অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

झारखण्ड के स्वास्थ्य विभाग में केंद्रीय एवं राज्य योजनाओं की विवरणी

झारखण्ड के स्वास्थ्य विभाग में केंद्रीय एवं राज्य योजनाओं की विवरणी
  1. योजना / कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (NRHM)
  2. योजना / कार्यक्रम का नाम - मातृत्व शिशु स्वास्थ्य योजना आर. सी. एच. कार्यक्रम
  3. योजना/ कार्यक्रम का नाम - मुख्य मंत्री जननी योजना
  4. योजना/ कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय रोगवाहक (वेक्टर) जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम
  5. योजना/ कार्यक्रम का नाम - अंधापन नियंत्रण कार्यक्रम
  6. योजना/ कार्यक्रम का नाम - कुष्ठ नियंत्रण कार्यक्रम
  7. योजना/ कार्यक्रम का नाम - एड्स नियंत्रण कार्यक्रम
  8. योजना/ कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय यक्ष्मा नियंत्रण कार्यक्रम
  9. योजना/ कार्यक्रम का नाम - तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम
  10. योजना/ कार्यक्रम का नाम - ओ.एस.डी. बीमारी सहायता निधि
  11. योजना/ कार्यक्रम का नाम - परिवार नियोजन कार्यक्रम
  12. योजना/ कार्यक्रम का नाम - कैचअप राउंड कार्यक्रम
  13. योजना/ कार्यक्रम का नाम - पल्स पोलियो कार्यक्रम
  14. योजना/ कार्यक्रम का नाम - एनीमिया नियंत्रण कार्यक्रम

योजना / कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (NRHM)

उद्देश्य - ग्रामीण क्षेत्रों में कारगर, वहन योग्य दायित्तवपूर्ण जन स्वास्थ्य प्रणाली लागू करना |

मुख्य बिन्दु / विशेषताएं -

• 80:20 (केन्द्रांश: लाभांश)|

• ग्राम स्वास्थ्य कार्यक्रम का निर्माण |

• प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, उपस्वास्थ्य केन्द्रों तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों का प्रबंधन |

• प्रतिरक्षण कार्यक्रम |

• पाँच वर्ष से कम के बच्चों का मृत्यु-दर, कुल प्रजनन दर तथा मातृत्व मृत्यु-दर करना|

• लोगों को समेकित स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराना|

• लिंग भेद तथा जनांकिकीय असमानता दूर करना |

• संक्रामक एवं असंक्रामक  रोगों की रोकथाम |

• भारतीय जन स्वास्थ्य मानक (IPHS) के अनुसार जन स्वास्थ्य प्रणाली |

• कार्यक्रम में ए.एन.एम, आंगनबाड़ी सेविका , प्रभारी चिकित्सा प्रदिधाकारी, तथा सहिया (प्रशिक्षित महिला स्वास्थ्यकर्मी) की महत्वपूर्ण भूमिका |

• सार्वजानिक टीकाकरण |

• चलन्त चिकित्सा इकाई का संचालन |

• सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, स्वास्थ्य उपकेन्द्र की व्यवस्था |

• जिला ग्राम प्रखण्ड, ग्राम स्तर पर स्वास्थ्य समितियों का गठन |

सम्पर्क- ए.एन.एम., आंगनबाड़ी सेविका, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी तथा सहिया (प्रशिक्षित महिला स्वास्थ्यकर्मी) से सम्पर्क करना चाहिए|

योजना / कार्यक्रम का नाम - मातृत्व शिशु स्वास्थ्य योजना आर. सी. एच. कार्यक्रम

उद्देश्य - पाँच वर्ष से कम के बच्चों का मृत्यु-दर तहत मातृत्व मृत्यु-दर कम करना|

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं -

  • प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल के तहत कार्यक्रम |
  • प्रतिरक्षण कार्यक्रम के तहत गर्भवती महिलाओं को टी.टी के नि:शुल्क वितरण |
  • संस्थागत प्रसव का प्रोत्साहन |
  • आयरन फोलिक एसिड दवा का नि:शुल्क वितरण |
  • एक वर्ष के बच्चों तक का नियमित टीकाकरण |
  • टीकाकरण के लाभार्थी तथा उत्प्रेरकों को क्रमश: 2 तथा 1 रुपये की प्रोत्साहन राशि |
  • प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, स्वास्थ्य उपकेन्द्र तथा आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंजीकरण तथा गर्भकाल में आर्थिक सहायता राशि |
  • प्रसवपूर्व एवं प्रसवोपरांत समुचित देखभाल |

सम्पर्क - ए.एन.एम., तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से सम्पर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - मुख्य मंत्री जननी योजना

उद्देश्य - गर्भवती महिला एवं शिशु के स्वास्थ्य, प्रतिरक्षण एवं पोषण में वृधि कर मातृ-मृत्यु दर तथा शिशु मृत्यु दर कम करना |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, स्वास्थ्य उपकेन्द्र तथा आंगनबाड़ी केन्द्रों में पंजीकरण |

• पंजीकृत गर्भवती महिलाओं को 100 रू नगद देय |

• द्वितीय ए एन सी के समय 400 रू तृतीय  एन सी के समय 900 का कूपन संस्थागत प्रसव हेतु दिया जाता है |

• प्रसवावस्था में 150 रू तथा प्रसवोपरांत बी.सी.जी टीकाकरण के बाद 200 रू नगद देय |

• सहिया या गर्भवती महिला को अस्पताल / संस्थान ले जाने हेतु वाहन व्यवस्था के लिए 250 रू देय |

• घेरलू प्रसव प्रकरण में गरीबी रेखा से नीचे की गर्भवती महिलाओं (19 वर्ष से अधिक) को 500 रू नगद देय (अधिकतम 2 बच्चों तक लाभ)

• स्वास्थ्य केन्द्रों, स्वास्थ्य उप केन्द्रों, सरकारी अस्पतालों, गैर-सरकारी सस्थाओं तथा चुनिंदा निजी अस्पतालों की सहभागिता |

• बच्चों के टीकाकरण हेतु टीकाकरण कार्ड |

सम्पर्क - ए.एन.एम, आंगनबाड़ी सेविका तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय रोगवाहक (वेक्टर) जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - रोगवाहक (वेक्टर) जानती रोग का इलाज सुनिश्चित करना तथा इसके संबंध में जागरूकता |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• रक्त नमूने का परिक्षण |

• मलेरिया प्रकोप क्षेत्रों में डी.डी.टी. का छिडकाव तथा मछरदानी का वितरण |

• फाईलेरिया, डेंगू, कालाज्वार तथा मलेरिया उपचार हेतु दवा का वितरण |

सम्पर्क - ए.एन.एम, आंगनबाड़ी सेविका तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से सम्पर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - अंधापन नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य – मोतियाबिंद ग्रसित नेत्र रोगीओं का उपचार |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• जिला अंधापन नियंत्रण व स्वयंसेवी संस्थानों द्वारा नि:शुल्क मोतियाबिंद आप्रेशन का शिविर आयोजन |

• आवश्यकतानुसार मोतियाबिंद आप्रेशन उपरांत चश्मे का नि:शुल्क वितरण |

सम्पर्क – सिविल सर्जन तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से संपर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - कुष्ठ नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - कुष्ठ रोगीओं का इलाज तथा इसके प्रसार को रोकना |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• खोजी अभियान द्वारा कुष्ठ रोगीओं की पहचान तथा नि:शुल्क इलाज |

• प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, स्वास्थ्य उपकेंद्रों में कुष्ठ रोग की जाँच |

• एम. डी. टी. की दवा का नि:शुल्क वितरण |

सम्पर्क

ए.एन.एम. तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से संपर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - एड्स नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - एच.आई.वी./ एड्स बीमारी की रोकथाम प्रसार नियंत्रण हेतु जन जागरूकता |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• चुनिंदा अस्पतालों में गोपनीयता के साथ एच.आई.वी. का रक्त जाँच द्वारा परिक्षण |

• जागरूकता अभियान |

• स्वयंसेवी संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका |

सम्पर्क – ए.एन.एम., आंगनबाड़ी सेविका, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी, तथा सहिया (प्रशिक्षित महिला स्वास्थ्यकर्मी) से सम्पर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - राष्ट्रीय यक्ष्मा नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - यक्ष्मा रोग का पहचान, उपचार तथा प्रसार रोकना |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

प्रत्येक पाँच लाख की आबादी पर एक ट्यूबरक्लोसिस यूनिट, एक लाख की आबादी पर एक डी.एम.सी. की व्यवस्था |
रोगियों की बलगम की नि:शुल्क जाँच |
नि:शुल्क दवा वितरण |

सम्पर्क - ए.एन.एम., डी.एम.सी. पर्यवेक्षक तथा प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से संपर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - तम्बाकू पान निषेध, उपचार व प्रसार-प्रचार

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• तम्बाकू, पान, गुटखा के सेवन से होने वाली हानियों के प्रति जागरूकता |

• तम्बाकू छोड़ने के उपाय |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - ओ.एस.डी. बीमारी सहायता निधि

उद्देश्य - असाध्य रोगियों को चिक्तिसा हेतु सहायता राशि |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं -

• गरीब रेखा से नीचे बसर करने वाले ओ.एस.डी. बीमारी के लिए सहायता |

• ओ.एस.डी. बीमारी सहायता निधि समिति द्वारा संचालित |

• रू 1.5 लाख तक की राशि अनुदान स्वरुप |

सम्पर्क - ए.एन.एम. प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी से संपर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - परिवार नियोजन कार्यक्रम

उद्देश्य - परिवार नियोजन द्वारा जनसंख्या नियंत्रण |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं -

• परिवार नियोजन के अस्थायी एवं स्थायी उपाय |

• अस्थायी उपायों में आई, यू. डी., गर्भ निरोधक गोलिओं, निरोध के उपयोग पर बल |

• स्थायी उपायों में आई.यु.डी. गर्भ निरोधक गोलियां, निरोधक के उपयोग पर बल |

• स्थायी उपायों में महिला बंध्याकरण, पुरुषों में नसबंदी (एन.एस.वी) का प्रावधान |

• महिला बंध्याकरण हेतु महिलाओं को 600 रू तथा उत्प्रेरकों को 150 तथा पुरुष नसबंदी को पुरुष को 1100 रू तथा उत्प्रेरक को 200 रू की प्रोत्साहन राशि देय|

• परिवार कल्याण हेतु समय-समय पर शिविरों का आयोजन |

• प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, अस्पतालों, सिविल सर्जन कार्यालय में सुविधा |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - कैचअप राउंड कार्यक्रम

उद्देश्य - स्वास्थ्य सेवा का आच्छादन बढ़ाना |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• महिला एवं बच्चों पर बल|

• बच्चों के लिए बी.सी.जी., डी.पी.टी., ओ.पी.वी.(पोलियो), खसरा, विटामिन ए, कृमि नाशक गोलिओं का प्रावधान |

• गर्भवती तथा महिलाओं टी.टी. के दो टीके, आयरन, की गोलियां तथा, नाशक गोलियों का प्रावधान |

• बुखार के रोगियों के लिए मलेरिया हेतु रक्त जाँच तथा 3 हफ्ते से ज्यादा खांसी होने पर टी.बी. की जाँच का प्रावधान |

• ए.एन.एम. आंगनबाड़ी सेविका, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी की महत्वपूर्ण भूमिका है |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - पल्स पोलियो कार्यक्रम

उद्देश्य - पोलियो को जड़ से मिटाना |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• 0-5 वर्ष के सभी बच्चों को निश्चित दिन पोलियो की दो बूंद निशुल्क पिलाई जाती है |

• पल्स पोलियो अभियान के तहत कार्यक्रम का सम्पादन

सम्पर्क – ए.एन.एम., आंगनबाड़ी सेविका, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी/ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र / प्राथमिक उपस्वास्थ्य केंद्र तथा सहिया (प्रशिक्षित महिला स्वास्थ्यकर्मी) से सम्पर्क करना चाहिए |

योजना/ कार्यक्रम का नाम - एनीमिया नियंत्रण कार्यक्रम

उद्देश्य - किशोरी बालिकाओं के स्वास्थ्य पर बल |

मुख्य बिन्दु/ विशेषताएं –

• 10-19 वर्ष की किशोरियों में एनीमिया (हिमोग्लोबिन की कमी) को दूर करना |

• प्रत्येक सप्ताह लौह तत्व युक्त गोली (आयरन फोलिक एसिड) का नि:शुल्क वितरण |

सम्पर्क - ए.एन.एम., आंगनबाड़ी सेविका, प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी तथा सहिया (प्रशिक्षित महिला स्वास्थ्यकर्मी) से सम्पर्क करना चाहिए |

 

स्त्रोत: झारखण्ड सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate