অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड

क्रेडिट कार्ड का प्रयोग शुरू करने के पहले आपको यह पूरी तरह से समझना जरूरी है कि क्रेडिट कार्ड क्या है और यह कैसे काम करता है। अपने कार्डों को आप कैसे प्रयोग और प्रबंधित करते हैं उसका आपके वित्तीय भविष्य पर बड़ा प्रभाव पड़ता है।

क्रेडिट कार्ड क्या है?

क्रेडिट कार्ड केवल एक प्लास्टिक के टुकड़े से कहीं अधिक मूल्य का होता है। यह वित्तीय संस्था द्वारा दिया गया एक ऋण है जिसे आप उपयोग में ला सकते हैं और फिर मासिक किस्तों में कुछ समय में चुकाते हैं। आपके क्रेडिट कार्ड की एक निश्चित सीमा होगी और आपको अपना कुल बैलेंस उस सीमा के भीतर रखना होगा। जब आप भुगतान करते हैं,तो आप खर्च की गई रकम और ब्याज वापस लौटा रहे होते हैं—सिवाय इसके कि आपकी खरीददारी पर छूट-अवधि उपलब्ध हो या आप केवल खरीददारी करके सारे बकाया का हर महीने पूरा भुगतान करते हों।

जब आप क्रेडिट कार्ड का बुद्धिमानी से प्रयोग करते हैं,तो आपके पास हर महीने अपनी आय के प्रबंधन का एक सरल तरीका होगा।

Credit Card

क्रेडिट कार्ड के तीन मूल प्रकार

साधारण उद्धेश्य क्रेडिट कार्ड(रिवाल्विंग क्रेडिट कार्ड)

ये क्रेडिट कार्ड कहीं भी,किसी भी चीज के लिये,कपड़ों से लेकर भोजन, उड़ान के लिये खर्च करने हेतु प्रयोग किये जा सकते हैं। वीसा और मास्टरकार्ड इसके उदाहरण हैं। यदि आप अपनी खर्च की जाने वाली और हर महीने भुगतान की जाने वाली राशि में कुछ लचीलापन चाहते हैं,तो साधारण क्रेडिट कार्ड आपकी जरूरत के लिये उपयुक्त है। ध्यान रखें कि आपको खरीददारी पर कुछ छूट की अवधि मिलती है,लेकिन यदि आप बकाया का पूरा भुगतान हर महीने न करते हों तो बकाया राशि पर ब्याज लगाया जाता है।

स्टोर कार्ड

(सिंगल या सीमित-उद्धेश्य कार्ड) ये कार्ड किसी विशेष स्टोर या स्टोरों के समूह में ही,या विशेष उद्धेश्य के लिये ही प्रयोग किये जा सकते हैं। डिपार्टमेंट स्टोर कार्ड या अधिकांश आपके पसंदीदा कपड़े के स्टोरों के कार्ड इसके उदाहरण हैं। इस प्रकार के कार्ड पर ब्याज की दर काफी अधिक होती है। कई स्टोर खाता खोलने के समय विशेष प्रोमोशन(उदाहरण के लिए आपकी पहली खरीद पर15% की छूट) देते हैं,लेकिन अधिक ब्याज दर के कारण लंबे समय में यह खास उपयोगी नहीं होता है।

परंपरागत चार्ज कार्ड

चार्ज कार्ड में आपको खरीददारी या सेवाओं के लिये सारी रकम एक निश्चित समय में वापस कर देनी होती है। सामान्यतः इस प्रकार के क्रेडिट के लिये कोई ब्याज नहीं देना होता है,लेकिन आपको पूरा बकाया हर महीने भर देना पड़ता है। चार्ज कार्ड को ट्रैवल एंड एंटरटेनमेंट कार्ड भी कहा जाता है—कुछ उदाहरण हैं,अमेरिकन एक्सप्रेस और डाइनर्स क्लब चार्ज कार्ड।

क्रेडिट कार्ड प्रयोग करने के लाभ

  • आपको नकद साथ रखने या चेक लिखने की जरूरत नहीं है।
  • आप इसका प्रयोग अनपेक्षित,इमरजेंसी खर्चों,जैसे,कार की मरम्मत और चिकित्सा के बिलों के भुगतान के लिये कर सकते हैं।
  • य़दि कभी-कभार आपके पास आवश्यक वस्तुओं,जैसे,भोजन,पानी और गैस के लिये पैसा न हो तो भी आप उन्हें खरीद सकते हैं।
  • आपको एक मासिक विवरण मिलता है,जिसमें आपकी सभी खरीदियों का रिकार्ड होता है,जिससे आप यह अंदाजा लगा सकते हैं कि आप कितना खर्च कर रहे हैं।
  • आप अपने सारे खर्चों को एक मासिक भुगतान में एकीकृत कर सकते हैं।
  • आपको खर्च की सुरक्षा और बढ़ी हुई उत्पादन वारंटी मिल सकती है।

क्रेडिट कार्ड के प्रयोग के बारे में चेतावनी


  • कार्ड पर किये गए खर्च के लिये आप जिम्मेदार हैं।
  • खरीदी गई वस्तुएं जमा हो रहे वित्त प्रभारों के कारण अपेक्षा से अधिक महंगी पड़ सकती हैं।
  • यदि आप अपने कार्ड खाते का कुप्रबंध करते हों तो आपको ओवर-लिमिट या लेट फीस लग सकती है।
  • आपको एक बजट बनाना होगा और तय करना होगा कि आप जो भी खर्च कर रहे हैं,उसका भुगतान कर सकते हैं।
  • आवेग में आकर खरीददारी करने से बचें,जो आपके बजट को बिगाड़ सकती है।
  • देर से भुगतान करने या ओवर लिमिट प्रभार आपके क्रेडिट स्कोर पर बुरा असर डाल सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड को जिम्मेदारी से प्रयोग करना

क्रेडिट कार्ड सुविधाजनक होते हैं और आपको हर महीने अपने सारे खर्चों का ध्यान रखने के लिये एक सरल तरीका प्रदान करते हैं। यह सुविधा पाने के लिये काफी जिम्मेदार होना पड़ता है। अपने कार्ड-प्रयोग को ठीक से प्रबंधित करके आप अपना एक ट्रैक रिकार्ड बना सकते हैं जो उधारदाताओं को दिखाता है कि आप अपने क्रेडिट का प्रबंधन कैसे करते हैं। अच्छा ट्रैक रिकार्ड होने पर उधार दाता आपको और बड़ी,महत्वपूर्ण खरीदियों जैसे नई कार या मकान के लिये ऋण दे सकते हैं।

आवश्यक बिंदु

आप भले ही किसी भी कारण से क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करें पर यह आवश्यक है कि

  • हमेशा कम से कम अपने मासिक विवरण में दी गई न्यूनतम बकाया राशि का भुगतान अवश्य करें। यदि आप सारे बकाये का भुगतान हर महीने कर दें तो और भी अच्छा है क्योंकि तब आप भारी ब्याज से बच सकते हैं।
  • आपके भुगतान हर बार समय पर करें।
  • यह सुनिश्चित कर लें कि आपके सभी लेन-देन आपके कार्ड की सीमा के भीतर हैं।
  • कभी भी अपनी भुगतान की क्षमता से अधिक खर्च न करें। इस दिशानिर्देश को ध्यान में रखें: क्रेडिट कार्ड खर्च और अन्य ऋण कभी आपकी टैक्स के बाद की आय के 20 प्रतिशत से अधिक नहीं होने चाहिये।

क्रेडिट समस्या के इन संकेतों के लिये जागरूक रहें

  • आपको बिलों के आने से पहले यह पता ही न हो कि आपने कितना उधार लिया है।
  • आप अक्सर बिलों का भुगतान देर से करते हों।
  • आप अक्सर न्यूनतम क्रेडिट कार्ड भुगतान करने में असमर्थ होते हों।
  • आप अक्सर अपनी क्रेडिट की सीमा पार कर लेते हों या उस तक पहुंचते हों।
  • आप भुगतान करने के लिये अपनी क्रेडिट लाइनों या कैश एडवांस का प्रयोग करते हों।

क्रेडिट की कठिनाईयों से कैसे निपटें

  • अपने उधारदाताओं से संपर्क करें और उनसे बात करें। इससे आप एक भुगतान-अनुसूची की व्यवस्था कर सकते हैं।
  • अपने क्रेडिट कार्डों का प्रयोग बंद कर दें।

अपनी सीमा जानिये

क्रेडिट कार्ड आपकी क्षमता से अधिक खर्च या आवेगिक (और महंगे) खरीददारी को आसान कर देता है। अपनी सीमा की जानकारी और आपकी क्षमता की समझ क्रेडिट के बुद्धिमत्तापूर्ण प्रयोग की कुंजी है।

एक भुगतान योजना बनाएं

यदि आप हर महीने अपने क्रेडिट कार्ड का पूरा बकाया अदा न कर रहे हों तो यह ध्यान रखें कि आप कितना खर्च कर रहे हैं,कितना हर महीने बुगतान कर रहे हैं और आपकी बकाया राशि पर कितना ब्याज लग रहा है।अपने क्रेडिट कार्ड के बकाया को जल्दी और जिम्मेदारी से चुकाने की योजना बनाना अच्छे क्रेडिट कार्ड प्रबंधन की ओर पहला कदम है।

क्रेडिट कार्ड सुरक्षा

वित्तीय संस्थाएं लगातार अपराधियों से आगे निकलने और आपकी रक्षा के लिये नए उपाय खोज रही हैं।यदि आपका कार्ड गुम या चोरी हो गया हो या आपको लगे कि आप किसी जालसाजी के शिकार हो गए हैं,तो निर्गम करने वाली वित्तीय संस्थाओं को तुरंत सूचित करें।

डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड में क्या अंतर है?

जब आप खरीदी करते हैं या नकद निकालते हैं,तो डेबिट कार्ड आपके चेक खाते से सीधे रकम निकालता है,जबकि क्रेडिट कार्ड का हर लेनदेन आपके चार्ज-बिल में जाता है।क्रेडिट कार्ड के मामले में आपको उधारदाता को वापस पैसों का भगतान करना होता है।

Credit and Debit

स्त्रोत : पोर्टल विषय सामग्री टीम



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate