অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

पश्चिम बंगाल

पश्चिम बंगाल में ई-शासन पहल

पश्चिम बंगाल सरकार ने ई-शासन के भाग के रूप में राज्य के विभिन्न सरकारी विभागों एवं निदेशालयों में कंप्यूटरीकरण की महत्वपूर्ण प्रक्रिया शुरू की है। इसमें - वित्त, श्रम, परिवहन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, भूमि व भू -सुधार, आइ एंड सीए, पर्यटन, वन, युवा सेवाएँ, नगरपालिका मामले, उच्च शिक्षा, पर्यावरण, आवास आदि विभाग शामिल हैं।

भूमि अभिलेखों के कंप्यूटरीकरण की पायलट परियोजना जो बर्दवर्दमान जिले में शुरू की गई थी उसका विस्तार राज्य के सभी जिलों में कर दिया गया है। राज्य के 341 प्रखंडों में से 238 का कंप्यूटरीकरण  कार्य पूरा हो चुका है। अब भूमि नक्शा के डिजिटीकरण की प्रक्रिया शुरू की गई है। विशेषकर, राज्य के हुगली जिले में भूमि नक्शा के डिजिटीकरण का कार्य शुरू किया गया है। भूमि संबंधी अधिग्रहण मामले को शीघ्र गति से निपटारे के लिए भू-अधिग्रहण सूचना प्रणाली हाल में ही विकसित की गई है। यह प्रणाली सूचना, घोषणा, भूमि अनुसूची, आँकलन निर्माण जैसे विभिन्न प्रतिवेदन शीघ्र व प्रभावी रूप से तैयार करता है। राजरहट में नवीन टाउनशिप परियोजना के लिए भूमि अधिग्रहण मामले में इस प्रणाली की जाँच की जा रही है।

टेली मेडिसीन : मिदनापुर

टेली मेडिसीन एक उपभोक्ता उन्मुखी उच्च प्रौद्योगिकीयुक्त प्रणाली है जो संकटग्रस्त मरीजों के लिए उपयोगी है। पुरुलिया जिला अस्पताल को एन.आर.एस. मेडिकल कॉलेज, बर्द्धवान मेडिकल कॉलेज के साथ जोड़ा गया है। यहाँ पर मरीजों के स्वास्थ्य की सारी जानकारी या इतिहास उच्चतर केन्द्रों को इंटरनेट सुविधा के माध्यम से भेजा जाता जबकि दवा का विवरण यहाँ भेजने वाले अस्पताल के माध्यम से भेजा जाता है। यदि जरूरी हो तो, मरीज एवं उसे भेजने वाले अस्पताल के स्वास्थ्य अधिकारी मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञ से वीडियो काँन्फ्रेन्सिंग सुविधा एवं इंटरनेट के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं।

स्मार्ट कार्ड

पश्चिम बंगाल देश में भारत सरकार के सड़क परिवहन एवं राजपथ मंत्रालय के स्मार्ट कार्ड आधारित ड्राइविंग लाइसेंस एवं निबंधन प्रमाणपत्र सारथि व वाहन  का प्रयोग कर, पूरे देश में परिवहन अनुप्रयोग में समानता लाने के निर्देश को लागू करने वाला प्रथम राज्य बन गया है। राज्य सरकार के लिए प्रणाली वेबेल टेक्नोलॉजी ने विकसित किया है।

स्मार्ट कार्ड में एक छोटा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो क्रेडिट कार्डके आकार का है जो अपने भीतर अन्तःस्थापित माइक्रोप्रोसेसर - स्मार्ट कार्ड अपने में समाहित रखता है। जो अपने भीतर डाटा/सूचना के साथ बहुत बार संभावित कुछ भी लिखने व पढ़ने की सूचना रखने में सक्षम होता है।

स्मार्ट कार्ड प्रदान है :

  • सूचना को पुनः प्राप्त करना आसान
  • वाहक के साथ स्व मार्गनिर्देशन/डाटा/लेन देन प्रवाह
  • संशोधित कानून प्रवर्तन पर उच्च सुरक्षा
  • मापने योग्य व अन्तःलेनदेन वाली प्रणाली
  • कर/जुर्माना के भुगतान के बाद कार्ड को अद्यतन करवाना आसान
  • दोहराव एवं जालसाजी पर पूर्ण रोकथाम
  • पूरे देशभर में अन्तः कार्यप्रणाली

देखें स्मार्ट कार्ड के बारे में अधिक जानकारी के लिए।

सरकारी विभागों का कंप्यूटरीकरण

वेबेल टेक्नोलॉजी पश्चिम बंगाल सरकार के तीन सामान्य अनुप्रयोगों -विभागों के बीच आने-जाने वाले फाइलों का निर्देशन, विभागीय व्यैक्तिक सूचना प्रणाली की स्थापना एवं विभिन्न सरकारी विभागों  में निधि के आवंटन का निरीक्षण के कंप्यूटरीकरण कार्यक्रम को कार्यान्वित करने की प्रक्रिया में है।  इन 16 विभागों - वित्त, श्रम, परिवहन, पंचायत एवं ग्रामीण विकास, भूमि व भू -सुधार, आइ एंड सीए, पर्यटन, वन, युवा सेवाएँ, नगरपालिका मामले, उच्च शिक्षा, पर्यावरण, आवास विभाग में  इस प्रणाली को शुरू करने के लिए पहचान की गई है।

नगरपालिका के लिए भौगोलिक सूचना प्रणाली

वेबल ने राज्य के 10 नगरपालिका में भौगोलिक सूचना प्रणाली कार्यान्वित की है। पुजाली, कुर्सियांग, बुडगे -बुडगे, कलीमपोंग एवं बिधान नगर नगरपालिका के लिए स्थानिक या आकाशीय डाटा सर्वेक्षण एवं भौगोलिक सूचना प्रणाली कार्यान्वयन का काम पूरा किया जा चुका है।

सूचना कियोस्क या वेबसाइट के माध्यम से सार्वजनिक सेवाएं

पश्चिम बंगाल सरकार का आधिकारिक वेबसाइट नागरिकों को सरकारी पहल एवं अन्य उपयोगी सूचनाएँ उपलब्ध कराता है। वेबेल ने सूचना कियोस्कके माध्यम से पब्लिक इंटरफेस एवं  विभिन्न सरकारी विभागों के लिए वेबसाइट  विकसित किया है।

उच्च शिक्षा विभाग

वेबेल नें विभागों के लिए डाटाबेस भी विकसित किया है जिसे टच स्क्रीन एवं आइ.वी.आर. के साथ उसके वेबसाइट एवं कियोस्कके माध्यम से उपयोग किया जा सकता है। यह उन छात्रों के लिए बहुत अधिक मददगार होगा जो कॉलेजों में विभिन्न संकाय में नामांकन लेना चाहते हैं।

पर्यटन विभाग

वेबल ने पर्यटन विभाग के लिए एक वेबसाइट एवं टच स्क्रीन सूचना कियोस्क विकसित किया है जो पर्यटकों को के रुचि के अनुरूप विस्तृत सूचनाएँ उपलब्ध कराता है। यह घरेलू एवं विदेशी सभी आगुन्तकों के लिए बहुत ही उपयोगी  है। वेबेल ने पश्चिम बंगाल पर्यटन विकास निगम के लिए पर्यटक लॉज एवं अन्य पर्यटक सेवाओं के आरक्षण के लिए वेब आधारित अनुप्रयोग लागू किया है।

सूचना एवं सांस्कृतिक मामले विभाग

वेबेल नें टच स्क्रीन आधारित एक सूचना कियोस्क विकसित किया है जो नागरिकों को जनोपयोगी सेवाएँ उपलब्ध कराता है। साथ ही, वेबेल ने बिधाननगर नगरपालिका के लिए सूचना कियोस्क एवं वेबसाइट विकसित किया है जहाँ से विभिन्न आवेदन फार्म एवं शिकायत से संबंधित अन्यफार्म डाउनलोड कर सकते है।

कनेक्टिविटी

वेबेल ने अपने इंटरनेट सेवा प्रदाता सेवा के माध्यम से राज्य भर के सामान्य लोगों के साथ कार्पोरेट घरानों, शैक्षिक संस्थानों, अस्पताल एवं अन्य संस्थाओं को बहुत ही किफायती कीमत पर उच्च गति वाला इंटरनेट बैंड्सविड्थ उपलब्ध कराता है। यह सेवा ग्रामीण क्षेत्रों में भी फैला हुआ है जो सामाजिक एवं आर्थिक स्थिरता एवं अवसर, सीखने के नये चैनल, सरकार के साथ उत्कृष्ट संचार एवं स्वास्थ्य एवं कल्याण सेवा में सुधार लाने का कार्य कर रहा है।   इसे हम ग्रामीण भारत को शहरी भारत के पीछे की चलने के क्षेत्र में पहला कदम के रूप में देखते हैं। इसमें टेली मेडिसीन, ई-शासन, मनोरंजन के साथ-साथ उच्चगति के सूचना एवं वेब आधारित संचार का प्रयोग कर रोजगार सृजन भी शामिल है।

कोलकाता पुलिस इंट्रानेट व कंप्यूटर नेटवर्क

पश्चिम बंगाल सरकार के कोलकाता पुलिस विभाग ने वेबेल टेक्नोलॉजी विभाग को कोलकाता पुलिस के 45 पुलिस स्टेशन, 5 डिविजन कार्यालय एवं बटालियन व एसी के 30 अन्यकार्यालयों को कंप्यूटरीकरण का कार्य सौंपा है ताकि थाना कार्यालयों व बटालियन में उसके वर्तमान ऑपरेशन में सुधार लाया जाए, अधिक प्रभावी ढंग से अपराध नियंत्रण किया जाए एवं लाल बाजार  स्थित उच्च अधिकारियों के साथ पूरे पुलिस बल के सभी ऑपरेशन के बारे में सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जा सके। साथ ही, वेबल को पुलिस कार्मिकों के लिए अनुप्रयोग सॉफ्टवेयर विकसित करने की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है।

पश्चिम बंगाल स्टेट वाइड एरिया नेटवर्क

पश्चिम बंगाल स्टेट वाइड एरिया नेटवर्कपूरे राज्यभर में डाटा, शब्द एवं वीडियो संचार के लिए आधारभूत नेटवर्क है। इस सरकारी इंट्रानेट के माध्यम से सरकार के ई-शासन गतिविधियों का संपादन किया जाएगा जो इंटरनेट प्रोटोकोल पर आधारित होगा।

पश्चिम बंगाल स्टेट वाइड एरिया नेटवर्ककी मुख्य विशेषताएँ :

  • पश्चिम बंगाल स्टेट वाइड एरिया नेटवर्ककोलकाता स्थित राज्य स्विचिंग केन्द्र से डाटा, आवाज व वीडियो संचार सुविधा की कनेक्टिविटी राज्य के सभी जिला मुख्यालयों के साथ-साथ कुछ महत्वपूर्ण नगरों को बी.एस.एन.एल. के 2 एम.बी.पी.एस. (ई-1 लिंक) लीज लाइन के माध्यम से प्रदान करता है।
  • सभी प्रखंड मुख्यालय को जिला मुख्यालय से 64 के.बी.पी.एस. लीज लाइन बैंडविड्थ (इसका उन्नयन कर 22 एम.बी.पी.एस. किया जाएगा) के माध्यम से जोड़ा जाएगा।
  • पश्चिम बंगाल स्टेट वाइड एरिया नेटवर्कके विस्तार के बाद वाले चरण में कुछ चुने हुए पंचायतों को प्रखंड मुख्यालयों से जोड़ा जाएगा।
  • कोलकाता स्थित बहुबिंदु कांन्फ्रेंसिंग ईकाई (Multipoint Conferencing Unit) के माध्यम से राज्य की राजधानी  के साथ साथ जिला मुख्यालयों में वीडियो कांन्फ्रेंसिंग व बहु कांन्फ्रेंसिंग सुविधा उपलब्ध है।
  • सभी स्तरों पर कनेक्टिविटी के समानांतर फैलाव के लिए प्रावधान।

पश्चिम बंगाल राज्य वाइड एरिया नेटवर्कसेवा व अनुप्रयोग:

  • इस इंट्रानेट का लक्ष्य है सरकारी विभागों /निदेशालयों के साथ साथ पश्चिम बंगाल के प्रत्येक विभाग/निदेशालय के विभिन्नकार्यालयों  के बीच अखंड कनेक्टिविटी प्रदान करना है।
  • सरकारी अनुप्रयोग सेवा प्रदाता परियोजना इस नेटवर्क पर आधारित होगा।
  • सरकार-नागरिक एवं सरकार -उद्योग इंटरफेस में सुधार के साथ साथ प्रभावी, सक्षम एवं पारदर्शी प्रशासन के लिए सरकार के भीतर प्रभावी सूचना सुनिश्चित प्रवाह को सुनिश्चित करना।

देखें पश्चिम बंगाल राज्य वाइड एरिया नेटवर्क सेवा के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए।

ब्रेलएड

पश्चिम बंगाल नेत्रहीन स्कूलों के लिए सूचना प्रौद्योगिकी समर्थित ब्रेल शिक्षा एवं संरचना के संवर्धन परियोजना के अंतर्गत वेबेल मीडियाट्रॉनिक्स लिमिटेड राज्य के 27 विशेष स्कूल एवं 2 पुस्तकालयों के सूचना प्रौद्योगिकी आधारित ब्रेल शिक्षा संरचना विकसित कर रहा है।

यह परियोजना भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी विभाग (संचार व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय), पश्चिम बंगाल सरकार एवं सार्वजनिक शिक्षा प्रसार विभाग (पश्चिम बंगाल सरकार) द्वारा संपोषित है।

संरचना विकास

  • देशभर के 70 नेत्रहीन संस्थानों में विकसित प्रौद्योगिकी एवं इंटरनेट कनेक्शन को स्थापित करने के बाद वेबेल मीडियाट्रॉनिक्स दृष्टिहीनों के लिए सूचना प्रौद्योगिकी आधारित ब्रेल शिक्षा  का राष्ट्रव्यापी नेटवर्क संरचना स्थापित करने को है।
  • ये संस्थाएं ब्रेल शिक्षा देती एवं स्कूल एवं स्कूल से बाहर के दृष्टिहीनों को ब्रेल पढ़ाई सामग्री प्रदान करती है।
  • एकीकृत स्कूल एवं कॉलेज में पढ़ने वाले दृष्टिहीन व्यक्ति इन केन्द्रों से मुद्रित अध्ययन सामग्री प्राप्त कर सकते या इन केन्द्रों पर स्थित इलेक्ट्रॉन पुस्तकालय का उपयोग कर सकते हैं।
  • हालांकि ये केन्द्र अपना स्व्यं संसाधन सृजित या बना रहे हैं लेकिन इसे इंटरनेट अन्य लोगों के आपास में आदान-प्रदान व उपयोग करेंगे। इस तरह, सामान्य रूप से राष्ट्रव्यापी उपयोग होने वाला ब्रेल संसाधन विकसित होगा।

देखें ब्रेलएड के बारे में ज्यादा जानकारी के लिए।

पश्चिम बंगाल में प्रदान की जा रही अन्य ई-शासन सेवाओं का जानने के लिए देखें-
http://negp.gov.in/service/finalservices.php?st=-2:28&cat=-2:1

स्त्रोत

संबंधित संसाधन



    © 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
    English to Hindi Transliterate