सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / कृषि / सर्वोत्कृष्ट कृषि पहल / एक गांव में एक किसान क्‍लब
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

एक गांव में एक किसान क्‍लब

इस शीर्षक में नाबार्ड समर्थित एक गांव में एक किसान क्लब योजना की सफलता को तमिलनाडू राज्य के संदर्भ में प्रस्तुत किया गया है।

कृषि क्षेत्र में नई पहल

कुछ समय पहले मदुरई जिले के पश्चिमी हिस्‍से के गांव में तैनात अधिकारियों ने महिला स्‍वास्‍थ्‍य केन्‍द्र के प्रबंधन की जिम्‍मेदारी पडोस के रज्‍जुकर किसान क्‍लब को सौंपी। मदुरई जिले के मेलूर ब्‍लॉक के लक्ष्‍मीपुरम स्थित यह क्‍लब स्‍थानीय स्‍कूल के गरीब बच्‍चों को हर साल किताबें बांट रहा है। जिले के वैगई विवासाइगलसंघम के किसान क़ृषि संबंधी कार्यक्रम राज्‍य के विभिन्‍न हिस्‍सों में चला रहे हैं।

नाबार्ड द्वारा समर्थित

यह सब राष्‍ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) द्वारा देश के गांव में चलाए जा रहे अभियान के तहत हुआ। किसान क्‍लब की अवधारणा नाबार्ड समर्थित है और इसका नारा एक गांव में किसानों का एक क्‍लब है। इसके तहत प्रगतिशील किसान क्‍लब के झंडे तले एकत्रित होते हैं। नाबार्ड तीन वर्षों तक इन क्‍लबों को किसानी के प्रगतिशील तौर-तरीके संबंधी प्रशिक्षण और कृषि संबंधी यात्राओं के लिए राशि उपलब्‍ध कराता है।

क्लब से फेडरेशन तक

मदुरई जिले के विभिन्‍न गावों में अभी 170 किसान क्‍लब काम कर रहे हैं। इन क्‍लबों में सर्वाधिक सफल किसान हैं उत्‍थापनीकनूर के किसान। किसान चमेली उगाते हैं। नाबार्ड ने इस क्‍लब को इंडियन बैंक की साझेदारी में 30 क्‍लबों में शुमार किया है। एक कदम बढ़कर इन क्‍लबों ने एक फेडरेशन बनाया है जिसका नाम है उत्‍थापनीकनूर फलावर ग्रोअर फेडरेशन। जास्‍मीन उगाने वाले किसान चाहते हैं कि वे स्‍वयं अपना बाजार चलाएं। किसान इसके लिए जिला प्रशासन से समर्थन चाहते हैं और सिद्धांत रूप में उन्‍हें जमीन देने की मंजूरी भी दी गई है। नाबार्ड ने मदुरई जिले के अलंगनाल्‍लानूर के सहकारिता क्षेत्र की प्राथमिक कृषि सहयोग समितियां को इस तरह के क्‍लब बनाने की मंजूरी दी। हाल में अलंगनाल्‍लानूर ब्‍लॉक में परीपेट्टी किसान क्‍लब और देवासेरी किसान क्‍लब के लिए ओरिएंटेशन कार्यक्रम चलाया गया।

किसान वैल्यू चैन और प्रशिक्षण कार्यक्रम

नाबार्ड के एजीएम श्री शंकर नारायण की राय है कि किसान वैल्‍यू चैन की बारीकियों को पूरी तरह समझें। इससे उन्‍हें लाभ होगा और वे किसान क्‍लब को परिवर्तन एजेंट समझ लाभ की ओर बढ सकते हैं। उन्‍हें नवीनतम टेक्‍नॉलोजी के बारे में जानकारी मिल सकेगी, विशेषज्ञों की मदद ले सकेंगे और अतंत: अपने पेशे में निपुण हो जाएंगे। उन्‍होंने बताया कि नाबार्ड अपने किसान टेक्‍नॉलोजी ट्रांसफर फंड के जरिए किसानों के प्रशिक्षण कार्यक्रम, डेमोप्‍लॉट का विकास और कृषि ज्ञान के लिए किसानों की यात्राओं जैसे प्रयासों का पूरा खर्च वहन करेगा। उन्‍होंने कहा कि आने वाले दिनों में आम और अमरूद के पौधे लगाने के लिए गम्‍भीर प्रयास किए जाएंगे। नाबार्ड किसान क्‍लब के लिए हर तीन साल पर दस हजार रूपये की राशि आबंटित करता है। तीन साल बाद किसान क्‍लब से जुडे लोगों को प्रोत्‍साहित किया जाता है कि वे वैसी छोटी-छोटी बचत करें जिनसे रोजाना के खर्च पूरा हो सकें और जरूरत पडने पर एक-दूसरे को ऋण भी दे सकें।

किसान क्लब कार्यक्रम-अन्य लाभ

किसान क्‍लब कार्यक्रम के तहत किसानों को तीन सालों के लिए वार्षिक रख-रखाव ग्रांट भी मिलता है। किसान तमिलनाडु में प्रशिक्षण के लिए कार्यक्रमों में शामिल हो सकते हैं (पुड्डुकोटई, कोयम्‍बटूर, त्रिची और कांचीपूरम किसान ऐसे प्रशिक्षण कार्यक्रमों के लिए चुने गए हैं। किसानों को इस कार्यक्रम के तहत रायटर मार्केट लाइट लिमिटेड के जरिए स्‍थानीय भाषा में एसएमएस एलर्ट भी हा‍सिल होते हैं। जल प्रबंधन, डेयरी, ओर्गेनिक किसानी तथा सब्‍जी उगाने जैसे विषयों पर विशेषज्ञों की राय भी मिलती है। क्‍लब की अवधारणा का लाभ उठाते हुए किसानों तथा क्‍लबों को नियमित बैठकें करनी चाहिए। प्रत्‍येक महीने बचत करनी चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर एक–दूसरे की मदद हो सके। इसके अलावा उन्‍हें ऋण अदायगी के उचित व्‍यवहारों का भी प्रचार करना चाहिए तथा अपने उत्‍पादों के मूल्‍यवर्धन पर ध्‍यान देना चाहिए ताकि वे स्‍वयं अपनी उत्‍पादक कंपनी खड़ी कर सकें।

स्त्रोत : डॉ के. परमेश्‍वर,पत्र सूचना कार्यालय(पीआइबी),मदुरई

3.03846153846

Binod kumar Aug 03, 2017 10:22 PM

Kisan apne krishi utpadon ko club ke madhyam se adhik se adhik mulya kaise prapt करें

शैलेश वैद्य ( नानू ) Feb 24, 2017 10:40 PM

जय श्रीराम , मैंनें जितना फीगर बताया है यह मेंरी सोच का ५% हिस्सा भी नहीं है । आगे माननींय प्रXाXXंत्री जी आप एकाग्रचित्त होकर मनन करियेगा । धन्यवाद भारत माता की जय

नानू वैद्य ( शैलेश) Feb 24, 2017 10:35 PM

क्या मुझे बेहतर तरीके से स्टार्टप एवं नोंक इन इंडिया के बारे में मेरे जिले में समझा सकता है । मेरे प्वाइंटों पर कृपया ध्यान दीजिये । (१) मैं बिजली की खपत लगभग ४०% ( इस समय की वर्तमान खपत का ) ३ वर्षों में कम कर सकता हूँ । (२) हिंXुस्ताX के जमींनी मापदंड को बहुत बेहतर कर सत्ता हूँ ३ वर्षों में। एवं कृषि को एवं निर्यात को १५०% (३ वर्षों में )बढ़ा सकता हूँ । (३) मिट्टी के निर्यात से हम देश की जीडीपी को दुगना कर सकते हैं । (४) ३ वर्षों में कम से कम ३ करोड़ लोगों को कार्य पर लगा सकता हूँ इससे भी ज्यादा हो सकतें है पर कम नहीं । धन्यवाद भारतमाता का एक सपूत

mahesh sharma Dec 29, 2016 11:29 PM

kisan club ke liye ham se samprk kare 99XXX64

pappu singh Apr 15, 2016 05:58 PM

किसान क्लब बनाने के लिये किससे कैसे सम्पर्क किया जा सकता है, अधिकतम जानकारी उपलब्ध करावे ताकि हम भी हमारे क्षेत्र के किसानों का क्लब बनवा सके

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
Back to top