অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

स्वास्थ्य और पोषण

संकेतकों में सुधार के चरण

  • सुधार के चरणों के अंतर्गत प्रमुख संकेतक
  • संकेतक
  • कुल ए.एन.सी. पंजीकरण की तुलना में चार या इससे अधिक बार गर्भवती महिलाओं की जांच का प्रतिशत।
  • संकेतक
  • कुल ए.एन.सी पंजीकरण की तुलना में पहले तीन महीने के अंदर पंजीकृत गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत।
  • संकेतक
  • गर्भवती महिलाओं की अनुमानित संख्या की तुलना में जांच और देखभाल के लिए पंजीकृत गर्भवती महिलाओं (पीडब्ल्यू) का प्रतिशत

योजनाएं

  • राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन
  • प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान
  • प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना
  • बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ
  • पीसी एंड पीएनडीटी (गर्भधारण-पूर्व और प्रसव–पूर्व नैदानिक तकनीक) अधिनियम का क्रियान्वयन
  • जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम
  • जननी सुरक्षा योजना

उपाय

  • आशा सहयोगिनी द्वारा यूरीन प्रेग्नेंसी किट का उपयोग करते हुए गर्भावस्था की स्थिति का शीघ्र पता लगाने के लिए इन किट्स की उपलब्धता और परीक्षण सुनिश्चित करना।
  • आंगनवाड़ी केन्द्र पर प्रधानमंत्री मातृ वंदन योजना (पीएमएमवीवाई) स्कीम के तहत नामांकन सुनिश्चित करना (यदि पात्रता है)।
  • आशा सहयोगिनी द्वारा सभी माताओं (धात्री महिला) की सहायता और निगरानी सुनिश्चित करना प्रत्येक माह की 9 तारीख को प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत माताओं (धात्री महिलाओं) का नामांकन ।
  • सभी ग्राम स्वास्थ्य पोषण दिवसों पर माइक्रो प्लान सुनिश्चित करना।

संकेतक

आईसीडीएस कार्यक्रम के तहत नियमित रूप से अनुपूरक पोषण लेने वाली गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत

योजनाएं

  1. जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम
  2. जननी सुरक्षा योजना

उपाय

  • आशा सहयोगिनी द्वारा यह सुनिश्चित करना कि गर्भवती महिलाएं आंगनवाड़ी केन्द्रों पर पहुंचें।
  • गर्भवती महिलाएं नियमित फीडिंग के साथ आयरन और फॉलिक एसिड की गोली भी खाएं यह सुनिश्चित करना।
  • आशा सहयोगिनी और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा गांव में गर्भवती महिलाओं की सूची को सांझा करना।
  • आशा सहयोगिनी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता तथा एएनएम को समूह संबंधी प्रोत्साहनों के बारे में सूचित करना।

संकेतक

खून की अत्यधिक कमी का उपचार करवाने वाली गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत

संकेतक

कुल एएनसी पंजीकरण की तुलना में चार या चार बार से अधिक हेमोग्लोबिन (एचबी) संबंधी जांच करवाने वाली गर्भवती महिलाओं का प्रतिशत

योजनाएं

  1. मदर्स एबसोल्यूट अफेक्शन
  2. गृह आधारित नवजात देखभाल
  3. प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना
  4. जननी सुरक्षा योजना
  5. शिशु हितैषी अस्पताल पहल
  6. नवजात शिशु सुरक्षा कार्यक्रम
  7. जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम।

उपाय

  • खून की गंभीर कमी से पीड़ित गर्भवती महिलाओं की सूची तैयार करना चिकित्सक की देखरेख में इंट्रावेनस आयरन देना।
  • सभी गर्भवती महिलाओं को आयरन और फॉलिक एसिड की गोली अनुपूरक खुराक के रुप मे देना।

संकेतक

जन्म के समय लिंगानुपात संकेतक कुल अनुमानित प्रसवों में से अस्पतालों में हुए प्रसवों का प्रतिशत

योजना/अधिनियम

  1. जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम
  2. जननी सुरक्षा योजना
  3. गर्भधारण–पूर्व

और जन्म-पूर्व नैदानिक तकनीकों (लिंग चयन निषेध) संबंधी अधिनियम, 1994 का क्रियान्वयन

उपाय

  • जननी सुरक्षा योजना और प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत प्रोत्साहन के माध्यम से चिकित्सालयों में प्रसव को बढ़ावा देना सरकारी अस्पतालों में सभी संस्थागत प्रसव जेएसएसके योजना के तहत लाभ के पात्र हैं।
  • संबंधित को निःशुल्क एएनसी, सिजेरियन सैक्शन सहित प्रसव, निशुल्क दवाएं/नैदानिक जांच/ खून और निःशुल्क परिवहन जैसे प्रोत्साहन दिए जाएंगे।
  • शीघ्र स्तनपान की शुरुआत सुनिश्चित करना (जन्म के 1 घंटे के अंदर)

संकेतक

कुल अनुमानित प्रसवों में से (स्किल्ड बर्थ अटेन्डेन्ट्स) प्रशिक्षित स्वास्थ्य कार्यकर्ता की देखरेख में हुए गृह प्रसवों का प्रतिशत।

योजनाएं

  1. अंब्रैला के तहत आंगनवाड़ी सेवाएं, आईसीडीएस (एकीकृत बाल विकास सेवाएं)
  2. राष्ट्रीय आयरन प्लस प्रोत्साहन
  3. राष्ट्रीय कृमि मुक्तिकरण दिवस

उपाय

  • संस्थागत प्रसव को प्रोत्साहित किया जाता है। लेकिन यदि गर्भवती महिला घर पर ही प्रसव कराना चाहती है तो यह एसबीए (कुशल प्रसव परिसर) प्रशिक्षित एएनएम (सहायक नर्स दाई) निकटतम स्वास्थ्य केन्द्र के एमओ (चिकित्सा अधिकारी) की देखरेख में होना चाहिए शीघ्र स्तनपान की शुरुआत सुनिश्चित करना (जन्म के 1 घंटे के अंदर)

संकेतक

जन्म के एक घंटे के अंदर स्तनपान कराए जाने वाले नवजात बच्चों का प्रतिशत संकेतक जन्म के समय कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत (2500 ग्राम से कम) संकेतक उन जीवित बच्चों का अनुपात जिनका जन्म के समय वज़न किया गया था

योजनाएं

  1. राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन
  2. आईएमएनसीआई (एकीकृत नवजात और बाल रोग प्रबंधन) – सुविधा और सामुदायिक
  3. गहन अतिसार नियंत्रण पखवाड़ा (आईडीसीएफ)

उपाय

  • सभी एएनसी (प्रसव-पूर्व जांच) पीएनसी (प्रसवोपरांत जांच) के दौरान दुग्धपान के सर्वश्रेष्ठ आचरण का परामर्श सभी प्रसव स्थलों पर स्वास्थ्य देखभाल प्रदाताओं द्वारा क्षमता संवर्धन के तहत स्तनपान को बढ़ावा देने हेत माताओं को परामर्श और सहायता प्रदान करना।
  • आईएमएस (शिशु दुग्ध विकल्प) अधिनियम का क्रियान्वयन कंगारू मदर केयर को प्रोत्साहित करना, चिकित्सकीय देखभाल की ज़रूरत वाले छोटे और बीमार बच्चों को एसएनसीयू (बीमार नवजात देखभाल यूनिट) और एनबीएसयू (नवजात स्थरीकरण यूनिट) में रेफर किया जा सकता है जन्म के समय कम वजन वाले बच्चों की देखभाल हेतु घर-आधारित नवजात और बाल देखभाल निर्देशों का पालन किशोरों की पोषण संबंधी समस्या का समाधान और विलम्बित प्रथम गर्भधारण पर ध्यान देना।
  • जन्म के समय वज़न दर्ज करने के लिए तौल मशीनों की उपलब्धता सुनिश्चित करना।

संकेतक

5 वर्ष से कम आयु के कम वजन वाले बच्चों का प्रतिशत

योजनाएं

  1. अंब्रैला आईसीडीएस कार्यक्रम के तहत आंगनवाड़ी सेवाएं
  2. आईसीडीएस कार्यक्रम (एकीकृत बाल विकास सेवाएं)
  3. पोषण पुनर्वास केन्द्र (एनआरसी)

उपाय

5 वर्ष से कम आयु के सभी बच्चों का आंगनवाड़ी केंद्रों में पंजीकरण सुनिश्चित करना शिश में शारीरिक विकास संबंधी कमियों का पता लगाने के लिए आंगनवाड़ी केन्द्रों पर उपलब्ध मां बच्चा संरक्षण (एमसीपी) कार्ड में मासिक रूप से वजन दर्ज कराना अनुपूरक फीडिंग में सुधार के लिए बच्चों की घर आधारित देखभाल को लागू करना।

संकेतक

5 वर्ष से कम आयु के विकास अवरुद्धता से पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

संकेतक

ओआरएस से उपचारित अतिसार-पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

संकेतक

जिंक से उपचारित अतिसार–पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

संकेतक

विगत 2 सप्ताह के दौरान स्वास्थ्य सुविधा हेतु लाए गए गंभीर श्वसन संक्रमण से पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

योजनाएं

  1. अम्बेला आईसीडीएस कार्यक्रम के तहत आंगनवाड़ी सेवाएं
  2. एकीकृत बाल विकास सेवाएं
  3. पोषण पुनर्वास केन्द्र
  4. एकीकृत नवजात और बाल रोग प्रबंधन
  5. मिशन इंद्रधनुष घर आधारित नवजात देखभाल
  6. सशर्त मातृत्व लाभ
  7. मातृत्व लाभ कार्यक्रम
  8. एएसएचए संबंधी प्रोत्साहन।

संकेतक

5 वर्ष से कम आयु के विकास अवरुद्धता से पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

संकेतक

ओआरएस से उपचारित अतिसार-पीड़ित बच्चों का प्रतिशत ग. संकेतक : जिंक से उपचारित अतिसार–पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

संकेतक

विगत 2 सप्ताह के दौरान स्वास्थ्य सुविधा हेतु लाए गए गंभीर श्वसन संक्रमणसे पीड़ित बच्चों का प्रतिशत

योजनाएं

  1. अम्बेला आईसीडीएस कार्यक्रम के तहत आंगनवाड़ी सेवाएं
  2. एकीकृत बाल विकास सेवाएं
  3. पोषण पुनर्वास केन्द्र
  4. एकीकृत नवजात और बाल रोग प्रबंधन
  5. मिशन इंद्रधनुष
  6. घर आधारित नवजात देखभाल
  7. सशर्त मातृत्व लाभ
  8. मातृत्व लाभ कार्यक्रम
  9. एएसएचए संबंधी प्रोत्साहन

उपाय

  • गंभीर रूप से कुपोषित बच्चों (एसएएम) की चिकित्सा और पोषण संबंधी देखभाल के लिए पोषण पुनर्वास केन्द्रों (एनआरसी) की स्थापना सुनिश्चित करना ।
  • निमोनिया, अतिसार और कुपोषण को विशेष महत्व देते हुए बच्चों की सामान्य बीमारियों के शीघ्र निदान के लिए एकीकृत नवजात और बाल रोग प्रबंधन (आईएमएनसीआई) को बढ़ावा देना आशा सहयोगिनी द्वारा बच्चों में बीमारियों का शीघ्र पता लगाना और तत्काल रेफर करना।
  • अतिसार रोग में ओआरएस और जिंक के उपयोग के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए गहन अतिसार नियंत्रण पखवाड़ा (आईडीसीएफ) मनाना।

संकेतक

  • प्रमाणित (अर्थात् लक्ष्य दिशानिर्देशों को पूरा करने वाली) प्रसूति कक्ष और प्रसूति
  • ओटी वाली प्रथम रेफरल यूनिट (एफआरयू) का प्रतिशत

योजनाएं

  1. अम्बेला आईसीडीए

भारतीय जन स्वास्थ्य मानकों का उपयोग करते हुए आधारभूत संरचना एंव एच आर सुविधाओं का विस्तार। अतिरिक्त स्वास्थ्य केन्द्रों के निर्माण एंव संरचना हेतु दिशा निर्देश। विस्तृत आपातकालीन प्रसूति देखभाल (सीईएमओसी) के लिए ज़िलों द्वारा प्रथम रेफरल यूनिट्स की उपलब्धता सुनिश्चित करना। बहु-विशेषज्ञता देखभाल और प्रशिक्षण स्थलों के रूप में जिला अस्पतालों का सुदृढ़ीकरण। लक्ष्य आधारित कार्यनीति के माध्यम से जन्म के आसपास देखभाल व्यवस्था का सुदृढीकरण तथा प्रसूति कक्ष और एसएनसीयू की कार्यप्रणाली में सुधार । आकांक्षी जिलों में जून 2018 तक आयुष्मान भारत के तहत प्राथमिकता के आधार पर स्वास्थ्य और वेलनेस केन्द्रों की स्थापना करना। सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाओं में अनिवार्य दवाओं और नैदानिक जांचों की निःशुल्क उपलब्धता सुनिश्चित करना तथा एएसएचए और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के बीच अभिसरण में सुधार लाना।

मज़बूती से निगरानी : साक्ष्य आधारित कार्रवाई के लिए डेटा का उपयोग – विशेषकर हेल्थ मेनेजमेन्ट इन्फोर्मेशन सिस्टम के तहत तैयार किए गए मानक स्वास्थ्य अंक कार्ड का प्रयोग करते हुए कम कार्य निष्पादन करने वाले ब्लॉक्स को चिन्हित करने हेतु एचएमआईएस (स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली) डेटा का उपयोग।

स्त्रोत: नीति आयोग, भारत सरकार।



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate