অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

तत्काल धन हस्तांतरण प्रणाली-यूपीआई

तत्काल धन हस्तांतरण प्रणाली-यूपीआई

 यूपीआई सर्विस पर वीडियो देखें

भूमिका

एकीकृत भुगतान इंटरफेस या यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस – यूपीआई) एक ऐसी प्रणाली है जो विभिन्न बैंकों के खातोंयूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेसकी सुविधा(कोई भी जुड़ी हुई बैंक), विभिन्न बैंकों की विशेषताओं, सहज रूप से फण्ड दिलाने व व्यापारियों को भुगतान की सुविधा एक ही मोबाइल एप्लीकेशन के द्वारा सहज उपलब्ध कराता हैI इस एप्प के सहारे ग्राहक आसानी से लेन-देन कर सकते हैं, यह नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा विकसित की गयी पहली कैशलेस सिस्टम है I नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया(एनपीसीआई), ने देश में इसे शुरुआत में पायलट स्तर पर 21 बैंकों से मिलकर की, जिसका उद्घाटन 21 अप्रैल 2016 को रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया के गवर्नर श्री रघुराम जी राजन ने मुंबई में किया था I

यूपीआई  की विशेषता

यह किस प्रकार अलग है ?

  1. इसके द्वारा मोबाइल डिवाइस के माध्यम से चौबीसों घंटे 24 * 7 और 365 दिन रूपए को तत्काल हस्तांतरण किया जा सकता है।
  2. एक मोबाइल एप्प के सहारे विभिन्न बैंक खातों तक पहुँचा जा सकता है I
  3. वैधता प्रमाणीकरण हेतु एक क्लिक - नियामक दिशा निर्देशों के साथ गठबंधन के कारण सिंगल क्लिक की सहज भुगतान सुविधा को मजबूती प्रदान करता है।
  4. भुगतान करते वक्त आपको इंटनेट बैंकिंग लॉग-इन करने की और ओटीपी कोड जुटाने की जरूरत नहीं होगी I यह ऐप आपसे कोई नंबर नहीं मांगेगा और किसी किस्म का कार्ड नंबर, अकाउंट नंबर, आईएफएससी आदि इसमें नहीं देना होगा I
  5. दोस्तों के साथ बिल शेयर किया जा सकता है ।
  6. यह एप्प कैश भुगतान में परेशानी, एटीएम जाकर सही राशि निकालना आदि का उत्तम हल है।
  7. सिंगल एप्प के द्वारा व्यापारी एक ही समय में भुगतान कर सकेंगें ।
  8. विभिन्न प्रयोजनों के लिए दोनों ओर का(पुश व पुल पेमेंट्स) भुगतान निर्धारण संभव हो सकेगा।
  9. उपयोगिता प्रमाण पत्र आधारित भुगतान, काउंटर भुगतान, बारकोड (स्कैन और भुगतान) आधारित  भुगतान होगा।
  10. दान, संग्रहण, संवितरण को मापा जा सकेगा ।
  11. एप्प के सहारे प्रत्यक्ष रूप से शिकायत किया जा सकता है।

यूपीआई  के भागीदार कौन होंगें

 

  • पीएसपी भुगतानकर्ता
  • पीएसपी भुगतेय
  • प्रेषक बैंक
  • लाभार्थी बैंक
  • नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया(एनपीसीआई)
  • बैंक खाताधारक
  • व्यापारी

पारिस्थितिकी तंत्र प्रतिभागियों को लाभ

बैंकों के लिए लाभ

  • सिंगल क्लिक में दो कारको का प्रमाणीकरण
  • लेनदेन के लिए सार्वभौमिक एप्लीकेशन
  • मौजूदा बुनियादी ढांचे का इस्तेमाल
  • सुरक्षित, सुरक्षित और अभिनव(इनोवेटिव)
  • भुगतान के आधार एकल/अनन्य पहचानकर्ता
  • सहज व्यापारी लेनदेन के लिए को सक्षम

अंत ग्राहकों के लिए लाभ

  • 24 घंटे की उपलब्धता
  • सिंगल एप्प विभिन्न बैंक खातों तक पहुँचने के लिए
  • वास्तविक पहचान का इस्तेमाल अधिक सुरक्षित, कागजात का प्रत्यक्ष रूप से शेयर नहीं
  • सिंगल क्लिक प्रमाणीकरण
  • मोबाइल ऐप्लिकेशन से शिकायत स्वयं कर सकेंगें

व्यापारियों को लाभ

  • ग्राहकों से एकल पहचानकर्ता द्वारा सहज निधि संग्रह
  • कार्ड की तरह ग्राहक के वर्चुअल पता संचय के लिए कोई खतरा नहीं
  • क्रेडिट/डेबिट कार्ड नहीं होने वाले ग्राहकों की पकड़
  • ई-कॉम एंड एम-कॉम लेनदेन के लिए उपयुक्त
  • कॉड संग्रह समस्या का निराकरण
  • ग्राहक के लिए सिंगल क्लिक सहज सुविधा
  • इन-ऐप भुगतान (आईएपी)
  • यूपीआई एप्लीकेशन में पंजीकरण हेतु सक्षम होंगें

पंजीकरण की प्रक्रिया

 

  1. यूजर यूपीआई एप्लीकेशन एप्प स्टोर/बैंकों के वेबसाइट से डाउनलोड करें I
  2. यूजर/उपयोगकर्ता अपना/अपनी प्रोफाइल विवरण जैसे नाम, वास्तविक आईडी (भुगतान पता), पासवर्ड आदि दर्ज करें I
  3. यूजर/उपयोगकर्ता इस विकल्प “ऐड/लिंक/मैनेज बैंक अकाउंट” में जाये और बैंक खाता संख्या और वास्तविक आईडी को लिंक करें I

एम पिन बनाना

उपयोगकर्ता बैंक खाते का चयन करें जिसमें अपना/अपनी लेनदेन आरंभ करना चाहते हैं

उपयोगकर्ता एक विकल्प में क्लिक करें

  • अ. मोबाइल बैंकिंग रजिस्ट्रेशन/ एम पिन बनाना
  • ब. चेंज एम पिन

अ की स्थिति में -

  1. यूजर/ उपयोगकर्ता जारीकर्ता बैंक से अपना/ अपनी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ओटीपी प्राप्त करता है
  2. यूजर/उपयोगकर्ता अब 6 अंक वाले डेबिट कार्ड नंबर और एक्सपायरी डेट डालें
  3. यूजर/उपयोगकर्ता ओटीपी डालें और अपना/अपनी पसंद के संख्यात्मक एम पिन (एमपिन जो आप सेट  करना चाहते हैं) और फिर सबमिट में क्लिक करें
  4. सबमिट में क्लिक करने के बाद ग्राहक को अधिसूचना मिलेगी (सफल अथवा असफल)

ब की स्थिति में -

  1. यूजर/उपयोगकर्ता अपने पुराने एम पिन और पसंद के नए एम पिन डालें (एमपिन जो वह सेट करना चाहते हैं) और सबमिट पर क्लिक करें ई
  2. सबमिट में क्लिक करने के बाद ग्राहक को अधिसूचना मिलेगी (सफल अथवा असफल)

यूपीआई  द्वारा लेन देन करना

अ – पुश- धन भेजना वास्तविक पते का प्रयोग करके

  • यूजर/उपयोगकर्ता लॉग करेंगें यूपीआई एप्लीकेशन पर
  • सफल लॉग इन के बाद, यूजर धन भेजें/भुगतान का विकल्प चुनता है
  • यूजर/उपयोगकर्ता लाभार्थी के/प्रदाता के वास्तविक आईडी, राशि और खाते का चयन जिससे राशि डेबिट होगा को डालेगा I
  • यूजर/उपयोगकर्ता को भुगतान विवरण की समीक्षा करने के स्क्रीन में पुष्टिकरण करना होगा और पुष्टि के लिए कन्फर्म में क्लिक करेगा I
  • अब यूजर/उपयोगकर्ता एम पिन डालेगा
  • यूजर/उपयोगकर्ता को सफल या असफल का सन्देश मिलेगा

ब- पुल – पैसा के लिए आवेदन

  • यूजर/उपयोगकर्ता अपने बैंक के यूपीआई एप्प पर लॉग करेंगें
  • सफल लॉग इन के बाद, यूजर/उपयोगकर्ता कलेक्ट मनी के विकल्प को चुनेगा (भुगतान के लिए अनुरोध)
  • यूजर/उपयोगकर्ता दाता के वास्तविक आईडी, राशि और खाता जिससे क्रेडिट होगा विवरण देगा I
  • यूजर/उपयोगकर्ता भुगतान की समीक्षा की पुष्टिकरण स्क्रीन पर करने के लिए कन्फर्म पर क्लिक करेगाI
  • प्रदाता को पैसे के लिए अनुरोध की अधिसूचना अपने मोबाइल पर मिलेगा
  • भुगतानकर्ता अब अधिसूचना पर क्लिक करेंगें और अपने बैंक के यूपीआई एप्प को खोलेंगें जहां वह भुगतान अनुरोध की समीक्षा करेंगें I
  • तब भुगतानकर्ता स्वीकार या अस्वीकार के निर्णय पर क्लिक करेंगें I
  • भुगतान स्वीकृत की स्थिति में, प्रदाता लेन देन को प्राधिकृत करने के लिए एम पिन डालेंगें
  • लेन देन पूर्ण हुआ,  प्रदाता को सफल या असफल लेन देन अधिसूचना प्राप्त होगी
  • भुगतान पानेवाला/ निवेदक को बैंक से उनके बैंक खाते में क्रेडिट के विषय में अधिसूचना और एसएमएस मिलेगा I

स्रोत: नेशनल पेमेंट्स कारपोरेशन ऑफ इंडिया(एनपीसीआई)



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate