অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

कुशल मंगल कार्यक्रम

कुशल मंगल कार्यक्रम

कुशल मंगल कार्यक्रम क्या है ?

उत्तर - कुशल मंगल कार्यक्रम हाईरिस्क प्रेगनेन्सी के चिन्हिकरण, लाइनलिस्टिंग, उपचार एवं फोलोअप की एक समेकित योजना है।

एएनसी और कुशल मंगल कार्यक्रम

सामान्य एएनसी में और कुशल मंगल कार्यक्रम में क्या फर्क है ?

उत्तर - सामान्य एएनसी में एएनएम द्वारा सामान्य गर्भवती महिला की चार एएनसी जांच की जाती है,जबकि कुशल मंगल कार्यक्रम के अन्तर्गत उच्च जोखिम वाली गर्भवती महिलाओं को एएनएम द्वारा चिन्हित कर स्त्रीरोग विशेषज्ञ / चिकित्सा अधिकारी से परामर्श उपरान्त उनका स्वास्थ्य प्रबंधन किया जाता है।

एचआरपी

एचआरपी क्या होती है ?

उत्तर - ऐसी गर्भवती महिलाएं जिनमें गर्भावस्था काल में कुछ जटिलताएं होती है जिनके कारण माँ एवं शिशु की जान को खतरा हो सकता है ऐसी गर्भवती महिलाओं को एचआरपी कहा जाता है।

एचआरपी की पहचान कहां व कौन करेगा ?

उत्तर - एचआरपी का चिन्हिकरण उप स्वास्थ्य केन्द्र स्तर पर एएनसी जांचों के दौरान कर संबंधित प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सा अधिकारी से आवश्यक जांच करवाकर एचआरपी की पुष्टि की जायेगी।

लाल व पीले स्टीकर

लाल व पीले स्टीकर में क्या अन्तर होता है ?
उत्तर - जैसे ही गर्भवती महिला एचआरपी चिन्हित होगी उसके ममता कार्ड पर एनिमिया के लिए लाल स्टीकर एवं अन्य जटिलताओं के लिए पीला स्टीकर चिपकाया जायेगा यदि गर्भवती महिला में दोनो जटिलताएं है तो दोनो स्टीकर चिपकाते हुए दिनांक अंकित करे।

एक एएनएम के क्षेत्र में कितनी एचआरपी होने की संभावना है ?
उत्तर- लगभग 3000 आबादी वाले क्षेत्र में किसी भी समय लगभग 70-75 गर्भवती महिलाएं उपलब्ध होगी इनमें से 10 प्रतिशत की दर से 7-8 एचआरपी हो सकती है।

एएनसी जांच

एएनएम को एएनसी में क्या करना है ?

उत्तर - एएनएम को एएनसी जांच के दौरान न्यूनतम 4 जांचे यथा वजन, बीपी, हिमोग्लोबिन, यूरिन, कद एवं पेट की जांच अवश्य करनी है।

एएनसी कब-कब करानी है ?

उत्तर - चिकित्सक/विशेषज्ञ की सलाहानुसार एवं उनके द्वारा दी गई दिनांक पर आवश्यक रूप से अतिरिक्त एएनसी जांच करानी है।

आशा के कार्य

आशा को एएनसी में क्या करना है ?

उत्तर - आशा को अपने क्षेत्र की सभी गर्भवती महिलाओं को एमसीएचएन सत्र पर एएनएम बहनजी से एएनसी जांच कराने हेतु प्रोत्साहित करना।

चिकित्सा अधिकारी के कार्य

चिकित्सा अधिकारी क्या करेगे ?

उत्तर - एएनएम द्वारा एएनसी जांच के दौरान चिन्हित की गई एचआरपी की सभी आवश्यक जांचे कर एचआरपी की पुष्टि करना, आवश्यकतानुसार उपयुक्त उच्च चिकित्सा संस्थान पर विशेषज्ञ/स्त्रीरोग विशेषज्ञ से जांच व उपचार कराने हेतु रेफर करना, उपचार प्राप्त करने उपरान्त एएनएम से व्यक्तिशः सम्पर्क कर रिकॉर्ड को एचआरपी रजिस्टर में संधारित करना एवं प्रसवोत्तर प्रसूता एवं नवजात शिशु का एएनएम द्वारा फोलोअप करवाना।

आयरन सुक्रोज

आयरन सुक्रोज कब, कहां व कौन लगायेगा ?

उत्तर - चिकित्सक/ विशेषज्ञ की सलाहनुसार किसी भी दिवस कैम्प की प्रतीक्षा किये बिना प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एवं इससे उच्चतर संस्थानों पर आयरन सुक्रोज निशुल्क लगवाया जा सकता है।

आयरन सुक्रोज कब-कब लगेगा ?

उत्तर - आयरन सुक्रोज की मुख्य चार डोज दो-चार दिन के अन्तराल पर दो सप्ताह के अन्दर लगायी जायेगी।

एचआरपी का फोलोअप

एचआरपी का फोलोअप कैसे किया जायेगा ?

उत्तर - एचआरपी फोलोअप के तीन स्तर होगे-

  • प्रसव पूर्व - चिकित्सक की सलाह एवं आवश्यकतानुसार एएनएम द्वारा फोलोअप किया जाएगा।
  • 104 कॉल सेन्टर द्वारा - चिन्हित एवं लाइनलिस्टेड एचआरपी को 104 कॉल सेन्टर के माध्यम से दूरभाष से ।
  • प्रसव पश्चात् - आशा द्वारा HBPNC सेवाओं के साथ-साथ एएनएम द्वारा सातवें, अठाइसवें एवं बियालिसवें दिन पर विशेष फोलोअप ।

जीवन वाहिनी

जीवन वाहिनी के लिए कहां फोन करना है ?

उत्तर - 104/108 में से किसी भी एक नम्बर पर आवश्यकता पड़ने पर एम्बूलेंस को फोन कर बुलाया जा सकता है।

विशेषज्ञ जांच रिपोर्ट

विशेषज्ञ जांच रिपोर्ट की सूचना रजिस्टर में कौन भरेगा ?

उत्तर - उच्च चिकित्सा संस्थान पर मिले उपचार एवं जांच की सूचना चिकित्सा अधिकारी द्वारा एएनएम से वार्ता कर अथवा उपचार पर्ची देखकर रजिस्टर में भरी जाएगी ।

विशेषज्ञ जांच रिपोर्ट की सूचना कहां दर्ज करानी है ?

उत्तर - उच्च चिकित्सा संस्थान पर मिले जांच एवं उपचार की रिपोर्ट संबंधित प्राथमिक/सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के एचआरपी रजिस्टर में दर्ज करानी है।

वॉइस कॉल

वॉइस कॉल क्या है ?

उत्तर - राज्य स्तर से सीधे ही वॉइस मैसेज के माध्यम से एचआरपी महिलाओं को स्वास्थ्य संबंधी आवश्यक जानकारी, नियमित जांच एवं फोलोअप तथा वाहन की सूचना दी जाएगी ।

प्रसव कहां कराना है?

उत्तर - सुरक्षित मातृत्व दिवस पर स्त्रीरोग विशेषज्ञ से जांच के बाद विशेषज्ञ की सलाहानुसार चिन्हित उपयुक्त उच्च चिकित्सा संस्थान पर प्रसव कराने की योजना बनाई जायेगी।

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान

प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान कब, कहाँ कैसे मनाया जाता है?

उत्तर - प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान जिला/उपजिला/सैटेलाईट/सिटी डिस्पेन्सरी सीएचसी व पीएचसी पर प्रत्येक माह की 9 तारीख को द्वितीय व तृतीय तिमाही की गर्भवतीम महिला को स्त्री रोग विशेषज्ञ चिकित्सा अधिकारी द्वारा गुणवत्तापूर्ण प्रसव पूर्व जॉच सेवाएँ  उपलब्ध करायी जाती है।

सुरक्षित मातृत्व दिवस

सुरक्षित मातृत्व दिवस कब, कहाँ कैसे मनाया जाता है?

उत्तर - सुरक्षित मातृत्व दिवस सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर प्रत्येक माह के प्रथम, तृतीय व चतुर्थ शुक्रवार को स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा उच्च जोखिम वाली चयनित गर्भवती महिलाओ को गुणवत्तापूर्ण प्रसव सेवाएँ  दी जती है।

प्रसूति नियोजन दिवस

प्रसूति नियोजन दिवस कब, कहाँ कैसे मनाया जाता है?

उत्तर - प्रसूति नियोजन दिवस प्रत्येक माह के चतुर्थ गुरूवार को समस्त उपस्वास्थ्य केन्द्र पर प्रसव व परिवहन संसाधन संबधी योजना दी जाती है।

 

स्रोत: नेशनल हेल्थ मिशन, राजस्थान सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate