অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

पढ़ो परदेश-विदेशों में अल्पसंख्यक समुदायों के अध्ययन हेतु शैक्षिक ऋण योजना

पढ़ो परदेश-विदेशों में अल्पसंख्यक समुदायों के अध्ययन हेतु शैक्षिक ऋण योजना

पृष्ठभूमि

अल्पसंख्यक के कल्याण के लिए प्रधानमंत्री के नए 15 सूत्रीय कार्यक्रम की घोषणा जून, 2006 में की गई थी। इसमें प्रावधान है कि अल्पसंख्यक समुदायों के मेधावी विद्यार्थियों हेतु छात्रवृत्ति योजनाएं बनायी और कार्यान्वित की जाएंगी। विदेश में अध्ययन हेतु शैक्षिक ऋण पर ब्याज इमदाद की योजना से अल्पसंख्यक समुदाय के विद्यार्थियों की शैक्षिक उन्नति को बढ़ावा मिलेगा।

उद्देश्य

इस योजना का उद्देश्य अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों के आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों से संबंधित मेधावी छात्रों को ब्याज इमदाद प्रदान करना है ताकि उनको विदेश में उच्च शिक्षा के बेहतर अवसर दिए जा सकें और उनकी रोजगार क्षमता में वृद्धि की जा सके।

विषयक्षेत्र

यह विदेश में स्नातकोत्तर और पीएच.डी स्तरों पर अनुमोदित पाठ्‌यक्रमों में अध्ययन करने के लिए ब्याज इमदाद की

योजना के अंतर्गत शैक्षिक ऋण स्थगन की अवधि के लिए देय ब्याज पर, राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग अधिनियम, 1992 की धारा 2(ग) के अनुसार घोषित किए गए अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित विद्यार्थियों को ब्याज इमदाद प्रदान करने की एक केन्द्रीय क्षेत्र की योजना है।

ब्याज इमदाद हेतु शर्तें

  • यह योजना विदेश में उच्च शिक्षा अध्ययन के लिए लागू है। ब्याज इमदाद भारतीय बैंक एसोसिएशन (आईबीए) की मौजूदा शैक्षिक ऋण योजना के साथ संबद्ध की जाएगी और केवल स्नातकोत्तर, एमफिल,और पीएच.डी स्तरों के पाठ्‌यक्रमों में दाखिल विद्याथिर्यों के लिए ही होगी।
  • इस योजना के अंतर्गत ब्याज इमदाद पात्र छात्रों को एक बार के लिए ही या तो स्नातकोत्तर, अथवा पीएच.डी स्तरों के लिए प्रदान की जाएगी। ब्याज इमदाद उन छात्रों को नहीं दी जाएगी जो किसी कारणवश बीच में ही पाठ्‌यक्रम छोड़ देते हैं अथवा जिन्हें अनुशासनात्मक अथवा शैक्षिक आधार पर संस्थानों से निष्कासित किया गया है।
  • ऋण स्थगन अवधि के दौरान सामान्य क्रम में पूर्व-भुगतान पर बैंकों द्वारा दिए जाने वाले ब्याज दर में 1% ब्याज की कमी का लाभ विद्यार्थियों को अंतरित किया जाएगा।
  • यदि कोई विद्यार्थी योजना की किसी शर्त का उलंघन करता है तो इमदाद उसी समय बंद कर दी जाएगी।
  • यदि कोई विद्यार्थी मिथ्या विवरण/प्रमाणपत्रों से इमदाद प्राप्त करता हुआ पाया जाता है, तो इमदाद तुरन्त वापिस ले ली/रद्द कर दी जाएगी और भुगतान की गई इमदाद की राशि कानून के अनुसार कानूनी कार्रवाई के अलावा दांडिक ब्याज के साथ वसूल की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को ब्याज इमदाद प्रदान नहीं की जाएगी यदि वह ऋण अवधि के दौरान भारतीय नागरिकता छोड़ देते हैं।
  • विनिर्दिष्ट बैंक एक पृथक खाता और मंत्रालय से प्राप्त निधियों से संबंधित रिकार्ड रखेंगे और यह मंत्रालय के अधिकारियों अथवा मंत्रालय और महालेखापरीक्षक द्वारा विनिर्दिष्ट किसी अन्य एजेंसियों द्वारा जाँच/लेखापरीक्षाओं के अधीन होंगे।
  • दूसरे वर्ष से ब्याज इमदाद की निधि विनिर्दिष्ट बैंक को, जीएफआर के प्रावधानों के अनुसार पिछली निर्मुक्तियों के उपयोग प्रमाण पत्र के प्राप्त हो जाने पर जारी की जाएगी।
  • विनिर्दिष्ट बैंक वित्तीय और वास्तविक उपलब्धियों के सभी संगत ब्यौरे अपनी वेबसाईट पर डालेगा और योजना का कार्यान्वयन विनिर्दिष्ट बैंक और अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के बीच हस्ताक्षर किए जाने वाले समझौता ज्ञापन के अनुसार करेगा।
  • विनिर्दिष्ट बैंक यह सुनिश्चित करेगा कि अल्पसंख्यक समुदायों से संबंधित विद्यार्थी, जो अजा /अजाजा/अन्य पिछड़ा वर्ग से संबंधित हो सकते हैं, उसी प्रयोजन के लिए अन्य स्त्रोतों से ब्याज इमदाद प्राप्त न कर पाएं।
  • विनिर्दिष्ट बैंक अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के परामर्श से पात्र विद्यार्थियों को ब्याज इमदाद प्रोसेस करने और मंजूर करने के लिए विस्तृत प्रक्रिया निर्धारित करेगा।
  • इस योजना का मूल्यांकन नियमित अंतरालों पर मंत्रालय अथवा मंत्रालय द्वारा विनिर्दिष्ट किसी अन्य ऐजेंसी द्वारा किया जाएगा और मूल्यांकन अध्ययन पर आने वाला व्यय योजना के प्रावधानों के अनुसार मंत्रालय द्वारा वहन किया जाएगा।
  • योजना की निबंधन एवं शर्तें, कार्य प्रणाली की बेहतरी और प्रभावी कार्यान्वयन प्राप्त करने हेतु अल्पसंखयसक कार्य मंत्रालय के विवेकानुसार किसी भी समय बदली जा सकती हैं। तथापि, कोई वित्तीय निहितार्थ नहीं होना चाहिए।

पात्रता

  • विद्यार्थी ने पैरा-14 में दर्शाए गए पाठ्‌यक्रमों में अनुमोदित स्नातकोत्तर, एम.फिल अथवा पीएच.डी पाठ्‌यक्रमों में विदेश में दाखिला ले लिया हो।
  • उसने इस प्रयोजन के लिए भारतीय बैंक ऐसोसिएसन (आईबीए) की शैक्षिक ऋण योजना के अंतर्गत किसी विनिर्दिश्ट बैंक से ऋण प्राप्त किया हो।

आय की उच्चतम सीमा

  • नियोजित अभ्यर्थी अथवा बेरोजगार अभ्यर्थियों के मामले में उसके माता-पिता/अभिभावकों की सभी स्त्रोतों से प्रति वर्ष आय 6 लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • आय प्रमाण पत्र राज्य/संघ राज्य क्षेत्र में सक्षम प्राधिकारी द्वारा प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

अनुशंसात्मक समिति

  • योजना के प्रभारी संयुक्त सचिव की अध्यक्षता में अनुशंसात्मक समिति, जिसमें वित्त प्रभाग के प्रतिनिधि, नोडल बैंक के प्रतिनिधि तथा संयोजक के रूप में संबंधित निदेशक/उप सचिव होंगे, तिमाही आधार पर आवेदनों की समीक्षा करेगी और ब्याज इमदाद प्रदान करने की अनुशंसा करेगी।
  • आर्थिक इमदाद के लाभ यथा संभव अधिसूचित अल्पसंख्यक समुदायों को उनकी आबादी के अनुपात में दिए जाएंगे।
  • बालिका अभ्यर्थियों को वरीयता दी जाएगी।

आर्थिक इमदाद की दर

  • इस योजना के अंतर्गत, आईबीए की शैक्षिक ऋण योजना के तहत निर्धारित ऋण स्थगन की अवधि के लिए (अर्थात्‌ पाठ्‌यक्रम अवधि सहित रोजगार पाने के 6 माह और 1 वर्ष, जो भी पहले हो) आईबीए का शैक्षिक ऋण प्राप्त करने वाले छात्रों द्वारा भुगतेय ब्याज भारत सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।
  • ऋण स्थगन की अवधि के पूरा होने पर, बकाया ऋण राशि पर ब्याज विद्यार्थी द्वारा समय-समय पर संशोधित मौजूदा शैक्षिक ऋण योजना के अनुसार दिया जाएगा।
  • ऋण स्थगन की अवधि के पश्चात मूलधन किस्तें और ब्याज अभ्यर्थी द्वारा वहन किया जाएगा।

कार्यान्वयन करने वाली एजेंसियां

  • योजना का कार्यान्वयन बैंक और अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय के बीच समझौता ज्ञापन के अनुसार विनिर्दिष्ट बैंक द्वारा किया जाएगा।

प्रशासनिक व्यय

  • इस योजना के लिए वार्षिक बजट आबंटन के 3: से अनाधिक का प्रावधान प्रशासनिक और संबद्ध लागत अर्थात्‌ कंप्यूटरों और सहायक उपकरणों सहित कार्यालय उपकरणों, विज्ञापनों, कार्मिकों को लगाने के लिए मंत्रालय के व्यय को पूरा करने के लिए किया जाएगा।
  • इस प्रावधान का उपयोग योजना के मूल्यांकन और निगरानी के लिए अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा काम में लगाई गई बाहरी खयाति प्राप्त संस्थानों/एजेंसियों के माध्यम से भी किया जाएगा। बैंक के प्रशासनिक लागत की हिस्सेदारी समझौता ज्ञापन के अनुसार की जाएगी।

निगरानी एवं पारदर्शिता

  • अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय योजना के निष्पादन की निगरानी करेगा।
  • इस प्रयोजन के लिए, विनिर्दिष्ट बैंक द्वारा एक वेब सक्षम निगरानी तंत्र का निर्माण किया जाएगा।
  • विनिर्दिष्ट नोडल बैंक से तिमाही आधार पर वित्तीय और वास्तविक प्रगति रिर्पोटों को मंत्रालय को भेजना अपेक्षित होगा।
  • विनिर्दिष्ट नोडल बैंक छात्रवृत्ति प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों का वर्ष-वार, ब्यौरा संस्थान दर्शाते हुए, संस्थान का स्थान, कक्षा, लिंग, नया अथवा नवीनीकरण, स्थायी पता और माता-पिता का स्थायी पता रखेगा।
  • विनिर्दिष्ट नोडल बैंक अपनी आधिकारिक वेबसाईट पर संगत वास्तविक और वित्तीय ब्यौरे रखेगा।

अल्प संशोधन/परिवर्तन

बिना किसी वित्तीय विविक्षाओं के योजना में अल्प संशोधन/परिवर्तन सक्षम प्राधिकारी द्वारा एसएफसी/ईएफसी/मंत्रिमंडल का आश्रय लिए बिना किए जा सकते हैं।

मूल्यांकन

इस योजना के वित्तीय और वास्तविक निष्पादन की निगरानी समय-समय पर अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा खयाति प्राप्त संस्थानों/एजेंसियों द्वारा मूल्यांकन/प्रभाव अध्ययन करके की जाएगी।

योजना के अंतर्गत शामिल 'सूचक विषय/विद्या विशेष (स्नातकोत्तर, एम.फिल और पीएच.डी के लिए)

उन विषयों/विद्या विशेष की सूची, जिन पाठ्‌यक्रमों में ब्याज इमदाद लिया जा सकता है, निम्नानुसार हैः

  1. कला/मानविकी/सामाजिक विज्ञान,
  2. वाणिज्य,
  3. प्योर साइंस,
  4. इंजीनियरिंग,
  5. जैव प्रौद्योगिकी/जेनेटिक इंजीनियरिंग
  6. औद्योगिक पर्यावरणीय इंजीनियरिंग
  7. नैनो- टेक्नोलॉजी
  8. मैरीन इंजीनियरिंग
  9. पेट्रो-रसायन इंजीनियरिंग
  10. प्लास्टिक प्रौद्योगिकी
  11. क्रायोजेनिक इंजीनियरिंग
  12. मेकाट्रॉनिक्स
  13. कृत्रिम आसूचना सहित आटोमेच्चन रोबोटिक्स
  14. लेजर टेक्नोलॉजी
  15. लो टेम्प्रेचर थर्मल डायनामिक्स
  16. दृष्टिमिति
  17. आर्ट रेस्टोरेच्चन टेक्नोलॉजी
  18. डॉक एवं हार्बर इंजीनियरिंग
  19. इमेजिंग सिस्टम टेक्नोलॉजी
  20. विकेन्द्रीकृत बिजली वितरण (सौर ताप के लिए) प्रणाली, ऊर्जा भंडारण इंजीनियरिंग, ऊर्जा संरक्षण,
  21. ऊर्जा एफीसियेंट हैबिटेट सहित कम्पोजिट मैटेरियल इंजीनियरिंग
  22. पैकेजिंग इंजीनियरिंग/प्रौद्योगिकी
  23. नाभिकीय अभियांत्रिकी
  24. कंप्यूटर इंजीनियरिंग, साफ्टवेयर, साफ्टवेयर क्वालिती एस्योरेंस, नेटवर्किंग/कनेक्टिविटी
  25. इंजीनियरिंग, जोखिमपूर्व अथवा आपदा-प च दशाओं के तहत-संचार प्रणाली, मल्टी-मीडिया संचार
  26. सहित सूचना प्रौद्योगिकी।
  27. औद्योगिक सुरक्षा इंजीनियरिंग
  28. कृषि एवं कृषि प्रौद्योगिकी
  29. कृषि विज्ञान
  30. मेडिकल
  31. पुष्पकृषि एवं लैंडस्केपिंग
  32. खाद्य विज्ञान और प्रौद्योगिकी
  33. वानिकी एवं प्राकृतिक संसाधन
  34. बागवानी
  35. वनस्पति रोग विज्ञान
  36. ऊर्जा अध्ययन
  37. फार्म पावर और मशीनरी
  38. पशु चिकित्सा विज्ञान
  39. भूमि एवं जल प्रबंधन
  40. वनस्पति प्रजनन और आनुवंशिकी
  41. लघु ग्रामीण प्रौद्योगिकी
  42. महासागर एवं वायुमंडलीय विज्ञान
  43. एम.बी.ए
  44. एम.सी.ए
  45. कोई अन्य विषय

स्त्रोत : अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय,भारत सरकार



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate