অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

मत्स्य पालन एक व्यवसाय

परिचय

झारखण्ड राज्य जो कि एक पठारी प्रदेश है कि अर्थव्यवस्था मिली-जुली है, जिसमें उधोग के साथ –साथ कृषि का भी विशेष योगदान है | वैसे तो झारखण्ड को अनके प्रकार के उधोग तथा खनिजों के लिए जाना जाता है, लेकिन आज भी इस प्रदेश की कुल 3 करोड़ 29 लाख आबादी का 78% भाग गाँवों में वास करती है, जिनकी आजीविका, कृषि बागवानी तथा पशुपालन पर आधारित है | इस प्रदेश में बागवानी एवं पशुपालन का विशेष स्थान है | तुलनात्मक दृष्टिकोण से मत्स्य पालन ताकि मात्सियकी के लिए यधपि प्रचुर संसाधन है , लेकिन उत्पादन का स्तर अत्यंत ही निम्न है जिसका समाधान आवश्यक है | आवश्यकता तो इस बात की है कि मात्सियकी को भी पशुपालन के तर्ज पर प्रमुखता दी जानी चाहिए क्योंकि यह एक ऐसा क्षेत्र है जिसमें परचुर संभावनाएं है एवं गरीबी उन्मूलन तथा ग्रामीण विकास में इसका विशेष योगदान हो सकता है | विस्तृत औधोगिकीकरण के बावजूद आज भी लगभग 57% लोग गरीबी रखे के नीचे हैं, जो अपने आप में एक विरोधाभाष  है साथ ही इस बात की ओर इंगित करती है कि जब तक गाँवों, जिसकी संख्या 32260 है, कि दशा नहीं सुधारी जायगी समुचित विकास की परिकल्पना संभव नहीं है | अत: कृषि जिसमें बागवानी, पशुपालन तथा मात्सियकी भी सम्मिलित है, के विकास पर विशेष जोर देने की अविलम्ब आवश्यकता है |

झारखण्ड में मत्स्य संसाधन

झारखण्ड राज्य में प्रचुर जल संसाधन उपलब्ध है, यथा 16 प्रमुख नदियाँ (दामोदर, बराकर, स्वर्णरेखा, कोयल, कारो आदि), अनेकों जलाशय, जल-प्रपात, झील, पोखर, तथा तालाब आदि है |

झारखण्ड राज्य में मत्स्य उत्पादन की अवस्था

वर्तमान में झारखण्ड राज्य में मत्स्य उत्पादकता की दर अत्यंत ही दयनीय है, जिसके प्रमुख कारण हैं, उपलब्ध तकनीकों का व्यवहार न करना | यानी अभी तक मत्स्य पालन तथा मत्स्य प्रग्रहण में वैज्ञानिक पद्धतियों का सर्वथा अभाव है | उपलब्ध आंकड़ों में पता चलता है कि वर्तमान में तालाब तथा पोखर की औसत मत्स्य उत्पादकता 1400 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर से भी कम है, जबकि देश की औसत उत्पादकता 2150 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर है | इसी प्रकार जलाशय जो झारखण्ड मात्सियकी को उत्कृष्टता प्रदान कर सकते हैं , में भी मत्स्य उत्पादकता की दर 25-30 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर है जो अत्यंत ही कम है |

झारखण्ड में मत्स्य उत्पादन में कम होने के अनके कारण है जैसे कि –

-    तालाब तथा पोखरों की बदहाली एवं उनसे खर-पतवार का अत्यधिक जमाव |

-    पठारी क्षेत्र एवं लेटेराईट मिटटी की अधिकता |

-    आधुनिक मत्स्य पालन पद्धतियों का प्रयोग न करना |

-    झारखण्ड राज्य के अनके भागों की मिटटी की निम्न गुणवता का होना |

-    मत्स्य कृषकों में जागरूकता एवं जानकारी का अभाव तथा मत्स्य पालन हेतु व्यावसायिक दृष्टिकोण नहीं आदि |

झारखण्ड राज्य में मत्स्य विकास की संभावनाएं

झारखण्ड राज्य में मत्स्य विकास की प्रचुर संभावनाएं हैं | परन्तु इसके लिए विभाग तथा कृषकों की ओर से समेकित प्रयास की आवश्यकता है  |

इस प्रदेश की मात्स्यिकी विकास हेतु निम्न बातों की ओर सूचित ध्यान देने की आवश्यकता है :

-    मत्स्य पालन हेतु आधुनिक तकनीक तथा पद्धतियों का समुचित प्रयोग |

-    अधिक से अधिक ग्रामीण जनता को मत्स्य पालन हेतु प्रेरित करने की आवश्यकता है |

-    मत्स्य पालने हेतु सूचित ऋण की व्यवस्था |

-    अधिक से अधिक मत्स्य बीज का उत्पादन |

-    मत्स्य पालन के साथ कृषि के अन्य आयामों यथा बागवानी, पशुपालन आदि का समावेश |

-    राज्य में उपलब्ध जलाशयों में मत्स्य उत्पादकता को बढाने की आवश्यकता |

-    जलाशयों का समुचित प्रबंधन हेतु मत्स्य पालन सहकारिता समितियों का गठन |

-    जलाशयों में उचित मात्रा तथा उत्तम किस्म के मत्स्य बीज का प्रत्यारोपण |

उपसंहार

झारखण्ड एवं औधोगिक राज्य होने के बावजूद कृषि विकास, जिसमें मात्स्यिकी भी सम्मिलित है, कि प्रचुर संभावनाएं है | आवश्यकता है इसे वैज्ञानिक पद्धति द्वारा करने की | आशा की जानी चाहिए कि आने वाले वर्षों में झारखण्ड की पहचान मात्र उधोगों से नहीं, अपितु कृषि, बागवानी, पशुपालन तथा मत्स्य पालन में भी होगी एवं ग्रामीण जनता की आर्थिक स्थिति में उल्लेखनीय सुधार होगा | प्रदेश की मात्स्यिकी को सुद्रढ़ता प्रदान करने के लिए तीन प्रकार के प्रयास करने होंगे –

(1)    तालाब तथा पोखरों का जीर्णोधारकर उत्पादन में वृधि |

(2)    जलाशय मात्स्यिकी पर विशेष जोर एवं उनमें मत्स्य पालन-सह-मत्स्य प्रग्रहण द्वारा उत्पादन में वृधि |

(3)    जल क्षेत्र के समुचित विकास तथा प्रति वर्ग क्षेत्र से अधिक लाभ लेने हेतु मिश्रित खेती जिसमें मछली के साथ बागवानी, पशुपालन, बत्तख तथा कुक्कुट आदि का समावेश करने की आवश्यकता |

मछली के साथ कृषि के अन्य आयामों के समावेश में स्थान विशेष की जलवायु एवं आर्थिक रूप से फल देने वाले व्यवसायों का समुचित चयन को प्राथमिकता देनी होगी | उदाहरण के तौर पर दुमका, देवघर, आदि क्षेत्रों में बकरी पालन आम है | अत: इसे मत्स्य पालन, के साथ जोड़ सकते हैं | उसी प्रकार सिंहभूम क्षेत्र में बत्तख तथा मुर्गी पालन आदिकाल से होता आया है | अत: इन्हें मत्स्य पालन के साथ जोड़कर अधिक लाभ लिया जा सकता है | राँची, लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा तथा हजारीबाग जिलों की जलवायु बागवानी जिसमें औषधीय पौधे भी आते हैं के लिए उपयुक्त है | अत: इस स्थानों में मत्स्य पालन के साथ इनका समावेश किया जा सकता है |

प्रदेश में छोटे, मध्यम तथा बड़े जलाशयों का विशाल भंडार है, लेकिन वर्तमान में इससे मत्स्य उत्पादन बहुत ही कम है | ये जल संसाधन प्रदेश के मत्स्य उत्पादन को एक नई उंचाई दे सकते हैं साथ ही इनके साथ बागवानी (विशेषकर बांस की खेती तथा पशु चारा की खेती) एवं पशुपालन को जोड़ कर अत्यधिक लाभ लिया जा सकता है | इन जल संसाधनों से पिंजड़े (केज) तथा घेरे (पेन) द्वारा मत्स्य तथा झींगा का उत्पादन लिया जा सकता है |

मत्स्य पालन में ध्यान देने वाली छोटी-छोटी बातें

  1. मत्स्य बीज संचयन के कम से कम दस दिन पूर्व तालाब में जाल चलाने के बाद 200 कि.ग्रा. प्रति एकड़ की दर से बुझा हुआ चूना प्रयोग करें |
  2. तालाब में मत्स्य बीज छोड़ने के पहले मत्स्य बीज के पोलीथिन पैक या हांडी को तालाब के पानी में 10 मिनट रहने दें ताकि मत्स्य बीज वाले पानी और तालाब के पानी का तापमान एक हो जाये | उसके उपरान्त ही मत्स्य बीज वाले पानी और तालाब के पानी में जाने दें |
  3. तालाब में जानवरों को प्रवेश करने से तालाब के तल का पानी एवं सतह का पानी मिलता रहता है जो मत्स्य पालन के लिए लाभकारी है |
  4. तालाब के आर-पार खड़े होकर तालाब के पानी पर रस्सी पीटने से/ तालाब में जाल चलाने से/ लोगों के तैरने से तालाब के पानी में ऑक्सीजन ज्यादा घुलता है तथा मछली का अच्छा व्यायाम होता है जो मछली की वृधि के लिए लाभदायक है |
  5. दिसम्बर माह के मध्य में तालाब में चूना का एक बार फिर से प्रयोग करने से मछलियों में जाड़े में होने वाली लाल चकते की बीमारी से बचा जा सकता है |
  6. तालाब में जाल डालने के पहले जाल को नमक के पानी में अच्छी तरह धो लें इससे मछली में संक्रमण वाली बीमारी के प्रकोप नहीं होगा |
  7. तालाब में मछली की शिकार माही करते समय पकड़ी गई मछलियों की बिक्री हेतु ले जाने तक हप्पा में या जाल में समेट कर तालाब में जिन्दा रखने की कोशीश करें | इससे मछली बाजार में ताजी पहुंचेगी और उसका अच्छा मूल्य प्राप्त होगा |
  8. सुबह में तालाब के चारों ओर घुमे | तालाब के किनारे मिटटी में बने पद चिन्हों या यहाँ-वहाँ गिरे मछली या घास फूस को आपको तालाब में मछली की चोरी की जानकारी मिल सकती है | साथ ही साथ मछली की सुबह गतिविधियों / तैरने की स्थिति में भी मछली के स्वाथ्य की जानकारी प्राप्त होती है |
  9. तालाब का पानी यदि गहरा हरा हो जाये या उससे किसी तरह की दुर्गन्ध आती महसूस हो तो अविलम्ब तालाब में चूना का प्रयोग करें, यदि सम्भव हो तो तालाब में बाहर से ताजा पानी डालें तथा किसी तरह का भोजन या खाद तालाब में डालना बंद कर दें |
  10. यदि सदाबहार तालाब है तो प्रयत्न करें कि आधे किलो से ऊपर की मछली ही निकाली जाय |
  11. यदि आस-पास मौसमी तालाब है तो उसमें छोटे बच्चे 100-150 ग्राम का क्रय कर अपने तालाब में संचयन करें |
  12. मत्स्यपालन के कार्यकलाप के लिए एक डायरी संघारित करे जिससे इस पर होने वाले खर्च तथा आय एवं मछली के उत्पादन का व्योरा लिखते रहे जो भविष्य में काम आएगा |
  13. आपात स्थिति में मत्स्य विशेषज्ञ से संपर्क करे |

 

स्त्रोत: मत्स्य निदेशालय, राँची, झारखण्ड सरकार

 



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate