অসমীয়া   বাংলা   बोड़ो   डोगरी   ગુજરાતી   ಕನ್ನಡ   كأشُر   कोंकणी   संथाली   মনিপুরি   नेपाली   ଓରିୟା   ਪੰਜਾਬੀ   संस्कृत   தமிழ்  తెలుగు   ردو

आईटी - आधारित बाजार सूचना प्रणाली

आईटी - आधारित बाजार सूचना प्रणाली

भूमिका

कृषि उपज विपणन के लिए जिंस की आवक के संबंध में और प्रचलित दरों के साथ दिन-प्रतिदिन की जानकारी प्रदान करने, ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय बाजार जानकारी के लिए लिंक प्रदान करने, निर्यात से संबंधित दस्तावेज उपलब्ध कराने, कृषि विपणन के क्षेत्र में नवीनतम अनुसंधान के बारे में सूचित करने, पैकेजिंग/भंडारण आदि से संबंधित जानकारी और वर्ल्‌ड ट्रेड सेंटर (डब्ल्यूटीसी), एपीडी, एनआईएएम,एनबीबी, डीएनएच, आईआईपी, राज्य कृषि विपणन बोर्ड और विश्वविद्यालयों आदि के साथ जुड़ाव/संपर्क प्रदान करने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय संबंधों के विस्तृत क्षेत्रीय नेटवर्क (डब्ल्यूएएन) के माध्यम से बाजार और निर्यातकों/उत्पादकों/व्यापारियों, उद्योग उपभोक्ताओं के बीच संपर्क की आवश्यकता है।

एक निर्णय समर्थन प्रणाली (डीएसएस) के साथ राष्ट्रीय स्तर की आईटी आधारित एकीकृत कृषि विपणन सूचना सेवा (एएमआईएस) भंडारण, मूल्य निर्धारण, विपणन आदि से संबंधित निर्णय लेने के लिए विभिन्न हितधारकों की मदद करने में एक उपयोगी भूमिका निभाती है। अलग-अलग लक्षित समूहों की सूचना संबंधी आवश्यकताओं में विविधता का होना एएमआईएस को डिजाइन करने में आने वाली प्रमुख समस्याओं में से एक है। एक सूचना प्रणाली विकसित करने के लिए, विविध लक्ष्य समूह की सूचना संबंधी आवश्यकताओं का आकलन के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, ताकि सूचना प्रबंधन को समग्र और एकीकृत किया जा सके। निम्न तालिका कृषि विपणन के विभिन्न हितधारकों द्वारा आवश्यक जानकारी की विविधता का संकेत करती है-

किसान

निर्णय

आवश्यक जानकारी

किस फसल को बोएं? किस किस्म की?

 

विभिन्न फसलों और किस्मों की पुरानी (ऐतिहासिक)

कीमतें, विभिन्न किस्मों की विभिन्न फसलों की उत्पादन लागत

कब बोएं?

कब बेचें?

कीमतों में मौसमी बदलाव

क्या मैं काटूँ?

कहाँ बेचा जाए?

 

विभिन्न बाजारों की मौजूदा कीमतें

वैकल्पिक बाजारों के लिए विपणन लागत

व्यापारी

निर्णय

आवश्यक जानकारी

 

किस फसल को बेचें?

किस किस्म की?

विभिन्न फसलों की ऐतिहासिक कीमतें

विभिन्न किस्मों की कीमतें

 

किसान को क्या भुगतान किया

जाए?

वर्तमान कीमतें

 

 

कहाँ बेचें?

विभिन्न बाजारों की मौजूदा कीमतें

विभिन्न बाजारों में मांग की मात्रा

विभिन्न बाजारों के लिए की गई आपूर्ति की मात्रा विपणन लागतें

उपभोक्ता

निर्णय

आवश्यक जानकारी

 

क्या खरीदें?

विभिन्न फसलों की वर्तमान कीमतें

कहॉ से खरीदें?

विभिन्न बाजारों में मौजूदा कीमतें

वैकल्पिक बाजारों में खरीद में शामिल लागत

नीति निर्माता

निर्णय

आवश्यक जानकारी

 

क्या विपणन सूचना के क्षेत्र में सुधार

की जरूरत है?

मौसमी कीमत में विविधता आपूर्ति की मात्रा

बिक्री के विभिन्न स्तरों पर ऐतिहासिक मूल्य

(थोक और खुदरा)

 

किन विशेष उपायों की जरूरत है?

विभिन्न बाजारों में मूल्यों का रुझान

 

बाजार लाभ

 

एगमार्क नेट

किसानों और अन्य हितधारकों को कृषि विपणन के विभिन्न पहलुओं से संबंधित जानकारी से सशक्त करने के लिए भारत सरकार ने नौवीं योजना के दौरान कृषि विपणन सूचना प्रणाली नेटवर्क (एगमार्कनेट) आधारित एक निकनेट का शुभारंभ किया। इसे भारत सरकार के कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय से संलग्न एक कार्यालय, विपणन एवं निरीक्षण निदेशालय (डीएमआई)  द्वारा प्रबंधित किया जा रहा है। यह जानकारी नेटवर्क सभी महत्वपूर्ण एपीएमसीएस, राज्य कृषि विपणन बोर्डों/निदेशालयों और देश भर में स्थित डीएमआई कार्यालयों से जुड़ा है।

एगमार्कनेट परियोजना  में पहले से ही कृषि उत्पादों के 3000 थोक बाजार (एपीडब्ल्यूएमएस), 75 राज्य कृषि विपणन बोर्डों/निदेशालयों और डीएमआई क्षेत्रीय कार्यालयों को जोड़ लिया है और अब तक सभी अधिक 3000 की तुलना में नेटवर्क और सभी 7000 बाजार को आवृत करने की योजना बनाई गई है। इसमें कोई संदेह नहीं है कि एगमार्कनेट ने उचित कीमत पर जानकारी तक पहुँच प्रदान करके, एक बड़ी खाई को भरने की दिशा में एक लंबा रास्ता तय किया है।

एगमार्क नेट की विशेषताएं

एगमार्कनेट डेटाबेस से किसानों को फायदा है, क्योंकि वे अपनी पसंद के बाजार में लाभकारी मूल्य पर अपनी उपज बेचने के लिए निम्न जानकारी प्राप्त कर सकते हैं-

  • थोक मूल्य के लिए राष्ट्रव्यापी बाजार की जानकारी
  • कृषि विपणन के विभिन्न विभागों और राज्य बोर्डों द्वारा समर्थित परियोजना
  • मुख्य रूप से इंटरनेट के माध्यम से पहुंच
  • स्थानीय भाषाओं के माध्यम से सूचना का उत्तरोत्तर प्रसार
  • बाजार में कंप्यूटर की सुविधा
  • डाउनलोड करने के लिए सॉफ्टवेयर - दैनिक बाजार की कीमतें
  • विभिन्न बाजारों में नोड्‌स द्वारा एकत्रित की गई जानकारी
  • साप्ताहिक रुझान
  • ऋण, नीतियों और नियमों के बारे में जानकारी
  • बिचौलियों की उपेक्षा करें
  • गैर-सरकारी संगठनों, स्वयं सहायता समूहों, कृषि विज्ञान केन्द्रों, जीआईएसटीएनआईसी, सहकारी संस्थाओं आदि के माध्यम से आंकड़ों का प्रसार

यह डिजिटल लाभ परियोजना उत्तरोत्तर निम्नलिखित प्राप्त कर रही है-

  • अपरिचितों तक पहुँचना अर्थात्‌ गरीब किसानों को संसाधन
  • संकट बिक्री में कमी
  • सूचना का अधिकार
  • उत्पादन योजना के लिए आधार
  • विपणन प्रेरित कृषि विस्तार के लिए आधार
  • बढ़ती प्रतिस्पर्धा
  • विपणन लाभ में कमी
  • निर्यात की फसल में सीधा जुड़ाव
  • बहुराष्ट्रीय से जुड़ा बाजार
  • घरेलू व्यापारियों के लिए व्यापारी

एगमार्कनेट ग्रामीण लोगों को अर्थव्यवस्था की मुख्य धारा में लाने का एक प्रयास है।

संभावित विस्तार

इस एगमार्कनेट उद्यम ने नई वैश्विक बाजार पहुंच के अवसरों से कृषक समुदाय को लाभ पहुँचाया है और भारत की आंतरिक कृषि विपणन प्रणाली को भी मजबूत किया है। यह परियोजना में देश भर में स्थित लगभग 7000 थोक बाजारों और आगे भारत के 30000 ग्रामीण बाजारों तक विस्तार की क्षमता है। यह आईसीटी परियोजना एक किसान केंद्रित परियोजना है, जिसका उद्देश्य प्रगतिशील किसानों को इंटरनेट पर वैश्विक मुक्त व्यापार क्षेत्र तक पहुँचाना है।

एगमार्कनेट कार्यक्रम भारत में ऊपर से नीचे प्रक्रिया के माध्यम से नियोजित और भारत की कृषि उत्पाद बाजार समितियों (एपीएमसीएस) की सक्रिय भागीदारी और सहयोग के माध्यम से कार्यान्वित, एक उच्च मापने योग्य बाजार के नेतृत्व वाली कृषि विस्तार कायम करने के लिए एक उत्प्रेरक की भूमिका निभाता है। भारत के इस ग्रामीण क्षेत्रों में डिजिटल विकास ने भारत की ग्रामीण समृद्धि, ग्रामीण सशक्तिकरण और विकास के लिए डेटा के एक भंडारण को सुकर किया है, जो भारत में ग्रामीण उद्यमों को डिजिटल समावेश की दिशा में ले जाने का एक कदम है।

एगमार्कनेट की सामग्री

बाजार शुल्क, बाजार प्रभार, लागत, बिक्री के तरीके, भुगतान, तुलाई, हैंडलिंग, बाजार पदाधिकारियों, विकास कार्यक्रमों, बाजार कानूनों, विवाद निपटान तंत्र की विधि, बाजार समितियों की संरचना, आय और व्यय जैसी बाजार से संबंधित जानकारी।

  • न्यूनतम, अधिकतम और, विपणन लागत और मार्जिन आदि के साथ किस्मों और सम्पादित गुणों की मोडल कीमतें, गंतव्य के साथ कुल आव में और डिस्पैच, मूल्य प्रवृत्ति विश्लेषण, अंतरराष्ट्रीय कीमतों जैसी कीमत संबंधी जानकारी।
  • संस्थागत ऋण, भंडारण, प्रत्यक्ष बाजार, ग्रेडिंग, दुबारा भेजने और दुबारा पैक करने के बारे में जानकारी के साथ ही बुनियादी ढांचे से संबंधित जानकारी और किसानों के लिए उपलब्ध सुविधाएं और सेवाएं,
  • इस तरह के स्वीकृत मानक और ग्रेड, लेबलिंग, स्वच्छता और पादप- स्वच्छता आवश्यकताएं, वायदा वित्त, विपणन ऋण और नए अवसरों जैसी बेहतर विपणन के संबंध में उपलब्ध प्रोन्नति से संबंधित जानकारी।
  • महत्वपूर्ण उत्पादक क्षेत्रों और उगाई जाने वाली वस्तु की मात्रा,
  • राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार में मांग की जाने वाली महत्वपूर्ण किस्में
  • थोक और खुदरा दुकानें और महत्वपूर्ण व्यापारिक और उपभोक्ता केन्द्र,
  • उपभोक्ताओं और प्रसंस्करण इकाइयों के लिए प्रत्यक्ष विपणन की सुविधाएं,
  • सरकार और सार्वजनिक क्षेत्र के संगठनों की विपणन से संबंधित योजनाएं
  • घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तरों पर कृषि विपणन के लिए संभावनाएं और अवसर

बाजार के बारे में सूचना एकत्रित करना

  • समय-समय पर सर्वेक्षण आयोजित कर बाजारों, बुनियादी सुविधाओं के बारे में स्थिर जानकारी को संकलित किया जाता है।
  • सभी कार्यात्मक दिनों को प्रत्येक बाजार से गतिशील जानकारी (जैसे कीमतों और आमद) एकत्र की जाती है
  • घरेलू और अंतरराष्ट्रीय दोनों स्तरों पर शोध अध्ययनों से निर्गत आपूर्ति श्रृंखला विश्लेषण, अच्छी विपणन प्रथाएं, उभरते अवसरों, संबंधित विभागों से योजनाओं से संबंधित जानकारी

बाजार सूचना के प्रसार के लिए अंतिम कार्य को पूरा करना

भारत में सभी किसानों की आईसीटी आधारित जानकारी तक पहुँच नहीं है, इसलिए आईटी-आधारित नेटवर्क के माध्यम से उत्पन्न जानकारी के प्रसार के लिए निम्नलिखित की जरूरत है-

  • एक मिश्रित दृष्टिकोण अपनाए जाने की जरूरत।
  • रेडियो, टीवी, समाचार पत्र, फोन, इंटरनेट, मौखिक शब्द जैसे सभी चैनलों का इस्तेमाल किया जाएगा
  • कृषक समुदाय में बड़े पैमाने पर प्रचार अभियान के माध्यम से उन्हें बदलते प्रतिस्पर्धी परिदृश्य और सरकार की पहलों के बारे में शिक्षित करने की आवश्यकता है
  • विस्तारण कर्मचारियों को उनकी भूमिका के बारे में अवगत होने की जरूरत है। कृषि विपणन पहलुओं पर अधिक जोर  दिए जाने की जरूरत है।

एएफपीआईएनईटी

कृषि और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग

सूचना विज्ञान नेटवर्क। अनेक अन्य सरकारी एजेंसियां/गैर सरकारी संगठन/गैर लाभ एजेंसियां और निजी एजेंसियां भी जानकारी का प्रसार कर रही हैं। इन एजेंसियों की एक रूप-रेखा नीचे प्रस्तुत की गई है-

भारत में कृषि बाजार सूचना

बाजार सूचना के प्रसार में लगे हुए संगठनों, निजी और सरकारी, दोनों के नामों में से कुछ के साथ महत्वपूर्ण साइटों की एक सूची नीचे दी गई हैं, जिन्हें बाजार से संबंधित जानकारी के लिए देखा जा सकता है-

बजार से संबंधित जानकारी का प्रसार

सार्वजनिक

निजी

गैर-सरकारी संगठन

अन्य

1.एनएचबी

2. एपीईडीए

3. मसाला बोर्ड/पण्य बोर्ड

4. डीजीसीआईएस

5. एनएएफईड

6. राज्य कृषि विपणन बोर्ड

7. केवीके एवं विश्वविद्यालय

8. वी. दर्पण

1. आईटीसी

2. चंबल

फर्टिलाइजर्स

3. पण्य जगत

(कमोडिटी वर्ल्ड)

4. रैलिस

5. हरयाली डॉट

कॉम

6. ईआईडी-पैरी

7. एनसीडीईएक्स

8. एमसीईएक्स

9.एनएलओजीयूई

10. टाटा किसान केन्द्र

11. एग्रीवाच

12. ई-चौपाल

13. रॉयटर्स मार्केट

लाइट

1.  एम.एस.एस.

आर.एफ

2. तरहट डॉट कॉम

3 ग्राम हाट

4. दृष्टि

5. गांव कियॉस्क

6. अक्षय

7. भूमि

8. वारना

9. ई-सेवा

1.इलेक्ट्रॉनिक एवं प्रिंट

मीडिया

2. मोबाइल

3. दूरदर्शन

4. एफएम चैनल

 

बाजार की जानकारी तक पहुँचने के लिए कुछ महत्वपूर्ण वेबसाइटें

विपणन एवं निरीक्षण निदेशालय(डी.एम.आई.) कृषि और किसान कल्या्ण मंत्रालय, भारत सरकार

विपणन एवं निरीक्षण निदेशालय(डी.एम.आई.) राज्य कृषि विपणन बोर्ड, राजस्थान

कृषि विपणन निदेशालय, दिल्ली

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, मध्यप्रदेश

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, उड़ीसा

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, हिमाचल प्रदेश

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, पंजाब

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, झारखण्ड

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, हरियाणा

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, उत्तरप्रदेश

राज्य कृषि विपणन बोर्ड, केरल

विस्तार गतिविधियाँ

  • स्थानीय किसानों द्वारा उपयोग किए जाने वाले बाजारों की बाजार संबंधी जानकारी के बारे में जागरूकता पैदा करना।
  • विशेष रूप से मूल्य पूर्वानुमान और विभिन्न स्थानों की मांग पर, अलग-अलग साइटों से इकट्ठा करके स्थानीय रूप से प्रासंगिक बाजार की जानकारी का व्यापक प्रचार।

स्रोत: राष्ट्रीय कृषि विस्तार प्रबंधन संस्थान (मैनेज), कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय,भारत सरकार का संगठन



© 2006–2019 C–DAC.All content appearing on the vikaspedia portal is through collaborative effort of vikaspedia and its partners.We encourage you to use and share the content in a respectful and fair manner. Please leave all source links intact and adhere to applicable copyright and intellectual property guidelines and laws.
English to Hindi Transliterate