद्धि अवस्था (सितम्बर -अक्टूबर)

  • मेन्कोजेब का 2 ग्राम प्रति लीटर की दर से प्रयोग करें
  • कोपर फफूंदीनाशकों का प्रयोग करें

कटाई अवस्था (अक्टूबर)

  • संक्रमित पौधों का उन्मूलन व विनाश करे

 

 

अदरक

स्थान

आई पी एम  मॉड्यूल

पाली और गेंद

 

बुवाई से पहले

  • ट्राईकोडरमा फार्म्युलेशन 250 ग्राम प्रति क्विंटल की दर से गोबर खाद/वर्मी कम्पोस्ट में मिलाएं
  • मृदा संसोधन के लिए क्लोर्पय्रिफोस 80 मिलीलीटर प्रति 200 स्क्वेयर की दर से प्रयोग करें

बुवाई

  • मेन्कोजेब (2.5 ग्राम)+ कार्बनडेजिम(1 ग्राम ) + क्लोरपायरिफोस (2 मिलीलीटर) पानी में 1/2 से 1 घंटे तक बीज उपचारित करें

प्रारंभिक  अवस्था

  • मेन्कोजेब (2 ग्राम)+ कार्बनडेजिम (1 ग्राम ) का छिड़काव करें
  • ट्राईकोडरमा + स्यूडोमोनास (2:1) फार्म्युलेशन का छिड़काव करें
  • व्हाईट ग्रब को हाथ से पकड़ कर खत्म कर दें

कटाई की अवस्था

  • फसल कटाई  के बाद खेत की गहरी जुताई करें
  • छाया में सुखाने व भण्डारण से पहले चुने हुए बीज, मेन्कोजेब (2.5 ग्राम)+ कार्बनडेजिम(1 ग्राम ) + क्लोरपायरिफोस (2 मिलीलीटर) पानी में 1/2 से 1 घंटे  तक उपचारित करें

 

स्त्रोत: राष्ट्रीय समेकित नाशीजीव प्रबंधन अनुसंधान केंद्र



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate