सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / पशुपालन / बटेर पालन
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

बटेर पालन

यह भाग बटेर पालन पर आधारित है जिसे पहले घरों में मांस के लिए किया जाता था, या जिनका शिकार किया जाता था. परन्तु, इन सालों में इनकी मांग बढ़ी है इसलिए इनका पालन एक अच्छे व्यवसाय के रुप में देखा जा रहा है।

बटेर पालन

यह भाग बटेर पालन पर आधारित है जिसे पहले घरों में मांस के लिए किया जाता था, या जिनका शिकार किया जाता था. परन्तु, इन सालों में इनकी मांग बढ़ी और इसलिए इन्हें एक आचे व्यवसाय में देखा जा रहा है।

जापानी बटेर

जापानी बटेर को आमतौर पर बटेर कहा जाता है। पंख के आधार पर इसे विभिन्न किस्मों में बाँटा जा सकता है, जैसे फराओं, इंगलिश सफेद, टिक्सडो, ब्रिटश रेज और माचुरियन गोल्डन। जापानी बटेर हमारे देश में लाया जाना किसानों के लिए-मुर्गी पालन के क्षेत्र में एक नये विकल्प के साथ-साथ उपभोक्ताओं को स्वादिष्ट और पौष्टिक आहार उपलब्ध कराने में काफी महत्तवपूर्ण सिद्ध हुआ है। यह सर्वप्रथम केन्द्रीय पक्षी अनुसंधान संस्थान, इज्जतदार,बरेली में लाया गया था।

यहाँ इस पर काफी शोध कार्य किए जा रहे हैं। आहार के रुप में प्रयोग किए जाने के अतिरिक्त बटेर में अन्य विशेष गुण भी हैं, जो इसे व्यवसायिक तौर पर लाभदायक अण्ड़े तथा मांस के उत्पादन में सहायक बनाते हैं।

जापानी बटेर की विशेषताएं

  1. बटेर प्रतिवर्ष तीन से चार पीढ़ियों को जन्म दे सकने की क्षमता रखती है।
  2. मादा बटेर 45 दिन की आयु से ही अण्डे देना आरम्भ कर देती है। और साठवें दिन तक पूर्ण उत्पादन की स्थिति में आ जाती है।
  3. अनुकूल वातावरण मिलने पर बटेर लम्बी अवधि तक अण्डे देते रहती हैं और मादा बटेर वर्ष में औसतन 280 तक अण्डे दे सकती है।
  4. एक मुर्गी के लिए निर्धारित स्थान में 8 से 10 बटेर रखे जा सकते है। छोटे आकार के होने के कारण इनका पालन आसानी से किया जा सकता है। साथ ही बटेर पालन में दाने की खपत भी कम होती है।
  5. शारीरिक वजन की तेजी से बढ़ोतरी के कारण ये पाँच सप्ताह में ही खाने योग्य हो जाते है ।
  6. बटेर के अण्डे और मांस में मात्रा में अमीनो अम्ल, विटामिन, वसा और धातु आदि पदार्थ उपलब्ध रहते हैं।
  7. मुर्गियों की उपेक्षा बटेरों में संक्रामक रोग कम होते हैं। रोगों की रोकथाम के लिए मुर्गी-पालन की तरह इनमें किसी प्रकार का टीका लगाने की आवश्यकता नहीं है।

बटेर पालन


वैज्ञानिक विधि से बटेर पालन पर जानकारी

स्रोत: बिरसा कृषि विश्वविद्यालय,काँके, राँची- 834006

3.09497206704

राज़ aadivasi Feb 13, 2018 12:56 PM

में भी बटेरे पालन करना छठा हु

Wayal rahul Feb 07, 2018 06:33 PM

Baxter Palma karma hai pure hankering day later mekaha haiiski January de

Shekhar Jan 26, 2018 05:41 PM

Sir nagar may bater Palan Karna he Bacche kaha melange.

संतोष सूर्यवंशी Jan 03, 2018 07:26 PM

मुझे बटेर पालन शुरु करनेके लिये जांकरिया चाहीए पुनमे 95XXX10

Ramlal Revtkar at kharada ta Mhovda de nagpur mo n 9049025441 Dec 15, 2017 10:02 PM

Muzi btir palm ka prseksan lena hi

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top

T612018/02/21 14:23:3.246493 GMT+0530

T622018/02/21 14:23:3.283219 GMT+0530

T632018/02/21 14:23:3.348336 GMT+0530

T642018/02/21 14:23:3.348867 GMT+0530

T12018/02/21 14:23:3.224424 GMT+0530

T22018/02/21 14:23:3.224629 GMT+0530

T32018/02/21 14:23:3.224777 GMT+0530

T42018/02/21 14:23:3.224918 GMT+0530

T52018/02/21 14:23:3.225011 GMT+0530

T62018/02/21 14:23:3.225088 GMT+0530

T72018/02/21 14:23:3.225790 GMT+0530

T82018/02/21 14:23:3.225979 GMT+0530

T92018/02/21 14:23:3.226195 GMT+0530

T102018/02/21 14:23:3.226413 GMT+0530

T112018/02/21 14:23:3.226461 GMT+0530

T122018/02/21 14:23:3.226555 GMT+0530