অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

शैशवावस्था : शारीरिक, पेशीय एवं स्नायविक विकास

शैशवावस्था : शारीरिक, पेशीय एवं स्नायविक विकास

  • आदतीकरण एवं अनादतीकरण
  • इस भाग में शिशु के आयु वृद्धि के साथ – साथ अनुकरण करने की क्षमता बढ़ती जाती है| लेकिन अपरिपक्वा शिशु के जन्म के साथ साथ बहूत सारी कठिनाइयाँ भी उत्पन्न होती है।

  • गत्यात्मक विकास
  • इस भाग में शिशुओं के उछलना, घुटने के बल चलना खिसकना, आदि का जगह विशेष पर से भी प्रभाव पड़ता है इस बात उल्लेख किया गया है।

  • नवजात का व्यवहारपरक मूल्यांकन
  • इस भाग में शिशु के व्यवहारगत विशेषताएँ वैयक्तिक एवं सांस्कृतिक भिन्नताओं की जानकारी दी गयी है|

  • नवजात की क्षमताएँ
  • इस भाग में शिशु के नये नये व्यवहार का उल्लेख किया गया है ।

  • नवजात शिशु की चेष्टाएँ
  • इस पूरे भाग में शिशु के क्रमिक विकास के anअंतर्गत शिशु के दूध पीने की क्रियाएँ बाल रूदन के मनोवैज्ञानिक कारण इस सब की जानकारी दी गयी है|

  • नवजात शिशु की विविध दशाएँ
  • इस भाग में शिशु के शारीरिक संरचनाओं के विकास का उल्लेख किया गया है।

  • नवजात शैशवावस्था (जन्म से एक माह तक)
  • इस भाग में शिशु के जन्म से एक माह तक विकास की गति के बारे में जानकारी दी गयी है|

  • भावात्मक एवं शारीरिक देखभाल
  • इस भाग में अपरिपक्व शिशु में अनेक प्रकार की शारीरिक, मानसिक एवं व्यवहारपरक समस्याएं पायी जाती हैं| इसका प्रभाव उसके भावी विकास पर होता है।

  • मस्तिष्क का विकास
  • इस भाग में शिशुओं के मस्तिष्क के विकासात्मक चरण की जानकारी दी गयी है|

  • शारीरिक अनुपात में परिवर्तन
  • शैशवावस्था एवं बाल्यावस्था में लड़के/लड़कियों के शारीरिक अनुपात के बारे में उल्लेख किया गया है|

  • शारीरिक आकार में परिवर्तन
  • इस भाग में शिशुओं की वृद्धि का उल्लेख किया गया|

  • शारीरिक विकास
  • इस भाग में शिशुओं के लम्बाई, वजन, दांतों का उगना, चलना आदि होने वाले परिवर्तनों के बारे में बताया गया |

  • शारीरिक विकास के चार प्रमुख चरण
  • इस भाग में शिशुओं स्नायुविक संस्थानों का विकास गर्भावस्था में एवं जन्म के बाद तीन चार वर्षों तक तीव्रतम गति से होता है इस तथ्य की जानकारी दी गयी है|

  • शारीरिक विकास पर विभिन्न कारकों का प्रभाव
  • इस भाग में शिशुओं के शारीरिक विकास में शारीरिक तत्व के साथ बाहरी तत्व भी प्रभावित करते है का उल्लेख किया गया है|

  • शारीरिक संयोजन में परिवर्तन
  • शिशुओं के आयु वृद्धि के साथ शरीर की मांसपेशियों एवं हड्डियों के विकास बारे में उल्लेख किया गया है|

  • शैशवावस्था (1 माह – 2 वर्ष तक) : शारीरिक, गत्यात्मक एवं स्नायविक विकास
  • इस भाग में शिशुओं के महत्वपूर्ण परिवर्तनों का उल्लेख किया गया है |

  • स्नायविक विकास
  • इस भाग में शिशुओं के तंत्रिका तंत्र एवं स्नायु तंत्र के विकास का उल्लेख किया गया है|

    © 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
    English to Hindi Transliterate