অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

नर्सरी में शोभाकार पौधों की तैयारी

परिचय

जनसंख्या में अपार वृद्धि के कारण नगरों एवं महानगरों में वाटिका बनाने योग्य भूमि का अभाव हो गया है। अब ऐसे में नगरों में रहनेवाले वैसे लोग जो पौधे लगाने एवं रखने के शौकीन हैं, उनके लिए एक ही उपाय बचता है कि वे विभिन्न प्रकार के गमलों में आकर्षक फूल एवं पत्ते वाले  पौधों को लगाकर अपने घर की शोभा बढ़ाएँ। इसी वजह से विगत कुछ वर्षों से इस प्रकार के शोभाकार पौधों की मांग में काफी अधिक वृद्धि हुई है। अगर किसान भाई इन पौधों को नर्सरी में उगाकर बेचें तो इससे वे आकर्षक मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

शोभाकार पौधों की देखभाल

शोभाकार पौधों में प्रकाश, तापमान, हवा, नमी तथा पोषण की अलग-अलग आवश्यकता होती है। मुख्यतः इन पौधों को 18 डिग्री सेंटीग्रेड के आसपास का रात्रिकालीन और २४ डिग्री सेंटीग्रेड का दिन का तापमान चाहिए होता है।

अधिकातर शोभाकर पौधे ग्रीन एवं ग्लास हाउस से घर के कमरे तक आते हैं। जहन एक निश्चित तापमान तथा आर्द्रता पर पौधों में कमी कर देने तथा सिंचाई के अंतराल में वृद्धि  कर देने से काफी  अच्छे परिणाम मिलते है।

कमरे में रखने योग्य उपयुक्त शोभाकार पौधों में एग्लोनीमा, एन्युरियम, कैलेथिया, ड्रेसिना, फिलोडेन्ड्रोन, मराणटा , सिंगोनीयम, फिटोनिया, एस्पीड्रस्टा, क्लोरोफाईटम, डिफेनबेकीया, मनी प्लांट, मोंस्टिरा, आईवी तथा फाईकस (रबड़) प्रमुख पौधे हैं। इन पौधों लो 10-15  दिनों के अंतराल पर कमरे से निकालकर, एसपारागस, कोलियस, बोगेनविलिया, फर्न, चाइना-पाम, फिशटेल, एकालिफा, क्रोटन, बिगोनिया, सेन्सेवेरिया, कैलेडियम आदि।

अलग-अलग प्रकार के शोभाकार पौधे के लिए अलग-अलग प्रकार के छोटे गमले या पात्रों का चुनाव आवश्यक होता है। प्लास्टिक के पात्र वैसे पौधों के लिए उपयुक्त होते हैं जो जम कम्पोस्ट में उगते हैं। प्लास्टिक के गमलों में मिट्टी के गमलों की अपेक्षा सिंचाई की कम आवश्यकता होती है। मिट्टी के नये गमलों को व्यवहार से पहले कुछ घंटों तक पानी में भींगा लेना चाहिए। सभी गमलों के आधार पर अतिरिक्त पानी निकलने के लिए एक छिद्र जरुर होना चाहिए। गमलों को किसी चीनी मिट्टी की तश्तरी पर रखना चाहिए इससे अतिरिक्त जल इसमें जमा हो जाता है घर का फर्श भी खराब नहीं हो पाता है। जब जल निकास वाले छिद्र से जड़ निकलने लगें तब यह समझना चाहिए कि अब रिपोर्टिंग की आवश्यकता है और तब बसंत के अंत या वर्षा के आरंभ में रिपोर्टिंग कर लेना चाहिए।

इन अवयवों की पूर्ति के बिना अच्छे शोभाकार पौधों की कल्पना भी नहीं की जा सकती है। इन पौधों के सफलतापूर्वक प्रसारण के लिए उपयुक्त माध्यम का चुनाव जरुरी होता है। पोर्टिंग माध्यम में 100% कार्बनिक पदार्थ हो सकते हैं या 50% कार्बनिक एंव 50% अकार्बिनक पदार्थों का मिश्रण हो सकता है। माध्यम के चुनाव में माध्यम की वायवीयता, नमी धारण करने की क्षमता या पोषण की अहम भूमिका रहती है। अधिकतर शोभाकार पौधे 5.5 से 6.5 पी.एच. परास पसंद करते हैं। डोलोमाईटिक चुना पी.एच. को सही करने के काम में लाया जा सकत है। अधिकतर शोभाकार पौधे दोमट मिट्टी, पत्ती की खाद तथा बालू का समानुपात पोर्टिंग मिश्रण के रूप में पसंद करते हैं, लेकिन फर्न तथा रेक्स बिगोनिया के लिए दोमट मिट्टी का एक-एक भाग और पत्तों की खाद का दो भाग उपयोग करना चाहिए। सारे अवयवों को गमले में भरने से पहले अच्छी तरह मिला लेना चाहिए। वैसे तो पीट, पॉट कम्पोस्टिंग के लिए सबसे अच्छा कार्बनिंक पदार्थ होता है लेकिन आमतौर पर आसानी से उपलब्ध नहीं होने की वजह से नारियल की भूसी को इस काम में बखूबी लाया जा सकता है।

शोभाकार पौधों के लिए जरुरी खाद एवं उर्वरक

खाद एवं उवर्रक का शोभाकार पौधों पर प्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है। साधारणतः 150-200 पी. पी. एम्. नैत्रोजं, 50-70  पी. पी. एम्.  फास्फोरस तथा 100-150 पी. पी. एम्.  पोटेशियम का छिडकाव काफी उपयोगी होता है। इन सामान्य पोषण के अलावा समय-समय पर सूक्ष्म तत्वों का व्यवहार भी लाभदायक होता है।

शोभाकार पौधे नर्सरी में हो यह घर में हमेशा अधिक  सिंचाई से बचना चाहिए। अधिक पानी देने से पत्ते झड़ने लगते हैं और पौधे सड़ भी सकते हैं। गमले की मिट्टी को छुकर देंखें यदि सूखी मालूम पड़े तभी सिंचाई दें। आमतौर पर ठंडे मौसम में 4-5 दिन तथा गर्म मौसम में और जल्दी-जल्दी सिंचाई दें। पत्तों को बिना भिंगोये सिंचाई दें ऐसा करने से पत्तियों के रोगों में कमी आती है।

पत्तियों पर धुल जमने न दें। पत्तियों पर धुल जमने से हवा का आदान-प्रदान एवं वाश्पोसर्जन प्रभावित होता है। हल्के भींगे कपड़े से पत्तियों को समय-समय पर पोंछ दें।

वैसे शोभाकार पौधे, जिनमें काफी शाखाएं निकलती हैं जैसे-एफ्रिकन वायोलेट, हेडेरा तथा जेब्रिना आदि में प्रूनिंग की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन कुछ पौधे जैसे इपिसिया, पेलारगोनियम, युओनिमस आदि में शाखाओं को प्रोत्साहित करने के लिए उनकी कटाई-छंटाई आवश्यक होती है। वैसे पौधों को एक निश्चित आकार एवं मृत तथा रोगग्रस्त शाखाओं को हटाने के लिए प्रूनिंग जरूरी होता है।

शोभाकार पौधों में मुख्यतः हरी मक्खी, मिलीबग, स्केल कीड़े, लाल मकड़ी, लाही तथा घोंघा प्रमुख रूप से लगते हैं। रोगों में ग्रे मोल्ड, मिल्दिउ, जड़ किलन तथा तना का कैंकर प्रमुख रूप से आता है। इसने बचाव के लिए नर्सरी में किसी अच्छे कीटनाशी दवा जैसे मोनोसी, इंडोसल्फान आदि का 0.1% एवं किसी अच्छे कवकनाशी दवा जैसे डायथेन एम्-45  का 0.2% या रिडोमील या साफ दवा का 0.15% या वैभिस्टीन का 0.1% घोल का छिड़काव कर सकते हैं। प्लांटिंग मेटेरियल को लगाने से पहले उपचारित करने पर रोग तथा कीट-आक्रमण से काफी हद तक मुक्ति मिल सकती है। दीमक का प्रकोप दिखने पर क्लोरोपाइरीफास दवा का व्यवहार करें।

शोभाकार पौधों को नर्सरी या तो आप खुले में बना सकते हैं या पॉली हाउस अथवा ग्रीन हॉउस में इसे तैयार कर सकते हैं। पौधों को बताएं गये मिश्रण में बेड बनाकर या सीधे गमले में लगा सकते हैं। पॉली हाउस अथवा ग्रीन हॉउस खुले में लगाने की अपेक्षा निश्चित तौर से फायेदेमंद होता है। ओसे पौधे निश्चित तापमान, आर्द्रता एवं नमी  मिलने की वजह से साधारण रूप से उगाए गये पौधों की अपेक्षा गुणात्मक एवं परिमाणात्मक रूप से काफी बेहतर होते हैं लेकिन पॉली एवं ग्रीन हाउस के बनाने का प्रारंभिक खर्च ही एक बड़ा अवरोध बन जाता है।

शोभाकार पौधा – एंथुरियम

एंथुरियम शोभाकार पौधों में अच्छा स्थान रखता है और आजकल इसकी मांग काफी बढ़ती जा रही है। फूल एक लंबे स्पाइक में आता है और उसके ठीक नीचे पत्तेनुमा ब्राक्ट होता है। किसी-किसी में यह काफी चमकीला एवं रंगीन होता है। यह गर्म, नम एवं छायादार वातावरण चाहता है। 20-28 डिग्री सेंटीग्रेड का तापमान इसके लिए उपयुक्त होता है। कम्पोस्ट छिद्रदार होना चाहिए। दोमट मिट्टी, पीट, बालू, कटामांस, चारकोल  से बना होना चाहिए। पीट नहीं उपलब्ध रहने पर पत्तियों की खाद काम में लायी जा सकती है।

प्रसारण: सकर, कटिंग, राइजोम तना या बीज द्वारा बारिश के मौसम में किया जाना चाहिए।

  • एकमिया के पत्ते रोजेट टाइप के 60 से.मी. लम्बे. 4 से.मी. चौड़े और मांसल होते हैं। पत्तियां किनारे पर हल्की कटी होती है। पत्तियों के क्राउन से रंगीन फूलों का पुष्पक्रम निकलता है। पत्तों पर पीले पृष्ठ पर हरी धारियों जैसा डिज़ाइन बना होता है। इसे औसतन छाया से चमकीला सूर्यप्रकाश पसंद होता है। इसे राइजोम तना या बीज द्वारा मानसून में उगाया जा सकता है।

एग्लोनीमा बहुत साड़ी पत्तियों वाला पौधा होता है। पत्तियों पर विभिन्न प्रकार के डिज़ाइन बने होते हैं। इसकी बहुत सारी किस्में हैं। गाँठ कटिंग से गर्मी या मानसून में इसे उगाया जा सकता है। है।

  • एलोकेसिया का तना मोटा होता है, पत्ते मोटे तथा डंठल मांसल होता है। पत्तियों की शिराएँ स्पष्ट अरु उभरी होती हैं। इसे भी राइजोम, सकर या बीज से उगाया जा सकता है। शुष्क मौसम में इसे अधिक आर्द्रता पर ग्रीन हॉउस में रखना चाहिए।
  • बिगोनिया रंगीन पत्तों के लिए जाना जाता है, इसकी बहुत सारी किस्में हैं। इसका प्रसारण भी मजेदार होता है। पत्ती में मुख्य सिरे को जगह जगह काटकर पत्ते को नम बालू या पीट पर छोड़ दें, कटे स्थान पर नए पौधे निकल आयेंगे।
  • ब्रोमोलिया के पत्ते अनारस जैसे होते है तथा मानसून में इसे सकर या तने के कटिंग द्वारा प्रसारित किया जा सकता है।
  • डेफेनबेकिया/डम्ब केन छाया पसंद करने वाला बहुत ही प्रमुख शोभाकार पौधा है। इसे सकर, कटिंग या बडयुक्त गाँठ से प्रसारित किया जा सकता है।
  • ड्रेसिना को मुख्यतः इसके लम्बे, हरे, धब्बेदार और रंगीन पत्तों के लिए पसंद किया जाता है। इसे गर्म और रौशनी काफी भाता है लेमिं गर्मी में सीधी धूप से पत्तियां झुलस सकती हैं।  इसके  पुराने तनों को छोटे-छोटे भाग में काटकर नम पीट या बालू में लगाया जा सकता है।
  • इपिसिया गमले तथा लटकते वारकेट में आकर्षक लगता है तथा अपने हरे चमकदार पत्तों के लिए जाना जाता है। इसे रनर द्वारा प्रसारित किया जा सकत है।
  • फाइकस रबड़ प्लांट के अलावा इसकी करीब 600 प्रजातियाँ हैं। वातावरण की विषमताओं को सहन करने यह माहिर होता है। यह गर्मी, नमी तथा प्रकाश पसंद करता है लेकिन गर्मी में सीधा सूरज की गर्मी को सहन नहीं कर सकता है। इसका प्रसारण कटिंग या गुटी द्वारा किया जा सकता है।
  • हेडेरा (आइवी) लत्तरवाली शोभाकार पौधा है जिसे कटिंग द्वारा साल के किसी समय प्रसारित किया जा सकता है।
  • हेलीकोनीया राइजोममुक्त, लम्बे पत्तों वाला बहुवर्षीक पौधा होता है जिसमें रंगीन पुष्पक्रम लगते हैं। यह छाया पसंद करता है। इसमें गर्मी से वर्षा ऋतू में रंगीन फूल लगते है। कलम्प या राइजोम में इसको बढ़ाया जाता है।
  • मरान्टा की 10-15 से.मी. की चौड़ी-अंडाकार पत्तियां इसकी खासियत हैं। इन पत्तियों पर हरे तथा भूरे रंग के पैटर्न बने होते हिं। राइजोम से इसका प्रसारण होता है।
  • मोंस्टेरा में काफी लम्बे-चौड़े पत्ते लगते हैं। पत्तियों के मुख्य शिरा के पास काफी कटा-कटा भाग मिलता है। इसका प्रवर्धन शीर्ष कटिंग, तना कटिंग  तथा वायवीय जड़ों से होता है।

पेलियोनिया हैंगिग बासकेट तथा पत्थरों पर उगाने के लिए छोटी पत्तियों वाला झाड़ीनुमा पौधा होता है। इसे छाया पसंद है था कटिंग से प्रवर्धित किया जा सकता है।

  • पीलिया भी रॉकरीस  तथा हैंगिंग बासकेट के लिए उपयुक्त चित्तीदार पत्तियों वाला पौधा है जो ऊपर के कटिंग्स से प्रवर्धित किया जा सकता है।

सैंसीविरिया खड़े पत्तों वाला एक प्रमुख पौधा है। पत्तियां एक साथ गुच्छे में यह अन्य किसी क्रम में लगती अहिं। यह वातावरण की विषमताओं को सहन कर सकता है तथा कलम्प एवं पत्तियों के कटिंग से प्रवर्धित किया जाता है।

  • फर्न की भिन्न किस्मों की भी काफी मांग हैं और इसे कलम्प, राइजोम तथा स्पोर द्वारा प्रवर्धित किया जाता है।
  • क्रोटन  विभिन फर्न की तरह क्रोटन की भी मांग रहती है और सभी लोग विभिन्न प्रकार की शोभाकार पत्तियों वाले क्रोटन से वाकिफ होंगे। कटिंग तथा गुटी द्वारा इसका प्रसारण  किया जा सकता है।
  • किलियस विभिन्न प्रकार की रंगीन पत्तियों वाला सभी जगह पाए जाने वाला बहुत प्रसिद्ध पौधा है। इसे कटिंग द्वारा आसानी से प्रवर्धित किया जा सकता है।
  • किसान भाई शोभाकार पौधों को वैज्ञानिक तरीके से नर्सरी में उगाकर प्रति पौधा 5-10 रुपया का मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं। अगर किसान भाई एक एकड़ जमीन में नर्सरी बनाते हैं तो 40,000-70,000 रुपुए का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।

 

स्त्रोत: कृषि विभाग, झारखण्ड सरकार

अंतिम बार संशोधित : 11/14/2021



© C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate