सामग्री पर पहुँचे | Skip to navigation

होम (घर) / शिक्षा / झारखण्ड राज्य / झारखण्ड के शहीद / वीर महापुरूष तेलंगा खड़िया
शेयर
Views
  • अवस्था संपादित करने के स्वीकृत

वीर महापुरूष तेलंगा खड़िया

इस पृष्ठ में झारखण्ड के स्वतंत्रता सेनानी वीर महापुरूष तेलंगा खड़िया के विषय में विस्तृत जानकारी उपलब्ध करायी गयी है।

परिचय

छोटानागपुर  के अनेक वीर महापुरूषों ने अंग्रेजों के शोषण के विरूद्ध भारत वर्ष के स्वतंत्रता  के लिए अपने जान की कुर्बानी दी और शहीद हुए। उन वीर महापुरूषों में तेलंगा खड़िया भी एक थे। जिन्होंने अंग्रेजों के शोषण अत्याचार के खिलाफ अपनी जान की कुर्बानी दी।

तेलंगा खड़िया की जीवनी

तेलंगा खड़िया का जन्म 9 फरवरी 1806 ई. में ग्राम – मुरगू, थाना – सिसई, जिला – गुमला (बिहार) में हुआ था। तेलंगा खड़िया एक साधारण किसान के घर में जन्म लिए थे। उनके पिता का नाम हुईया खड़िया और माता का नाम पेतो खड़िया था। कहा जाता है कि तेलंगा बचपन से ही वीर साहसी और अधिक वक्ता थे। वीर, साहसी एवं अधिक बोलने वाले व्यक्ति को खड़िया भाषा में तेsबलंगा कहते हैं। संभवता तेsबलंगा से ही तेलंगा हुआ। इनका शारीर हट्ठा – कट्ठा एवं सांवले रंग का था, तथा इनका ऊंचाई 5 फीट 9 ईंच था। तेलंगा खड़िया पढ़ा- लिखा नहीं था, परंतु वह एक कर्मठ समाजसेवी नेता था। इनकी शादी सन, 1846  ई. में कुमारी रतनी खड़िया से हुई थी। तेलंगा का मुख्य पेशा खेती करना और अपने अनुयायियों को सुबह – शाम गदका, तलवार एवं तीर चलाने का कला सिखाना था। प्रत्येक कला सीखने एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम प्रारंभ करने के पहले इस झंडा के पास पूरब मुंह करके सभी लोग (गुरू – शिष्य) घुटना टेककर धरती माता, सरना माता, सूर्य भगवान, महादान देव एवं अपने - अपने पूवर्जों का स्मरण कर पूजा एवं अराधना करते थे। सिसई का वह मैदान उन दिनों गदका, लाठी, तलवार एवं तीर चलाने के लिए चारों ओर से ग्रामीण युवक इस मैदान में इकठ्ठा होते थे।

तेलंगा के पिता ढूईया खड़िया को छोटानागपुर नागवंशी महाराजा द्वारा रातू गढ़ की ओर से ग्राम मुरगू के लिए भण्डारी नियुक्त किया गया था और वह ग्राम – मुरगू का पाहन भी था। भण्डारी का कार्य मझियस जमीन के फसल को इकट्ठा कर एवं कराकर रातू गढ़ पहुँचाना था।

अंग्रेजों के शोषण और अत्याचार से द्रवित हुए थे तेलंगा खड़िया

तेलंगा अपने पिता के साथ कभी – कभी महाराज के दरबार में जाया करता था। जिसके कारण उसे सामाजिक कार्य का साधारण ज्ञान की जानकारी प्राप्त हुई थी। उन दिनों अर्थात सन 1849 – 50 ई. में भारतवर्ष में अंग्रेजों का शासन था। अंग्रेज शासकों द्वारा इस क्षेत्र के लोगों से मनमानी कर वसूल करना आदि अत्याचार करने लगे थे। शोषण एवं अत्याचार से इस क्षेत्र की जनता उब चुकी थी, परंतु उन दिनों छोटानागपुर के लोग ही नहीं पूरे भारतवर्ष के लोगों में फूट थी, एकता नहीं था। अंग्रेजों की नीति थी – भारतियों के बीच फूट डालो और शासन करो, अंग्रेजों के शोषण एवं अत्याचार को देखकर तेलंगा खड़िया सहन नहीं कर सका और अंग्रजों के विरूद्ध लड़ाई करने के लिए तैयार हो गया। इस क्रम में तेलंगा खड़िया गाँव – गाँव जाकर एकता के लिए लोगों से संपर्क करने लगा और जगह – जगह जुरी पंचायत गठन कर लोगों के बीच अंग्रेजों से लड़ने के लिए बीज बोया। तेलंगा खड़िया छोटानागपुरके पूर्वी एवं दक्षिणी इलाके के प्रत्येक गांव में जाकर सभी वर्गों के लोग एवं धर्मी के बीच समन्वय स्थापित किये। वे सत्यवादी, ईमानदार और साहसी थे। इनका मुख्य हथियार तलवार एवं तीन – धनुष ही था। अंग्रेजों के रायफल और बन्दूक की गोली को तेलंगा तलवार से ही रोक लेते है। मानों उसे ईश्वरीय वरदान था।

जूरी पंचायत कायम करने के बाद तेलंगा के बहुत से अनुयायी हुए। इनके संगठनात्मक कार्य के बारे में अंग्रेज सरकार को पता चला, तो तेलंगा को अंग्रेज सरकार को पता चला, तो तेलंगा को अंग्रेज सरकार द्वारा पकड़ने के लिए आदेश जारी किया। जब तेलंगा को इसकी जानकारी मिली तो वे घर से बाहर रहकर ही संगठन का कार्य करने लगे। तेलंगा कभी – कभी घर आया करते थे, क्योंकि उन्हें इस बात का डर था कि अंग्रेज पुलिस ली तो उसे जेल जाना पड़ेगा और उनका सपना साकार नहीं हो पाएगा।

तेलंगा के क्रियाकलापों के बारे में नहीं लिखे जाने का मुख्य कारण अंग्रेजों द्वारा प्रतिबंध लगाया जाना था, साथ ही साथ इस क्षेत्र के लोगों के बीच शिक्षा की कमी थी। फिर भी जनता उनके कार्यों को कैसे भूल सकती थी। उनकी जीवनी , क्रिया – कलाप, ईमानदारी एवं साहस का परिचय उस समय के गीतों में मिलती है। जो अभी भी प्रचलित है। कुछ गीत इस प्रकार है जो खड़िया भाषा में हैं –

जिसका हिंदी अनुवाद दिया गया –

1.  किधर से सूर्य की किरण जैसे निकला तेलंगा,

सब आदमी का रक्षा किया (तेलंगा)

मुरगू ग्राम से सूर्य की किरण जैसे निकला तेलंगा

सब आदमी का रक्षा किया (तेलंगा)

2.  कहाँ से पूर्वज आये तेलंगा,

महुआ गिरने वाला स्थान बैठे, तेलंगा

पामीर से तिब्बत पहाड़, दिल्ली तेलंगा,

दिल्ली से सरना स्थापित कर, खेती किए, तेलंगा

3.  दिल्ली से पटना आये तेलंगा

पटना में पाट सरना स्थापित किये (तेलंगा)

पटना से पूर्वज आये तेलंगा,

छोटानागपुर में भूइंहर (जागीर) स्थान बनाये, (तेलंगा)

4.  आदमी, गाय साथ आये तेलंगा

छोटानागपुर में महुआ खा रहे थे (तेलंगा)

घना जंगल को काटकर तेलंगा

महुआ पेड़ के पास रहे थे, (तेलंगा)

5.  राजा जमींदार अंग्रेज के साथ लड़ाई किये तेलंगा

इलाका का आदमी शांति से रहते थे, (तेलंगा)

अंग्रेज से रकम लेकर बोधन सिंह,

तुमको शीशा गोली से मारा, तेलंगा

6.  तुम्हारा शरीर मजबुत था, उस समय तेलंगा,

मनुष्य जीव खुशी मना रहे थे (तेलंगा)

अभी तक नाम सुनकर तेलंगा

मनुष्य जीव खुशी मनाते हैं (तेलंगा)

7.  सबके लिए काम किया तेलंगा

आदमी जीव कभी नहीं भूलेंगे, (तेलंगा)

सबकी रक्षा के लिए जान दिया तेलंगा

आदमी जीव कभी नहीं भूलेंगे तेलंगा

8.  तुम्हारा नाम तेलंगा दुनिया में मशहूद हो गया है,

तुम्हारा नाम अमर रहेगा, तेलंगा

सूर्य, चाँद, धरती रहने तक तेलंगा

तुम्हारा नाम अमर रहेगा, (तेलंगा)

एक दिन जब तेलंगा ग्राम – कुम्हारी, थाना – बसिया, जिला – गुमला में लोगों के एकत्रित कर जूरी पंचायत का गठन कर रहा था, उसी समय अंग्रेज पुलिस द्वारा पकड़ लिया गया। इन्हें पकड़वाने का हाथ जमींदार दलालों का था। तेलंगा को पकड़ कर कलकत्ता जेल भेज दिया गया। इसका प्रमाण अभी तक गीतों में पाया जाता है, जो निम्न प्रकार –

कहाँ का राईज राजा, कहाँ का हीरा राजा,

राजा झाई कालिकत्ता तेलंगा का डेरा ।।1।।

जशपुर का राईज राजा नागपुर का हीरा राजा,

राजा भाई कालिकात्ता तेलंगा का डेरा ।।2।।

शोध से पता चलता है कि तेलंगा खड़िया अपने कार्य क्षेत्र में जुरी पंचायत का गठन कर अनेक केंद्र बनाए थे, जो एस प्रकार है –

1.  ग्राम – मुरगु, थाना – सिसई, 2. ग्राम – जुरा, थाना – सिसई, 3. ग्राम – डोइसा नगर, थाना – सिसई, 4. ग्राम – ढेढौली, थाना – गुमला, 5. ग्राम – दुन्दरिया, थाना – गुमला, 6. ग्राम – सोसो, थाना – गुमला, 7. ग्राम – नीमटोली, थाना – गुमला, 8. ग्राम – बघिमा, थाना – पालकोट, 9. ग्राम – नाथपुर, थाना – पालकोट, 10. ग्राम – कुम्हारी, थाना – बसिया, 11. ग्राम – वेन्दोरा, थाना – चैनपुर, 12. ग्राम – कोलेबिरा, थाना – कोलेबिरा, 13. ग्राम – महाबुआंग, थाना – बानो. ये सभी केन्द्र वर्तमान गुमला जिले में खोले गये थे। तेलंगा के साहसी एवं वीरता के कारण ही बहुत से गाँव में उनके नाम से टांड, दोन एवं बाग – बगीचा का नाम रखा गया जैसे – तेलंगा बगीचा, ग्राम – सिसई, तेलंगा बांध, ग्राम – लावागाई, थाना – सिसई, तेलंगा टांड, ग्राम – नीमतोली, थाना – गुमला में है।

कलकत्ता जेल से छुटने के बाद तेलंगा अपना घर मुरगू आया। दूसरे दिन सुबह छः बजे सिसई मैदान (अखाड़ा) गया। अखाड़ा पर तेलंगा के अनुयायी उपस्थित थे। तेलंगा खड़िया अपने नियमानुसार तीर, तलवार, गढ़का एवं लाठी सिखाने के पहले झंडा के पास घुटना टेक एवं सिर झुकाकर धरती माता, सरना माता, सूर्य भगवान, महादान देव एवं अपने पूर्वजों का नाम लेकर प्रार्थना (पूजा) कर रहा था, उसी समय एक कुख्यात, असामाजिक प्रवृति का अंग्रेजों का दलाल, बोधन सिंह जो नजदीक के झाड़ी में छिपकर मौके की तलाश में था,बन्दुक से गोली मार दिया। तेलंगा पूजा स्थल पर ही तड़प – तड़प कर हे सरना माँ कहकर प्राण त्याग दिया। वह दिन 23 अप्रैल 1880 को हुई, परंतु अधिकतर लोगों का मानना है, की बोधन सिंह द्वारा तेलंगा खड़िया की हत्या 23 अप्रैल 1880 ई. को की गई थी।

तेलंगा खड़िया के शव को तुरंत उनके अनुयायी नजदीक के घनघोर जंगल होते हुए कोयल नदी पार कर ग्राम सोसो, नीमटोली के एक टांड में टांड में गाड़ दिए। एस तांड का नाम तेलंगा तोपा टांड के नाम से जाना जाता है। इसके बारे में किसी अंग्रेज शासकों को जानकारी नहीं दी गई।

तेलंगा की मृत्यु की खबर सुनकर इलाके में सन्नाटा छा गया, लोग फुट – फुट कर रोने लगे तथा दुखभरी गीत गाने लगे। तेलंगा को बोधन सिंह द्वारा गोली मारकर हत्या किया गया, इस सम्बन्ध में अभी भी गीत गाया जाता है, एस सम्बन्ध में अभी भी गीत गाया जाता है, जो इस प्रकार है –

राजा जमींदार अंग्रेज से लड़ाई करते तेलंगा ,

इलाका के शांति करले। 1

अंग्रेज से भाड़ा लेवल बोधन सिंह,

तेलंगा के शीशा गोली से मारे। 2

तेलंगा का मुख्य प्रशिक्षण केंद्र सिसई के मैदान पर था, जहाँ आज सिसई बाजार लगता है। बोधन सिंह, ग्राम – बरगांव, थाना – सिसई, जिला – रांची, वर्तमान – गुमला (बिहार) का निवासी था, जो ग्राम – मुरगू से करीब दो मील की दूरी पर है। दुष्ट बोधन सिंह मर गया, उनका वारिस (खानदान) एक भी नहीं है।

तेलंगा का मात्र एक लड़का था, जिसका नाम जोगिया खड़िया था। तेलंगा के मारे जाने के बाद खड़िया समुदाय को लोग मुरगू गाँव में रहना पसंद नहीं किये। कुछ दिन के बाद तेलंगा परिवार एवं उनेक सहयोगी गाँव छोड़ कर सिसई थाना के ही गाँव – घाघरा चले गये, और वहीं रहने लगे, जो आज भी तेलंगा के खानदान के लोग घाघरा गाँव में पहनाई का काम कर रहे हैं।

मुरगू गाँव से जाने के पहले तेलंगा के पिता दुईया खड़िया उसी गाँव के एक उराँव जनजाति परिवार को पहनाई काम करने का जिम्मा सौंपा जिसका नाम करमु उराँव था।

कहा जाता है, की मुरगू एक पुराना गाँव है और यहाँ खड़िया जाति के लोग ही पहले आगमन किये थे। जब ग्राम – मुरगू पहान था, उस समय सरना एवं पूजा स्थल पर खड़िया भाषा से ही पूजा होती थी।

खड़िया भाषा को इस क्षेत्र में देव भाषा कहा जाता है। पहनाई कार्य एवं पूजा पाठ के लिए उराँव जनजातीय समुदाय को जिम्मा दिया गया तो उराँव पहान वर्ष में एक बार खड़िया पहान को ग्राम घाघरा, थाना सिसई से पूजा के लिए आवश्यक समझ कर बुला कर लाता था। पूजा होती थी, और गाँव के सभी वर्ग के लोग खुशहाल रहते थे।

इस प्रकार उपयोक्त तथ्यों के आलोक में यह कहा जा सकता है कि तेलंगा खड़िया एक वीर एवं साहसी महापुरुष थे, जिन्होंने अंग्रेजों, जमींदारों के शोषण तथा अत्याचार के खिलाफ लड़ाई लड़ी और अंग्रेज शासन से मुक्ति तथा देश के स्वतंत्रता के लिए अपनी जान की कुर्बानी दी ऐसे महापुरुष को नमन प्रणाम।

स्त्रोत: जनजातीय कल्याण शोध संस्थान, झारखण्ड सरकार

3.05714285714

अपना सुझाव दें

(यदि दी गई विषय सामग्री पर आपके पास कोई सुझाव/टिप्पणी है तो कृपया उसे यहां लिखें ।)

Enter the word
नेवीगेशन
संबंधित भाषाएँ
Back to top

T612019/07/15 23:58:12.345271 GMT+0530

T622019/07/15 23:58:12.362257 GMT+0530

T632019/07/15 23:58:12.363264 GMT+0530

T642019/07/15 23:58:12.363590 GMT+0530

T12019/07/15 23:58:12.321237 GMT+0530

T22019/07/15 23:58:12.321496 GMT+0530

T32019/07/15 23:58:12.321679 GMT+0530

T42019/07/15 23:58:12.321857 GMT+0530

T52019/07/15 23:58:12.321965 GMT+0530

T62019/07/15 23:58:12.322055 GMT+0530

T72019/07/15 23:58:12.322912 GMT+0530

T82019/07/15 23:58:12.323124 GMT+0530

T92019/07/15 23:58:12.323353 GMT+0530

T102019/07/15 23:58:12.323592 GMT+0530

T112019/07/15 23:58:12.323644 GMT+0530

T122019/07/15 23:58:12.323746 GMT+0530