অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

भू-विज्ञान

भूमिका

बारहवीं योजना अवधि के दौरान एनसीएओआर द्वारा प्रस्‍तावित भू वैज्ञानिक अध्‍ययनों में प्रमुख रूप से भारतीय भूखंड और उसके आसपास के महासागरों से जुड़़े हुए मुद्दों जैसे कि समय के माध्‍यम से भारतीय भूखंड के भू वैज्ञानिक विकास, अरब सागर बेसिन की उत्पत्ति, हिमालय की वृद्धि से लेकर इंडस फैन का निर्माण, 8 एमवाईबीपी पर मानसून की सुदृढ़ता परिकल्‍पना के प्रति हिमालय के क्षरण की प्रतिक्रिया, महाद्वीपीय मार्जिन के नीचे पर्पटीय की प्रकृति, अरब सागर और बंगाल की खाड़ी से दूर महाद्वीप-समुद्री सीमा पर ध्‍यान देना है। समुद्रों में गहरा वेधन के माध्‍यम से गहरा तलछट और समुद्री तल चट्टानों तक पहुंच और अंडमान सबडक्‍शन क्षेत्र में विर्वतनिकी गतिविधियों में भू वैज्ञानिक जटिलताओं को समझने के लिए अध्‍ययन करना शामिल है।

पृथ्‍वी पर सबसे बड़े जियोइड लो के ऑरिजन की खोज

कार्यक्रम का उद्देश्‍य

श्रीलंका के दक्षिण के आसपास केंद्रित हिंद महासागर में जियोड लो की उत्पत्ति और प्रकृति का अध्ययन करना।

औचित्य

जियोड पृथ्वी के गुरुत्वाकर्षण क्षेत्र की एक समविभव सतह है, जो कि कम से कम वर्ग अर्थों में वैश्विक माध्‍य समुद्र स्तर में बेहतर रूप से फिट बैठती है। हाल ही में गुरुत्वाकर्षण मॉडल और उपग्रह आधारित अवलोकनों से पता चला है कि जियोड -100 मीटर से +100 मीटर तक की अंडाकार आकृति के ऊपर बढ़ता है और गिर जाता है। उपसतह की घनत्व विषमताओं के कारण जियोड में तरंगे उत्पन्न होती हैं और लंबी तरंगदैर्ध्य जियोड विसंगतियों को अधिकांशत: वर्तमान मटेंल घनत्व विषमताओं का रूप समझा जाता हैं। इनका गहरी मेंटल और प्रक्रियाओं की भौतिक और रासायनिक गुणों पर सीधा प्रभाव पड़ता है, जो मेंटल संवहन, प्लेट टेक्टोनिक्स आदि जैसी परिघटना के लिए जिम्‍मेदार है। इस प्रकार, वैश्विक भू गतिशील अध्ययन में बड़ी तरंगदैर्ध्य जियोड विसंगतियों को समझना महत्वपूर्ण है।

वैश्विक भू गतिशीलता के संदर्भ में, गुरुत्वाकर्षण लो का महत्व होने के बावजूद, इस विसंगति का कोई व्यवस्थित अध्ययन शुरू नहीं किया गया है। आसपास के क्षेत्र में उपलब्‍ध भूकंपीय स्टेशन काफी कम हैं और काफी दूरी पर हैं और क्षेत्र में कोई समुद्र तल वेधशालाएं (ओबीओ) नहीं हैं। विशेष रूप से केंद्रीय लो पर किरण पथ अल्प हैं।

प्रतिभागी संस्‍थाएं

यह प्रस्ताव किया गया है इस लो भाग में वैश्‍विक भूकंपीय नेटवर्क (आईआरआईएस के समान) के साथ-साथ दो प्रकार के भूकंपीय एरों की उत्तर-दक्षिण रेखा के साथ एक, श्रीलंका और दक्षिण भारत में, छागोस- लेकाडाइव पर, और अन्‍य एरे की इसके साथ-साथ लाइन ओर्थोगोनल पर तैनाती की जाए,। इस लेटर लाइन के 2500 से 3000 कि.मी. के बाद हर 100-200 कि मी पर इस रेखा के साथ समुद्र तल वेधशालाएं बनाने का प्रस्ताव है। पूर्वी भाग में समुद्र तल वेधशालाएं अंडमान-सुमात्रा सबडक्शन क्षेत्र के बारे में और अधिक जानकारी प्रदान कर सकती हैं।

बजट की आवश्‍यकता

54 करोड़

बजट आवश्‍यकता

योजना का नाम

2012-13

2013-14

2014-15

2015-16

2016-17

कुल

पृथ्वी पर सबसे बड़े जियोड लो की उत्पत्ति की खोज

20.00

20.00

7.00

4.00

3.00

54.00

एकीकृत महासागर वेधन कार्यक्रम (आईओडीपी)

एकीकृत महासागर ड्रिलिंग प्रोग्राम (आईओडीपी) 24 सदस्य देशों का एक अनुसंधान संघ है जो समुद्र के तल का पता लगाने और ड्रिल करने के लिए है। भारत वर्ष 2008-09 के दौरान एक एसोसिएट सदस्य के रूप में आईओडीपी संघ में शामिल हो गया है। इस संबंध में एमओईएस और एनएसएफ/एमईएक्‍सटी संचालन के लिए दो प्रमुख एजेंसियां हैं - जिनके बीच एक औपचारिक समझौता ज्ञापन पर भी हस्ताक्षर किए गए थे।

कार्यक्रम का  उद्देश्‍य

अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में चुनिंदा स्थलों में गहरी ड्रिलिंग के माध्यम से एकीकृत समुद्री भू-वैज्ञानिक अध्ययन शुरू करने के लिए एक लंबी अवधि की विज्ञान योजना विकसित करना।

अंतरराष्ट्रीय एकीकृत महासागर ड्रिलिंग कार्यक्रम (आईओडीपी) में सहयोगी सदस्यता के माध्यम से एक अंतरराष्ट्रीय प्रयास के रूप में गहरे समुद्र में ड्रिलिंग गतिविधियों की शुरूआत।

आईओडीपी की विभिन्न वैज्ञानिक गतिविधियों में भागीदारी।

प्रतिभागी संस्‍थाएं

राष्ट्रीय अंटार्कटिक एवं समुद्री अनुसंधान केन्द्र, गोवा।

कार्यन्‍वयन योजना

कार्यक्रम एक बहु संस्थागत राष्ट्रीय प्रयास के रूप में लागू किया जाएगा। प्रचालन के पहले चरण के रूप में, "अरब सागर में गहरे समुद्र में ड्रिलिंग: टेक्‍टोनो जलवायु के अज्ञात तथ्‍यों की खोज" नामक एक वैज्ञानिक प्रस्ताव विचार के लिए आईओडीपी को प्रस्तुत किया गया है। यह प्रस्ताव मुख्य रूप से गहरे समुद्र में कोर का पता लगाने के लिए कार्यान्वयन के उद्देश्य से अरब सागर पाँच अलग अलग स्थलों पर किया जाना है-

अरब सागर में उच्च पेलेजिक अवसादन के क्षेत्रों से उच्च विभेदन जलवायु रिकॉर्ड प्राप्त करना (सिंधु फैन में हिमालय कटाव के रिकॉर्ड के विपरीत)।

प्रस्तावित मानसून मजबूत बनाने के लिए 8 एमए में पश्चिमी हिमालय की कटाव प्रतिक्रिया का पुनर्निर्माण।

इस क्षेत्र के विकासवादी इतिहास से संबंधित महत्वपूर्ण मुद्दों को समझने के लिए अरब सागर से पेलिओजीन अवसादों को पुनः प्राप्त करना, जैसे डेक्कन जाल के अपतटीय विस्तार के रूप में और उनके निचले मेजोजोइक अवसाद और अरब सागर के लक्ष्मी बेसिन क्षेत्र में पपड़ी की प्रकृति।

वितरण योग्‍य

अरब सागर बेसिन में गहरे समुद्र की ड्रिलिंग के माध्यम से एकत्र किए गए वैज्ञानिक डेटा के लाभ के रूप में बेसिन के भूवैज्ञानिक विकास से संबंधित महत्वपूर्ण सवाल के कई प्रश्‍नों के उत्तर मिलने और एक हज़ार साल के पैमाने पर भारतीय जलवायु नियमन में हिमालय की भूमिका समझे जाने की उम्मीद है। इसके अलावा, कार्यक्रम एक बार लागू हो जाने पर राष्ट्रीय स्तर पर गहरे समुद्र की ड्रिलिंग करने और संबंधित अध्ययनों के विभिन्न पहलुओं में एक कोर सक्षमता विकसित करने में मदद मिलेगी।

आईओडीपी द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न यात्राओं में भागीदारी ड्रिलिंग के लिए दुर्लभ अनुभव के साथ गहरे सागर कोर भारतीय वैज्ञानिकों के अनुभव को समृद्ध करेंगे और इस क्षेत्र में क्षमता निर्माण में वृद्धि होगी।

बजट की आवश्‍यकता

120 करोड़

बजट  आवश्‍यकता(करोड़ रु)

योजना का नाम

2012-13

2013-14

2014-15

2015-16

2016-17

कुल

आईओडीपी

7.00

62.00

31.00

12.00

8.00

120.00

स्रोत: पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय, भारत सरकार

 



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate